क्या सभी सरकारी अफ़सरों इसी प्रकार वापिस प्रहार करना चाहिए अगर कोई राजनेता उनपे शारीरिक रूप से हमला करता है जैसा की कांग्रेस एमएलए आशा कुमारी के मामले में हुआ?...


user

Swati

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए हम गलियों में भुने गए उस भारत में रहते हैं जहां अहिंसा चाहते थे लेकिन मैं यह भी कहूंगी कि आज का समय ऐसा नहीं जैसे गांधी जी ने कहा था कि अगर आपको एक थप्पड़ अब दूसरा गाल आगे कर दे क्योंकि वह सब काम ठीक से नहीं हुआ है तू अगर जो आशा कुमारी जी जो कांग्रेस की जो कार्य करता है अधिकारी को थप्पड़ मारा वह करते ही कलर वह बिल्कुल गलत था ऐसा करना शोभा नहीं देता मुझे लगता है कि वह अपने वादे के जो दम पर वह महिला अधिकारी को थप्पड़ मार उसके बदले में महिला अधिकारियों ने एकदम सही काम किया ताकि अनिता कुमारी को याद रहे कि वह किसी भी पुरुष या किसी भी महिला पर रोक नहीं जा सकती और सबसे पहले मानवता और इंसानियत आनी चाहिए वॉलपेपर है और कितना पॉलिटिकल है बड़ा में यह भी कहूंगी कि थप्पड़ आशा कुमारी काव्य महिला कॉन्स्टेबल का अभी और ऐसा भी नहीं है कि वह जो महिला कॉन्स्टेबल है वह खा कर दे सकती क्योंकि आज के समय में इतना पेशेंट तो किसी में होता नहीं है तो पर अगर फिर भी मैं बिल्कुल नहीं कहूंगी कि उस महिला कौन से बहुत थप्पड़ खा लेना चाहिए था बट अगर फिर भी मैं रुक जाती तो वह बड़ी ही बनती वह लोग और सम्मान करते लेकिन उन्होंने कुछ गलत भी नहीं किया उन्हें वापस थप्पड़ क्योंकि उनको जरूरत है याद दिलाना कि वह किसी पर भी अपने पॉलिटिकल वादे के दम पर रोक नहीं जा सकती

dekhiye hum galiyon mein bhune gaye us bharat mein rehte hain jaha ahinsa chahte the lekin main yah bhi kahungi ki aaj ka samay aisa nahi jaise gandhi ji ne kaha tha ki agar aapko ek thappad ab doosra gaal aage kar de kyonki vaah sab kaam theek se nahi hua hai tu agar jo asha kumari ji jo congress ki jo karya karta hai adhikari ko thappad mara vaah karte hi color vaah bilkul galat tha aisa karna shobha nahi deta mujhe lagta hai ki vaah apne waade ke jo dum par vaah mahila adhikari ko thappad maar uske badle mein mahila adhikaariyo ne ekdam sahi kaam kiya taki anita kumari ko yaad rahe ki vaah kisi bhi purush ya kisi bhi mahila par rok nahi ja sakti aur sabse pehle manavta aur insaniyat aani chahiye wallpaper hai aur kitna political hai bada mein yah bhi kahungi ki thappad asha kumari kavya mahila constable ka abhi aur aisa bhi nahi hai ki vaah jo mahila constable hai vaah kha kar de sakti kyonki aaj ke samay mein itna patient toh kisi mein hota nahi hai toh par agar phir bhi main bilkul nahi kahungi ki us mahila kaunsi bahut thappad kha lena chahiye tha but agar phir bhi main ruk jaati toh vaah badi hi banti vaah log aur sammaan karte lekin unhone kuch galat bhi nahi kiya unhe wapas thappad kyonki unko zarurat hai yaad dilana ki vaah kisi par bhi apne political waade ke dum par rok nahi ja sakti

देखिए हम गलियों में भुने गए उस भारत में रहते हैं जहां अहिंसा चाहते थे लेकिन मैं यह भी कहूं

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  121
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Sachin Bharadwaj

