भारतीय सड़ कौन पर हर एक वाहन को इलेक्ट्रिक वाहन सुनिश्चित करने के लिए क्या करना होगा?...


play
user

Chandraprakash Joshi

Ex-AGM RBI & CEO@ixamBee.com

1:30

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए अभी यह बहुत जल्दी है कि हर एक वाहन को इलेक्ट्रिक वाहन बनाना है और यह स्टाइलिश भी नहीं है कि यह एकदम अच्छा कदम होगा क्योंकि आज कम हम अभी यह सोच रहे हैं कि इलेक्ट्रिक वाटर पोलूशन नहीं हो रहा है लेकिन इलेक्ट्रिक वाहन से पोलूशन के भी अलग यह हो सकती है जैसे कि जो उनकी बैटरी से पोलूशन होगा यदि उनको नहीं चार्ज करने में जो पोलूशन होगा उसका हमें नहीं पता है और दूसरे हम को यह नहीं पता है कि क्या इलेक्ट्रिक वाहन अगर सारे आ जाएंगे तो हमारे देश में इतनी लगती है और हम इलेक्ट्रिसिटी कैसे जनरेट कर रहे हैं अगर वह हम डीजल जिला की जनरेट करने वाले हैं तो क्या उसे फिर प्रदूषण को फायदा हो रहा है तो इनसे प्रश्नों का अभी क्लियर आंसर नहीं है तो यह कहना भी एक दम सही नहीं होगा कि हमें सारे वाहन को इलेक्ट्रिक बनाया बनाना ही है हो सकता है अगले आने वाले 5000 सालों में हम दूसरी टेक्नोलॉजी अच्छी विकसित कर लें हम सोलर पावर कार बनाने जो इलेक्ट्रिक कार से भी ज्यादा अच्छी हो सकती हैं या हम डीजल और पेट्रोल पर ही इतनी बढ़िया इंजन बनाने कि उसमें पॉल्यूशन लेवल इस से 10 गुना और कम हो जाए हम ऐसे पब्लिक ट्रांसपोर्ट के नींद निकालने हैं कि उसमें कारों की जरूरत ही काम हो जाए जिस तरीके से इंडस्ट्री चेंज हो रही है तो सारी कारों को इलेक्ट्रिक कार सुनिश्चित करना ही एक सही कदम है अभी कहना बहुत मुश्किल है और सारी चीजों का प्रयोग होते रहना चाहिए और जो बनाएगा वह निकल जाएगा और उसको फिर अपने आप हमें लोड करने लगेंगे

dekhiye abhi yah bahut jaldi hai ki har ek vaahan ko electric vaahan banana hai aur yah stylish bhi nahi hai ki yah ekdam accha kadam hoga kyonki aaj kam hum abhi yah soch rahe hain ki electric water pollution nahi ho raha hai lekin electric vaahan se pollution ke bhi alag yah ho sakti hai jaise ki jo unki battery se pollution hoga yadi unko nahi charge karne mein jo pollution hoga uska hamein nahi pata hai aur dusre hum ko yah nahi pata hai ki kya electric vaahan agar saare aa jaenge toh hamare desh mein itni lagti hai aur hum electricity kaise generate kar rahe hain agar vaah hum diesel jila ki generate karne waale hain toh kya use phir pradushan ko fayda ho raha hai toh inse prashnon ka abhi clear answer nahi hai toh yah kehna bhi ek dum sahi nahi hoga ki hamein saare vaahan ko electric banaya banana hi hai ho sakta hai agle aane waale 5000 salon mein hum dusri technology achi viksit kar le hum solar power car banane jo electric car se bhi zyada achi ho sakti hain ya hum diesel aur petrol par hi itni badhiya engine banane ki usme pollution level is se 10 guna aur kam ho jaaye hum aise public transport ke neend nikalne hain ki usme kaaron ki zarurat hi kaam ho jaaye jis tarike se industry change ho rahi hai toh saree kaaron ko electric car sunishchit karna hi ek sahi kadam hai abhi kehna bahut mushkil hai aur saree chijon ka prayog hote rehna chahiye aur jo banayega vaah nikal jaega aur usko phir apne aap hamein load karne lagenge

देखिए अभी यह बहुत जल्दी है कि हर एक वाहन को इलेक्ट्रिक वाहन बनाना है और यह स्टाइलिश भी नही

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  45
KooApp_icon
WhatsApp_icon
6 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!