भारतीय सड़ कौन पर हर एक वाहन को इलेक्ट्रिक वाहन सुनिश्चित करने के लिए क्या करना होगा?...


user

Ravi Sharma

Advocate

1:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत में हर वाहन को इलेक्ट्रॉनिक वाहन बनाना इतना आसान नहीं है जितना लगता है आप इस विषय में सरकार को यह सोचना होगा कि जरूरी पर पर्याप्त कदम उठाने होंगे सबसे पहले विदेशी औरतों निर्माताओं को घर में कुछ राहत प्रदान करनी होगी और देशी जो वॉटर निर्माता है उन को प्रोत्साहन देना पड़ेगा जिससे इलेक्ट्रॉनिक वहां वाहनों के निर्माण और उसके निवेश में वृद्धि हो सके दूसरा जनसामान्य इलेक्ट्रॉनिक वाहनों की पर्याप्त जानकारी व शिक्षा देनी होगी इसके लिए वर्कशॉप यह सूचना केंद्र स्थापित करने होंगे धीरे धीरे पर लगातार इलेक्ट्रॉनिक रीफिलिंग पंप बस स्टेशन देश के हर कोने में लगाने होंगे और इन सबसे बढ़कर यह भी तय करना होगा कि बिजली जिसका प्रयोग वाहन संचालन हेतु होगा वह सौर ऊर्जा या का अन्य किसी प्राकृतिक माध्यम से मिले इन सब के साथ साथ ही यह भी दिल ध्यान रखना होगा इलेक्ट्रॉनिक वह अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा मानकों

bharat mein har vaahan ko electronic vaahan banana itna aasaan nahi hai jitna lagta hai aap is vishay mein sarkar ko yah sochna hoga ki zaroori par paryapt kadam uthane honge sabse pehle videshi auraton nirmaataon ko ghar mein kuch rahat pradan karni hogi aur deshi jo water nirmaata hai un ko protsahan dena padega jisse electronic wahan vahanon ke nirmaan aur uske nivesh mein vriddhi ho sake doosra janasamanya electronic vahanon ki paryapt jaankari va shiksha deni hogi iske liye workshop yah soochna kendra sthapit karne honge dhire dhire par lagatar electronic rifiling pump bus station desh ke har kone mein lagane honge aur in sabse badhkar yah bhi tay karna hoga ki bijli jiska prayog vaahan sanchalan hetu hoga vaah sour urja ya ka anya kisi prakirtik madhyam se mile in sab ke saath saath hi yah bhi dil dhyan rakhna hoga electronic vaah antararashtriya suraksha maankon

भारत में हर वाहन को इलेक्ट्रॉनिक वाहन बनाना इतना आसान नहीं है जितना लगता है आप इस विषय मे

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  75
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Amber Rai

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत में अभी क्या डिसाइड किया है गवर्नमेंट डिसाइड किया है कि 2003 तक जो है वह भारत में पहली इलेक्ट्रिक बाइक से चलेंगे उसके लिए क्या करना पड़ेगा की गवर्नमेंट को जगह जगह पर जो इलेक्ट्रिफिकेशन होता है वहां पर मतलब जैसे पेट्रोल पंप हम लोग दे सकते जगह जगह पर रहते इलेक्ट्रिक रिचार्ज स्टेशन को देना पड़ेगा ताकि लोग जो है वहां पर खड़ी करके अपनी गाड़ी को 15 मिनट आधा घंटा का जो चाहे वह कर सकते हैं और फिर जो गाड़ी आती रहती है इसलिए उसका कर रहा सोलर पैनल बैटरी चार्ज करने के लिए दे सकते हो यह बहुत ही अच्छा गाड़ियों को मेंटेन करने को बहुत बहुत कम होती है कम पेट्रोल पेट्रोल और डीजल गाड़ियों की जाती है और इलेक्ट्रिक गाड़ी है जो है वह पसंद नहीं करती और उनमें पावर भी बहुत अच्छा रहता है तो मैं समझता हूं कि भारत को सड़कों पर वाहन को इलेक्ट्रिक वाहन सुनिश्चित करने के लिए यह सब जो फैसिलिटी है वह प्रोवाइड उनको करनी पड़ेगी