Faculty - Mathematics

1:25

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे लगता है कि कोई भी अगर पॉलिटिशन एक आम आदमी के साथ इस तरह का व्यवहार करता है तो उसके लिए तो था जिस पार्टी से बिलोंग करता उसके लिए इससे बड़ी शर्मिंदगी की बात कोई और हो नहीं सकता जिस तरह से कांग्रेस कीड़ा आशा कुमारी ने एक गवर्मेंट एंप्लोई को एक पुलिस ऑफिसर को थप्पड़ मारा तो मुझे लगता है इसे हास्यास्पद में की शर्मनाक बात पार्टी के लिए उनकी छवि के लिए कुछ नहीं हो सकती मैं तो बस इतना कहना चाहूंगा उनकी जो पार्टी के बड़े लीडर से उनको ऐसे लेटेस्ट के खिलाफ सख्त से सख्त कार्यवाही करनी चाहिए उन को पार्टी से बाहर नहीं करना चाहिए क्योंकि इन्हीं जंगली डर की वजह से पूरी पार्टी की छवि खराब होती है जिस तरह से हमने देखा अजब कांग्रेस की आला हमारे देश के अंदर बहुत खराब है वह अपने अस्तित्व के लिए लड़ रही है लेकिन इसी बीच अगर कोई इस तरह का काम करता है तो मुझे नहीं लगता कि कांग्रेस आने वाले 10 या 15 साल में भी हमारे देश के अंदर एग्जिट करेगी तो मुझे लगता है कि कुछ ऐसा हो सकता है तू कांग्रेस लीडर जो बड़े लीडर को एक्शन लेना चाहिए दूसरा मैं यह कहना चाहूंगा जिस तरह से व्यवहार वहां के MLA ने किया मुझे नहीं लगता है इसका डिटेल वेट करना बहुत जरूरी है पुलिस अपना काम करेगी जो लोकल एडमिनिस्ट्रेशन है वह अपना काम करेगा मुझे लगता है इस मामले में जरूर FIR होगी हमें आगे देखना है क्या होता है

mujhe lagta hai ki koi bhi agar politician ek aam aadmi ke saath is tarah ka vyavhar karta hai toh uske liye toh tha jis party se belong karta uske liye isse badi sharmindagi ki baat koi aur ho nahi sakta jis tarah se congress kida asha kumari ne ek government employee ko ek police officer ko thappad mara toh mujhe lagta hai ise hasyaspad mein ki sharmnaak baat party ke liye unki chhavi ke liye kuch nahi ho sakti main toh bus itna kehna chahunga unki jo party ke bade leader se unko aise latest ke khilaf sakht se sakht karyavahi karni chahiye un ko party se bahar nahi karna chahiye kyonki inhin jungli dar ki wajah se puri party ki chhavi kharab hoti hai jis tarah se humne dekha ajab congress ki aala hamare desh ke andar bahut kharab hai vaah apne astitva ke liye lad rahi hai lekin isi beech agar koi is tarah ka kaam karta hai toh mujhe nahi lagta ki congress aane waale 10 ya 15 saal mein bhi hamare desh ke andar exit karegi toh mujhe lagta hai ki kuch aisa ho sakta hai tu congress leader jo bade leader ko action lena chahiye doosra main yah kehna chahunga jis tarah se vyavhar wahan ke MLA ne kiya mujhe nahi lagta hai iska detail wait karna bahut zaroori hai police apna kaam karegi jo local administration hai vaah apna kaam karega mujhe lagta hai is mamle mein zaroor FIR hogi hamein aage dekhna hai kya hota hai

मुझे लगता है कि कोई भी अगर पॉलिटिशन एक आम आदमी के साथ इस तरह का व्यवहार करता है तो उसके लि

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  134
WhatsApp_icon
user

.

