अगर मेरे पास ओसीडी है तो मैं कैसे बता सकता हूँ लोग इन दिनों इस शब्द का इतना शिथिल उपयोग क्यों करते हैं?...


user

Sarvat Ikbal

Clinical Psychologist

1:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपकी पिक भेजो एक आर्डर मतलब कुछ आता जाता तो है लेकिन खाना खाते हैं खाना खाने का 22:00 बजे 3:00 बजे

aapki pic bhejo ek order matlab kuch aata jata toh hai lekin khana khate hain khana khane ka 22 00 baje 3 00 baje

आपकी पिक भेजो एक आर्डर मतलब कुछ आता जाता तो है लेकिन खाना खाते हैं खाना खाने का 22:00 बजे

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  140
WhatsApp_icon
15 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Deapti Mishra

Clinica Psychologist

4:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ओसीडी एक्चुअली में भारतीय सामान्य बीमारी है और हमारे देश में क्या होता है कि सभी लोग साफ सफाई रखना है या रांची से घर को रखना है अपने आप को साफ सुथरा रखना है बच्चों को केयर करना है कि बहुत डिसिप्लिन में रहना यह सारी चीजें हमको बचपन से दिखाई जाती हैं इसलिए जहां लाइन क्रॉस हो जाती है डिस्ट्रेस होने लग जाता है तो वह बीमारी का रूप और उसका बेसिकली 2 भाग होते हैं एक ऑपरेशन जिसमें आपके विचार आ रहे हैं कुछ विचार है या कुछ इमेजेस चित्र दिमाग में आते हैं जो बार-बार बार-बार आते हैं और हमको लगता है कि ज्यादा आ रही है गलत आ रहे हैं तब भी उसको रोक नहीं पाते हैं और उसके कारण बहुत हमको लग रहा है कि गंदा है तो यह चेयर गंदी गंदी एकदम बैठेंगे तो गंदे हो जाएंगे ऐसा मन में विचार आया हमको लग रही थी सुबह से एकदम साफ है अभी हमको वह विचार कंट्रोल नियंत्रित नहीं कर पाते हैं कि यह साफ है और उनको लगता है कि यह करना है तो उसके कारण एक कंपल्शन होता है व्यवहार होता है क्या माफी नहीं बैठते मैजिकल क्योंकि होगा कि अगर हम पांच बार गिनती गिन करके बैठेंगे या आगे पीछे हो करके बैठेंगे तो वह हम गंदा हमको असर नहीं करेगा जब हम कोई काम बार-बार बार-बार रिपीटेडली नूर आने लग जाते हैं जैसे बार-बार हाथ धोना पड़ रहा है क्या चेक करना पड़ता है दरवाजे बंद हो गया कि नहीं स्कूटी लॉक कर दी कि नहीं या इस तरह से बार-बार हम खुद से चेक करते हैं बाकी दूसरे लोगों से भी पूछते हैं उसको दीजिए सिक्किंग बोला जाता है ऐसा हो गया ना गंदा नहीं है ना क्योंकि लॉक है ना घर लॉक है ना गैस बंद है ना नंबर अकाउंट करना होता है कि रात में कितने खंबे पढ़ना अपने अकाउंट करने हैं यह जितने मंदिर पढ़ने सब मैम को हाथ जोड़ नहीं है नहीं तो कुछ बुरा हो जाएगा क्या मतलब है जिसके 2 भाग होते हैं यह कुत्ता कुछ विचार होता है जिसमें की आशंका डर होती है कि कुछ बुरा होगा या यह गंदा है यह यह खराब है और अगर हम वहां पर गए तो कोई बीमारी हो सकती है हमको नुकसान हो सकता है हमारे बच्चों का हमारे चाहने वालों को कोई नुकसान हो सकता है पर दूसरा और कबाब होता है कि उससे बचने के लिए कुछ व्यवहार करते हैं थोड़ी देर के लिए मरीजों घबराहट होती है वह कम हो जाती है तो हमको लग रहा है कि यह गंदा है इस को छूने से हमको कुछ हो जाएगा तुमसे हमको बहुत तेज घबराहट होती है अगर हम को जबरदस्ती छोड़ना पड़ेगा तो मूर्ति से बचाव बचते हैं वहीं डांस करते हैं तो यादों में बैलेंस करते हैं या फिर हम कंपल्शन करते हैं यानी कि कुछ भेज यार जैसे बार-बार हाथ धो रहे हैं यह बाजू म्हारे बहुत देर तक नहाई रहे काफी नीचे कई लोग जाते हैं तो घंटों लैट्रिन नहीं बैठे हुए हैं कि नहीं ठीक से नहीं है ठीक से नहीं बच्चों में क्या-क्या पड़ रहा है तो पढ़ाई कर रहा है फिर उनको लगेगा कि नहीं ठीक से नहीं पढ़ा लिखा फिर काट या फिर काट दिया ड्राइंग बना रहे तो उसने बार-बार रब्बर यूज कर रहे हैं कि रेंजर यूज करें कि साफ हुआ कि मुझे मलिक ठीक से बनना चाहिए परफेक्ट होना चाहिए जिसमें विचार आते हैं सिनेमा बताती है कि कमानी घंटों करते रह जाते हैं या फिर चीजों को अवॉइड करने लग जाता है हम जितना जब एक्सेस हो जाता है तो घबराहट कितनी जाति के लोग पैसे भी धोने लग जाते हैं किस चीज से कितना नुकसान हो रहा है हाथ पैर छिल जाता है फिर भी होते रहते हैं कहने का मतलब है कि जब साफ सफाई या कोई भी चीज को अच्छे से करना पड़ता क्षण पर करना बहुत जरूरत से ज्यादा होने लग जाता है जहां पर घर वालों को और खुद को बहुत ज्यादा बेचैनी होने लग जाती है तो कुछ यादों से भारी लग जाते लोगों काम ही नहीं करते हम खाना नहीं बनाएंगे तो हमको हाथी रोना पड़ेगा या दिनभर हमको खड़े नहीं रहना पड़ेगा यह बार-बार नहाना नहीं पड़ेगा तुझे लगता है या फिर वह कुछ कुछ कंपल्शन होते हैं दिल को बहुत ज्यादा करने लग जाते हैं तो मैरिड लाइफ में प्रॉब्लम होने लगती है बच्चों का केयर नहीं कर सकते हैं ऑफिस में काम नहीं कर सकते तब वह बीमारी हो जाता है