bharat mein abhi kya decide kiya hai government decide kiya hai ki 2003 tak jo hai vaah bharat mein pehli electric bike se chalenge uske liye kya karna padega ki government ko jagah jagah par jo ilektrifikeshan hota hai wahan par matlab jaise petrol pump hum log de sakte jagah jagah par rehte electric recharge station ko dena padega taki log jo hai wahan par khadi karke apni gaadi ko 15 minute aadha ghanta ka jo chahen vaah kar sakte hain aur phir jo gaadi aati rehti hai isliye uska kar raha solar panel battery charge karne ke liye de sakte ho yah bahut hi accha gadiyon ko maintain karne ko bahut bahut kam hoti hai kam petrol petrol aur diesel gadiyon ki jaati hai aur electric gaadi hai jo hai vaah pasand nahi karti aur unmen power bhi bahut accha rehta hai toh main samajhata hoon ki bharat ko sadkon par vaahan ko electric vaahan sunishchit karne ke liye yah sab jo facility hai vaah provide unko karni padegi

भारत में अभी क्या डिसाइड किया है गवर्नमेंट डिसाइड किया है कि 2003 तक जो है वह भारत में पहल

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  9
WhatsApp_icon
user

Kunjansinh Rajput

Aspiring Journalist

0:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर में भारतीय सड़क पर इलेक्ट्रिक दुकान देखनी है तो इसके लिए भारत सरकार को कई सारे कदम उठाने पड़ेंगे पहला कदम योगा किया में देशभर में इलेक्ट्रिक पावर स्टेशन उठाने पड़ेंगे जिस तरीके से पेट्रोल पेट्रोल पंप और सीएनजी पंप है तो उसी प्रकार से में इलेक्ट्रॉन इलेक्ट्रॉनिक पावर स्टेशन पहुंच भी रखनी चाहिए जिससे लोग अपने इलेक्ट्रिक गाड़ी चार्ज कर पाए तो इसे उन्हें डिपेंड नहीं रहना पड़ेगा तेरे घर के निकलने से पहले ही इलेक्ट्रिक चार्ज कर देना चाहिए दूसरा यह होगा कि भारतीय सरकार को जितने भी सारे कार मैन्युफैक्चरिंग कंपनी से जो भारत में जैसे tata है महिंद्रा एंड महिंद्रा ने तो लगभग स्टडी कर दिया है Tata है और जितने भी एक्सपोर्ट में इंफेक्शन है उन सब से बात करके उन्हें समझाना चाहिए कैसे हम इस देश में इलेक्ट्रिक वाहन ला रहे हैं और हमें आपका सहयोग चाहिए तो इससे इलेक्ट्रिक वाहन के मैन्युफैक्चरिंग बढ़ सकती है

agar mein bharatiya sadak par electric dukaan dekhni hai toh iske liye bharat sarkar ko kai saare kadam uthane padenge pehla kadam yoga kiya mein deshbhar mein electric power station uthane padenge jis tarike se petrol petrol pump aur CIENGI pump hai toh usi prakar se mein electron electronic power station pohch bhi rakhni chahiye jisse log apne electric gaadi charge kar paye toh ise unhe depend nahi rehna padega tere ghar ke nikalne se pehle hi electric charge kar dena chahiye doosra yah hoga ki bharatiya sarkar ko jitne bhi saare car manufacturing company se jo bharat mein jaise tata hai mahindra and mahindra ne toh lagbhag study kar diya hai Tata hai aur jitne bhi export mein infection hai un sab se baat karke unhe samajhana chahiye kaise hum is desh mein electric vaahan la rahe hain aur hamein aapka sahyog chahiye toh isse electric vaahan ke manufacturing badh sakti hai

