आपके अनुसार भारत में टैक्स भरने वाले लोगों की संख्या में वृद्धि कैसे हो पाएगी?...


user

vivek sharma

BANK PO| Astrologer | Mutual Fund Advisor। Career Counselor

0:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर भारत में टैक्स भरने वाले लोगों की संख्या में वृद्धि करना है सबसे पहले हमें करना होगा कि हम टैक्स रेट को थोड़ा सा कम और करें जिससे कि सभी लोग प्रेरित होंगे और टैक्स भरेंगे टैक्स में भरने में थोड़ी सहूलियत है मिलनी चाहिए आज टैक्स भरने की कोई सोचता है तो उसको लगता है कि मेरे को सीए के पास जाना पड़ेगा इस तरीके से आज फॉर्म भरने की धुंध हर दुकानों के फॉर्म कैसे भरते हैं या हम गैस सिलेंडर के लिए फोन करते हैं इसी तरीके की कोई ऐसी सुविधा होनी चाहिए फोन करें या फिर हम किसी को बोला तुरंत वह मिनिमम से मिनिमम अमाउंट में ₹50 में एक लेकर वह अगर इनकम टैक्स रिटर्न फाइल कर देगा

agar bharat me tax bharne waale logo ki sankhya me vriddhi karna hai sabse pehle hamein karna hoga ki hum tax rate ko thoda sa kam aur kare jisse ki sabhi log prerit honge aur tax bharenge tax me bharne me thodi sahuliyat hai milani chahiye aaj tax bharne ki koi sochta hai toh usko lagta hai ki mere ko ca ke paas jana padega is tarike se aaj form bharne ki dhundh har dukaano ke form kaise bharte hain ya hum gas cylinder ke liye phone karte hain isi tarike ki koi aisi suvidha honi chahiye phone kare ya phir hum kisi ko bola turant vaah minimum se minimum amount me Rs me ek lekar vaah agar income tax return file kar dega

अगर भारत में टैक्स भरने वाले लोगों की संख्या में वृद्धि करना है सबसे पहले हमें करना होगा क

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  143
WhatsApp_icon
12 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Awdhesh Singh

Director AwdheshAcademy.com

1:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत में बहुत कम लोग इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करते हैं और इसका सबसे बड़ा कारण यह है कि एक तो भारत वैसे ही काफी गरीब देश है और जब आपके पास ढाई लाख रूपय तक की सालाना इनकम जो है किलोमीटर है तो भारत के ज्यादातर लोग जो हैं वह ढाई लाख के नीचे के ब्रैकेट में आते हैं और इस वजह से उनको कानूनी तौर पर भी रिटर्न फाइल करने की जरूरत नहीं है दूसरी बात जो है वह यह है कि हमारे यहां पर 90% से ज्यादा जो काम होता है वह इनफॉर्मल सेक्टर का रहता है जिसमें कि ज्यादातर पेमेंट कैसे होता है सैलरी का पेमेंट और सामान परचेस का पेमेंट और ऐसी सिचुएशन में इस बात का रिकॉर्ड रखना बहुत ही मुश्किल है कौन को कितनी सैलरी भी हो रही है और इस तरीके से उनकी जो इनकम होती है वह किसी बुक्स ऑफ अकाउंट में नहीं रहती हो और उसका जहर रिटर्न फाइल वह नहीं करते हैं तीसरी बात है कि हमारे यहां पर अगर आप इनकम टैक्स का विरोध करते हैं तो उसकी पेनाल्टी जो है बहुत कम है और इसका तो कोई प्रॉब्लम ही नहीं है और पैनल्टी काफी कम है उसे जो छोटे मोटे जो लोग हैं वह अगर रिटर्न फाइल करने हैं तो इनकम टैक्स के पास ना तो इतनी स्ट्रेंथ है कि वह जो नेट एक्टिवेट असम को ट्रैक कर पाए क्योंकि उनका सारा खेसारी जो एनर्जी है वह तो सिर्फ बड़े टच भी जाती है छोटे ट्रेक्टर से अगर वह रिकवरी कर लेते हैं तो 24 लाख रूपय मिलके उनको कोई बहुत ज्यादा फायदा नहीं होगा और वही एनर्जी जो है वह बड़े टैक्स पर करते हैं वहां पर करोड़ों रुपए की रिकवरी होती है इसीलिए उनके पास लाइसेंस नहीं है और जो लोगों के मन में डर भी नहीं है इनकम टैक्स डिपार्टमेंट का क्योंकि हमारे यहां पर कानून बहुत ही लचर है और इसी वजह से कंप्यूटर पर होता है अगर आपको रिटर्न की संख्या बढ़ानी है तो कानून को मजबूत करना होगा कैश ट्रांसफर कैशलेस ट्रांजेक्शन को प्रमोट करना होगा और जो इनकम टैक्स की जो लिमिट है उसको आप को कम करना पड़ेगा धंयवाद

