झारखंड ने एक 'पिता-माता पूजा दिवस' की घोषणा की है जहां बच्चे अपने माता-पिता से प्रार्थना करेंगे और अपने पैरों को धो लेंगे,आपकी राय?...


play
user

Awdhesh Singh

Former IRS, Top Quora Writer, IAS Educator

0:57

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हर एक मां बाप को अपने बच्चों से इज्जत स्वयं अर्जित करनी पड़ती है, और अगर वह इज्जत के काबिल नहीं है तो उनके बच्चे उनकी कोई इज्जत नहीं करेंगे, यह जो एक परंपरा शुरू करने की चेष्टा की जा रही झारखंड सरकार द्वारा की पिता माता की पूजा की जाए, यह मेरे विचार से तो बिल्कुल उचित नहीं है और बहुत ही पुरानी रूढ़िवादी विचारधारा को उनकी दर्शाती है और आज के समय में जो बच्चे हैं वह काफी जागृत है और वोह माँ बाप की जरूरत करते हैं,लेकिन अगर वोह मां बाप उनकी इज्जत के काबिल हो तो और उनके पैर को धोने से और वो इस तरीके के जो दुनिया भर के रिचुअल्स करने हैं,यह सिर्फ एक पुरानी परंपरा को जन्म देते हैं और मैं इसके बिल्कुल ही समर्थन में नहीं हूं |

har ek maa baap ko apne baccho se izzat swayam arjit karni padhti hai aur agar wah izzat ke kaabil nahi hai to unke bacche unki koi izzat nahi karenge yeh jo ek parampara shuru karne ki cheshta ki ja rahi jharkhand sarkar dwara ki pita mata ki puja ki jaye yeh mere vichar se to bilkul uchit nahi hai aur bahut hi purani rudhivadi vichardhara ko unki darshatee hai aur aaj ke samay mein jo bacche hain wah kaafi jaagarrit hai aur woh maa baap ki zarurat karte hain lekin agar woh chahiye maa baap unki izzat ke kaabil ho to aur unke pair ko dhone chahiye se aur vo is tarike ke jo duniya bhar ke rituals karne hain yeh sirf ek purani parampara ko janm dete hain aur main iske bilkul hi samarthan mein nahi hoon |

हर एक मां बाप को अपने बच्चों से इज्जत स्वयं अर्जित करनी पड़ती है, और अगर वह इज्जत के काबिल

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  158
WhatsApp_icon
14 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Suresh Jeswani

Life Coach

0:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एकदम सही है यह जो हो रहा है वह बहुत सही है हम कितने भी देवों को बुल्ले लेकिन जो साक्षात भगवान है हमारे जीवन में वह हमारे मां-बाप हैं और उनके पैरों को धोना और यह जो है ना क्या बोलते पर इतने प्रतीकात्मक चीज है कि यह हम लोग एक बार कर रहे हैं और अब ऐसी शिक्षा उन बच्चों को देनी चाहिए कि हर साल और हर बार हां बाबा के सपने अब उनके साथ में रहें

ekdam sahi hai yah jo ho raha hai vaah bahut sahi hai hum kitne bhi Devon ko bulle lekin jo sakshat bhagwan hai hamare jeevan mein vaah hamare maa baap hain aur unke pairon ko dhona aur yah jo hai na kya bolte par itne pratikatmak cheez hai ki yah hum log ek baar kar rahe hain aur ab aisi shiksha un baccho ko deni chahiye ki har saal aur har baar haan baba ke sapne ab unke saath mein rahein

एकदम सही है यह जो हो रहा है वह बहुत सही है हम कितने भी देवों को बुल्ले लेकिन जो साक्षात भग

Romanized Version
Likes  106  Dislikes    views  1520
WhatsApp_icon
user

Raj Shah

Aspiring engineer

0:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखा जाए तो यह माता पिता पूजन दिवस एक अच्छी सूचना है हमें सबको यह अपने माता पिता को प्रार्थना करेंगे कि अपने परिवार को हम खुश रखे और अपने माता-पिता के वजह से आज जो भी है जैसे भी है वह सब उनकी वजह से है अगर माता पिता हमारे पर अपनी कृपा नहीं पढ़ पाते तो आज हम ऐसे हालत में नहीं होते तो माता पिता दिवस मनाने योग्य पर किसी को फोर्स कर रहा हूं गलत बात होगी

dekha jaye to yeh mata pita pujan divas ek acchi soochna hai hume sabko yeh apne mata pita ko prarthana karenge ki apne parivar ko hum khush rakhe aur apne mata pita ke wajah se aaj jo bhi hai jaise bhi hai wah sab unki wajah se hai agar mata pita hamare par apni kripa nahi padh paate to aaj hum aise halat mein nahi hote to mata pita divas manane yogya par kisi ko force kar raha hoon galat baat hogi