OCD actually me bharatiya samanya bimari hai aur hamare desh me kya hota hai ki sabhi log saaf safaai rakhna hai ya ranchi se ghar ko rakhna hai apne aap ko saaf suthara rakhna hai baccho ko care karna hai ki bahut discipline me rehna yah saari cheezen hamko bachpan se dikhai jaati hain isliye jaha line cross ho jaati hai distress hone lag jata hai toh vaah bimari ka roop aur uska basically 2 bhag hote hain ek operation jisme aapke vichar aa rahe hain kuch vichar hai ya kuch images chitra dimag me aate hain jo baar baar baar baar aate hain aur hamko lagta hai ki zyada aa rahi hai galat aa rahe hain tab bhi usko rok nahi paate hain aur uske karan bahut hamko lag raha hai ki ganda hai toh yah chair gandi gandi ekdam baitheange toh gande ho jaenge aisa man me vichar aaya hamko lag rahi thi subah se ekdam saaf hai abhi hamko vaah vichar control niyantrit nahi kar paate hain ki yah saaf hai aur unko lagta hai ki yah karna hai toh uske karan ek compulsion hota hai vyavhar hota hai kya maafi nahi baithate magical kyonki hoga ki agar hum paanch baar ginti gin karke baitheange ya aage peeche ho karke baitheange toh vaah hum ganda hamko asar nahi karega jab hum koi kaam baar baar baar baar repeatedly noor aane lag jaate hain jaise baar baar hath dhona pad raha hai kya check karna padta hai darwaze band ho gaya ki nahi scooty lock kar di ki nahi ya is tarah se baar baar hum khud se check karte hain baki dusre logo se bhi poochhte hain usko dijiye sikking bola jata hai aisa ho gaya na ganda nahi hai na kyonki lock hai na ghar lock hai na gas band hai na number account karna hota hai ki raat me kitne khambe padhna apne account karne hain yah jitne mandir padhne sab maam ko hath jod nahi hai nahi toh kuch bura ho jaega kya matlab hai jiske 2 bhag hote hain yah kutta kuch vichar hota hai jisme ki ashanka dar hoti hai ki kuch bura hoga ya yah ganda hai yah yah kharab hai aur agar hum wahan par gaye toh koi bimari ho sakti hai hamko nuksan ho sakta hai hamare baccho ka hamare chahne walon ko koi nuksan ho sakta hai par doosra aur kabab hota hai ki usse bachne ke liye kuch vyavhar karte hain thodi der ke liye marizon ghabarahat hoti hai vaah kam ho jaati hai toh hamko lag raha hai ki yah ganda hai is ko chune se hamko kuch ho jaega tumse hamko bahut tez ghabarahat hoti hai agar hum ko jabardasti chhodna padega toh murti se bachav bachte hain wahi dance karte hain toh yaadon me balance karte hain ya phir hum compulsion karte hain yani ki kuch bhej yaar jaise baar baar hath dho rahe hain yah baju mhare bahut der tak nahai rahe kaafi niche kai log jaate hain toh ghanto latrine nahi baithe hue hain ki nahi theek se nahi hai theek se nahi baccho me kya kya pad raha hai toh padhai kar raha hai phir unko lagega ki nahi theek se nahi padha likha phir kaat ya phir kaat diya drying bana rahe toh usne baar baar rubber use kar rahe hain ki renjar use kare ki saaf hua ki mujhe malik theek se banna chahiye perfect hona chahiye jisme vichar aate hain cinema batati hai ki kamani ghanto karte reh jaate hain ya phir chijon ko avoid karne lag jata hai hum jitna jab access ho jata hai toh ghabarahat kitni jati ke log paise bhi dhone lag jaate hain kis cheez se kitna nuksan ho raha hai hath pair chhil jata hai phir bhi hote rehte hain kehne ka matlab hai ki jab saaf safaai ya koi bhi cheez ko acche se karna padta kshan par karna bahut zarurat se zyada hone lag jata hai jaha par ghar walon ko aur khud ko bahut zyada bechaini hone lag jaati hai toh kuch yaadon se bhari lag jaate logo kaam hi nahi karte hum khana nahi banayenge toh hamko haathi rona padega ya dinbhar hamko khade nahi rehna padega yah baar baar nahaana nahi padega tujhe lagta hai ya phir vaah kuch kuch compulsion hote hain dil ko bahut zyada karne lag jaate hain toh married life me problem hone lagti hai baccho ka care nahi kar sakte hain office me kaam nahi kar sakte tab vaah bimari ho jata hai