bharat mein bahut come log income tax return file karte hain aur iska sabse bada karan yeh hai qi ek to bharat vaise hea kaafi garib desh hai aur jab aapke pass dhaaee lakh rupay tak ki saalaana income joe hai KM hai to bharat K jyadatar log joe hain wah dhaaee lakh K neeche K braiket mein aate hain aur is vajaha se unko kanooni taur per bhi return file karne ki jarurat nahin hai dusri baat joe hai wah yeh hai qi hamare yahaan per 90% se jyada joe kama hota hai wah inafarmal sector ka rehta hai jisamein qi jyadatar payment kaise hota hai salary ka payment aur saamaan parches ka payment aur aisi situation mein is baat ka rikard rakhna bahut hea mushkil hai kaun co kitni salary bhi ho rahi hai aur is tarike se unki joe income hoti hai wah kisi books of account mein nahin rehti ho aur uska jahra return file wah nahin karte hain tisri baat hai qi hamare yahaan per agar aap income tax ka virodh karte hain to uski penalti joe hai bahut come hai aur iska to koi problem hea nahin hai aur painalti kaafi come hai usse joe chhote mote joe log hain wah agar return file karne hain to income tax K pass na to itni strenth hai qi wah joe net ektivet ASSAM co track car pae kyonki unka saara khesari joe energy hai wah to sirf bade touch bhi jaati hai chhote trektar se agar wah recovery car lete hain to 24 lakh rupay milke unko koi bahut jyada fayda nahin hoga aur whey energy joe hai wah bade tax per karte hain vahan per karodon rupe ki recovery hoti hai isiliye unke pass laaisans nahin hai aur joe logon K mana mein dar bhi nahin hai income tax departement ka kyonki hamare yahaan per kanun bahut hea lachar hai aur isi vajaha se kampyutar per hota hai agar aapko return ki sankhya badhani hai to kanun co majboot krna hoga cash transafar kaishles tranjekshan co promote krna hoga aur joe income tax ki joe limit hai usko aap co come krna padega dhanyvad

भारत में बहुत कम लोग इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करते हैं और इसका सबसे बड़ा कारण यह है कि एक तो

Romanized Version
Likes  27  Dislikes    views  1317
WhatsApp_icon
play
user

Chandraprakash Joshi

Ex-AGM RBI & CEO@ixamBee.com

1:52

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आई थिंक यही तो बहुत बड़ा मुश्किल प्रश्न है वर्तमान सरकार के सामने भी की टैक्स भरने वालों की संख्या में वृद्धि कैसे हो और इसी के लिए सरकार ने इतना बड़ा डिमोनेटाइजेशन का स्टेप लिया उसके बाद भी कोई बहुत ज्यादा ही ज्यादा तो नहीं हुआ है लेकिन शायद एक मैसेज जनता को गया है कि टैक्स देने की जरूरत है तो मैं बोलूंगा सबसे पहले स्टेप डॉटर एक्शन में है वह एक आम आदमी को लेना है और वह इस टाइम क्या है जो हम शॉर्टकट अप्लाई करते हैं कहीं भी जाते हैं दुकान वाला बोलता है बिना बिल कितना पैसा लगेगा और बिल सईद लोगे तो जी दो पर्सेंट पात्र से ज्यादा लगेगा और हम कैसे देखे खुशी खुशी पेमेंट करके चले आते हैं सोचते हैं कि हमने अपना पैसा बचा लिया लेकिन अपना ₹2 बचाने के लिए सरकार को ₹10 का टैक्स का नुकसान कर दिया तो यह सरकार करें और किस को बंद करना कोई सलूशन नहीं है हम जानते हैं कि जब तक इस तरीके की गैस वाली पहले लिखना भी चलेगी और चलेगी कैसे किया आपकी और हमारी मर्जी से चल रही है सरकार नहीं चाहती कि यह चले तो हम सरकार को कैसे दोस्त है और कितनी रेट करें सरकार कहां-कहां रेट करें क्योंकि जो रेट करने वाले लोग में होगी हमारी लोग हैं उनको भी ब्राइट किया जा सकता है पैसा दिया जा सकता है तो यह पूरा प्रॉब्लम हमारी सोशल सिस्टम का है हम कैश पेमेंट करके खुश होते हैं कि हमने अपने पैसा बचा लिया और सरकार को टैक्स नहीं देना तो आदमी है बहादुरी समझता है कि मैं टैक्सी वेट कर रहा हूं जब तक हम इस सोशल सिस्टम को ठीक नहीं करते हैं इसका सरकार की ओर से तो एक ही है कि सरकारी स्ट्रिक्ट हो रही है और कोशिश कर रही है आधार लिंक कर रही है बैंक अकाउंट को और सारे पेमेंट को मॉनिटर किया जा रहा है तो सरकार अपनी तरफ से कदम उठा रही है

