लालू प्रसाद यादव को जेल में रहते हुए टीवी, अखबार जैसी चीज़ें मिल रही हैं, क्या यह सही है?...


play
user

Raj Shah

Aspiring engineer

0:22

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह बिल्कुल सही नहीं है किसी भी जेल में अगर किसी एक कैदी को या किसी एक चीज पर ध्यान लगा है उन्हें हम अगर अच्छी सुविधा देते हैं तो उसकी दूसरों पर भी असर अच्छी नहीं रहती सब मांगने लगेंगे अगर हम एक को देखे तो चार्ज कर लो उसके सब मांगेंगे यह जो टीवी और अखबार जैसा चीजें मिल रही है वह सब बंद कर देना चाहिए

yah bilkul sahi nahi hai kisi bhi jail mein agar kisi ek kaidi ko ya kisi ek cheez par dhyan laga hai unhe hum agar achi suvidha dete hain toh uski dusro par bhi asar achi nahi rehti sab mangne lagenge agar hum ek ko dekhe toh charge kar lo uske sab mangege yah jo TV aur akhbaar jaisa cheezen mil rahi hai vaah sab band kar dena chahiye

यह बिल्कुल सही नहीं है किसी भी जेल में अगर किसी एक कैदी को या किसी एक चीज पर ध्यान लगा है

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  14
WhatsApp_icon
13 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Sa Sha

Journalist since 1986

0:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लालू प्रसाद यादव को जेल में बिल्ली जीन सुविधाओं का खुलासा मीडिया में हुआ है वह दरअसल नियम के तहत ही दी गई सुविधाएं हैं जेल में कैदियों की कई श्रेणियों होती है लालू प्रसाद यादव को उनकी श्रेणी के आधार पर ही की सुविधाएं मिल रही है इसलिए स्पीड सही गलत जैसा कुछ नहीं है वैसे इससे पहले लालू प्रसाद यादव चारा घोटाले में जब जेल गए हुए थे तब दूरदराज के इलाकों से उनके कार्य करता समर्थक अपने नेता की नसें झलक पाने के लिए बल्कि उनके लिए सत्तू रोटी और चना साथ लेकर आया करते थे अगर ऐसा कुछ अगर फिर से हो रहा है तो यह अतिरिक्त सुविधा हो सकती है

lalu prasad yadav ko jail mein billi gene suvidhaon ka khulasa media mein hua hai vaah darasal niyam ke tahat hi di gayi suvidhaen hai jail mein kaidiyo ki kai shreniyon hoti hai lalu prasad yadav ko unki shreni ke aadhaar par hi ki suvidhaen mil rahi hai isliye speed sahi galat jaisa kuch nahi hai waise isse pehle lalu prasad yadav chara ghotale mein jab jail gaye hue the tab durdaraj ke ilako se unke karya karta samarthak apne neta ki nase jhalak paane ke liye balki unke liye sattu roti aur chana saath lekar aaya karte the agar aisa kuch agar phir se ho raha hai toh yah atirikt suvidha ho sakti hai

लालू प्रसाद यादव को जेल में बिल्ली जीन सुविधाओं का खुलासा मीडिया में हुआ है वह दरअसल नियम

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  17
WhatsApp_icon
user

Prem Verma

Journalist

1:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अब सवाल यह लालू जी को जेल में टीवी मिल रहा है सही है कि गलत है सही गलत का फैसला तो हमारे देश की अदालत ही करेंगी हम यहां पर अपने विचार ही आपसे शेयर कर सकते हैं सजा कर सकते हैं अपनी निजी जो राय होती है वही आपसे शेयर कर सकते हैं तो मेरा मानना है अगर जेल में लालू जी को नहीं टीवी अखबार में देगा तो क्या आम आदमी को मिलेगा आम आदमी की तो जेल में सुनते भी नहीं है आम आदमी तो बस अपनी अंदर की जो है जेल के अंदर अपनी सजा पूरी करता है या अपना काम करता रहता है सुविधाएं की तो वह सोचता नहीं मिलती नहीं है और आज तो आम बात हो गई है अक्सर देखा जाता है जियो से मोबाइल मिल जाता है कैदियों नशे की बरामदगी हो रही है कितना कुछ होता है जी इसकी वजह यही है कि अंतर होता है जेल में कैदियों के साथ उनकी प्रोफाइल के अनुसार ही उनसे ट्रिक किया जाता है तभी यह सब चीजें और लालू जी को जेल में मिलना तो हुआ जब है भैया एक रसूखदार आदमी है और उनके सभी उन पर ऐसा ही है उनके रसूख जैसा इतना बड़ा

