क्या मोदी ख़ुद नैतिक रूप से सही स्तिथि में हैं की वो ट्रिपल तलाक़ के ख़िलाफ़ जा सकें, जबकि वो ख़ुदकी पत्नी को छोड़ चुके हैं?...


play
user

Chandraprakash Joshi

Ex-AGM RBI & CEO@ixamBee.com

2:00

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ट्रिपल तलाक के मुद्दे को नरेंद्र मोदी जी के पर्सनल लाइफ से कंपेयर करने का कोई मतलब नहीं है, क्योंकि एक तो हम नहीं जानते हैं, उन्होंने अपनी पत्नी को क्यों छोड़ा, और किस हालात में और उस समय में क्या बात थी, जिसके लिए उन्होंने छोड़ा? और सबसे बड़ी बात यह है, कि उनका पर्सनल मुद्दा है| जब कि ट्रिपल तलाक का मुद्दा देश का मुद्दा है, और यह सारे मुस्लिम समाज की महिलाओं के अधिकारों का मुद्दा है| तो मुस्लिम समाज के महिलाओं का अधिकार और एक व्यक्ति की पर्सनल लाइफ में क्या हुआ, उनका कोई मुकाबला नहीं है| अगर हमें ट्रिपल तलाक के मुद्दे की चर्चा करनी है, तो हमे देखना ये चाहिए कि क्या मुस्लिम महिलाओं के साथ अत्याचार नहीं हो रहा है? क्या उनको डिस्क्रिमिनेट नहीं किया जा रहा है? एक ही भारतवर्ष में रहते हुए भी आप 3 शब्द बोल कर उन को तलाक दे सकते हो जबकि बाकी किसी कम्युनिटी में ये अलाउड नहीं है, और किसी और देश में भी ये अलाउड नहीं है| किसी भी देश में इवन जो मुस्लिम कंट्री है, वहां भी अलाउड नहीं है| तो ये सोचने की बात है कि किस तरीके से इस ट्रिपल तलाक के माध्यम से आपने जो मुस्लिम महिलाएं हैं, उनके मौलिक अधिकारों को दबाए हुआ है| उनको यह अधिकार नहीं है, खास बात यह है, कि ट्रिपल तलाक वह नहीं बोल सकती है, केवल आदमी जो पति है मर्द है, वही बोल सकता है| तो इस तरीके की जो बातें हैं, इस तरीके की जो चीजें चल रही हमारे समाज में यह बहुत गलत है| और सरकार ने बहुत अच्छा कदम उठाया है, कि वह यह हिम्मत कर पाई है इस तरीके का बिल लाने की, इस तरीके का कानून बनाया है| जबकि इतने सालों से केवल मुस्लिम वोट बैंक के नाम पर, उनको नाराज ना करने देने के लिए, हमारे देश में ही होने दिया जा रहा था, जबकि यह चीज किसी भी मुस्लिम देश में भी अलाउड नहीं है| तो इससे अच्छी चीज तो कुछ हो ही नहीं सकती है, कि हम को इसका पुरजोर से स्वागत करना चाहिए, और आने वाले टाइम में मुस्लिम समाज के आधुनिकरण के लिए, मुस्लिम महिलाओं को एम्पावर करने के लिए बहुत जरूरी है|

triple talak ke mudde ko narendra modi ji ke personal life se compare karne ka koi matlab nahi hai kyonki ek toh hum nahi jante hain unhone apni patni ko kyon choda aur kis haalaat mein aur us samay mein kya baat thi jiske liye unhone choda aur sabse badi baat yah hai ki unka personal mudda hai jab ki triple talak ka mudda desh ka mudda hai aur yah saare muslim samaj ki mahilaon ke adhikaaro ka mudda hai toh muslim samaj ke mahilaon ka adhikaar aur ek vyakti ki personal life mein kya hua unka koi muqabla nahi hai agar hamein triple talak ke mudde ki charcha karni hai toh hume dekhna ye chahiye ki kya muslim mahilaon ke saath atyachar nahi ho raha hai kya unko diskriminet nahi kiya ja raha hai ek hi bharatvarsh mein rehte hue bhi aap 3 shabd bol kar un ko talak de sakte ho jabki baki kisi community mein ye allowed nahi hai aur kisi aur desh mein bhi ye allowed nahi hai kisi bhi desh mein even jo muslim country hai wahan bhi allowed nahi hai toh ye sochne ki baat hai ki kis tarike se is triple talak ke madhyam se aapne jo muslim mahilaye hain unke maulik adhikaaro ko dabaye hua hai unko yah adhikaar nahi hai khaas baat yah hai ki triple talak vaah nahi bol sakti hai keval aadmi jo pati hai mard hai wahi bol sakta hai toh is tarike ki jo batein hain is tarike ki jo cheezen chal rahi hamare samaj mein yah bahut galat hai aur sarkar ne bahut accha kadam uthaya hai ki vaah yah himmat kar payi hai is tarike ka bill lane ki is tarike ka kanoon banaya hai jabki itne salon se keval muslim vote bank ke naam par unko naaraj na karne dene ke liye hamare desh mein hi hone diya ja raha tha jabki yah cheez kisi bhi muslim desh mein bhi allowed nahi hai toh isse achi cheez toh kuch ho hi nahi sakti hai ki hum ko iska purjor se swaagat karna chahiye aur aane waale time mein muslim samaj ke aadhunikaran ke liye muslim mahilaon ko empower karne ke liye bahut zaroori hai

ट्रिपल तलाक के मुद्दे को नरेंद्र मोदी जी के पर्सनल लाइफ से कंपेयर करने का कोई मतलब नहीं है

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  223
KooApp_icon
WhatsApp_icon
9 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!