I think yahi toh bahut bada mushkil prashna hai vartmaan sarkar ke saamne bhi ki tax bharne walon ki sankhya mein vriddhi kaise ho aur isi ke liye sarkar ne itna bada dimonetaijeshan ka step liya uske baad bhi koi bahut zyada hi zyada toh nahi hua hai lekin shayad ek massage janta ko gaya hai ki tax dene ki zaroorat hai toh main boloonga sabse pehle step daughter action mein hai vaah ek aam aadmi ko lena hai aur vaah is time kya hai jo hum shortcut apply karte hain kahin bhi jaate hain dukaan vala bolta hai bina bill kitna paisa lagega aur bill saeed loge toh ji do percent patra se zyada lagega aur hum kaise dekhe khushi khushi payment karke chale aate hain sochte hain ki humne apna paisa bacha liya lekin apna Rs bachane ke liye sarkar ko Rs ka tax ka nuksan kar diya toh yah sarkar karen aur kis ko band karna koi salution nahi hai hum jante hain ki jab tak is tarike ki gas waali pehle likhna bhi chalegi aur chalegi kaise kiya aapki aur hamari marji se chal rahi hai sarkar nahi chahti ki yah chale toh hum sarkar ko kaise dost hai aur kitni rate karen sarkar kahaan kahaan rate karen kyonki jo rate karne waale log mein hogi hamari log hain unko bhi bright kiya ja sakta hai paisa diya ja sakta hai toh yah pura problem hamari social system ka hai hum cash payment karke khush hote hain ki humne apne paisa bacha liya aur sarkar ko tax nahi dena toh aadmi hai bahaduri samajhata hai ki main taxi wait kar raha hoon jab tak hum is social system ko theek nahi karte hain iska sarkar ki aur se toh ek hi hai ki sarkari strict ho rahi hai aur koshish kar rahi hai aadhaar link kar rahi hai bank account ko aur saare payment ko monitor kiya ja raha hai toh sarkar apni taraf se kadam utha rahi hai

आई थिंक यही तो बहुत बड़ा मुश्किल प्रश्न है वर्तमान सरकार के सामने भी की टैक्स भरने वालों क

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  1052
WhatsApp_icon
user

Raj Shah

Aspiring engineer

0:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अभी भारत में 1.7 प्रतिशत लोगों ने टैक्स भरा है पर अभी जब डिजिटलाइजेशन और यह सब होने के बाद नोटबंदी के बाद था बेटा सबका इनकम दिखने लगा है तो अभी सब टैक्स भरे गए

abhi bharat mein 1 7 pratishat logon ne tax bhara hai par abhi jab dijitlaijeshan aur yah sab hone ke baad notebandi ke baad tha beta sabka income dikhne laga hai toh abhi sab tax bhare gaye

अभी भारत में 1.7 प्रतिशत लोगों ने टैक्स भरा है पर अभी जब डिजिटलाइजेशन और यह सब होने के बाद

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  8
WhatsApp_icon
user
1:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक बहुत बड़ा मुद्दा है कि हमारे भारत के लोग जो हैं बहुत कम टैक्स रिटर्न भरते हैं इसका सबसे बड़ा कारण यह हो सकता है कि लोगों के जो खर्चे होते हैं बेसिकली हेल्थ के ऊपर एंड केशन के ऊपर सबसे ज्यादा खर्चा होता है तो मैं भी उसको मे टॉप करने के लिए लोग जो है अपना इनकम टैक्स जो है चोरी करते हैं अगर हम लोग ड्राइव कंट्री की बात करें तो वहां वह इसीलिए डुएल कंट्री है क्योंकि वहां के लोगों ने टैक्स डिपॉजिट करवाया फिफ्टी परसेंट 54% यहां तक रेशों रहता है बिल्डिंग कंट्री यों का हम अगर हम अपने भारत की बात करें तो 1.7 बहुत कम लोग जो है वह अपना इनकम टैक्स रिटर्न भरते हैं तो अगर हम लोग इसमें कुछ कोशिश कर सके तो मैं भी जागरूक करने की जरूरत है क्योंकि बहुत सारे लोग ऐसे हैं जिनको पता नहीं है कि हमारे देश के प्रति क्या उत्तर दायित्व है कि अगर हम इनकम टैक्स रिटर्न भरते तो अपने देश को डुएल करने में किस तरह से हम लोग सहायता करते हैं किस तरह का हम लोग रोल अदा करते हैं तो गवर्नमेंट को भी चाहिए कि लोगों को कुछ हालत में फैसिलिटी दे एजुकेशन में अच्छी फैसिलिटी दे आज की डेट में सिर कमाना ही रह गया जयकृष्ण की बात करें हेल्थ की बात करें तो यह बहुत बड़े कारण है जिसकी वजह से हमारे इंडिया के लोग जो है इनकम टैक्स रिटर्न भरते हैं तो उनको जागरूक करना जरूरी है थैंक यू