ab sawaal yah lalu ji ko jail mein TV mil raha hai sahi hai ki galat hai sahi galat ka faisla toh hamare desh ki adalat hi karengi hum yahan par apne vichar hi aapse share kar sakte hain saza kar sakte hain apni niji jo rai hoti hai wahi aapse share kar sakte hain toh mera manana hai agar jail mein lalu ji ko nahi TV akhbaar mein dega toh kya aam aadmi ko milega aam aadmi ki toh jail mein sunte bhi nahi hai aam aadmi toh bus apni andar ki jo hai jail ke andar apni saza puri karta hai ya apna kaam karta rehta hai suvidhaen ki toh vaah sochta nahi milti nahi hai aur aaj toh aam baat ho gayi hai aksar dekha jata hai jio se mobile mil jata hai kaidiyo nashe ki baramadagi ho rahi hai kitna kuch hota hai ji iski wajah yahi hai ki antar hota hai jail mein kaidiyo ke saath unki profile ke anusaar hi unse trick kiya jata hai tabhi yah sab cheezen aur lalu ji ko jail mein milna toh hua jab hai bhaiya ek rasukhdar aadmi hai aur unke sabhi un par aisa hi hai unke rasukh jaisa itna bada

अब सवाल यह लालू जी को जेल में टीवी मिल रहा है सही है कि गलत है सही गलत का फैसला तो हमारे द

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  128
WhatsApp_icon
user

Amber Rai

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

0:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नहीं देखे बिल्कुल सही बात नहीं है जैसा कि आप जानते हैं हमारे देश में वीआईपी कल्चर जो है वह कभी खत्म नहीं होता है पर है लाल बत्ती कब देते थे कि चालू लाल बत्ती लाल बत्ती वीआईपी कल्चर के तेल में भी जाकर होता है कोई भी IPL नॉर्मल या गरीब

nahi dekhe bilkul sahi baat nahi hai jaisa ki aap jante hain hamare desh mein VIP culture jo hai vaah kabhi khatam nahi hota hai par hai laal batti kab dete the ki chaalu laal batti laal batti VIP culture ke tel mein bhi jaakar hota hai koi bhi IPL normal ya garib

नहीं देखे बिल्कुल सही बात नहीं है जैसा कि आप जानते हैं हमारे देश में वीआईपी कल्चर जो है वह

