भारतीयों में ऐसी क्या कमी है कि वह जाति और धर्म के आधार पर वोट देते हैं?...


user

Vatsal

Engineering Student

1:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए भारत जो देश है उसमे अनेक प्रकार की जाती के लोग अनेक धर्म के लोग रहते हैं तो होता क्या है कि यहां पर यह जो आरक्षण वाली चीजें इसने हमारे देश को बांट दिया है जो राजनीति उसने हमारे देश को बांट दिया हम क्या करते हैं किसी एक धर्म को जादा पुरा रेडी देकर दूसरे को डोमिनेटिंग करते जिसका जो भी लाइक अपना धर्म होता है जाति होती है उसको वह तवज्जो देता है जिससे कि हर एक इंसान ऐसा करने लगता है और जाति और धर्म के आधार पर बंटवारा होने लगता है इसीलिए जब चुनाव आते हैं कोई भी राजनेता आखिरकार जातीय धर्म के नाम पर आ जाता है जिससे कि उस जाती है उस धर्म का इंसान एक मत हो जाए और इस तरीके की चौकी यह जो एक क्राइटेरिया बन गया है 10 जाति और धर्म का हर इंसान अपने को एक महसूस करता है कि हां यह मैं अपने ग्रुप को सपोर्ट करना है यदि हम अपने ग्रुप को सपोर्ट नहीं करेंगे किसी दूसरे जातीय धर्म को करेंगे तो वह गलत होगा तो इसीलिए जस्ट बिकॉज़ राजनीति और यह आरक्षण वगैरह की चीजों ने हमारे देश को बांट दिया है इस ग्रुप में तो हर कोई अपने ग्रुप को सपोर्ट करना चाहता है तो इसी वजह से यह जो चीज है खत्म होने के बजाए और ज्यादा बढ़ती जा रही है और पॉलिटिशंस इसका भरपूर फायदा उठाकर बोर्ड ले रहा है

dekhiye bharat jo desh hai usme anek prakar ki jaati ke log anek dharm ke log rehte hai toh hota kya hai ki yahan par yah jo aarakshan wali cheezen isne hamare desh ko baant diya hai jo raajneeti usne hamare desh ko baant diya hum kya karte hai kisi ek dharm ko zyada pura ready dekar dusre ko domineting karte jiska jo bhi like apna dharm hota hai jati hoti hai usko vaah tavajjo deta hai jisse ki har ek insaan aisa karne lagta hai aur jati aur dharm ke aadhaar par batwara hone lagta hai isliye jab chunav aate hai koi bhi raajneta aakhirkaar jatiye dharm ke naam par aa jata hai jisse ki us jaati hai us dharm ka insaan ek mat ho jaaye aur is tarike ki chowki yah jo ek criteria ban gaya hai 10 jati aur dharm ka har insaan apne ko ek mehsus karta hai ki haan yah main apne group ko support karna hai yadi hum apne group ko support nahi karenge kisi dusre jatiye dharm ko karenge toh vaah galat hoga toh isliye just because raajneeti aur yah aarakshan vagera ki chijon ne hamare desh ko baant diya hai is group mein toh har koi apne group ko support karna chahta hai toh isi wajah se yah jo cheez hai khatam hone ke bajaye aur zyada badhti ja rahi hai aur politicians iska bharpur fayda uthaakar board le raha hai

देखिए भारत जो देश है उसमे अनेक प्रकार की जाती के लोग अनेक धर्म के लोग रहते हैं तो होता क्य

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  11
KooApp_icon
WhatsApp_icon
6 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!