ek bahut bada mudda hai ki hamare bharat ke log jo hain bahut kam tax return bharte hain iska sabse bada karan yah ho sakta hai ki logon ke jo kharche hote hain basically health ke upar and kaisan ke upar sabse zyada kharcha hota hai toh main bhi usko mein top karne ke liye log jo hai apna income tax jo hai chori karte hain agar hum log drive country ki baat karen toh wahan vaah isliye duel country hai kyonki wahan ke logon ne tax deposit karvaya fifty percent 54 yahan tak reshon rehta hai building country yo ka hum agar hum apne bharat ki baat karen toh 1 7 bahut kam log jo hai vaah apna income tax return bharte hain toh agar hum log isme kuch koshish kar sake toh main bhi jaagruk karne ki zaroorat hai kyonki bahut saare log aise hain jinako pata nahi hai ki hamare desh ke prati kya uttar dayitva hai ki agar hum income tax return bharte toh apne desh ko duel karne mein kis tarah se hum log sahaayata karte hain kis tarah ka hum log roll ada karte hain toh government ko bhi chahiye ki logon ko kuch halat mein facility de education mein achi facility de aaj ki date mein sir kamana hi reh gaya jaykrishn ki baat karen health ki baat karen toh yah bahut bade karan hai jiski wajah se hamare india ke log jo hai income tax return bharte hain toh unko jaagruk karna zaroori hai thank you

एक बहुत बड़ा मुद्दा है कि हमारे भारत के लोग जो हैं बहुत कम टैक्स रिटर्न भरते हैं इसका सबसे

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  233
WhatsApp_icon
user

Janak

An Enthusiastic Entrepreneur.

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर इंडियन गवर्नमेंट ने एक अच्छा एक रिफॉर्म लाया कंट्री के लिए जो लोग टैक्स नहीं भर रहे हैं उनके लिए और काफी सारे जो बड़े-बड़े लोग अगर आप ईमानदारी से आज छापी मतलब छापा मारा तो हो सकता है कि उनका रेट बढ़ जाए और इनकम टैक्स देने वाले लोगों की संख्या बढ़ जाए और काफी स्ट्रिक्ट रूल फॉलो करना पड़ेगा हर एक के लिए तभी जाकर लोग सुधरेंगे और अपना इनकम टैक्स मारेंगे

agar indian govt ne ek accha ek reform layaa country K lie joe log tax nahin bhora rahe hain unke lie aur kaafi saare joe bade bade log agar aap imaandaari se aj chhapi matlab chapa mara to ho sakta hai qi unka rate badh jae aur income tax dane wale logon ki sankhya badh jae aur kaafi strict ruel follow krna padega her ek K lie tabhi jaakar log sudhrenge aur apna income tax marenge

अगर इंडियन गवर्नमेंट ने एक अच्छा एक रिफॉर्म लाया कंट्री के लिए जो लोग टैक्स नहीं भर रहे है

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  122
WhatsApp_icon
user

.

Hhhgnbhh

1:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इसके लिए भारत सरकार को एक बहुत ही सुनिश्चित और बहुत ही ज्यादा स्ट्रांग लव बनाना पड़ेगा ताकि लोग बच ना पाए टैक्स देने से बहुत लोग होते हैं हमने देखा है 90% से ज्यादा लोग टैक्स पर ही नहीं करते कोई रिटर्न फाइल नहीं उसकी देता है तो इन सब चीजों को खत्म करने के लिए हमें बहुत एक स्ट्रांग लौकी जरूरत है कि जो भी टाइप कर सकता है उसको अच्छा खासा फाइन हो और ना ही एक स्ट्रांग लौकी जरूरत है बल्कि हमें उसको यह भी देखना है कि वह तो लो है वह सुनिश्चित हो क्योंकि काफी बार ऐसा होता कि हम को 19 बना देते हैं पर हम यह नहीं देखते उसके बाद क्यों फॉलो हो रहा है या नहीं हो रहा है और भारत के नक्शा आबादी इतनी ज्यादा है वहां यह देखना कि सब लोगों ने डांट दिया है या नहीं दिया है इसके लिए बहुत स्ट्रांग सिस्टम होना चाहिए सब कुछ ऑनलाइन दर्ज होना चाहिए कि जो बंदा टैक्स ना दे रहा हो पता चले कि वह टाइप नहीं दे रहा है और उस पर कार्यवाही होनी चाहिए ऐसा हर्बल निकलेगा तभी जो इनकम टैक्स के छापे डरते हैं यह सिर्फ कुछ जगहों पर डालते हैं तो छोटे मोटे लोगों छोटा-छोटा टाइप किए थे वह लोग तो बस जाते हैं मेरे साथ से जवाब देने की बारी है चाहे वह छोटा हो या बड़ा हो सबको टाक देना चाहिए तो उसके लिए एक स्ट्रांग लो और स्ट्रांग इंप्लीमेंटेशन की जरूरत है

iske liye bharat sarkar ko ek bahut hi sunishchit aur bahut hi zyada strong love banana padega taki log bach na paye tax dene se bahut log hote hain humne dekha hai 90 se zyada log tax par hi nahi karte koi return file nahi uski deta hai toh in sab chijon ko khatam karne ke liye hamein bahut ek strong lauki zaroorat hai ki jo bhi type kar sakta hai usko accha khasa fine ho aur na hi ek strong lauki zaroorat hai balki hamein usko yah bhi dekhna hai ki vaah toh lo hai vaah sunishchit ho kyonki kafi baar aisa hota ki hum ko 19 bana dete hain par hum yah nahi dekhte uske baad kyon follow ho raha hai ya nahi ho raha hai aur bharat ke naksha aabadi itni zyada hai wahan yah dekhna ki sab logon ne dant diya hai ya nahi diya hai iske liye bahut strong system hona chahiye sab kuch online darj hona chahiye ki jo banda tax na de raha ho pata chale ki vaah type nahi de raha hai aur us par karyavahi honi chahiye aisa herbal niklega tabhi jo income tax ke chaape darte hain yah sirf kuch jagahon par daalte hain toh chhote mote logon chota chota type kiye the vaah log toh bus jaate hain mere saath se jawab dene ki baari hai chahen vaah chota ho ya bada ho sabko tak dena chahiye toh uske liye ek strong lo aur strong implementation ki zaroorat hai