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  64
WhatsApp_icon
user

Sachin Bharadwaj

Faculty - Mathematics

1:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखो मुझे लगता है कि अगर इस तरह की घटनाएं होती हैं तो मैं कहता हूं कि हमारा जो सिस्टम है वहीं इसके लिए रिस्पॉन्सिबल है यह हमारे देश का दुर्भाग्य है कि हम को इस तरह के नेता मिले जिन्होंने केवल अपना पेट भरने का काम किया केवल करप्शन करने का काम किया लोगों के वेलफेयर के बारे में कभी नहीं सोचा अब इन्हीं में से एक पॉलिटिशियन हमारी श्री लालू प्रसाद यादव जी जो आपके बिहार से आते हैं पांच बार उल्टी जेल जा चुके हैं छठ Vivah शाहिद जेल जा रहे हैं दूसरा ही है कि अगर एक आम आदमी करप्शन करता है और क्वालिटी एक जिम्मेदार पॉलिटिशन करप्शन करता है तो उनको जेल के अंदर जोश फैसिलिटीज दी जाती है उसमें बहुत ज्यादा डिफरेंस होता है मुझे लगता है कि दोनों तरफ पीपल तो दोनों को ट्रीटमेंट सीन होना चाहिए दूसरा एक अगर आम आदमी करप्शन करता है उसको जेल होती है तो उसको कोई सुविधा जेल के अंदर नहीं जा नहीं दी जाती उसके ऊपर अट्रोसिटी की जाती है लेकिन यूं ही अगर कोई पॉलिसी इस तरह का कुकर्म करता है तो उसको पूरी लग्जरी दी जाती है जैसा कि हम लोगों ने न्यूज़ में देखा उनको न्यूज़ पेपर दे दिया जाता है कि अच्छा ब्रेकफास्ट मिलाएं TV लगाएगी यह और भी बहुत ज्यादा फैसिलिटीज दी गई है उनको अटैक जो भाषण दिया गया क्या कभी हम लोगों ने सुना है कि किसी आम आदमी को अटैक जीवाशम वाला कमरा दिया जाए जेल के अंदर मुझे नहीं लगता दो जब तक सिस्टम में चेंज नहीं होगा हम इस तरह की न्यूज़ सुनते रहेंगे उसके लिए मुझे लगता है कि आज एक सही वक्त से हम लोगों को सोचना चाहिए यहां तक कि हमारी सरकार को सोचना चाहिए कि करप्ट आदमी करप्ट है चाहे वह पॉलिटिशन हो चाहे एक आम आदमी हो उसको एक आम आदमी की तरह ठीक किया जाना चाहिए चाहे वह लालू प्रसाद यादव चाहे कोई अन्य पॉलिटिशन हो

dekho mujhe lagta hai ki agar is tarah ki ghatnaye hoti hai toh main kahata hoon ki hamara jo system hai wahi iske liye responsible hai yah hamare desh ka durbhagya hai ki hum ko is tarah ke neta mile jinhone keval apna pet bharne ka kaam kiya keval corruption karne ka kaam kiya logo ke welfare ke bare mein kabhi nahi socha ab inhin mein se ek politician hamari shri lalu prasad yadav ji jo aapke bihar se aate hai paanch baar ulti jail ja chuke hai chhath Vivah shahid jail ja rahe hai doosra hi hai ki agar ek aam aadmi corruption karta hai aur quality ek zimmedar politician corruption karta hai toh unko jail ke andar josh facilities di jaati hai usme bahut zyada difference hota hai mujhe lagta hai ki dono taraf pipal toh dono ko treatment seen hona chahiye doosra ek agar aam aadmi corruption karta hai usko jail hoti hai toh usko koi suvidha jail ke andar nahi ja nahi di jaati uske upar atrositi ki jaati hai lekin yun hi agar koi policy is tarah ka kukarm karta hai toh usko puri luxury di jaati hai jaisa ki hum logo ne news mein dekha unko news paper de diya jata hai ki accha Breakfast milaen TV lagaegi yah aur bhi bahut zyada facilities di gayi hai unko attack jo bhashan diya gaya kya kabhi hum logo ne suna hai ki kisi aam aadmi ko attack jiwasm vala kamra diya jaaye jail ke andar mujhe nahi lagta do jab tak system mein change nahi hoga hum is tarah ki news sunte rahenge uske liye mujhe lagta hai ki aaj ek sahi waqt se hum logo ko sochna chahiye yahan tak ki hamari sarkar ko sochna chahiye ki corrupt aadmi corrupt hai chahen vaah politician ho chahen ek aam aadmi ho usko ek aam aadmi ki tarah theek kiya jana chahiye chahen vaah lalu prasad yadav chahen koi anya politician ho

देखो मुझे लगता है कि अगर इस तरह की घटनाएं होती हैं तो मैं कहता हूं कि हमारा जो सिस्टम है व