ओसीडी एक्चुअली में भारतीय सामान्य बीमारी है और हमारे देश में क्या होता है कि सभी लोग साफ स

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  111
WhatsApp_icon
user
2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरा तो पूरा मनोज के प्रश्नों के उत्तर देता हूं मनोरोग के लक्षण होते हैं एक ही बातों के बारे में एक ही चीज का काम बार-बार करना या एक ही बात बार-बार सोचना एक ही चीज बार बार आना दिमाग में एक ही चीज बार बार को लेकिन इंसान को मालूम होता है कि यह जो चीज है यह गलत है लेकिन वह चाहते हुए भी उसे रोक नहीं पाता है जैसे कि कुछ लोग होते हैं एक बार बार साफ सफाई बहुत ज्यादा करते हैं इतनी साफ सफाई का तड़का उनके अंदर होता सुबह से लेकर शाम तक में नहाने नहीं दिखा देते हैं और कुछ भी तब भी उनको लगता है कोई तुरंत आएंगे और उससे लगता है कि बार-बार चढ़ता उतरता है कि ताला बंदे नहीं है बार बार चेक करेंगे गंदे विचार आते हैं विचार आते बार-बार आते हैं उनको ज्यादा दिक्कत होती है परेशानी के भाव बताएं की थी जो मेरे मन में आ रही है बहुत गलत है बहुत गलत हो रहा है मेरे से लेकिन पेशेंट करके भी जो मरीज ऊंचा करके दीवारों को अपने उन कामों को रोक नहीं पाता है लेकिन ऐसा नहीं कि वह अगर वह कर लेगा वह काम तो उसका विचार कम हो जाएंगे फिर भी वह चालू होता है तो क्या गूगल ओके रिपोर्ट इंटरनेट पर बहुत ज्यादा चैटिंग करते हैं खुद ही अपने लक्षणों के बारे में चेक करते हैं डॉक्टर के टूटने की वजह इसलिए टाइम बहुत ज्यादा हो रहा है लेकिन इस प्रकार

