क्या पहले प्यार को भुलाया जा सकता हैं?...


user

Rony

Psychologist

4:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अप का क्वेश्चन है कि क्या पहले प्यार को बुलाया जा सकता है तो खूब किसी भी चीज को आना पूरी तरीके से ना भुलाया नहीं जाता यह होता है कि उसकी यादें धीरे-धीरे समय के अनुसार कम होती जाएगी कुछ और दूसरी याद है आपके अंदर बढ़ती जाएगी कुछ वह क्या हो जाएगा पुरानी हो जाएगी वह यादें जैसी मालू आपने किसी से प्यार किया था 2 साल पहले जब तब उसकी जितनी यादें आती थी अब उतनी याद नहीं आएगी फिलहाल पर अभी इस टाइम में अगर आपने किसी से 2 साल पहले प्यार करते थे तो आप अब मैं और पहले में बहुत फर्क हो जाएगा क्योंकि जब कोई अचानक से छूटता है कोई इंसान अपने उस टाइम तो ज्यादा याद आता है लेकिन धीरे धीरे धीरे आदत पड़ जाती है फिर हमारी दूसरी यादें ताजा हो जाती है वह यादें जो हम अपन प्रजेंट में कर रहे हैं परसेंट में जिस काम को कर रहे हैं सोच रहे हैं उसके बारे में याद रह जाती है पूरी तरीके से तो फिर भी नहीं भुला पाएंगे उसको क्योंकि कभी-कभी तो ऐसा वक्त आता है कि कुछ ऐसी बातें हो जाती है या फिर फिल्मों में देखकर मूवी देखकर या किसी को कपल्स को देखकर उनको देखकर अपना प्यार भी याद आ जाता है तो ऐसा तो नहीं होगा कि आपको सारे दिन उसकी याद आएगी नहीं आपको कभी कभी मैंने 6 महीने में ऐसे धीरे-धीरे आपको याद आती रहेगी जैसे बिजली का एक झटका लग जाता है ना अचानक से तो अचानक से कोई भी कोई भी ऐसी चीज अपने सामने आ जाती तो उसकी याद दिलाती हो और पूरी तरीके से तो तभी भूल सकते हैं जब जब अपने दिमाग पागल हो जाए मतलब एक तरह से पागल हो जाए ना तभी अपन भूल सकता है क्योंकि हम एक चीज को ही नहीं भूलेंगे फिर उसमें फिर उसमें सभी चीजों को बोलना पड़ेगा अपनी यादाश्त को नहीं पड़ेगी अपने को अगर आप पूरा बुलाना चाहते तो ऐसा तो होना नहीं है कभी के अपनी पूरी अदास भूल जाए तो एक चीज का बना है ऐसे पकड़ के ऐसे नहीं भाई इसको पकड़ केस को दिमाग से निकाल दे ऐसा नहीं होता है ऐसा अब तक कोई ऐसा कभी हुआ है ना कभी होगा ऐसा बस उसको कम किया जा सकता है और हमें बुलाना क्यों है विचारों को इतना महत्व क्यों देना है विचार आ रहे हो ही इतने इंपोर्टेंट नहीं होते हैं विज्ञापन उनके बारे में सोच सोच के उनको ज्यादा इंपोर्टेंस दे देते हैं बल्कि वह तो कुछ काम के नहीं होते हैं हम जो हमेशा सोचते हमारे विचार आते हैं वह हमेशा नहीं होते हैं वह इतने इंपॉर्टेंस नहीं होते जो जितना हम समझते हैं उनको बस कुछ पल के लिए होते हैं मुझे चले जाते आते पर जब अचानक से एकदम से कुछ बातें ऐसी याद आने लग जाती है अपन रोक भी नहीं पाते हैं उनको आते जाते हैं आते जाते हैं जैसे एक तूफान सा आता है ना ऐसे ही फिर याद आने लग जाती फिर सारी याद आ जाती है फिर एक साथ पूरी तो हमें अपने माइंड को समझना होगा बेड में कुछ समझाना होगा कि जो भी आ रहा है उसको देखो आराम से क्या हो रहा है अपने माइंड में कैसे आ रहा रहा है जब आप समझ कर काम करोगे तो धीरे-धीरे वह चीजों से आप डरना कम हो जाओगे तो और धीरे-धीरे को कम हो जाएगी उसे अगर आप फिलहाल अभी इस टाइम पर इस समय इस चीज से गुजर रहे हो किस चीज को बुलाने की कोशिश कर रहे हो तो आप कुछ अलग करो इसको बुलाने के लिए उससे भी इससे प्यार से भी बड़ी कोई चीज चाहिए अब कल कोई लक्ष्य बनाओ आप जिससे उसमें खो जाओ आप उसकी याद आने लगेगी उसके बारे में सोचने लगा कैसे बुलाया जा सकता