देखा जाए तो यह माता पिता पूजन दिवस एक अच्छी सूचना है हमें सबको यह अपने माता पिता को प्रार्

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  12
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  1  Dislikes    views  29
WhatsApp_icon
user

Amber Rai

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

0:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखेगा तो झारखंड पिता माता पूजा दिवस रखे तो बहुत ही अच्छी बात है क्योंकि आजकल की जो यंग जनरेशन है वह पेरेंट्स को इतना महत्व नहीं देती है अपने फ्रेंड और घूमने फिरने में ज्यादा इंपोर्टेंस अपने पेरेंट्स को कल सुबह देखभाल नहीं करते तो इसी के चलते हैं झारखंड सरकार ने में कोई कदम उठाया और रिश्ते जो है सारे जंक्शन है अपने पेरेंट्स से जो है वह पे करना सीखेंगे और उनकी उनकी जो है हर बात मानेगी और उन को दुखी नहीं चलेंगे तो मैं कल से ही एक बहुत ही अच्छा कदम है झारखंड सरकार के द्वारा

dekhega to jharkhand pita mata puja divas rakhe to bahut hi acchi baat hai kyonki aajkal ki jo young chahiye generation hai wah parents ko itna mahatva nahi deti hai apne friend aur ghoomne phirne mein jyada importance apne parents ko kal subah dekhbhal nahi karte to isi ke chalte hain jharkhand sarkar ne mein koi kadam uthaya aur rishte jo hai sare junction hai apne parents se jo hai wah pe karna sikhenge aur unki unki jo hai har baat manegi aur un ko dukhi nahi chalenge to main kal se hi ek bahut hi accha kadam hai jharkhand sarkar ke dwara

देखेगा तो झारखंड पिता माता पूजा दिवस रखे तो बहुत ही अच्छी बात है क्योंकि आजकल की जो यंग जन

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  30
WhatsApp_icon
user

Sefali

Media-Ad Sales

1:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत सरकार ने जो इनिशिएटिव लिया है ,माता पिता पूजन दिवस, बहुत अच्छा और बहुत सुंदर सा इनिशिएटिव लिया है, क्युंकी आज की जनरेशन, जिस तेजी से हम भाग रहे हैं, जिसे तेजी से हम कैरिएर, एम्बिशन, यह सब पर फोकस जारा है , के समय इस तेज़ी से भाग रहा है की हम वोह जो समय है माता पिता को देना चाहिए, हम इतने उलज गए है की माता पिता को जो समय देना चाहिए हम नहीं दे प् रहे है| उन्होंने जो भी सक्रिफिस किये है, जो भी संस्कार दिए हैं हमें यहां तक पहुंचाने के लिए बदले में उन्होंने मांगा सिर्फ एक ही चीज हमारा प्यार और समय जो की कही ना कही ,इस दुनिया में हम नहीं दे पा रहे है | तोह येह इनिशिएटिव के कारण एक तोह जो वैल्यू है वह रेक्रेअट होगी इस जनरेशन में बच्चों में, फिर से वोह जो माता पिता को जो समय देना चाहिए, जो इंपॉर्टेंट देनी चाहिए,वह फिर से वापस आएगी और भारत ऐसा देश है जहां पर रिश्तो बहुत ज्यादा महत्व है, बहुत आप हर चीज हर त्योहार रिश्तो से जुड़े हुए हैं| कही ना कही येह जो दिवस है , बहुत अच्छा फॅमिली बांड फिर से रेक्रीअट करेगी, वह जो प्यार है और जो समय है वापस लेकर आएगी, जो की बहुत अच्छा इनिशिएटिव है |

