अधिकांश लोगों के लिए अपने मानसिक विकार को स्वीकार करना कठिन क्यों है?...


user

Roshan Yoga -▶️ YouTube Roshan yoga

Yoga Instructor -▶️ YouTube Channel Roshan yoga

2:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अधिकांश लोगों के लिए अपने मानसिक विकार को स्वीकार करना कठिन है मानसिक विकार एक ऐसी चीज है कि इसे स्वीकार करना कठिन ही नहीं बहुत बहुत कठिन है क्योंकि हम अपने आपको बहुत ज्यादा ईगो में पालते हैं वो ज्यादा अहंकार में पालते हैं और हमारा वह अहंकार हमारी वही गो हमें कहीं थोड़ा नीचे नहीं आना देना चाहती हम यह स्वीकार्य नहीं करते कि हम बीमार खासतौर पर मन से बीमार हो तो हम जनरल भाषा में कह देते हैं ऐसे ही जैसे किसी को देखते हैं व्यवहार करते हो तुम पागल है वह पागल शब्द गुण के अंदर चोट करता है उनके अहंकार को चोट करता है तो वह होते हुए भी उसको स्वीकार नहीं कर पाते तो वह मेरा ही विचार है कि अगर कुछ को कोई रोग है उसको यह स्वीकार करना चाहिए स्वीकार करने से ही उसका इलाज होता है फिर भी जो चीज हेल्प करती है मैं कोशिश कर सकता हूं थोड़ी सी बताने की जो बहुत हेल्प करेगा ध्यान बहुत हेल्प करेगा वही मत देगा चीजों को एजइटइज जैसी है वैसी स्वीकार करने की अगर मुझे कोई रोग है जो काम है तो उसकी दवाई लेने डॉक्टर के पास जाता हूं इसी तरह से मुझे का कोई टांग में दर्द है तो उसकी पट्टी करवाने जाता हूं कोई जख्म है तो उसके लिए कुछ दवाइयों पर बम लगाने जाता हूं तो ऐसे ही मन का कोई भी कार्बन का भी कोई रोग होता है तो उसको अगर हम ठीक से हैंडल लॉक करें उसका ठीक से उपचार ना करें कि साइको साइकैटरिस्ट के पास जाकर या किसी योग वाले साधना केंद्र पर जाकर लेकिन ध्यान रखें किसी चक्कर में ना पड़े इसी भ्रम भ्रम में ना पड़े और ठीक हो जाता है थोड़ी प्राणायाम और ध्यान का अभ्यास करें उसको ठीक होता है उसके लिए गर्म करना चाहे तो मेरा युटुब चैनल है रोशन योगा करके यूट्यूब मैं तो उस पर आप जाकर देखें ध्यान किसी भी है आसन प्राणायाम की है कुछ ब्रशिंग टेक्निक उस मास की कराई है जिससे कि किसी भी विकार में मानसिक विकार में आराम मिलता ही मिलता है धन्यवाद

adhikaansh logo ke liye apne mansik vikar ko sweekar karna kathin hai mansik vikar ek aisi cheez hai ki ise sweekar karna kathin hi nahi bahut bahut kathin hai kyonki hum apne aapko bahut zyada ego me palate hain vo zyada ahankar me palate hain aur hamara vaah ahankar hamari wahi go hamein kahin thoda niche nahi aana dena chahti hum yah svikarya nahi karte ki hum bimar khaasataur par man se bimar ho toh hum general bhasha me keh dete hain aise hi jaise kisi ko dekhte hain vyavhar karte ho tum Pagal hai vaah Pagal shabd gun ke andar chot karta hai unke ahankar ko chot karta hai toh vaah hote hue bhi usko sweekar nahi kar paate toh vaah mera hi vichar hai ki agar kuch ko koi rog hai usko yah sweekar karna chahiye sweekar karne se hi uska ilaj hota hai phir bhi jo cheez help karti hai main koshish kar sakta hoon thodi si batane ki jo bahut help karega dhyan bahut help karega wahi mat dega chijon ko ejaitaij jaisi hai vaisi sweekar karne ki agar mujhe koi rog hai jo kaam hai toh uski dawai lene doctor ke paas jata hoon isi tarah se mujhe ka koi taang me dard hai toh uski patti karwane jata hoon koi jakhm hai toh uske liye kuch dawaiyo par bomb lagane jata hoon toh aise hi man ka koi bhi carbon ka bhi koi rog hota hai toh usko agar hum theek se handle lock kare uska theek se upchaar na kare ki psycho saikaitrist ke paas jaakar ya kisi yog waale sadhna kendra par jaakar lekin dhyan rakhen kisi chakkar me na pade isi bharam bharam me na pade aur theek ho jata hai thodi pranayaam aur dhyan ka abhyas kare usko theek hota hai uske liye garam karna chahen toh mera yutub channel hai roshan yoga karke youtube main toh us par aap jaakar dekhen dhyan kisi bhi hai aasan pranayaam ki hai kuch brushing technique us mass ki karai hai jisse ki kisi bhi vikar me mansik vikar me aaram milta hi milta hai dhanyavad

अधिकांश लोगों के लिए अपने मानसिक विकार को स्वीकार करना कठिन है मानसिक विकार एक ऐसी चीज है

Romanized Version
Likes  57  Dislikes    views  560
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!