mera toh pura manoj ke prashnon ke uttar deta hoon manorog ke lakshan hote hai ek hi baaton ke bare mein ek hi cheez ka kaam baar baar karna ya ek hi baat baar baar sochna ek hi cheez baar baar aana dimag mein ek hi cheez baar baar ko lekin insaan ko maloom hota hai ki yah jo cheez hai yah galat hai lekin vaah chahte hue bhi use rok nahi pata hai jaise ki kuch log hote hai ek baar baar saaf safaai bahut zyada karte hai itni saaf safaai ka tadaka unke andar hota subah se lekar shaam tak mein nahane nahi dikha dete hai aur kuch bhi tab bhi unko lagta hai koi turant aayenge aur usse lagta hai ki baar baar chadhta utarata hai ki tala bande nahi hai baar baar check karenge gande vichar aate hai vichar aate baar baar aate hai unko zyada dikkat hoti hai pareshani ke bhav bataye ki thi jo mere man mein aa rahi hai bahut galat hai bahut galat ho raha hai mere se lekin patient karke bhi jo marij uncha karke deewaaron ko apne un kaamo ko rok nahi pata hai lekin aisa nahi ki vaah agar vaah kar lega vaah kaam toh uska vichar kam ho jaenge phir bhi vaah chaalu hota hai toh kya google ok report internet par bahut zyada chatting karte hai khud hi apne lakshano ke bare mein check karte hai doctor ke tutne ki wajah isliye time bahut zyada ho raha hai lekin is prakar

मेरा तो पूरा मनोज के प्रश्नों के उत्तर देता हूं मनोरोग के लक्षण होते हैं एक ही बातों के बा

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  148
WhatsApp_icon
user

Durgaprasad Bankar

Clinical Psychologist & Clinical Hypnotherapist, Certified NLP Practitioner (मनोवैज्ञानिक/हैप्नोथेरपिस्ट)

5:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

9255 क्लिनिकल साइकोलॉजी के बारे में आपको बताना चाहूंगा वह सीडी एक कॉमन मेंटल डिसऑर्डर है एक प्रकार की मानसिक समझते हैं जो काफी बड़ी तादाद में पाया जाता है इसमें एक्चुअली बहुत ही कंगन बहुत ही आसान है इसको समझना ओसीडी जब हम कहते हैं इसमें 3 शब्द भी इसका मतलब कंपल्सिव डिसऑर्डर का मतलब होता है कि बार-बार रिपीटेडली एक ही विचार दिमाग में आना उसी डीमएसी का मतलब होता है कंपल्सिव इसका मतलब है कि उस विचार से उत्पन्न होने वाली या तनाव को दूर करने के लिए कोई कृति करना कोई एक्टिविटी करना तो यह जो विचार ऑब्सेशन बीकॉम बोलते हैं कई प्रकार के होते हैं जैसे कई लोगों को काम 1 सप्ताह में सबसे गंदे विचार होता है आपसे से होता है वह होता है क्लीनलीनेस को लेकर के सफाई को लेकर को लगता है कि मेरे हाथ गंदे हैं या उसमें कुछ जंप लगे हुए हैं उसमें कुछ कीटाणु लगे हुए हैं तो इस विचार की वजह से ही विचार इतना तीव्र होता है कि की वजह से उस पर टिकने व्यक्ति के दिमाग में तनाव निर्माण होता है उसे लगता है कि अगर हम अगर मैंने हाथ नहीं हुए तो है मेरे पेट में चले जाएंगे जिसकी वजह से मुझे कोई बीमारी हो जाएगी या फिर मेरे साथ साथ मेरे परिवार वालों को बीमारी हो जाएगी और इसके लिए इंजन को साफ करने के लिए मुझे हाथ धोना जरूरी है तो उसको साफ करने के लिए कीटाणुओं को साफ करने के लिए जो प्रसन्न होता है वह हाथ धोने लगता है आधुनिक बाद उसे कुछ ही सेकंड के बाद में फिर से लगने लगता है कि हाथ अच्छी तरह से नहीं सोया है तो फिर दोबारा हाथ धोता है फिर उसको लगता है कि शायद जब सबसे तरह से निकले नहीं तो चलो तीसरी बार हाथ धोता है इस तरह से जब तक जब तक उसके दिमाग से वह विचार गायब नहीं हो जाता है कि मेरा लगेंगे तब तो तू बार-बार बार-बार होने लगता है तो मतलब साफ है कि एक प्रकार का विचार है जो परेशान करता है बार-बार परेशान करता है उस उस विचार को हटाने होता है व्यक्ति बार-बार एक कृति का कार्य से इस केस में उस व्यक्ति ने बार-बार हार्डवेयर इसी तरह से एक और प्रकार होता है जिसमें व्यक्ति बार-बार चैटिंग करता है चेक करता है जैसे कि उसे लगता है कि ताला अच्छी तरह से लगा नहीं है घर से जब को ताला लगाकर बाहर निकलने के लिए जाता है ताकि ताकि उसे बार-बार बार-बार खींचने की चेक करता है कि तालाब से लगाएगी लगाएं चित्र चेक करता है चल जाने लगता है 2 मिनट बाद फिर वापस आता है उसे लगता है कि शायद अच्छी तरह से ही लगा फिर से चेक करता है तो यह जो विचार होता है कि अगर तलाश इधर से नहीं लगा तो शायद घर में चोरी हो जाएगी या खुला रह जाएगा कुछ प्रॉब्लम हो जाएगी विचार बार-बार उसे परेशान करता है और फिर वह उस पर्टिकुलर एक्टिविटी को करने के लिए प्रयुक्त होता है जिसमें हम जिसको हम बोल दे कि चेक करना अनेकों प्रकार के होते हैं एक तो हमने बताया कि को लेकर होता है चेक करने को लेकर आता कुछ लोग गैस चेक करता है कि बार-बार मतलब में गैस बंद है कि नहीं है जल्द तो नहीं जाएगा कुछ हो तो नहीं जाएगा कुछ लोगों को लगता है कि अगर मैंने कोई पर्टिकुलर एक्टिविटी नहीं करी तो किसी की मृत्यु हो जाएगी या मैं मर जाऊंगा या मेरे फैमिली से कोई मर जाएगा ऐसे अनेकों प्रकार के उठ पटांग विचार दिमाग में आते हैं और विचारों को दूर करने के लिए हम कोई पर्टिकुलर एक्टिविटी करते हैं कुछ लोग पूजा करते बहुत देर तक पूजा करते रहते हैं उन्हें लगता है कि अगर मैं पूजा अच्छी तरह से नहीं करूंगा तो भगवान जी नाराज हो जाएंगे आप कुछ प्रॉब्लम हो जाएगा कुछ लोगों को लगता है कि जब मैं घर से बाहर जाऊं तो किसी पर्टिकुलर चीज को छूते हुए ही बाहर जाना जरूरी है तो उसे बार-बार छूकर जाते हैं कुछ लोग नल चेक करते हैं बार-बार कि वह नल अच्छी तरह से लगाया कि नहीं लगाया तो इस तरह से बहुत सारे प्रकार होते हैं तो कुल मिलाकर के यह सीडी जो है ऐसी बीमारी है जिसमें एक ही विचार बार-बार आता है और उस विचार को दूर करने के लिए उसके टेंशन को दूर करने के लिए हमें एक एक्टिविटी को बार-बार करते हैं तो इसका इलाज काफी सिंपल है एक्चुअली मैच में सलाह देना चाहूंगा उन तमाम लोगों को जो इस तरह की समस्याओं से ग्रसित हैं कि शर्मा या नहीं सबसे पहले घबराए नहीं बहुत खतरनाक बीमारी नहीं है सिर्फ इतना है कि इससे आपका समय ज्यादा कंज्यूम होता है आप टेंशन में रहते और अपने काम पर ध्यान नहीं दे पाते तो आपके लिए अच्छा होगा कि आप तुरंत किसी भी मानसिक रोग विशेषज्ञ मनोचिकित्सा क्या-क्या करके मिले और इसके लिए काफी अच्छे-अच्छे मेडिसिंस मेडिसिन शुरू करते हैं तो बहुत जल्दी इतना अच्छा साथ में ही कुछ साइकोथैरेपीज होते हैं तो साइकोथैरेपीज होती है रिलैक्सेशन टेक्निक्स होती है बहुत सारे प्रकार के टेक्निक्स होती है अगर आप सपोर्ट के पास जाएंगे तो मैं निश्चित रूप से आपको बहुत जल्दी से लाभ होगा इस के संदर्भ में और कुछ आपको कसम से कुछ सवाल है तो आप मुझे कर सकते हैं