इसके लिए भारत सरकार को एक बहुत ही सुनिश्चित और बहुत ही ज्यादा स्ट्रांग लव बनाना पड़ेगा ताक

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  74
WhatsApp_icon
user

Apurva D

Optimistic Coder

0:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत में केवल दो करोड़ जाने और मूंछ 1.7 पर्सेंट भारतीयों ने हे 2015 16 में टैक्स भरा है देखा जाए तो आयकर रिटर्न करने वालों की संख्या इस बार 4 पॉइंट 7 करोड़ हुई है जो कि पिछले बार से निश्चित रुप से ज्यादा है लेकिन कर का भुगतान सिर्फ दो करोड़ लोग कर रहे हैं मेरे ख्याल से सरकार ने कुछ ऐसे स्ट्रांग Action लेनी चाहिए या नहीं कैसे रूल्स और लौंग सेट करने चाहिए जिससे टैक्स ना भरने वालों को कुछ सजा मिले अभी टैक्स भरने वाले लोगों की संख्या में वृद्धि लाने के लिए मेरा सुझाव तो यही है कि अभी जैसे हम बैंक का अकाउंट हो या पैन कार्ड हो ऐसा सारा कुछ आधार कार्ड से लिंक करते हैं ऐसे क्यों ना ऐसे सितम बनाई जाए जो कि व्यक्ति के अकाउंट से ही अमाउंट ऑफ टैक्स कट हो जाए फिर उसकी रिसीव व्यक्ति को घर भेज दी जाए इससे ना कोई स्पर्धा कोई ऑब्जेक्शन ले सकता है और न वह परसेंट टैक्स ना भरने के कोई आवे रीजन दे सकता है और अगर ऐसे टाइम पर टैक्स जमा हो जाए तो हमारी इकोनॉमी पर भी अच्छा असर होने लगेगा

bharat mein keval though karod jane aur munch 1.7 percent bhartiyo ne hey 2015 16 mein tax bharya hai dekha jae to aaykar return karne valon ki sankhya is bar 4 point 7 karod hue hai joe qi pichle bar se nishcheet rup se jyada hai lekin car ka bhugtaan sirf though karod log car rahe hain mere khyala se sarkar ne kuch aise strong Action leni chahie ya nahin kaise ruls aur loung set karne chahie jisase tax na bharne valon co kuch saja mile abhi tax bharne wale logon ki sankhya mein vridhi lane K lie mera sujhaav to yahi hai qi abhi jaise hum bank ka account ho ya pan card ho aisa saara kuch aadhaar card se link karte hain aise kio na aise ssitam banai jae joe qi vyakti K account se hea amount of tax cut ho jae phir uski receive vyakti co ghar bhej they jae issase na koi spardha koi objection le sakta hai aur na wah parsent tax na bharne K koi ave reason they sakta hai aur agar aise time per tax juma ho jae to hamari economy per bhi accha asr hone lagega

भारत में केवल दो करोड़ जाने और मूंछ 1.7 पर्सेंट भारतीयों ने हे 2015 16 में टैक्स भरा है दे

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  14
WhatsApp_icon
user

Swati

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पीसी सरकार ने कुछ नए कानून और नियम तो बनाए हैं जिनसे उनके हिसाब से टेक्स्ट पर के नंबर में वृद्धि होगी जैसे कि अगर किसी की इनकम 50 लाख तक है तो उनके लिए एक सिंगल फेज आईटीआर 1 नाम से फॉर्म लागू किया गया जिस सिर्फ एक फॉर्म भरकर अपने टैक्स पर कर सकते हैं जिनकी इनकम ढाई लाख से 5 के बीच में उनके लिए 10 पद से हटाकर से पांच पर्सेंट का टैक्स रखा गया है जो पूरे देश में सबसे कम है जिनकी इनकम 500000 तक है उनके लिए नो स्क्रूटनी करके एक नया अब्दुल शुरू किया गया है सारे जो भी यह इनकम टैक्स इलेक्ट्रॉनिक अली हुआ है सर ट्रांजेक्शन ने डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन है नेट के थ्रू ही सारा कुछ किया गया है पर वह और भी काफी सारे नियम बनाते रहेंगे तो वह इनकम टैक्स में वृद्धि होगी दूसरा जो बैंक की ट्रेनिंग शुरु होती है और उन पर रेट कम कर दिया जाए तो लोग सादर बैंकों के थ्रू ही पैसों का आदान प्रदान करेंगे जिससे वह सरकार की नजर में रहेंगे और जो टैक्स नहीं दे रहे हैं जिनसे पता चल जाएगी इनके पास पैसे हैं पर टैक्स नहीं भर रहे हैं तो उनके ऊपर नजर रखी जाएगी और टेक्स्ट पर देने वाले लोगों में वृद्धि होगी और करने को भी यह भी कर सकते हैं कि जहां पर बिजली वगैरह कम जातीय पावर कट ज्यादा होते हैं ऐसे एरियास कोलकाता ईमेल टैक्स पर करने के लिए क्योंकि वहां पर तो बिजली का पहले से ही प्रॉब्लम है जिसको अगर ऑनलाइन कर दिया जाए सारी प्राइवेट कॉमेंट सबको तो भी इनकम टैक्स ना देने वालों का पता चल जाएगा और सरकार सुनिश्चित करेगी कि यह लोग से टेक्स्ट हैं

