भारत में कृषि सब्सिडी की आवश्यकता क्यों है?...


user

Harvinder kaur

Municipal councillor

1:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत एक कृषि प्रधान देश है और जो हमारे यहां की कृषि है वह बहुत कुछ मौसम पर निर्भर करती है हर जगह हमें पानी की किल्लत देखने को मिल जाती है कई क्षेत्रों में हरियाणा पंजाब उत्तर प्रदेश में तो वहां पर पानी की कमी नहीं है परंतु जो हमारे दूसरे क्षेत्र हैं जैसे राजस्थान है या उधर गुजरात और पाठक में हमें पानी की कमी देखने को मिल जाती है तो वहां पर हमारे यहां कृषि अच्छी तरह नहीं हो पाती जो उपज है हम वह पशुओं से उतनी अच्छी नहीं ले पाते तो इसमें कृषि प्रधान जो देश है उसमें सब्सिडी की किसानों को इसकी आवश्यकता पड़ती है कि उनके खर्चे बहुत ज्यादा हो जाते हैं जब वह कोई भी फसल बोते हैं उसमें दवाइयों का जो छिड़काव को करते हैं और उस पर ओलावृष्टि है कभी मौसम की मार यानी कि उसके पड़ जाती है तो इस नियम को सब्सिडी की बहुत आवश्यकता है क्योंकि के खर्चे पूरे नहीं होते और जो उसकी रेट है मार्केट रेट है चाहे वह गेहूं है वह चावल है उसके लिए गन्ने की फसल है तो फोन को उसका समर्थन मूल्य पूरी तरह से नहीं मिलता है इसलिए देश में सभी किसानों को सब्सिडी की आवश्यकता पड़ती है और यह सही भी है धन

bharat ek krishi pradhan desh hai aur jo hamare yahan ki krishi hai vaah bahut kuch mausam par nirbhar karti hai har jagah hamein paani ki killat dekhne ko mil jaati hai kai kshetro me haryana punjab uttar pradesh me toh wahan par paani ki kami nahi hai parantu jo hamare dusre kshetra hain jaise rajasthan hai ya udhar gujarat aur pathak me hamein paani ki kami dekhne ko mil jaati hai toh wahan par hamare yahan krishi achi tarah nahi ho pati jo upaj hai hum vaah pashuo se utani achi nahi le paate toh isme krishi pradhan jo desh hai usme subsidy ki kisano ko iski avashyakta padti hai ki unke kharche bahut zyada ho jaate hain jab vaah koi bhi fasal bote hain usme dawaiyo ka jo chhidkav ko karte hain aur us par olavrishti hai kabhi mausam ki maar yani ki uske pad jaati hai toh is niyam ko subsidy ki bahut avashyakta hai kyonki ke kharche poore nahi hote aur jo uski rate hai market rate hai chahen vaah gehun hai vaah chawal hai uske liye ganne ki fasal hai toh phone ko uska samarthan mulya puri tarah se nahi milta hai isliye desh me sabhi kisano ko subsidy ki avashyakta padti hai aur yah sahi bhi hai dhan

भारत एक कृषि प्रधान देश है और जो हमारे यहां की कृषि है वह बहुत कुछ मौसम पर निर्भर करती है

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  126
KooApp_icon
WhatsApp_icon
21 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
भारत में कृषि सब्सिडी ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!