9255 clinical psychology ke bare mein aapko bataana chahunga vaah CD ek common mental disorder hai ek prakar ki mansik samajhte hai jo kaafi baadi tadad mein paya jata hai isme actually bahut hi kangan bahut hi aasaan hai isko samajhna OCD jab hum kehte hai isme 3 shabd bhi iska matlab kampalsiv disorder ka matlab hota hai ki baar baar repeatedly ek hi vichar dimag mein aana usi dimaesi ka matlab hota hai kampalsiv iska matlab hai ki us vichar se utpann hone wali ya tanaav ko dur karne ke liye koi kriti karna koi activity karna toh yah jo vichar obsession B.COM bolte hai kai prakar ke hote hai jaise kai logo ko kaam 1 saptah mein sabse gande vichar hota hai aapse se hota hai vaah hota hai cleanliness ko lekar ke safaai ko lekar ko lagta hai ki mere hath gande hai ya usme kuch jump lage hue hai usme kuch kitanu lage hue hai toh is vichar ki wajah se hi vichar itna tivra hota hai ki ki wajah se us par tikne vyakti ke dimag mein tanaav nirmaan hota hai use lagta hai ki agar hum agar maine hath nahi hue toh hai mere pet mein chale jaenge jiski wajah se mujhe koi bimari ho jayegi ya phir mere saath saath mere parivar walon ko bimari ho jayegi aur iske liye engine ko saaf karne ke liye mujhe hath dhona zaroori hai toh usko saaf karne ke liye kitanuon ko saaf karne ke liye jo prasann hota hai vaah hath dhone lagta hai aadhunik baad use kuch hi second ke baad mein phir se lagne lagta hai ki hath achi tarah se nahi soya hai toh phir dobara hath dhota hai phir usko lagta hai ki shayad jab sabse tarah se nikle nahi toh chalo teesri baar hath dhota hai is tarah se jab tak jab tak uske dimag se vaah vichar gayab nahi ho jata hai ki mera lagenge tab toh tu baar baar baar baar hone lagta hai toh matlab saaf hai ki ek prakar ka vichar hai jo pareshan karta hai baar baar pareshan karta hai us us vichar ko hatane hota hai vyakti baar baar ek kriti ka karya se is case mein us vyakti ne baar baar Hardware isi tarah se ek aur prakar hota hai jisme vyakti baar baar chatting karta hai check karta hai jaise ki use lagta hai ki tala achi tarah se laga nahi hai ghar se jab ko tala lagakar bahar nikalne ke liye jata hai taki taki use baar baar baar baar kheenchne ki check karta hai ki taalab se lagaegi lagaye chitra check karta hai chal jaane lagta hai 2 minute baad phir wapas aata hai use lagta hai ki shayad achi tarah se hi laga phir se check karta hai toh yah jo vichar hota hai ki agar talash idhar se nahi laga toh shayad ghar mein chori ho jayegi ya khula reh jaega kuch problem ho jayegi vichar baar baar use pareshan karta hai aur phir vaah us particular activity ko karne ke liye prayukt hota hai jisme hum jisko hum bol de ki check karna anekon prakar ke hote hai ek toh humne bataya ki ko lekar hota hai check karne ko lekar aata kuch log gas check karta hai ki baar baar matlab mein gas band hai ki nahi hai jald toh nahi jaega kuch ho toh nahi jaega kuch logo ko lagta hai ki agar maine koi particular activity nahi kari toh kisi ki mrityu ho jayegi ya main mar jaunga ya mere family se koi mar jaega aise anekon prakar ke uth patang vichar dimag mein aate hai aur vicharon ko dur karne ke liye hum koi particular activity karte hai kuch log puja karte bahut der tak puja karte rehte hai unhe lagta hai ki agar main puja achi tarah se nahi karunga toh bhagwan ji naaraj ho jaenge aap kuch problem ho jaega kuch logo ko lagta hai ki jab main ghar se bahar jaaun toh kisi particular cheez ko chhute hue hi bahar jana zaroori hai toh use baar baar chhukar jaate hai kuch log nal check karte hai baar baar ki vaah nal achi tarah se lagaya ki nahi lagaya toh is tarah se bahut saare prakar hote hai toh kul milakar ke yah CD jo hai aisi bimari hai jisme ek hi vichar baar baar aata hai aur us vichar ko dur karne ke liye uske tension ko dur karne ke liye hamein ek activity ko baar baar karte hai toh iska ilaj kaafi simple hai actually match mein salah dena chahunga un tamaam logo ko jo is tarah ki samasyaon se grasit hai ki sharma ya nahi sabse pehle ghabraye nahi bahut khataranaak bimari nahi hai sirf itna hai ki isse aapka samay zyada consume hota hai aap tension mein rehte aur apne kaam par dhyan nahi de paate toh aapke liye accha hoga ki aap turant kisi bhi mansik rog visheshagya manochikitsa kya kya karke mile aur iske liye kaafi acche acche medisins medicine shuru karte hai toh bahut jaldi itna accha saath mein hi kuch saikothairepij hote hai toh saikothairepij hoti hai Relaxation techniques hoti hai bahut saare prakar ke techniques hoti hai agar aap support ke paas jaenge toh main nishchit roop se aapko bahut jaldi se labh hoga is ke sandarbh mein aur kuch aapko kasam se kuch sawaal hai toh aap mujhe kar sakte hain