pc sarkar ne kuch naye kanoon aur niyam toh banaye hain jinse unke hisab se text par ke number mein vriddhi hogi jaise ki agar kisi ki income 50 lakh tak hai toh unke liye ek singles phase ITR 1 naam se form laagu kiya gaya jis sirf ek form bharkar apne tax par kar sakte hain jinki income dhai lakh se 5 ke beech mein unke liye 10 pad se hatakar se paanch percent ka tax rakha gaya hai jo poore desh mein sabse kam hai jinki income 500000 tak hai unke liye no scrutiny karke ek naya abdul shuru kiya gaya hai saare jo bhi yah income tax electronic ali hua hai sir transaction ne direct tax collection hai net ke through hi saara kuch kiya gaya hai par vaah aur bhi kafi saare niyam banate rahenge toh vaah income tax mein vriddhi hogi doosra jo bank ki training shuru hoti hai aur un par rate kam kar diya jaaye toh log sadar bankon ke through hi paison ka aadaan pradan karenge jisse vaah sarkar ki nazar mein rahenge aur jo tax nahi de rahe hain jinse pata chal jayegi inke paas paise hain par tax nahi bhar rahe hain toh unke upar nazar rakhi jayegi aur text par dene waale logon mein vriddhi hogi aur karne ko bhi yah bhi kar sakte hain ki jahan par bijli vagairah kam jatiye power cut zyada hote hain aise eriyas kolkata email tax par karne ke liye kyonki wahan par toh bijli ka pehle se hi problem hai jisko agar online kar diya jaaye saree private comment sabko toh bhi income tax na dene walon ka pata chal jaega aur sarkar sunishchit karegi ki yah log se text hain

पीसी सरकार ने कुछ नए कानून और नियम तो बनाए हैं जिनसे उनके हिसाब से टेक्स्ट पर के नंबर में

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  24
WhatsApp_icon
user

Shubham

Software Engineer in IBM

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अरुण जी आपने बहुत अच्छे क्वेश्चन पूछा है और मैं आपको 12 पैक बनाने वाला हूं आपको पता है झूठ टैक्स की रेड न्यू भर्ती में आयु टैक्स देते इनकम टैक्स लोग देते जिंदगी तो सबसे होती है और मैं बताता हूं भारत का जो अभी का हिसाब है वह रूलर अगर हम गांव की बात करूंगा फैमिली की बात करें तो 95% लोगों की जो आई है साल की डायलॉग से कमेटी को टैक्स नहीं भरते अब दूसरी चीज है आपकी गांव की कितनी आबादी टैक्स नहीं भरते दूसरी सूची है जो किसान होता है फार्मर उन लोगों को टैक्स नहीं भरना पड़ता चाहे उनकी इनकम टेक्स कितनी पॉपुलेशन टैक्स नहीं भरते समय की बात करें तो कम से कम करने के लिए सरकारी जो लोग होते हैं हम लोग टैक्स पर करते हो लोग चोरी नहीं कर पाते क्योंकि उनका जो इन कम होता है वह गवर्नमेंट की निगरानी को टैक्स की चोरी नहीं कर पाते लेकिन जो लोग प्राइवेट से जुड़े होते हैं जो लोग सचिन की 16 चीजें कंसल्टेंट हो गए सो गए डॉक्टर सुबह इनकी कोई फिक्स नहीं है तो यह लोग इतनी कम सैलरी दिखाते हैं अगर नहीं करते तो कोई टैक्स नहीं भरते मतलब इनकम कुछ भी दिखा देते हैं उसे भी टैक्स भर देते तक इनकम टैक्स भरना पड़ेगा कम इन कम दिखा दे तो कमी टैक्स भरते हैं तो ऐसे टैक्स की चोरी होती है और जो भारत टेक्स्ट पर है वह बहुत कम है तो गवर्नमेंट को उसके खिलाफ हूं रखना चाहिए अच्छे-अच्छे रूल होने चाहिए और उसके ख्यालों बनाना चाहिए अगर कोई टैक्स नहीं भरेगा तो उसके खिलाफ कड़ी से कड़ी एक्शन लेना चाहिए और ऐसा कुछ टेक्नोलॉजी गाने चाहिए जिससे पता चलता है कि कौन से दो लोग हैं उनकी जो सैलरी है कितनी इनकम हो रही है कुछ पता चलेगा मॉनिटर होता अच्छे से