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  18
WhatsApp_icon
user

amitkul

CA student,pursuing bcom too

0:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लालू प्रसाद यादव जी हो या कोई भी हो अगर वह कहती है तो उन्हें जो है TV अखबार जैसे अलग-अलग सुविधाओं को पूरी तरह लाभ नहीं मिलना चाहिए एक बार किसी को अखबार दिया जाए तो फिर भी ठीक है किताबे दी जाए फिर भी ठीक है अच्छा तो बहुत सारे देशों के जेल में भी होता है क्या एक लाइब्रेरी होती है वहां पर भील जेल की लाइब्रेरी होती है वहां पर लोग अच्छी अच्छी बातें पढ़ पढ़ ले पढ़ सकते हैं और समझ सकते हैं पर tv की जो सुविधा दी जा रही है लालू प्रसाद यादव को वह बिल्कुल गलत है एक कैदी को सजा काटने के लिए पश्चाताप के लिए जेल में रखा जाता है अगर वह वहां पर भी मौज मस्ती से मौज मस्ती करेगा तो यह तो ससा काटने की बात हुई नहीं तो इसलिए यह बात बिल्कुल गलत है

lalu prasad yadav ji ho ya koi bhi ho agar vaah kehti hai toh unhe jo hai TV akhbaar jaise alag alag suvidhaon ko puri tarah labh nahi milna chahiye ek baar kisi ko akhbaar diya jaaye toh phir bhi theek hai kitabe di jaaye phir bhi theek hai accha toh bahut saare deshon ke jail mein bhi hota hai kya ek library hoti hai wahan par bhil jail ki library hoti hai wahan par log achi achi batein padh padh le padh sakte hain aur samajh sakte hain par tv ki jo suvidha di ja rahi hai lalu prasad yadav ko vaah bilkul galat hai ek kaidi ko saza katne ke liye pashchaataap ke liye jail mein rakha jata hai agar vaah wahan par bhi mauj masti se mauj masti karega toh yah toh sasa katne ki baat hui nahi toh isliye yah baat bilkul galat hai

लालू प्रसाद यादव जी हो या कोई भी हो अगर वह कहती है तो उन्हें जो है TV अखबार जैसे अलग-अलग स

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  10
WhatsApp_icon
user

Ekta

Researcher and Writer

0:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी नहीं मुझे नहीं लगता कि लालू प्रसाद यादव को जेल में रहते हुए TV वाली सुविधाएं मिलनी चाहिए क्योंकि अगर हमेशा किसी एक नेता के लिए लागू करेंगे बाकी सारी नेताओं पर भी लागू होंगे लालू प्रसाद यादव वैसे भी बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री रह चुके हैं और जिस हिसाब से उनके खिलाफ फाइल्स दर्ज मुझे हिसाब से बनी ऐसी सुविधा नहीं मिलनी चाहिए क्योंकि उनके खिलाफ पॉलिटिक्स कितनी क्रिमिनल रिकॉर्ड्स जल्दी से बता देना एक पूर्व नेता के लिए 1 घंटे के लिए ठीक नहीं है आई सिस्टम के लिए भी

ji nahi mujhe nahi lagta ki lalu prasad yadav ko jail mein rehte hue TV wali suvidhaen milani chahiye kyonki agar hamesha kisi ek neta ke liye laagu karenge baki saree netaon par bhi laagu honge lalu prasad yadav waise bhi bihar ke purv mukhyamantri reh chuke hain aur jis hisab se unke khilaf files darj mujhe hisab se bani aisi suvidha nahi milani chahiye kyonki unke khilaf politics kitni criminal records jaldi se bata dena ek purv neta ke liye 1 ghante ke liye theek nahi hai I system ke liye bhi

जी नहीं मुझे नहीं लगता कि लालू प्रसाद यादव को जेल में रहते हुए TV वाली सुविधाएं मिलनी चाहि

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  10
WhatsApp_icon
user

.