Hhhgnbhh

1:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हर चीज को डील करने के 2 तरीके होते हैं| तो इस चीज के अंदर भी हम दो तरीकों से इसको देख सकते थे| या तो जो सिपाही है| वह क्रोधित हो जाता| और हाथ उठा देता| या फिर दूसरा तरीका ये था कि इस को शांतिपूर्वक भी सोल्व करा जा सकता था इस मसले को| तो यहां पर जो से पाई थी| जो आशा कुमारी के साथ थी उन्होंने क्रोध वाला रूप अपनाया| उन्होंने हाथ उठा लिया| और वहीं पर दूसरी और इससे पहले भी ऐसे काफी बार हो चुका है| और वहां पर देखा गया कि सिपाहियों ने हाथ नहीं उठाया था| तो यह दो चीज होगी| जैसे हमने देखा था| महात्मा गांधी हमेशा कहते आये थे कि कभी भी हिंसा नहीं नहीं करनी व अहिंसा के रह पर हमें ले कर गए| तो यह व्यक्ति और व्यक्ति पर डिपेंड करता है| कि वह कौन सी राह सुनना चाहेगा| पर हां अगर इस बार सिपाही ने हाथ उठाया है| तो मैं उसको बिल्कुल गलत भी नहीं कहूंगी | क्यूंकि ऐसा पिछले तीन चार बार देखा जा रहा था| कि जो हमारे मंत्री होते हैं| वह एग्जामपल सेट कर रहे थे| कि वह हाथ उठा लेते सिपाही पर| तो जो चीज इस बार जो हमारी फिमेल सिपाही उन्होंने करी है| उससे बाकी मंत्रियो को भी ध्यान में रहेगा| कि वे ऐसा कुछ हरकत ना करें| क्योंकि फिर उन पर भी हाथ उठ सकता है| और उनकी इज्जत पे भी बन सकती है| और तो इसीलिए मेरे हिसाब से इस बार यह करने को हम बिल्कुल गलत नहीं कहेंगे| क्योंकि अब बहुत बार यह चीज हो चुकी थी| और हम देखते आ रहे थे कि सिपाही कुछ कर नहीं रहे थे| जो एक बहुत अच्छी चीज है| पर अगर इस बार उन्होंने कर भी दिया| तो यह बुरा काम नहीं|

har cheez ko deal karne ke 2 tarike hote hai toh is cheez ke andar bhi hum do trikon se isko dekh sakte the ya toh jo sipahi hai vaah krodhit ho jata aur hath utha deta ya phir doosra tarika ye tha ki is ko shantipurvak bhi solve kara ja sakta tha is masle ko toh yahan par jo se payi thi jo asha kumari ke saath thi unhone krodh vala roop apnaya unhone hath utha liya aur wahi par dusri aur isse pehle bhi aise kaafi baar ho chuka hai aur wahan par dekha gaya ki sipaahiyon ne hath nahi uthaya tha toh yah do cheez hogi jaise humne dekha tha mahatma gandhi hamesha kehte aaye the ki kabhi bhi hinsa nahi nahi karni va ahinsa ke reh par hamein le kar gaye toh yah vyakti aur vyakti par depend karta hai ki vaah kaun si raah sunana chahega par haan agar is baar sipahi ne hath uthaya hai toh main usko bilkul galat bhi nahi kahungi kyunki aisa pichle teen char baar dekha ja raha tha ki jo hamare mantri hote hai vaah egjamapal set kar rahe the ki vaah hath utha lete sipahi par toh jo cheez is baar jo hamari female sipahi unhone kari hai usse baki mantriyon ko bhi dhyan mein rahega ki ve aisa kuch harkat na kare kyonki phir un par bhi hath uth sakta hai aur unki izzat pe bhi ban sakti hai aur toh isliye mere hisab se is baar yah karne ko hum bilkul galat nahi kahenge kyonki ab bahut baar yah cheez ho chuki thi aur hum dekhte aa rahe the ki sipahi kuch kar nahi rahe the jo ek bahut achi cheez hai par agar is baar unhone kar bhi diya toh yah bura kaam nahi

हर चीज को डील करने के 2 तरीके होते हैं| तो इस चीज के अंदर भी हम दो तरीकों से इसको देख सकते