arun g aapne bahut achchhe question pucha hai aur main aapko 12 pack banaane wala hoon aapko patta hai jhuth tax ki red new bharti mein aayu tax dete income tax log dete jindagi to sabse hoti hai aur main batata hoon bharat ka joe abhi ka hisaab hai wah ruler agar hum ganv ki baat karunga family ki baat karein to 95% logon ki joe I hai saul ki dialogue se kameti co tax nahin bharte aba dusri chij hai aapki ganv ki kitni aabadi tax nahin bharte dusri suchi hai joe kisan hota hai farmer un logon co tax nahin bharanaa padata chahe unki income tex kitni papuleshan tax nahin bharte samay ki baat karein to come se come karne K lie sarkari joe log hote hain hum log tax per karte ho log chori nahin car paate kyonki unka joe in come hota hai wah govt ki nigrani co tax ki chori nahin car paate lekin joe log PVT se jude hote hain joe log sachin ki 16 chijen kansaltent ho ge so ge doctor subeha inky koi fix nahin hai to yeh log itni come salary dikhaate hain agar nahin karte to koi tax nahin bharte matlab income kuch bhi dikha dete hain usse bhi tax bhora dete tak income tax bharanaa padega come in come dikha they to kami tax bharte hain to aise tax ki chori hoti hai aur joe bharat text per hai wah bahut come hai to govt co uske khilaf hoon rakhna chahie achchhe achchhe ruel hone chahie aur uske khyalon banana chahie agar koi tax nahin bharega to uske khilaf kadi se kadi action lena chahie aur aisa kuch teknolaji gaane chahie jisase patta chalata hai qi kaun se though log hain unki joe salary hai kitni income ho rahi hai kuch patta chalega monitor hota achchhe se

अरुण जी आपने बहुत अच्छे क्वेश्चन पूछा है और मैं आपको 12 पैक बनाने वाला हूं आपको पता है झूठ

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  36
WhatsApp_icon
user

Amber Rai

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विषय भारत में अगर रोड टैक्स भरने वालों की जनसंख्या है उस में वृद्धि लानी है तो मैं जाऊं तड़के इनकम टैक्स में कुछ बेसिक स्टेप्स उठाने पड़ेंगे इनकम टैक्स डिपार्टमेंट जो है उसको तो डिस्ट्रिक्ट होना पड़ेगा और लोगों को सच करने नोटिस भेजना पड़ेगा क्या नहीं भेजते तो कुछ स्ट्रिक्ट एक्शन शूज खोल देने पड़े उनके घर पर छापा मारना पड़ेगा नहीं तो और भी कुछ तो बाकी प्रोसीजर ऑफ प्रोटोकॉल से IT डिपार्टमेंट को फॉलो करना चाहिए उस ट्रैक करना चाहिए तभी तो लोग हैं वह टाइप करना शुरू करेंगे क्योंकि ज्यादातर प्राइवेट लोग जो है जो प्राइवेट फिल्म में काम करते हैं और बिजनेस करते हैं वह लोग टैक्स भरते की गवर्नमेंट जॉब में जो है उनका जो सारा लिखा जो खाए वह बैंक अकाउंट से होता है तो सब लॉटरी रहता है वह टाइम टू टाइम पेमेंट कर देते इनकम टैक्स है जबकि वह जो है नहीं करते हैं प्राइवेट लोग हैं ऐसे नहीं मैं बोला कि सारे प्राइवेट पर कुछ लोग हैं और कुछ विशेष मैंने जो नहीं करते हैं जिसकी वजह से हमारा देश का नाम जो है वह बदनाम होता है और हमारी देश की प्रगति में अपनी इनकम का कुछ हिस्सा को नहीं देना चाहते हैं तो मैं हमेशा यह गलत बात है और हर एक इंडिविजुअल जो कमाता है जिनकी जो टैक्सेबल इनकम है उस पर उनको उनका जो टेक्स्ट को खुद ही से पैसा देना चाहिए ऐसा रिस्पांसिबिलिटी अपने देश की तरफ से समझकर

vishya bharat mein agar road tax bharne valon ki jansankhya hai oosh mein vridhi laani hai to main jaun tadake income tax mein kuch basic steps uthane padenge income tax departement joe hai usko to district hona padega aur logon co such karne notice BHAIJANA padega kya nahin bhejte to kuch strict action shoes khol dane pade unke ghar per chapa maarna padega nahin to aur bhi kuch to baaki procedure of protocol se IT departement co follow krna chahie oosh track krna chahie tabhi to log hain wah type krna shuru karenge kyonki jyadatar PVT log joe hai joe PVT film mein kama karte hain aur business karte hain wah log tax bharte ki govt job mein joe hai unka joe saara likha joe khaye wah bank account se hota hai to sub lottery rehta hai wah time two time payment car dete income tax hai jbki wah joe hai nahin karte hain PVT log hain aise nahin main bolla qi saare PVT per kuch log hain aur kuch vishesh maine joe nahin karte hain jiskee vajaha se hamara desh ka naam joe hai wah badnaam hota hai aur hamari desh ki pragati mein apni income ka kuch hissa co nahin dena chahte hain to main hamesha yeh galat baat hai aur her ek imdividual joe kamaataa hai jinaki joe taiksebal income hai oosh per unko unka joe text co khud hea se paisa dena chahie aisa rispansibiliti apne desh ki tarf se samajhakar