Hhhgnbhh

1:03
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैंने कुछ दिनों पहले एक आर्टिकल पढ़ा था, द इंडियन एक्सप्रेस से वहां यह साफ साफ शब्दों में लिखा हुआ था कि, लालू प्रसाद जी, टीवी, अखबार और ऐसी कुछ फैसिलिटीज का यूज़ उपयोग करते हैं, जो बाकी लोग नहीं करते हैं| तो मेरे हिसाब से अगर यह फैसिलिटी का उपयोग करना उन्हें मिल रहा है तो, वैसे ही बाकी भी जो जेल वासि है , उन्हें भी मिलना चाहिए या फिर किसी को भी नहीं मिलना चाहिए, क्योंकि एक तरफ हम खुद कहते हैं कि हमारे देश को हमें इक्वलिटी की राह पर ले कर जाना है| हम सबको बराबर देखेंगे| हम किसी को बड़ा छोटा नहीं देखेंगे| वहीं दूसरी तरफ अगर हम किसी को ऐसे ही फैसिलिटीज दे रहे हैं, तो यह हम अपनी ही बात को काट रहे हैं| तो इसीलिए हमें इस चीज का ध्यान रखना चाहिए और हमें अपने आगे आने वाले टाइम में और आगे आने वाले समय में सुनिश्चित करना चाहिए कि, ऐसा वापस ना हो हम हर किसी को इक्वल रखे हर, किसी को बराबर ही ट्रीट करें जब लो की बात आती है तो|

maine kuch dino pehle ek article padha tha the indian express se wahan yah saaf saaf shabdon mein likha hua tha ki lalu prasad ji TV akhbaar aur aisi kuch facilities ka use upyog karte hai jo baki log nahi karte hai toh mere hisab se agar yah facility ka upyog karna unhe mil raha hai toh waise hi baki bhi jo jail vasi hai unhe bhi milna chahiye ya phir kisi ko bhi nahi milna chahiye kyonki ek taraf hum khud kehte hai ki hamare desh ko hamein Equality ki raah par le kar jana hai hum sabko barabar dekhenge hum kisi ko bada chota nahi dekhenge wahi dusri taraf agar hum kisi ko aise hi facilities de rahe hai toh yah hum apni hi baat ko kaat rahe hai toh isliye hamein is cheez ka dhyan rakhna chahiye aur hamein apne aage aane waale time mein aur aage aane waale samay mein sunishchit karna chahiye ki aisa wapas na ho hum har kisi ko equal rakhe har kisi ko barabar hi treat kare jab lo ki baat aati hai toh

मैंने कुछ दिनों पहले एक आर्टिकल पढ़ा था, द इंडियन एक्सप्रेस से वहां यह साफ साफ शब्दों में

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  24
WhatsApp_icon
user

Ridhima

Mass Communications Student

0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह मुझे बिल्कुल सही बात नहीं है कि लालू प्रसाद यादव जी जेल में रहते हुए भी उनको TV अखबार जैसी चीजें मिल रही है क्योंकि आप देखो तो यह थोड़ा अनफ्रेंड हो गया और दूसरे लोगों लोगों के लिए जो जेल में है इनको लालू जी को इतना फैसिलिटीज मिलने जो उन लोग को नहीं मिलता है तो यह बहुत ही अनफ्रेंड जस्ट बिकॉज़ पर्सनालिटी रहे थे कि जैसे कोई पॉलिटिशियन है

yah mujhe bilkul sahi baat nahi hai ki lalu prasad yadav ji jail mein rehte hue bhi unko TV akhbaar jaisi cheezen mil rahi hai kyonki aap dekho toh yah thoda anafrend ho gaya aur dusre logo logon ke liye jo jail mein hai inko lalu ji ko itna facilities milne jo un log ko nahi milta hai toh yah bahut hi anafrend just because personality rahe the ki jaise koi politician hai

यह मुझे बिल्कुल सही बात नहीं है कि लालू प्रसाद यादव जी जेल में रहते हुए भी उनको TV अखबार ज

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  14
WhatsApp_icon
user

Anukrati

Journalism Graduate

0:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे नहीं लगता है कि यह सही है लालू प्रसाद यादव पूर्व नेता है लेकिन वर्तमान समय में वह एक अपराध की सजा के लिए जेल में है और उन्हें जिस अपराध के लिए सजा मिली है वह कई वर्ष पुराना और बहुत ही बड़ा अपराध था करोड़ों का घोटाला जो हुआ उसका असर हुआ उस धन को देश के लिए काम में लिया जा सकता था वह एक अपराधी है क्या हम बाकी अपराधियों को भी सभी सुविधाएं देते हैं अगर नहीं तो लालू प्रसाद यादव को क्यों उन्हें भी बाकी अपराधियों की तरह सदा के लिए जेल में रखा जाना चाहिए सभी सुख सुविधाओं के साथ अगर वह जेल में रहेंगे तो वह कैसे महसूस कर पाएंगे कि उन्होंने कुछ गलत किया वह सजा के तौर पर यहां जेल में अपने अपराध का पश्चाताप करने आए हैं तो उन्हें यह सुविधाएं नहीं मिलनी चाहिए

