कबीर दास का बायोडाटा बताएं?...


user

Manoj Kumar

Spiritual Knowdge / working as a Social Worker

5:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कबीर जी कौन थे इस विषय में समाज में भ्रांतियां फैली हुई है लोग कहते हैं कि कबीर जी नीरू तथा नीमा के पुत्र थे लेकिन कबीर जी को पूर्ण परमात्मा मानने वालों की भी कमी नहीं है अगर कबीर जी की वाणी ओं को ध्यान से सुने और पढ़ें तो पता चलता है कि सच्चाई वास्तव में ही कुछ और है जो आज तक हमें पढ़ाई गई उसके अलावा अब तो हम देखते हैं कि स्कूलों में भी कबीर जी को पढ़ाया जा रहा है कि वह लहरतारा तालाब पर कमल के फूल पर प्रकट हुए और मगहर से से शरीर चले गए और उनकी जवानिया पढ़ते हैं तो यह पता भी चलता है कि एक जगह मालिक कबीर जी कहते हैं कि काशीनगर जल कमल का डेरा कहां जुलाहे ने पाया यानी कि काशी के अंदर कमल के फूल पर परमात्मा कबीर जी प्रकट हुए जहां जुलाहे ने पाया तत्व कहते हैं कि अवदू अविगत से चलाया कोई मेरा भेद मरम नहीं पाया काशी नगर जल कमल पर डेरा कहां जुलाहे ने पाया माता मेरे कुछ नहीं ना मेरे घर दासी दूल्हे का सूट ऑन कहा या जगत करें मेरी हंसी हार्ड चावलों नहीं मेरा जानू क्या ना अफारा सत्य स्वरूप ही नाम साहेब का सोहे नाम हमारा कबीर जी कहते हैं कि मेरा ना कोई माता है ना पीता है मैं कमल के फूल पर प्रकट हुआ और वहां से जुलाहे का पुत्र कहलाया निसंतान दंपत्ति जो थे नीरू तथा निर्माण को उठाकर ले गए और वह जुलाहे का कार्य करते इसलिए जुलाई की संतान कहलाया हार्ड चावलों को नहीं मेरा कबीर जी कहते हैं कि मेरा शरीर हार्ड बचा हमसे नहीं बना हुआ है मेरा शरीर नूर तत्वों से उन्हीं तत्वों से बना हुआ है जिसमें यह चीज नहीं है जो आपके शरीर में हैं जानू क्या न पारा परमात्मा कहते कि मैं अपार ज्ञान जानता हूं यानी कि मोक्ष का मार्ग मैं ही बता सकता हूं आपको ना मेरा गर्दा सियानी मेरे घर पर पत्नी भी नहीं है यानी मैंने मैं विवाहित भी नहीं हूं दूल्हे का सुदान कहा या जगत करें मेरी हंसी लोग मुझे नीच की संतान कह कर मेरा मजाक उड़ाते हैं कि मैं नीचे घर में पैदा हुआ हूं जुलाहे का पुत्र हूं परमात्मा एक जगह कबीर जी अपने चारों युगों में उत्पन्न होने का भी प्रमाण देते हैं कबीर जी की एक वाणी में लिखा है कि सतयुग में सत सुकृत कटेरा त्रेता नाम मुनींद्र मेरा द्वापर में करुणा मकाहा या कलयुग नाम कबीर धराया इन सभी भाइयों से पता चलता है कि कबीर जी को हमने जो एक साधारण कवि माना वह हमारी एक बहुत बड़ी भूल थी हमने उनके द्वारा रचित शास्त्रों को मैं पढ़ कर समझ कर सिर्फ सामाजिक अफवाहों पर ही ध्यान दिया जिन्होंने हमें भ्रमित करके हमारे पिता से दूर कर दिया और जो नंबर समाज में फैला हुआ है जो लूट फसोट की भक्ति विधि समाज में फैली हुई है कुछ स्वार्थी लोगों के द्वारा चलाई गई उसी पर हम आरूढ़ हो गए और हमारे मूल ज्ञान से हमें दूर कर दिया गया अभी भी समय है हमें कबीर जी को समझना होगा ताकि हम भक्ति का उचित लाभ ले सकें नहीं तो आप जरा गंभीरता से चिंतन करें हम इतनी भक्ति करते हैं हमें बहुत से तो ऐसे लोगों को जानता हूं जिनका पूरा जीवन ही मंदिरों में के चक्रों में निकल जाता है साधना भक्ति विधि में निकल जाता है बहुत ही आदर से वह किसी देवकी रूप में मानकर किसी देव की पूजा करते हैं लेकिन फिर भी पूरा का पूरा परिवार बर्बाद हो जाता है ऐसा क्यों है ऐसा इसलिए है क्योंकि वह शास्त्र विधि साथ ना कि नहीं है वह गलत साधना कर रहा है शास्त्र के विरुद्ध अगर शास्त्र विधि अनुसार भक्ति करें तो हमारे पर संकट आ ही नहीं सकता अगर आप कबीर जी के बारे में संपूर्ण ज्ञान चाहते हैं तो आपसे अनुरोध है कि आप 7:30 पीएम से 8:30 पीएम तक साधना टीवी अवश्य देखें और पुस्तक मंगाए ज्ञानगंगा व जीने की राह आप अभी भी मेरी प्रोफाइल में बायो से जीने की राह पुस्तक लोड कर सकते हैं जो आपका उचित मार्गदर्शन करेंगे कृपया आदि से पढ़ना शुरू करें धन्यवाद

