क्या भारत को नए साल पर वेस्टार्ण कल्चर के जैसा मानना चाहिए?...


user

Chandraprakash Joshi

Ex-AGM RBI & CEO@ixamBee.com

1:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब हम आपके देश में आज के टाइम में देखते हैं कि अमेरिका में दीपावली सेलिब्रेट हो रही है बहुत बड़े तरीके से वह न्यूज़ फ्लैश हो रही थी तो हर आदमी प्राउड फील कर रहा था कि देखिए अमेरिकी राष्ट्रपति भी दीपावली की शुभकामनाएं दे रहा है तो एक बार तो हम आधुनिकरण को अच्छा मानते हैं और दूसरे लोग आज भारत की इतनी तारीफ कर रहे हैं उसको हम अच्छा मानते हैं लेकिन दूसरी ओर हम यह अपनी पुरानी सोच को कीजिए वेस्टर्न है कि 1 जनवरी उनका नया साल है हमारा भी नया साल एक दिन हो रही है अब हम सैकड़ों साल से 1 जनवरी को ही अपना नया साल मनाते आ रहे हैं आप किसी से भी पूछ लीजिए कि हिंदू कैलेंडर के हिसाब से कौन से दिन आने वाला है नया साल आई डोंट थिंक यू 99% लोगों को याद भी रहता है क्योंकि वह तकदीर बदल जाती है और अलग अलग तरीके के रूप में मनाया जाता है वह अपने अपने स्टेट में और उसमें भी कई सारे अलग-अलग देर से आती हैं तो उनको कोई दिक्कत नहीं है हम लोग आज भी सेलिब्रेट करें हम और भी सेलिब्रेट करें हम गणेश चतुर्थी सेलिब्रेट करें लेकिन हम क्रिसमस और न्यू ईयर सेलिब्रेट करें कुछ लोग अपनी पॉलिटिकल बेनिफिट के लिए इस तरीके की भावनाओं को फैला रहे हैं और भड़का रहे हैं कि वेस्टर्न है यह नहीं है लेकिन हमारा कल्चर हमारा समाज तो रोज-रोज इस तरीके से डेवलप हुआ है कि हम विश्व को अपने में समेटे तो हमें डेफिनेटली यह पूरा अधिकार है और जिस को मनाना है मनाने दीजिए जिसको नहीं बनाना है वह घर में अपना सर्दी में रजाई खींच के सोए और अगले दिन अपना ड्यूटी पर जाएं हैप्पी न्यू ईयर

jab hum aapke desh mein aaj ke time mein dekhte hain ki america mein deepawali celebrate ho rahi hai bahut bade tarike se vaah news flash ho rahi thi toh har aadmi proud feel kar raha tha ki dekhiye american rashtrapati bhi deepawali ki subhkamnaayain de raha hai toh ek baar toh hum aadhunikaran ko accha maante hain aur dusre log aaj bharat ki itni tareef kar rahe hain usko hum accha maante hain lekin dusri aur hum yah apni purani soch ko kijiye western hai ki 1 january unka naya saal hai hamara bhi naya saal ek din ho rahi hai ab hum saikadon saal se 1 january ko hi apna naya saal manate aa rahe hain aap kisi se bhi puch lijiye ki hindu calendar ke hisab se kaunsi din aane vala hai naya saal I dont think you 99 logo ko yaad bhi rehta hai kyonki vaah takdir badal jaati hai aur alag alag tarike ke roop mein manaya jata hai vaah apne apne state mein aur usme bhi kai saare alag alag der se aati hain toh unko koi dikkat nahi hai hum log aaj bhi celebrate kare hum aur bhi celebrate kare hum ganesh chaturthi celebrate kare lekin hum Christmas aur new year celebrate kare kuch log apni political benefit ke liye is tarike ki bhavnao ko faila rahe hain aur bhadaka rahe hain ki western hai yah nahi hai lekin hamara culture hamara samaj toh roj roj is tarike se develop hua hai ki hum vishwa ko apne mein samete toh hamein definetli yah pura adhikaar hai aur jis ko manana hai manane dijiye jisko nahi banana hai vaah ghar mein apna sardi mein rajaai khinch ke soye aur agle din apna duty par jayen happy new year

जब हम आपके देश में आज के टाइम में देखते हैं कि अमेरिका में दीपावली सेलिब्रेट हो रही है बहु

Romanized Version
Likes  21  Dislikes    views  272
KooApp_icon
WhatsApp_icon
13 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!