bharat sarkar ne jo inishietiv liya hai chahiye mata pita pujan divas bahut accha aur bahut sundar sa inishietiv liya hai kyunki aaj ki generation jis teji se hum bhag rahe hain jise teji se hum kairier embishan chahiye yeh sab par focus zaara hai , ke samay is tezi chahiye se bhag raha hai ki hum woh jo samay hai mata pita ko dena chahiye hum itne ulaj gaye hai ki mata pita ko jo samay dena chahiye hum nahi de p rahe hai unhone jo bhi sakrifis kiye hai jo bhi sanskar diye hain hume yahan tak pahunchane ke liye badle mein unhone manga sirf chahiye ek hi cheez hamara pyar aur samay jo chahiye ki kahi na kahi is duniya mein hum nahi de pa rahe hai | toh yeh inishietiv ke kaaran ek toh jo value hai wah rekreat hogi is generation mein baccho mein phir se woh jo mata pita ko jo samay dena chahiye jo important chahiye deni chahiye wah phir se wapas aayegi aur bharat aisa desh hai jaha par rishto bahut jyada mahatva hai bahut aap har cheez har tyohaar rishto se jude hue hain kahi na kahi yeh jo divas hai , bahut accha family bond phir se rekriat karegi chahiye wah jo pyar hai aur jo samay hai wapas lekar aayegi jo ki bahut accha inishietiv hai |

भारत सरकार ने जो इनिशिएटिव लिया है ,माता पिता पूजन दिवस, बहुत अच्छा और बहुत सुंदर सा इनिश

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  11
WhatsApp_icon
user

amitkul

CA student,pursuing bcom too

1:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

झारखंड राज्य ने जय सुरनायक दिवस पिता माता पूजा दिवस की जो घोषणा की है यह काफी अच्छा कदम दिखाई दे रहा है इससे तो पहली तो बच्चों के नजर में माता-पिता का कैसेट किस तरह से सम्मान करते हैं उसकी सीख भी मिलेगी और जो नए बच्चे हैं जो इस दुनिया में अभी भी कुछ सीख रहे हैं अब तक उनका दिमाग जो मंजूरे पूरी तरह से जो है $1 नहीं हो चुका है और उनके अंदर संस्कार बहुत अच्छी तरह से करेंगे कि किस तरह से माता-पिता का सम्मान किया जाता है यहां पर शायद प्रश्न में अपने पर लिखे हैं तो उनके इसका मतलब है कि उनके बच्चे अपने माता पिता के पैर धोएंगे अगर हम इस भारतीय संस्कृति को देखेंगे तो यहां पर भगवान के पैर धोए जाते हैं और इस दिवस में ऐसा करने से माता पिता को भगवान का स्थान दिया जा रहा है जो काफी जो एक सच्चाई है कि बच्चों के लिए माता पिता ही भगवान होते हैं तो काफी अच्छी है जो एक कदम उठाया गया है झारखंड में झारखंड के सरकार द्वारा

jharkhand rajya ne jai surnayak divas pita mata puja divas ki jo ghoshana ki hai yeh kaafi accha kadam dikhai de raha hai isse to pehli to baccho ke nazar mein mata pita ka kaiset kis tarah se samman karte hain uski seekh bhi milegi aur jo naye bacche hain jo is duniya mein abhi bhi kuch seekh rahe hain ab tak unka dimag jo manjure puri tarah se jo hai $1 nahi ho chuka hai aur unke andar sanskar bahut acchi tarah se karenge ki kis tarah se mata pita ka samman kiya jata hai yahan par shayad prashna mein apne par likhe hain to unke iska matlab hai ki unke bacche apne mata pita ke pair dhoenge agar hum is bhartiya sanskriti ko dekhenge to yahan par bhagwan ke pair dhoe chahiye jaate hain aur is divas mein aisa karne se mata pita ko bhagwan ka sthan diya ja raha hai jo kaafi jo ek sacchai hai ki baccho ke liye mata pita hi bhagwan hote hain to kaafi acchi hai jo ek kadam uthaya gaya hai jharkhand mein jharkhand ke sarkar dwara

झारखंड राज्य ने जय सुरनायक दिवस पिता माता पूजा दिवस की जो घोषणा की है यह काफी अच्छा कदम दि

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  12
WhatsApp_icon
user

.