mujhe nahi lagta hai ki yah sahi hai lalu prasad yadav purv neta hai lekin vartaman samay mein vaah ek apradh ki saza ke liye jail mein hai aur unhe jis apradh ke liye saza mili hai vaah kai varsh purana aur bahut hi bada apradh tha karodo ka ghotala jo hua uska asar hua us dhan ko desh ke liye kaam mein liya ja sakta tha vaah ek apradhi hai kya hum baki apradhiyon ko bhi sabhi suvidhaen dete hain agar nahi toh lalu prasad yadav ko kyon unhe bhi baki apradhiyon ki tarah sada ke liye jail mein rakha jana chahiye sabhi sukh suvidhaon ke saath agar vaah jail mein rahenge toh vaah kaise mehsus kar payenge ki unhone kuch galat kiya vaah saza ke taur par yahan jail mein apne apradh ka pashchaataap karne aaye hain toh unhe yah suvidhaen nahi milani chahiye

मुझे नहीं लगता है कि यह सही है लालू प्रसाद यादव पूर्व नेता है लेकिन वर्तमान समय में वह एक

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  15
WhatsApp_icon
user

Kunjansinh Rajput

Aspiring Journalist

1:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लालू यादव पहले से नेता नहीं है जी ने जेल में रहते हुए भी Tv अकबर जैसी चीजें मिल रही है अगर हम देखें तो से करें कई सारे नेता जिला जेल में रहते हुए चीज़े अखबार मिली है जैसे कि तमिलनाडु की शशिकला देखा जाए तो उन्हें भी एयर कंडीशनर मिला था आसाराम बापू दिखाया तो उन्होंने उन्हें भी TV यह सब यह सब मिला था चूहा यह सब चीजों को देखकर लालू प्रसाद यादव को जेल में जो अच्छी सर्विस मिल रही है वह बिल्कुल सही नहीं है क्योंकि कानून के मुताबिक लालू प्रसाद यादव आरोपी है उन्होंने घोटाला किया है जो कानून के खिलाफ है या कानून का उल्लंघन है उन्हें भी सजा मिलनी चाहिए सजा मिली और उन्हें जेल में वैसे ही रहना चाहिए जैसे बाकी सारे आरोपी रह रहे हैं कि कि भारतीय संविधान में ऐसा कोई कानून नहीं लिखा है कि अगर कोई नेता कानून का उल्लंघन करे तो उन्हें न्यूज़ पेपर अखबार TV ऐसा कुछ मिलना चाहिए तो मेरे हिसाब से लालू प्रसाद यादव को भी उम्र बाकी सारे आरोपियों या बाकी सारे जेल में जो रहते हो जेब में जो है उन्हें के जैसा रहना चाहिए

lalu yadav pehle se neta nahi hai ji ne jail mein rehte hue bhi Tv akbar jaisi cheezen mil rahi hai agar hum dekhen toh se kare kai saare neta jila jail mein rehte hue cheeje akhbaar mili hai jaise ki tamil nadu ki shashikala dekha jaaye toh unhe bhi air conditioner mila tha asharam bapu dikhaya toh unhone unhe bhi TV yah sab yah sab mila tha chuha yah sab chijon ko dekhkar lalu prasad yadav ko jail mein jo achi service mil rahi hai vaah bilkul sahi nahi hai kyonki kanoon ke mutabik lalu prasad yadav aaropi hai unhone ghotala kiya hai jo kanoon ke khilaf hai ya kanoon ka ullanghan hai unhe bhi saza milani chahiye saza mili aur unhe jail mein waise hi rehna chahiye jaise baki saare aaropi reh rahe hai ki ki bharatiya samvidhan mein aisa koi kanoon nahi likha hai ki agar koi neta kanoon ka ullanghan kare toh unhe news paper akhbaar TV aisa kuch milna chahiye toh mere hisab se lalu prasad yadav ko bhi umr baki saare aaropiyon ya baki saare jail mein jo rehte ho jeb mein jo hai unhe ke jaisa rehna chahiye

