तुलसीदास का बायोडाटा बताएं?...


user

Ranjeet Singh Uppal

Retired GM ONGC

1:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तुलसीदास का जन्म सन 1511 और मृत्यु 1623 में हुई थी उनके ज्यादातर समय दिल्ली में अकबर का शासन था और उनके अंतिम समय में जहांगीर का शासन था अकबर के दरबार में रहीम खानखाना दिन के दोहे भी बहुत प्रसिद्ध है वहीं खानखाना के साथ भी तुलसीदास की घनिष्ठता थी क्योंकि दोनों ही साहित्य प्रेमी के 29 वर्ष की आयु में रत्नावली के साथ तुलसीदास का विवाह हो गया था और वह अपनी पत्नी से बहुत प्रेम करते थे कहते हैं एक बार उनकी पत्नी मायके में थी तो तुलसीदास उनको मिलने के लिए अंधेरी रात में चल पड़े यमुना को तैर कर पार किया और खिड़की से पत्नी के शयन कक्ष में पहुंचे पत्नी को यह देखकर बहुत आश्चर्य हुआ और रत्नावली में एक दोहा कहा अतीत जन्म में दे दो सौ ऐसी प्रीत मेक जो होती राम से तो काहे बोबी इस दोहे में तुलसीदास का जीवन ही बदल दिया वह वहां से वापस आकर काशी चित्रकूट और अयोध्या में ही ज्यादा रहे और संवत 1631 को राम नवमी के दिन उन्होंने राम चरित्र मानस लिखना प्रारंभ किया और 2 वर्ष 7 महीने 26 दिन बाद संवत सोलह सौ तैंतीस को राम विवाह के दिन राम चरित्र मानस पूर्ण हुआ इसके अलावा उन्होंने विनय पत्रिका हनुमान चालीसा चालीसा इत्यादि ग्रंथ लिखे परंतु उनको हमर बनाने के लिए अकेला रामचरितमानस ठीक-ठाक है

tulsidas ka janam san 1511 aur mrityu 1623 me hui thi unke jyadatar samay delhi me akbar ka shasan tha aur unke antim samay me jahangir ka shasan tha akbar ke darbaar me rahim khankhana din ke dohe bhi bahut prasiddh hai wahi khankhana ke saath bhi tulsidas ki ghanishthata thi kyonki dono hi sahitya premi ke 29 varsh ki aayu me ratnavali ke saath tulsidas ka vivah ho gaya tha aur vaah apni patni se bahut prem karte the kehte hain ek baar unki patni mayke me thi toh tulsidas unko milne ke liye andheri raat me chal pade yamuna ko tair kar par kiya aur khidki se patni ke shayana kaksh me pahuche patni ko yah dekhkar bahut aashcharya hua aur ratnavali me ek doha kaha ateet janam me de do sau aisi prateet make jo hoti ram se toh kaahe bobi is dohe me tulsidas ka jeevan hi badal diya vaah wahan se wapas aakar kashi chitrakoot aur ayodhya me hi zyada rahe aur sanvat 1631 ko ram navami ke din unhone ram charitra manas likhna prarambh kiya aur 2 varsh 7 mahine 26 din baad sanvat solah sau taintis ko ram vivah ke din ram charitra manas purn hua iske alava unhone vinay patrika hanuman chalisa chalisa ityadi granth likhe parantu unko hombre banane ke liye akela ramcharitmanas theek thak hai

तुलसीदास का जन्म सन 1511 और मृत्यु 1623 में हुई थी उनके ज्यादातर समय दिल्ली में अकबर का श

Romanized Version
Likes  106  Dislikes    views  682
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
तुलसीदास ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!