Hhhgnbhh

1:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जैसे की हम जानते ही हैं भारत के अंदर कोई भी त्यौहार होता है उसके पीछे कोई ना कोई कारण कोई ना कोई वजह जरुर होती है तो जैसे अगर हम एक छोटा सा उदाहरण लेते हैं राखी का जो त्यौहार होता है अगर यह भाई बहन का त्यौहार होता है अगर पूरे साल भी भाई-बहन लड़ते रहे उनमें लोग क्यों चले उनमें गिले-शिकवे रहे पर इस दे ना कर वे एकजुट हो जाते हैं पूरे साल भाई बहन बात ना करें पर राखी वाले दिन जरूर बात करेंगे वह एक अलग ही भावना होती है उस दिन अलग ही प्यार आता है अलग ही जिम्मेदारी आती है भाई बहन को एक दूसरे के प्रति तो इसी तरीके से आज हम देखते आ रहे हैं क्या आज की युवा पीढ़ी जो है उनको मां बाप की इतनी वाली औरत इंपोर्टेंट नहीं रह गई है जितनी पहले पीढ़ी को होती थी तो इसी इसी को देखते हुए मेरे को लगता है कि हां यह तो हार ना केवल झारखंडी है हर स्टेट में हर जिले में मनाना चाहिए क्योंकि चाहे पूरे साल हम उनकी भावना ना कर सकें पर ही 1 दिन के अंत हमें उनकी इतनी वाली इलाज हो जाएगी हम आने वाले साल में यह चीज ना भूले और उनकी वालियों कर सके तो हां मेरे सबसे इस मां पिता माता पूजा दिवस की घोषणा करना एक बहुत ही अच्छा कार्य है और यह ना ही केवल सिर्फ झारखंड बल्कि पूरे भारत में मनाना चाहिए क्योंकि हमारी लाइफ अगर हम आज यहां पर हैं तो उनकी वजह से हैं और यह लाइफ करना हमें बहुत ज्यादा जरूरी और आवश्यकता है

jaise ki hum jante hi hai bharat ke andar koi bhi tyohar hota hai uske piche koi na koi kaaran koi na koi wajah zaroor hoti hai to jaise agar hum ek chota sa udaharan lete hai rakhi ka jo tyohar hota hai agar yeh bhai behen ka tyohar hota hai agar poore saal bhi bhai behen ladte rahe unmen chahiye log kyu chale unmen chahiye gile shikve rahe par is de na kar ve ekjoot ho jaate hai poore saal bhai behen baat na kare chahiye par rakhi wale din jarur baat karenge wah ek alag hi bhavna hoti hai us din alag hi pyar aata hai alag hi jimmedari aati hai bhai behen ko ek dusre chahiye ke prati to isi tarike se aaj hum dekhte aa rahe hai kya aaj ki yuva pidhi jo hai unko maa baap ki itni wali aurat important nahi rah gayi hai jitni pehle pidhi ko hoti thi to isi isi ko dekhte hue mere ko lagta hai ki haan yeh to haar na kewal jharakhandi hai har state mein har jile mein manana chahiye kyonki chahe poore saal hum unki bhavna na kar saken par hi 1 din ke ant hume unki itni wali ilaj ho jayegi hum aane wale saal mein yeh cheez na bhule aur unki valiyon kar sake to haan mere sabse is maa pita mata puja divas ki ghoshana karna ek bahut hi accha karya hai aur yeh na hi kewal sirf jharkhand balki poore bharat mein manana chahiye kyonki hamari life agar hum aaj yahan par hai to unki wajah se hai aur yeh life karna hume bahut jyada zaroori aur avashyakta hai

जैसे की हम जानते ही हैं भारत के अंदर कोई भी त्यौहार होता है उसके पीछे कोई ना कोई कारण कोई

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  25
WhatsApp_icon
user

Ridhima

Mass Communications Student

1:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

झारखंड में जो यह लोग ने घोषणा की है कि जो हम पिता माता पूजा दिवस की घोषणा है जहां बच्चे अपने माता पिता से प्रार्थना करेंगे और अपने पैरों को धो लेंगे तो मेरे राय से तो मेरे हिसाब से तो यह बहुत ही अच्छा यह है अच्छा टाइप किया है किसी इंपॉर्टेंट हो जाता है कि कल आज की जनरेशन के बच्चे बहुत ही थोड़े से सेपरेट है थोड़े बहुत ही सब डिस्ट्रिक्ट डिस्ट्रिक्ट है अपने पेरेंट्स है क्योंकि उन लोग आजकल फोन कांटेक्ट मोबाइल इंटरनेट की दुनिया में ज्यादा रहते हैं तो इससे थोड़ा भारत की संस्कृति का और डेवलपमेंट होएगा एंड माता और बच्चे लोग को भी हो एक रिस्पेक्ट जोर देना चाहिए माता पिता को पेरेंट्स को वह भी अंदर से ही आएगा क्योंकि यह हमारे पैरों से और इनको जो रिस्पेक्ट मिलनी चाहिए वह मिल