लालू यादव पहले से नेता नहीं है जी ने जेल में रहते हुए भी Tv अकबर जैसी चीजें मिल रही है अगर

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  11
WhatsApp_icon
user

Vatsal

Engineering Student

1:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

PK हाल ही में खबर आई आने में पता चला एक बार में मैंने पढ़ा था कि लालू प्रसाद यादव जो है वह चारा स्कैम में दोषी हैं और वह जेल में बंद है सजा दूंगी अलार्म अभी वह नहीं है लेकिन फिलहाल वह जेल में बंद हैं उन को सुविधाएं मिल रही हैं उनको प्रॉपर्टी अटैच बाथरूम है उनके कमरे में और एक प्रॉपर सोने की एक चौकी दी गई है TV मिला है TV जिसमें केबल कनेक्शन नहीं है और गर्म कपड़े धोने की सब सारी चीजें मिली है जो कि अन्य कैदियों को नहीं मिलती है तुम मेरा सवाल केवल यह है आपके सवाल का जवाब देते हुए कि यह चीजें क्या बिल्कुल सही है लालू प्रसाद यादव कैसे अलग है उन कैदियों से उन कैदियों ने भी कुछ गलत काम किया लालू प्रसाद यादव ने भी कुछ गलत काम किया है तो चाहे कोई राजनेता हो जाए कोई भी इंसान हूं यदि वह उस कारागार में बंद है तो उसका मतलब है वह उसी पोजीशन उसी स्टेटस का हकदार है जो किसी अन्य कैदियों को मिलते हैं तो यह बिल्कुल गलत चीज है चाहे बुला लो सद यादव चैतन्य कोई इस तरीके का VIP इंसान जिस को VIP ट्रीटमेंट मिलता है जेलों में अन्य इंसान भी होते हैं जैसे वह सहारा प्रमुख को गायब किया और जो भी इंसान है तो यह बिल्कुल एक आम इंसान की तरह ने ट्वीट किया जाना चाहिए क्योंकि इस समय यह कोई भी ज्यादा कोई भी पोजीशन पर नहीं है यह एक कैदी है यह एक कोई अपराध में बंद हुए हैं यह सब चीजें बिल्कुल नहीं मिली जीवाराम कैदी की तरह इंतजार ट्रीटमेंट होना चाहिए

PK haal hi mein khabar I aane mein pata chala ek baar mein maine padha tha ki lalu prasad yadav jo hai vaah chara scam mein doshi hain aur vaah jail mein band hai saza dungi alarm abhi vaah nahi hai lekin filhal vaah jail mein band hain un ko suvidhaen mil rahi hain unko property attach bathroom hai unke kamre mein aur ek proper sone ki ek chowki di gayi hai TV mila hai TV jisme keval connection nahi hai aur garam kapde dhone ki sab saree cheezen mili hai jo ki anya kaidiyo ko nahi milti hai tum mera sawaal keval yah hai aapke sawaal ka jawab dete hue ki yah cheezen kya bilkul sahi hai lalu prasad yadav kaise alag hai un kaidiyo se un kaidiyo ne bhi kuch galat kaam kiya lalu prasad yadav ne bhi kuch galat kaam kiya hai toh chahen koi raajneta ho jaaye koi bhi insaan hoon yadi vaah us karagar mein band hai toh uska matlab hai vaah usi position usi status ka haqdaar hai jo kisi anya kaidiyo ko milte hain toh yah bilkul galat cheez hai chahen bula lo sad yadav chaitanya koi is tarike ka VIP insaan jis ko VIP treatment milta hai jailon mein anya insaan bhi hote hain jaise vaah sahara pramukh ko gayab kiya aur jo bhi insaan hai toh yah bilkul ek aam insaan ki tarah ne tweet kiya jana chahiye kyonki is samay yah koi bhi zyada koi bhi position par nahi hai yah ek kaidi hai yah ek koi apradh mein band hue hain yah sab cheezen bilkul nahi mili jivaram kaidi ki tarah intejar treatment hona chahiye