अगर में भारतीय सड़क पर इलेक्ट्रिक दुकान देखनी है तो इसके लिए भारत सरकार को कई सारे कदम उठा

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  10
WhatsApp_icon
user

Anukrati

Journalism Graduate

1:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

महान ओके इलेक्ट्रिफिकेशन कनेक्टेड कार्ड और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के उपयोग की गहनता के माध्यम से अगले दशक में ऑटोमोटिव इंडस्ट्री में एक बड़ी चुनौती उत्पन्न हुई है हालांकि कुछ के लिए अफसरों को खुलता है इसका मतलब यह भी होगा कि मौजूदा खिलाड़ियों को अडॉप्ट और इज्जत करने की आवश्यकता होगी भारत में टीवी बाजार एक नफरत लेकिन वह मंच पर है इलेक्ट्रिक बाइक किसके लिए इंडिया की टेक्नोलॉजी रिक्वायरमेंट्स यूनिक एनवायरनमेंट कंडीशन और ड्राइविंग पैटर्न की वजह से पश्चिम से अलग है इसलिए इलेक्ट्रिक वाहन टेक्नोलॉजी सस्ती बनाने के लिए निवेश विशाल है वास्तविकता को एक कंस्ट्रक्शन गवर्नमेंट पॉलिसी की आवश्यकता है हाल ही में सरकार की सक्रियता सक्रियता को ध्यान में रखते हुए हम देख रहे हैं कि इलेक्ट्रिक वाहनों का निर्माण तीन पहिया और दो पहिया वाहनों के साथ शुरू हो रहा है इसके बाद सिटी बस और पैसेंजर का आज भी लाइन में है इस नए पावरट्रेन को स्केल करने के लिए बैटरी की कीमतों में कमी लाने और चार्ज करने के लिए एक बुनियादी सुविधा प्रदान करना महत्वपूर्ण है जो वर्तमान में भारत में मौजूद नहीं है बैटरी इलेक्ट्रिक वाहन पर ध्यान देने से परे भारत को हाइब्रिड महान जो बेनिफिट्स एक कार ओनर और एनवायरनमेंट को लाते हैं वह भी नहीं भूलना चाहिए

mahaan ok ilektrifikeshan connected card aur artificial intelligence ke upyog ki gahanata ke madhyam se agle dashak mein automotive industry mein ek baadi chunauti utpann hui hai halaki kuch ke liye afsaron ko khulta hai iska matlab yah bhi hoga ki maujuda khiladiyon ko adopt aur izzat karne ki avashyakta hogi bharat mein TV bazaar ek nafrat lekin vaah manch par hai electric bike kiske liye india ki technology requirements Unique environment condition aur driving pattern ki wajah se paschim se alag hai isliye electric vaahan technology sasti banne liye nivesh vishal hai vastavikta ko ek construction government policy ki avashyakta hai haal hi mein sarkar ki sakriyata sakriyata ko dhyan mein rakhte hue hum dekh rahe hai ki electric vahanon ka nirmaan teen pahiya aur do pahiya vahanon ke saath shuru ho raha hai iske baad city bus aur passenger ka aaj bhi line mein hai is naye pavaratren ko scale karne ke liye battery ki kimton mein kami lane aur charge karne ke liye ek buniyadi suvidha pradan karna mahatvapurna hai jo vartaman mein bharat mein maujud nahi hai battery electric vaahan par dhyan dene se pare bharat ko hybrid mahaan jo benefits ek car owner aur environment ko laate hai vaah bhi nahi bhoolna chahiye

महान ओके इलेक्ट्रिफिकेशन कनेक्टेड कार्ड और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के उपयोग की गहनता के माध

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  156
WhatsApp_icon
play
user