jharkhand mein jo yeh log ne ghoshana ki hai ki jo hum pita mata puja divas ki ghoshana hai jaha bacche apne mata pita se prarthana karenge aur apne pairon ko dho lenge to mere rai se to mere hisab se to yeh bahut hi accha yeh hai accha type kiya hai kisi important chahiye ho jata hai ki kal aaj ki generation ke bacche bahut hi thode se separate hai thode bahut hi sab district district hai apne parents hai kyonki un log aajkal phone Contact mobile internet ki duniya mein jyada rehte hain to isse thoda bharat ki sanskriti ka aur development hoega end mata aur bacche log ko bhi ho ek respect jor dena chahiye mata pita ko parents ko wah bhi andar se hi aayega kyonki yeh hamare pairon se aur inko jo respect milani chahiye wah mil

झारखंड में जो यह लोग ने घोषणा की है कि जो हम पिता माता पूजा दिवस की घोषणा है जहां बच्चे अप

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  13
WhatsApp_icon
user

Anukrati

Journalism Graduate

1:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे लगता है कि झारखंड में जो घोषणा की गई है वह एक प्रशंसनीय कदम है हमारी भारतीय संस्कृति में संबंधों को बहुत महत्व दिया जाता है परिवार के आपसी रिश्तो की मजबूती और एक दूसरे से शेयर सम्मान के कारण ही आज भी भारत में समाज और सामाजिक मान्यताएं अच्छी स्थिति में है हमारे यहां माता पिता को ईश्वर के समकक्ष रखा गया है और कहा भी जाता है कि बच्चों की पहली पाठशाला उनके माता पिता और परिवार होता है हम फादर्स डे और मदर्स डे अलग अलग बनाते हैं अगर यह दिन हम दोनों को साथ रखकर मनाएं तो और भी अच्छा है मुझे लगता है कि आज की पीढ़ी के विचार थोड़े आधुनिक हो गए हैं लेकिन इसका यह मतलब पता ही नहीं है कि उन्हें माता पिता से प्यार नहीं है या उनका सम्मान नहीं करते हैं सिर्फ यह बदलाव आया है कि आज वह खुल कर अपनी बात पूरी स्वतंत्रता और विश्वास के साथ अपने पेरेंट्स को संत के समक्ष रखते हैं इसी आशा के साथ कि वह की बात को समझेंगे बस इसलिए मुझे लगता है कि यह एक सही कदम है

mujhe lagta hai ki jharkhand mein jo ghoshana ki gayi hai wah ek prashansaniya kadam hai hamari bhartiya sanskriti mein sambandho ko bahut mahatva diya jata hai parivar ke aapasi chahiye rishto ki majbuti aur ek dusre chahiye se share samman ke kaaran hi aaj bhi bharat mein samaj aur samajik manyatae acchi sthiti mein hai hamare yahan mata pita ko ishwar ke samkaksh rakha gaya hai aur kaha bhi jata hai ki baccho ki pehli pathashala unke mata pita aur parivar hota hai hum fathers chahiye day aur mothers day alag alag banate hain agar yeh din hum dono ko saath rakhakar manaaye to aur bhi accha hai mujhe lagta hai ki aaj ki pidhi ke vichar thode aadhunik ho gaye hain lekin iska yeh matlab pata hi nahi hai ki unhen chahiye mata pita se pyar nahi hai ya unka samman nahi karte hain sirf yeh badlav aaya hai ki aaj wah khul kar apni baat puri swatantrata aur vishwas ke saath apne parents ko sant ke samaksh rakhate hain isi asha ke saath ki wah ki baat ko samjhenge bus isliye mujhe lagta hai ki yeh ek sahi kadam hai

मुझे लगता है कि झारखंड में जो घोषणा की गई है वह एक प्रशंसनीय कदम है हमारी भारतीय संस्कृति