विषय भारत में अगर रोड टैक्स भरने वालों की जनसंख्या है उस में वृद्धि लानी है तो मैं जाऊं तड

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  21
WhatsApp_icon
user

Kunjansinh Rajput

Aspiring Journalist

1:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के 2017 दिसंबर की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में 1 पॉइंट 6% भारतीय ही टैक्स देते हैं अगर वह रिपोर्ट में दिखा रहे हो इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ऑफ इनकम देखे तो उसमें एग्रीकल्चर इनकम नहीं गिना जाता है और जब की जो अमीर लोग हैं उन्होंने मेरे हिसाब से मात्र ही कर दी है कि टेक्स्ट कैसे ना दे और टाइम देने से कैसे बचे और गरम देखे तो ज्यादातर इंडियन जो है वह कंट्रीब्यूट करते हैं टैक्स रेवेन्यू से किसी भारत जो एक ऐसा मात्र देश है जो कि इनडायरेक्ट टैक्स पर ज्यादा डिपेंड इन रहता है मेरे हिसाब से पहले हमें वह सुधार लाना पड़ेगा और अगर हमें ज्यादा संख्या में वृद्धि लानी है तो हमें इसके लिए करना पड़ेगा कि जितने भी भारतीय राज्य है उसमें हमें वह सारे भारतीय राज्य प्रॉपर्टी टैक्स देने में बहुत सारे लाइक करने से वह डिपेंड होने चाहिए उन पर और जितना इकनोमिक लिए रेस्टुरेंट होगा रितिका का मतलब स्टंट होगा वह वह नहीं ज्यादा अच्छा होगा विक्रम देखे की प्रॉपर्टी टैक्स जो है प्रॉपर्टी टैक्स के चार मुनाफे है चार बेनिफिट संकेत अत्याचार फायदे सबसे पहला जो है इससे मुश्किल होगा बच पाना क्योंकि प्रॉपर्टी टैक्स को आप किधर मूड नहीं कर सकते हो या छुपा नहीं सकता आपको दिखाना ही पड़ेगा प्रॉपर्टी टैक्स कब तक रहेगा जब तक जिंदा हो तो मेरे हिसाब से से बचना मुश्किल बहुत ही मुश्किल होगा लेकिन दूसरी चीज मेरी यह होगी कि प्रॉपर्टी टैक्स यह क्यों एफिशिएंट है क्योंकि डिस्कशन पैदा करता है जो कि मेरे हिसाब से बहुत ही अच्छी बात है अगर आप जितना ज्यादा आप टाइप देंगे तो उत्तर दो यार नया कम कंस्ट्रक्शन होगा और जो तीसरे कारण यह होगा कि इसे यह ज्यादा पर अग्रसर हे दंड कंस्ट्रक्शन टैक्स

income tax departement K 2017 disambar ki report K mutabik bharat mein 1 point 6% bhartiya hea tax dete hain agar wah report mein dikha rahe ho income tax departement of income dekhe to usme egrikalchar income nahin gina jaata hai aur jab ki joe amir log hain unhonne mere hisaab se maatr hea car they hai qi text kaise na they aur time dane se kaise bache aur garam dekhe to jyadatar indian joe hai wah kantribyut karte hain tax revenyu se kisi bharat joe ek aisa maatr desh hai joe qi inadayrekt tax per jyada depend in rehta hai mere hisaab se pehle human wah shudhaar lana padega aur agar human jyada sankhya mein vridhi laani hai to human iske lie krna padega qi jitne bhi bhartiya rajya hai usme human wah saare bhartiya rajya property tax dane mein bahut saare like karne se wah depend hone chahie un per aur jitna ikanomik lie resturant hoga ritika ka matlab stant hoga wah wah nahin jyada accha hoga vikram dekhe ki property tax joe hai property tax K char munafe hai char benifit sanket atyachar fayde sabse pehla joe hai issase mushkil hoga bach panna kyonki property tax co aap kidhar mood nahin car sakte ho ya chhupa nahin sakta aapko dikhaanaa hea padega property tax kab tak rahega jab tak jinda ho to mere hisaab se se bachnaa mushkil bahut hea mushkil hoga lekin dusri chij meri yeh hogi qi property tax yeh kio efficient hai kyonki discussion paida karata hai joe qi mere hisaab se bahut hea achchhee baat hai agar aap jitna jyada aap type denge to uttar though your naya come kanstrakshan hoga aur joe tisare karan yeh hoga qi isse yeh jyada per agrasar hey dand kanstrakshan tax

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के 2017 दिसंबर की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में 1 पॉइंट 6% भारतीय ही

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  6
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!