kabir ji kaun the is vishay me samaj me bhrantiyan faili hui hai log kehte hain ki kabir ji neeru tatha nima ke putra the lekin kabir ji ko purn paramatma manne walon ki bhi kami nahi hai agar kabir ji ki vani on ko dhyan se sune aur padhen toh pata chalta hai ki sacchai vaastav me hi kuch aur hai jo aaj tak hamein padhai gayi uske alava ab toh hum dekhte hain ki schoolon me bhi kabir ji ko padhaya ja raha hai ki vaah lahartara taalab par kamal ke fool par prakat hue aur magahar se se sharir chale gaye aur unki javaniya padhte hain toh yah pata bhi chalta hai ki ek jagah malik kabir ji kehte hain ki kashinagara jal kamal ka dera kaha julahe ne paya yani ki kashi ke andar kamal ke fool par paramatma kabir ji prakat hue jaha julahe ne paya tatva kehte hain ki avadu avigat se chalaya koi mera bhed maram nahi paya kashi nagar jal kamal par dera kaha julahe ne paya mata mere kuch nahi na mere ghar dasi duulhe ka suit on kaha ya jagat kare meri hansi hard chavalon nahi mera janu kya na afara satya swaroop hi naam saheb ka sohe naam hamara kabir ji kehte hain ki mera na koi mata hai na pita hai main kamal ke fool par prakat hua aur wahan se julahe ka putra kehlaya nisantan dampatti jo the neeru tatha nirmaan ko uthaakar le gaye aur vaah julahe ka karya karte isliye july ki santan kehlaya hard chavalon ko nahi mera kabir ji kehte hain ki mera sharir hard bacha humse nahi bana hua hai mera sharir noor tatvon se unhi tatvon se bana hua hai jisme yah cheez nahi hai jo aapke sharir me hain janu kya na para paramatma kehte ki main apaar gyaan jaanta hoon yani ki moksha ka marg main hi bata sakta hoon aapko na mera garda siyani mere ghar par patni bhi nahi hai yani maine main vivaahit bhi nahi hoon duulhe ka sudan kaha ya jagat kare meri hansi log mujhe neech ki santan keh kar mera mazak udate hain ki main niche ghar me paida hua hoon julahe ka putra hoon paramatma ek jagah kabir ji apne charo yugon me utpann hone ka bhi pramaan dete hain kabir ji ki ek vani me likha hai ki satayug me sat sukrit katera treta naam munindra mera dwapar me corona makaha ya kalyug naam kabir dharaya in sabhi bhaiyo se pata chalta hai ki kabir ji ko humne jo ek sadhaaran kavi mana vaah hamari ek bahut badi bhool thi humne unke dwara rachit shastron ko main padh kar samajh kar sirf samajik afavahon par hi dhyan diya jinhone hamein bharmit karke hamare pita se dur kar diya aur jo number samaj me faila hua hai jo loot fasot ki bhakti vidhi samaj me faili hui hai kuch swaarthi logo ke dwara chalai gayi usi par hum aarudh ho gaye aur hamare mul gyaan se hamein dur kar diya gaya abhi bhi samay hai hamein kabir ji ko samajhna hoga taki hum bhakti ka uchit labh le sake nahi toh aap zara gambhirta se chintan kare hum itni bhakti karte hain hamein bahut se toh aise logo ko jaanta hoon jinka pura jeevan hi mandiro me ke chakron me nikal jata hai sadhna bhakti vidhi me nikal jata hai bahut hi aadar se vaah kisi devki roop me maankar kisi dev ki puja karte hain lekin phir bhi pura ka pura parivar barbad ho jata hai aisa kyon hai aisa isliye hai kyonki vaah shastra vidhi saath na ki nahi hai vaah galat sadhna kar raha hai shastra ke viruddh agar shastra vidhi anusaar bhakti kare toh hamare par sankat aa hi nahi sakta agar aap kabir ji ke bare me sampurna gyaan chahte hain toh aapse anurodh hai ki aap 7 30 pm se 8 30 pm tak sadhna TV avashya dekhen aur pustak mangae gyanaganga va jeene ki raah aap abhi bhi meri profile me bio se jeene ki raah pustak load kar sakte hain jo aapka uchit margdarshan karenge kripya aadi se padhna shuru kare dhanyavad

कबीर जी कौन थे इस विषय में समाज में भ्रांतियां फैली हुई है लोग कहते हैं कि कबीर जी नीरू तथ

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  119
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
kabeerdas ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!