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  18
WhatsApp_icon
user

Kunjansinh Rajput

Aspiring Journalist

1:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

झारखंड में पिता माता पूजा दिवस की घोषणा की है जहां बच्चे अपने माता पिता की प्रार्थना करें कृपया जाएंगे मेरे हिसाब से यह निर्णय झारखंड सरकार द्वारा लिया गया बिल्कुल सही है कि फिर देखा जाए तो भारत की संस्कृति ही ऐसी है कि हमेशा दूसरों को मान सम्मान देते हो अगर हमारे माता पिता कोई भी भारतीय हो उनके जिंदगी में उनके माता-पिता का बहुत ही बड़ा योगदान होता है और मुझे लगता है ऐसे दिवस हो कर हम उन्हें बता सकते हैं कि उनका मान सम्मान अमल कितने महीने रखता है और उन्हें कितना प्यार करते हैं हां यह बात सही है कि आज के जमाने में आज की युवा पीढ़ी की सोच विचारे लगे परंतु इसका लाभ यह नहीं है कि हमारे माता पिता को मान सम्मान नहीं देते अगर माता दिवस अलग हो सकता है पिता दिवस अलग हो सके तो मेरे हिसाब से माता पिता पूजन दिवस एक दिन होना ही चाहिए यह संस्कृति को दिखाता है भारतीय संस्कृति दिखाता है और इसमें बच्चों के मन में जो उनके माता-पिता के तरफ प्यार है वह भी दिखाता है

jharkhand mein pita mata puja divas ki ghoshana ki hai jaha bacche apne mata pita ki prarthana kare chahiye kripya jaenge mere hisab se yeh nirnay jharkhand sarkar dwara liya gaya bilkul sahi hai ki phir dekha jaye to bharat ki sanskriti hi aisi hai ki hamesha dusro ko maan samman dete ho agar hamare mata pita koi bhi bhartiya ho unke zindagi mein unke mata pita ka bahut hi bada yogdan hota hai aur mujhe lagta hai aise divas ho kar hum unhen chahiye bata sakte hain ki unka maan samman amal kitne mahine rakhta hai aur unhen chahiye kitna pyar karte hain haan yeh baat sahi hai ki aaj ke jamane mein aaj ki yuva pidhi ki soch vichaare lage parantu iska labh yeh nahi hai ki hamare mata pita ko maan samman nahi dete agar mata divas alag ho sakta hai pita divas alag ho sake to mere hisab se mata pita pujan divas ek din hona hi chahiye yeh sanskriti ko dikhaata hai bhartiya sanskriti dikhaata hai aur isme baccho ke man mein jo unke mata pita ke taraf pyar hai wah bhi dikhaata hai

झारखंड में पिता माता पूजा दिवस की घोषणा की है जहां बच्चे अपने माता पिता की प्रार्थना करें

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  10
WhatsApp_icon
user

Shubham

Software Engineer in IBM

0:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किसान कि अगर मैं अपनी राय दें तो अब तो यह जो झारखंड सरकार ने बोला है माता पिता पूजन दिवस के लिए यह मेरे सब से बिल्कुल भी उचित नहीं है क्योंकि अगर एक बच्चा अपने मां बाप की इज्जत सुबह करता है आप उसको जबरदस्ती इज्जत करने के लिए या इज्जत नहीं करा सकते हो अगर माता पिता सही में इज्जत करने लायक होंगे तो बच्चा खुद ही इज्जत करेगा उनकी आप किसी को जबरदस्ती कोई काम नहीं करा सकते आपको क्या लगता है यह दिवस कराने के बाद जो बच्चे अपने माता पिता को नहीं पूछते हैं मुझे पूछा चालू कर देंगे बिल्कुल नहीं आप किसी से कोई जबरदस्ती काम नहीं करा सकते तो वैसे ही बोलूंगा यह जो झारखंड सरकार ने बुलाया यह मेरे समझ में तो उचित नहीं है और नहीं होना चाहिए

kisan chahiye ki agar main apni rai de to ab to yeh jo jharkhand sarkar ne bola hai mata pita pujan divas ke liye yeh mere sab se bilkul bhi uchit nahi hai kyonki agar ek baccha apne maa baap ki izzat subah karta hai aap usko jabardasti izzat karne ke liye ya izzat nahi kra sakte ho agar mata pita sahi mein izzat karne layak honge to baccha khud hi izzat karega unki aap kisi ko jabardasti koi kaam nahi kra sakte aapko kya lagta hai yeh divas karane ke baad jo bacche apne mata pita ko nahi poochte hain mujhe poocha chalu kar denge bilkul nahi aap kisi se koi jabardasti kaam nahi kra sakte to waise hi bolunga yeh jo jharkhand sarkar ne bulaya yeh mere samajh mein to uchit nahi hai aur nahi hona chahiye