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  167
WhatsApp_icon
user

Amber Rai

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

0:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

राधिके यह जो सवाल अपने ऊपर पूछा है कि सभी सरकारी अफसरों को इसी प्रकार वापस प्रहार करना चाहिए अगर कोई राजनेता जो है वह शारीरिक रूप से हमला करें ऐसा कि अभी हाल ही में कांग्रेस के MLA जी ने किया था तो मैं समझता हूं कि यह सही बात भी और गलत बात भी है उनको ऐसा नहीं करना चाहिए था क्योंकि वह जल्दी में थी लेकिन उन्होंने जो है उनकी बर्थडे की रिस्पेक्ट नहीं की और कि आजकल जो है पॉलिटिशन जो पुलिस को कुछ समझते ही नहीं वह धूल की मिट्टी समस्या अपने पैरों की पुलिस को किस जहां चाहा पुलिस को भेज दिया जहां जहां पुलिस को सस्पेंड करने वाले सस्पेंड कर दिया जहां पोस्टिंग करने पोस्टिंग कर दिया डरा दिया धोखा दिया तो मैं समझता हूं कि यह सही भी था और भी था अगर दोनों पर प्रेक्टिस से जो है इस शख्स को देखा जा सकता है

radhike yah jo sawaal apne upar poocha hai ki sabhi sarkari afsaron ko isi prakar wapas prahaar karna chahiye agar koi raajneta jo hai vaah sharirik roop se hamla kare aisa ki abhi haal hi mein congress ke MLA ji ne kiya tha toh main samajhata hoon ki yah sahi baat bhi aur galat baat bhi hai unko aisa nahi karna chahiye tha kyonki vaah jaldi mein thi lekin unhone jo hai unki birthday ki respect nahi ki aur ki aajkal jo hai politician jo police ko kuch samajhte hi nahi vaah dhul ki mitti samasya apne pairon ki police ko kis jaha chaha police ko bhej diya jaha jahan police ko Suspend karne waale Suspend kar diya jaha posting karne posting kar diya dara diya dhokha diya toh main samajhata hoon ki yah sahi bhi tha aur bhi tha agar dono par practice se jo hai is sakhs ko dekha ja sakta hai

राधिके यह जो सवाल अपने ऊपर पूछा है कि सभी सरकारी अफसरों को इसी प्रकार वापस प्रहार करना चाह

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  131
WhatsApp_icon
user

Anukrati

Journalism Graduate

0:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी नहीं सभी सरकारी अधिकारियों को ऐसा बिल्कुल नहीं करना चाहिए मैं यह नहीं कह रही कि जो आशा कुमारी ने किया वह सही है लेकिन आवेश में आकर जो महिला सिपाही ने पलटवार किया आपको भी सही नहीं है लेकिन मुझे लगता है कि भीड़ को संभालने का जो दबाव स्मार्ट में पर रहता है उस में कई बार व्यक्ति से कुछ गलतियां होना संभव है खबर के अनुसार राहुल गांधी ने आशा कुमारी से माफी मांगने को कहा है मुझे लगता है कि अगर आशा कुमारी माफी मांग लेती हैं तो महिला सिपाही को भी उनसे अपने त्वरित आवेश के लिए माफी मांग लेनी चाहिए

ji nahi sabhi sarkari adhikaariyo ko aisa bilkul nahi karna chahiye main yah nahi keh rahi ki jo asha kumari ne kiya vaah sahi hai lekin aavesh mein aakar jo mahila sipahi ne palatwaar kiya aapko bhi sahi nahi hai lekin mujhe lagta hai ki bheed ko sambhalne ka jo dabaav smart mein par rehta hai us mein kai baar vyakti se kuch galtiya hona sambhav hai khabar ke anusaar rahul gandhi ne asha kumari se maafi mangne ko kaha hai mujhe lagta hai ki agar asha kumari maafi maang leti hain toh mahila sipahi ko bhi unse apne twarit aavesh ke liye maafi maang leni chahiye

जी नहीं सभी सरकारी अधिकारियों को ऐसा बिल्कुल नहीं करना चाहिए मैं यह नहीं कह रही कि जो आशा

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  127
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!