PK हाल ही में खबर आई आने में पता चला एक बार में मैंने पढ़ा था कि लालू प्रसाद यादव जो है वह

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  13
WhatsApp_icon
user

Swati

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखें मेरे हिसाब से इसमें कोई दो राय नहीं है कि उनको यह फैसिलिटीज मिलना गलत है क्योंकि क्रिमिनल जो तब क्रिमिनल होता है इससे नहीं फर्क पड़ता कि वह कोई देश के प्राइम मिनिस्टर है किस स्टेट के चीफ मिनिस्टर है या कोई आम नागरिक है उन्होंने कोई जुर्म किया है इसीलिए वह जेल में है और उसका उसको रिटर्न करने के लिए पछतावा करने के लिए उन्हें जेल में डाला जाता है पर अगर जेल में रहकर भी वह घर जैसे आराम जैसे यह सारी लेटेस्ट TV अकबरपुर चीनी मिल रहा है तो यह गलत ही है यह सही तो हो ही नहीं सकता दूसरा लालू प्रसाद यादव को जिस मामले में फैसला यह सजा सुनाई गई है वह कई हजार करोड़ रुपए का घोटाला था और अगर इतने रुपए देश की जनता की सेवा में लगा जाते तो शायद थोड़ा बहुत जो तस्वीर आज के समय है वह बस चुकी होती तो अगर उन्हें सजा सुनाई गई है उस मामले में तो उन्हें बाकी कैदियों की तरह ही रखना चाहिए बताओ जो चीफ मिनिस्टर जो जो भी पॉलिटिकल लीडर होता है वह स्ट्रांग होते पॉलिटिकली उनके पास मैनफोर्स होती है और को डरा-धमका कर ड्राइव करके रिश्वत देकर सब करके ऐसी रिजल्ट किस ने जिस तरीके से ही लेते हैं जेल में पढ़ाई गलत है और और टैक्स रूल्स और रेगुलेशन होनी चाहिए जो इन सब के अध्ययन देखे कि ऐसा कुछ ना हो और उन्हें पैसे ही रखा जाए जेल में जैसे बाकी कैदियों को रखा जाता है क्योंकि वही उनकी असली सजा होगी

dekhen mere hisab se isme koi do rai nahi hai ki unko yah facilities milna galat hai kyonki criminal jo tab criminal hota hai isse nahi fark padta ki vaah koi desh ke prime minister hai kis state ke chief minister hai ya koi aam nagarik hai unhone koi jurm kiya hai isliye vaah jail mein hai aur uska usko return karne ke liye pachtava karne ke liye unhe jail mein dala jata hai par agar jail mein rahkar bhi vaah ghar jaise aaram jaise yah saree latest TV akabarpur chini mil raha hai toh yah galat hi hai yah sahi toh ho hi nahi sakta doosra lalu prasad yadav ko jis mamle mein faisla yah saza sunayi gayi hai vaah kai hazaar crore rupaye ka ghotala tha aur agar itne rupaye desh ki janta ki seva mein laga jaate toh shayad thoda bahut jo tasveer aaj ke samay hai vaah bus chuki hoti toh agar unhe saza sunayi gayi hai us mamle mein toh unhe baki kaidiyo ki tarah hi rakhna chahiye batao jo chief minister jo jo bhi political leader hota hai vaah strong hote politically unke paas manforce hoti hai aur ko dara dhamka kar drive karke rishwat dekar sab karke aisi result kis ne jis tarike se hi lete hain jail mein padhai galat hai aur aur tax rules aur regulation honi chahiye jo in sab ke adhyayan dekhe ki aisa kuch na ho aur unhe paise hi rakha jaaye jail mein jaise baki kaidiyo ko rakha jata hai kyonki wahi unki asli saza hogi

देखें मेरे हिसाब से इसमें कोई दो राय नहीं है कि उनको यह फैसिलिटीज मिलना गलत है क्योंकि क्र

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  18
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!