किसान कि अगर मैं अपनी राय दें तो अब तो यह जो झारखंड सरकार ने बोला है माता पिता पूजन दिवस क

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  13
WhatsApp_icon
user

Sachin Bharadwaj

Faculty - Mathematics

1:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखो मुझे लगता है कि जो पेमेंट पर छुट्टी की घोषणा की गई है या कुछ लोगों ने इसकी डिमांड की है झारखंड के अंदर तो मुझे लगता है बहुत ही अच्छी डिमांड है एक दिन एसा जरुर होना चाहिए 365 दिन के अंदर एक दिन जरुर ऐसा होना चाहिए जहां बर्थडे माता पिता को अपना पूरा टाइम दे सके क्योंकि आज की लाइन बहुत ही ज्यादा बिजी हो गई है लोगों को अपने लिए टाइम नहीं होता तो जंगली वह प्यार जो है वह धीरे-धीरे कम होता जा रहा है तो मुझे लगता है कि अगर इस तरह का दिवस कब मनाया जाता हमारे देश में तो डिफरेंट इन लोगों को बहुत फायदा होगा एडमिशन एक दिन अपने माता पिता की सेवा में पूरा 1 दिन नहीं 24 घंटे अपने माता पिता की सेवा में दे सकेंगे ऑल दो हमारे हमारे संस्कार इस तरह करें हमारा जो इंडियन कल्चर है उसमें पेरेंट्स को भगवान से ऊपर रखा गया है तो डेफिनेटली हमारे लिए पेरेंट्स जो हमारे भगवान से भी बढ़कर होता तो अगर एक दिन मुझे लगता है कि 1 दिन ऐसा रखा जाता है जहां हम अपने माता-पिता की सभी इच्छाओं को पूरा करते हैं उनकी पूजा अर्चना करते हैं तो मुझे लगता है कि बहुत ही अच्छी डिमांड है इसको पूरा भी होना चाहिए

dekho mujhe lagta hai ki jo payment par chutti ki ghoshana ki gayi hai ya kuch logo chahiye ne iski demand ki hai jharkhand ke andar to mujhe lagta hai bahut hi acchi demand hai ek din aisa zaroor hona chahiye 365 din ke andar ek din zaroor aisa hona chahiye jaha birthday mata pita ko apna pura time de sake kyonki aaj ki line bahut hi jyada busy ho gayi hai logo chahiye ko apne liye time nahi hota to jangalee wah pyar jo hai wah dhire chahiye dhire chahiye kum hota ja raha hai to mujhe lagta hai ki agar is tarah ka divas kab manaya jata hamare desh mein to different in logo chahiye ko bahut fayda hoga admission ek din apne mata pita ki seva mein pura 1 din nahi 24 ghante apne mata pita ki seva mein de sakenge all do hamare hamare sanskar is tarah kare chahiye hamara jo indian culture hai usamen chahiye parents ko bhagwan se upar rakha gaya hai to definetli hamare liye parents jo hamare bhagwan se bhi badhkar hota to agar ek din mujhe lagta hai ki 1 din aisa rakha jata hai jaha hum apne mata pita ki sabhi ikchao ko pura karte hain unki puja archna karte hain to mujhe lagta hai ki bahut hi acchi demand hai isko pura bhi hona chahiye

देखो मुझे लगता है कि जो पेमेंट पर छुट्टी की घोषणा की गई है या कुछ लोगों ने इसकी डिमांड की