Chandraprakash Joshi

Ex-AGM RBI & CEO@ixamBee.com

1:30

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए अभी यह बहुत जल्दी है कि हर एक वाहन को इलेक्ट्रिक वाहन बनाना है और यह स्टाइलिश भी नहीं है कि यह एकदम अच्छा कदम होगा क्योंकि आज कम हम अभी यह सोच रहे हैं कि इलेक्ट्रिक वाटर पोलूशन नहीं हो रहा है लेकिन इलेक्ट्रिक वाहन से पोलूशन के भी अलग यह हो सकती है जैसे कि जो उनकी बैटरी से पोलूशन होगा यदि उनको नहीं चार्ज करने में जो पोलूशन होगा उसका हमें नहीं पता है और दूसरे हम को यह नहीं पता है कि क्या इलेक्ट्रिक वाहन अगर सारे आ जाएंगे तो हमारे देश में इतनी लगती है और हम इलेक्ट्रिसिटी कैसे जनरेट कर रहे हैं अगर वह हम डीजल जिला की जनरेट करने वाले हैं तो क्या उसे फिर प्रदूषण को फायदा हो रहा है तो इनसे प्रश्नों का अभी क्लियर आंसर नहीं है तो यह कहना भी एक दम सही नहीं होगा कि हमें सारे वाहन को इलेक्ट्रिक बनाया बनाना ही है हो सकता है अगले आने वाले 5000 सालों में हम दूसरी टेक्नोलॉजी अच्छी विकसित कर लें हम सोलर पावर कार बनाने जो इलेक्ट्रिक कार से भी ज्यादा अच्छी हो सकती हैं या हम डीजल और पेट्रोल पर ही इतनी बढ़िया इंजन बनाने कि उसमें पॉल्यूशन लेवल इस से 10 गुना और कम हो जाए हम ऐसे पब्लिक ट्रांसपोर्ट के नींद निकालने हैं कि उसमें कारों की जरूरत ही काम हो जाए जिस तरीके से इंडस्ट्री चेंज हो रही है तो सारी कारों को इलेक्ट्रिक कार सुनिश्चित करना ही एक सही कदम है अभी कहना बहुत मुश्किल है और सारी चीजों का प्रयोग होते रहना चाहिए और जो बनाएगा वह निकल जाएगा और उसको फिर अपने आप हमें लोड करने लगेंगे

dekhiye abhi yah bahut jaldi hai ki har ek vaahan ko electric vaahan banana hai aur yah stylish bhi nahi hai ki yah ekdam accha kadam hoga kyonki aaj kam hum abhi yah soch rahe hain ki electric water pollution nahi ho raha hai lekin electric vaahan se pollution ke bhi alag yah ho sakti hai jaise ki jo unki battery se pollution hoga yadi unko nahi charge karne mein jo pollution hoga uska hamein nahi pata hai aur dusre hum ko yah nahi pata hai ki kya electric vaahan agar saare aa jaenge toh hamare desh mein itni lagti hai aur hum electricity kaise generate kar rahe hain agar vaah hum diesel jila ki generate karne waale hain toh kya use phir pradushan ko fayda ho raha hai toh inse prashnon ka abhi clear answer nahi hai toh yah kehna bhi ek dum sahi nahi hoga ki hamein saare vaahan ko electric banaya banana hi hai ho sakta hai agle aane waale 5000 salon mein hum dusri technology achi viksit kar le hum solar power car banane jo electric car se bhi zyada achi ho sakti hain ya hum diesel aur petrol par hi itni badhiya engine banane ki usme pollution level is se 10 guna aur kam ho jaaye hum aise public transport ke neend nikalne hain ki usme kaaron ki zarurat hi kaam ho jaaye jis tarike se industry change ho rahi hai toh saree kaaron ko electric car sunishchit karna hi ek sahi kadam hai abhi kehna bahut mushkil hai aur saree chijon ka prayog hote rehna chahiye aur jo banayega vaah nikal jaega aur usko phir apne aap hamein load karne lagenge