up ka question hai ki kya pehle pyar ko bulaya ja sakta hai toh khoob kisi bhi cheez ko aana puri tarike se na bhulaya nahi jata yah hota hai ki uski yaadain dhire dhire samay ke anusaar kam hoti jayegi kuch aur dusri yaad hai aapke andar badhti jayegi kuch vaah kya ho jaega purani ho jayegi vaah yaadain jaisi maloom aapne kisi se pyar kiya tha 2 saal pehle jab tab uski jitni yaadain aati thi ab utani yaad nahi aayegi filhal par abhi is time me agar aapne kisi se 2 saal pehle pyar karte the toh aap ab main aur pehle me bahut fark ho jaega kyonki jab koi achanak se chhutataa hai koi insaan apne us time toh zyada yaad aata hai lekin dhire dhire dhire aadat pad jaati hai phir hamari dusri yaadain taaza ho jaati hai vaah yaadain jo hum apan present me kar rahe hain percent me jis kaam ko kar rahe hain soch rahe hain uske bare me yaad reh jaati hai puri tarike se toh phir bhi nahi bhula payenge usko kyonki kabhi kabhi toh aisa waqt aata hai ki kuch aisi batein ho jaati hai ya phir filmo me dekhkar movie dekhkar ya kisi ko couples ko dekhkar unko dekhkar apna pyar bhi yaad aa jata hai toh aisa toh nahi hoga ki aapko saare din uski yaad aayegi nahi aapko kabhi kabhi maine 6 mahine me aise dhire dhire aapko yaad aati rahegi jaise bijli ka ek jhatka lag jata hai na achanak se toh achanak se koi bhi koi bhi aisi cheez apne saamne aa jaati toh uski yaad dilati ho aur puri tarike se toh tabhi bhool sakte hain jab jab apne dimag Pagal ho jaaye matlab ek tarah se Pagal ho jaaye na tabhi apan bhool sakta hai kyonki hum ek cheez ko hi nahi bhulenge phir usme phir usme sabhi chijon ko bolna padega apni yadashat ko nahi padegi apne ko agar aap pura bulana chahte toh aisa toh hona nahi hai kabhi ke apni puri adas bhool jaaye toh ek cheez ka bana hai aise pakad ke aise nahi bhai isko pakad case ko dimag se nikaal de aisa nahi hota hai aisa ab tak koi aisa kabhi hua hai na kabhi hoga aisa bus usko kam kiya ja sakta hai aur hamein bulana kyon hai vicharon ko itna mahatva kyon dena hai vichar aa rahe ho hi itne important nahi hote hain vigyapan unke bare me soch soch ke unko zyada importance de dete hain balki vaah toh kuch kaam ke nahi hote hain hum jo hamesha sochte hamare vichar aate hain vaah hamesha nahi hote hain vaah itne importance nahi hote jo jitna hum samajhte hain unko bus kuch pal ke liye hote hain mujhe chale jaate aate par jab achanak se ekdam se kuch batein aisi yaad aane lag jaati hai apan rok bhi nahi paate hain unko aate jaate hain aate jaate hain jaise ek toofan sa aata hai na aise hi phir yaad aane lag jaati phir saari yaad aa jaati hai phir ek saath puri toh hamein apne mind ko samajhna hoga bed me kuch samajhana hoga ki jo bhi aa raha hai usko dekho aaram se kya ho raha hai apne mind me kaise aa raha raha hai jab aap samajh kar kaam karoge toh dhire dhire vaah chijon se aap darna kam ho jaoge toh aur dhire dhire ko kam ho jayegi use agar aap filhal abhi is time par is samay is cheez se gujar rahe ho kis cheez ko bulane ki koshish kar rahe ho toh aap kuch alag karo isko bulane ke liye usse bhi isse pyar se bhi badi koi cheez chahiye ab kal koi lakshya banao aap jisse usme kho jao aap uski yaad aane lagegi uske bare me sochne laga kaise bulaya ja sakta

अप का क्वेश्चन है कि क्या पहले प्यार को बुलाया जा सकता है तो खूब किसी भी चीज को आना पूरी त

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  845
KooApp_icon
WhatsApp_icon
12 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!