भारतीयों में ऐसी क्या कमी है कि वह जाति और धर्म के आधार पर वोट देते हैं?...


play
user

amitkul

CA student,pursuing bcom too

1:28

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आधे कि हमारे भारतीय संस्कृति में अलग-अलग तरह के जाती है धर्म है और लोगों को ऐसा लगता है कि अगर अपने जाति वाला जाने अपने धर माला अपनी भाषा वाला वह हमारी बात समझेगा हमसे अच्छे से बात करके रहेगा हमारे साथ हमारा साथ देगा हमारी बातें सुनेगा हमारी मदद करेगा उनका मानना हो गया एक मेंटलिटी सी हो गई है जिसकी पूरी तरह से अभी की जनता को दोष नहीं दिया सजा दिया जा सकता पुराने थोड़े समय पहले जो राजनेताओं ने अलग-अलग चालीसा लिखकर जातिवाद और धर्म पर जो झगड़े कर आए हैं जो राइट्स हुए मुंबई में मुंबई में पूरे भारत में जो राइट्स हुए थे यह उन्हीं के नतीजे का परिणाम हमें दिखाई दे रहा है कि लोगों को ना दूसरे जातियों पर के नेताओं पर जो है विश्वास कम सा हो गया है उन्हें लगता है कि यह हमारे लिए कोई काम नहीं करने वाले तो उसके लिए उन उन के उन नेताओं को वोट नहीं दे पाते वोट नहीं दिया जाता तो इसीलिए ऐसे यह काफी बहुत बड़ी जो 1 किलो है हमारे इंडियन सिस्टम में भारतीय सिस्टम में कि लोग चाहती और जातिवाद धर्म पर वोट देते हैं ना कि नेता की काबिलियत पर वोट देते

aadhe ki hamare bharatiya sanskriti mein alag alag tarah ke jaati hai dharm hai aur logo ko aisa lagta hai ki agar apne jati vala jaane apne dhar mala apni bhasha vala vaah hamari baat samjhega humse acche se baat karke rahega hamare saath hamara saath dega hamari batein sunegaa hamari madad karega unka manana ho gaya ek mentaliti si ho gayi hai jiski puri tarah se abhi ki janta ko dosh nahi diya saza diya ja sakta purane thode samay pehle jo rajnetao ne alag alag chalisa likhkar jaatiwad aur dharm par jo jhagde kar aaye hain jo rights hue mumbai mein mumbai mein poore bharat mein jo rights hue the yah unhi ke natije ka parinam hamein dikhai de raha hai ki logo ko na dusre jaatiyo par ke netaon par jo hai vishwas kam sa ho gaya hai unhe lagta hai ki yah hamare liye koi kaam nahi karne waale toh uske liye un un ke un netaon ko vote nahi de paate vote nahi diya jata toh isliye aise yah kaafi bahut badi jo 1 kilo hai hamare indian system mein bharatiya system mein ki log chahti aur jaatiwad dharm par vote dete hain na ki neta ki kabiliyat par vote dete

आधे कि हमारे भारतीय संस्कृति में अलग-अलग तरह के जाती है धर्म है और लोगों को ऐसा लगता है कि

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  9
KooApp_icon
WhatsApp_icon
6 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!