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  15
WhatsApp_icon
user

Swati

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए वैसे तुम्हें बच्चे कई सबक सकते हैं लेकिन फिर भी झारखंड सरकार को लगता है कि सरकारी स्कूलों को संस्कार देने में थोड़ा इजाफा और करना चाहिए बच्चों में माता-पिता के प्रति भक्ति भाव जगाने के उद्देश्य से झारखंड के सरकारी स्कूलों में मातृ पितृ पूजन दिवस का आयोजन की योजना बन चुकी है कि राज्य की शिक्षा मंत्री नीरा यादव जी और उनके विभाग के प्रधान सचिव को चिट्ठी लिखकर इस कार्यक्रम के आयोजन का निर्देश दिया है उन्होंने एक इंटरव्यू में बोला कि जिस तरह की पूजा मंदिर में भगवान की होती है उसी भाव से बच्चे अपने माता पिता की भी पूजा करेंगे और मीडिया रिपोर्ट नहीं आया कि शिक्षा मंत्री ने निर्देश दिया है कि इस कार्यक्रम के आयोजन को साल में 1 दिन राज्य की सभी सरकारी स्कूलों में किया जाएगा हालांकि सुविधानुसार अलग-अलग दिनों में भी किया जा सकता है और उन्होंने बोला कि कार्यक्रम में छात्र छात्र अपने माता पिता के पैर धोएंगे उनकी आरती उतारेंगे और उन्हें गले लगाएंगे उनके मुताबिक एक कदम परंपरा और संस्कृति को बनाए रखने में मदद करेगा एक तेरे से यह बात सही भी है कि वह आ क्योंकि आज का जो जो न्यू जनरेशन आजकल के जो युवा पीढ़ी है जो बच्चे हैं वह कंप्यूटर मोबाइल में साधक हो रहे थे और माता पिता पर कम ध्यान दे पाते हैं इस समय में इस पहल का स्वागत करना चाहिए और यह एक प्रशंसक प्रशंसनीय कदम भी है झारखंड सरकार की तरफ से प्रदूषण में यह भी कहना चाहूंगी कि किसी को फोर्स करके आप किसी की रिस्पेक्ट नहीं करवा सकते भगवान की पूजा करने वाले राम रहीम जैसे लोग कैसे हैं हमें सब पता है तो यह फिल्म तो अंदर से आनी चाहिए बडा हो सकता है कि इस शुरुआत के बाद कुछ बच्चों में कोई चेंजेस आ जाएं और अपने माता-पिता से ज्यादा प्यार करने लग जाए तो बहुत अच्छी बात ही है

dekhie chahiye waise tumhein bacche kai sabak sakte hain lekin phir bhi jharkhand sarkar ko lagta hai ki sarkari schoolon ko sanskar dene mein thoda ijafa aur karna chahiye baccho mein mata pita ke prati bhakti bhav jagaane ke uddeshya se jharkhand ke sarkari schoolon mein matr pitri pujan divas ka aayojan ki yojana ban chuki hai ki rajya ki shiksha mantri neera yadav ji aur unke vibhag ke pradhan sachiv ko chitthi likhkar is karyakram ke aayojan ka nirdesh diya hai unhone ek interview mein bola ki jis tarah ki puja mandir mein bhagwan ki hoti hai ussi bhav se bacche apne mata pita ki bhi puja karenge aur media report chahiye nahi aaya ki shiksha mantri ne nirdesh diya hai ki is karyakram ke aayojan ko saal mein 1 din rajya ki sabhi sarkari schoolon mein kiya jayega halaki suvidhanusar alag alag dinon chahiye mein bhi kiya ja sakta hai aur unhone bola ki karyakram mein chatra chatra apne mata pita ke pair dhoenge unki aarti utarenge aur unhen chahiye gale lagayenge unke mutabik ek kadam parampara aur sanskriti ko banaye rakhne mein madad karega ek tere se yeh baat sahi bhi hai ki wah aa kyonki aaj ka jo jo new generation aajkal ke jo yuva pidhi hai jo bacche hain wah computer mobile mein sadhak ho rahe the aur mata pita par kum dhyan de paate hain is samay mein is pahal ka swaagat karna chahiye aur yeh ek prasanshak chahiye prashansaniya kadam bhi hai jharkhand sarkar ki taraf se pradushan mein yeh bhi kehna chahungi ki kisi ko force karke aap kisi ki respect nahi karava sakte bhagwan ki puja karne wale ram raheem jaise log kaise hain hume sab pata hai to yeh film to andar se aani chahiye chahiye bada ho sakta hai ki is shuruvat ke baad kuch baccho mein koi changes aa jaye aur apne mata pita se jyada pyar karne lag jaye to bahut acchi baat hi hai

देखिए वैसे तुम्हें बच्चे कई सबक सकते हैं लेकिन फिर भी झारखंड सरकार को लगता है कि सरकारी स्

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  12
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!