देखिए अभी यह बहुत जल्दी है कि हर एक वाहन को इलेक्ट्रिक वाहन बनाना है और यह स्टाइलिश भी नही

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  45
WhatsApp_icon
user

Sefali

Media-Ad Sales

1:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारतीय सड़कों पर हर एक महान को इलेक्ट्रिक वाहन सुनिश्चित करने के लिए सबसे पहले तो यह बहुत जरूरी है कि आज सारे वाहन को हमें इलेक्ट्रिसिटी वाहन बनाना है या नहीं बनाना है तो क्यों बनाना है उसके पीछे रिसर्च क्या है वह कब क्या है क्या रेट आते ही क्या है कैसी चल रही है अगर बन जाता है तो कैसे अप्लाई करना है उनको कैसे चार्ज करना है वह चार्ज करने के लिए इलेक्ट्रिसिटी आई कहां से हमारे देश में पहली बार इतनी यूनिवर्सिटी है कि नहीं कि वह इतने सारे वाहन को सप्लाई कर सके तो बहुत देखा जाए तो इलेक्ट्रिसिटी और जो जो वाहन से ज्यादा ऑस्कर सोलर पावर में लोग बहुत ज्यादा इन्वेस्ट कर रहे हैं यहां तक कि घर में जो पानी गर्म करने के लिए सरकारी यूज़ होता है वह इलेक्ट्रिसिटी वाले ने सोलर पावर वाला यूज़ होता है तो लोग अभी इलेक्ट्रिसिटी से भी ज्यादा लोग एजुकेट हो रहे हैं कि जो नेचुरल उसको कैसे यूज़ किया जाए तो मेरे सबसे और रिसर्च अभी आना बाकी है वह क्लैरिटी अभी आनी बाकी है कि वहां उनको इलेक्ट्रिसिटी में कन्वर्ट किया जाए यहां पर और कोई प्रॉपर रिसर्च और कोई एडवांस टेक्नोलॉजी है जिससे यह टेकओवर कर पाए तो सबसे पहले थी एक प्यारी सी रानी बाकी है उसके बाद ही शायद कुछ ऐसे हो पाएगा कि सागर लेक सिटी बनानी है तो क्या क्या कदम विहार जाना चाहिए इसके लिए

bharatiya sadkon par har ek mahaan ko electric vaahan sunishchit karne ke liye sabse pehle toh yah bahut zaroori hai ki aaj saare vaahan ko hamein electricity vaahan banana hai ya nahi banana hai toh kyon banana hai uske peeche research kya hai vaah kab kya hai kya rate aate hi kya hai kaisi chal rahi hai agar ban jata hai toh kaise apply karna hai unko kaise charge karna hai vaah charge karne ke liye electricity I kahaan se hamare desh mein pehli baar itni university hai ki nahi ki vaah itne saare vaahan ko supply kar sake toh bahut dekha jaaye toh electricity aur jo jo vaahan se zyada oscar solar power mein log bahut zyada invest kar rahe hain yahan tak ki ghar mein jo paani garam karne ke liye sarkari use hota hai vaah electricity waale ne solar power vala use hota hai toh log abhi electricity se bhi zyada log educate ho rahe hain ki jo natural usko kaise use kiya jaaye toh mere sabse aur research abhi aana baki hai vaah clarity abhi aani baki hai ki wahan unko electricity mein convert kiya jaaye yahan par aur koi proper research aur koi advance technology hai jisse yah tekaovar kar paye toh sabse pehle thi ek pyaari si rani baki hai uske baad hi shayad kuch aise ho payega ki sagar lake city banani hai toh kya kya kadam vihar jana chahiye iske liye

भारतीय सड़कों पर हर एक महान को इलेक्ट्रिक वाहन सुनिश्चित करने के लिए सबसे पहले तो यह बहुत

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  8
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!