9255 क्लिनिकल साइकोलॉजी के बारे में आपको बताना चाहूंगा वह सीडी एक कॉमन मेंटल डिसऑर्डर है ए

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  113
WhatsApp_icon
user

Yogesh Kumar

Psychologist

0:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ओसीडी ऑफिस लेट कंपल्सिव डिसऑर्डर यह लोग बहुत कम है वैसे तो हो जाती है तो धीरे-धीरे तो पता नहीं चलता वह खुद नोटिस नेता के काम करोगी जब बाद में ज्यादा हो जाता है जरूरत से ज्यादा खुद भी नोटिस करते हो कुछ तो करवा देते हैं आप यह कैसे काम कर रहे हो दंताला चेक कर देना बंद होने लगा दे फिर भी तुम्हारा दिखेंगी लाइट

OCD office late kampalsiv disorder yah log bahut kam hai waise toh ho jaati hai toh dhire dhire toh pata nahi chalta vaah khud notice neta ke kaam karogi jab baad mein zyada ho jata hai zarurat se zyada khud bhi notice karte ho kuch toh karva dete hain aap yah kaise kaam kar rahe ho dantala check kar dena band hone laga de phir bhi tumhara dikhengee light

ओसीडी ऑफिस लेट कंपल्सिव डिसऑर्डर यह लोग बहुत कम है वैसे तो हो जाती है तो धीरे-धीरे तो पता

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  137
WhatsApp_icon
play
user

Dr Ravi Prakash

Psychiatrist

3:15

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ओसीटीईटी यूज किया जाता है क्योंकि साइकोलॉजी साइकोलॉजी पर है इंडिया के साथ और ज्यादा एजुकेशन नहीं है इस बात को लेकर बाकी थी तो मैं आप एजुकेटेड होंगे लेकिन साइको साइको लिमिटेड नहीं है इसलिए आप कोई भी एक तरीके से सांसद लोग यूज़ करते हैं लेकिन ओसीडी एक बहुत ही स्पेसिफिक डायग्नोसिस कंपल्सिव डिसऑर्डर इसमें बहुत सारे टेक्निकल टिप्स ऑफ रेशनल सॉफ्टवेयर नहीं कहा जा सकता उसी में से कुछ रिपीट इट इस नॉट से जो बेसिकली लोकेशन से कुछ एटीट्यूट थॉट सो सकते जो बांट सकते हैं तो जब तक वो चाल क्राइटेरिया सुनती नहीं होता है हम लोग किसी के पास मैसेज को ऑपरेशन नहीं कर सकते उसी टाइप से कंपल्शन टो डिफाइन करने के लिए भी कुछ कर दिया है और जब ऑप्शनल कंपल्सिव डिसऑर्डर उसके वर्क लाइफ में उसके पर्सनल लाइफ में इंटरफेयर पैदा करने लगे तभी उस पर रिकॉर्डिंग होता है कि 10 स्टेट के किसी भी जगह की कंडीशन क्या है यह आप कुछ अपने मन से समझना बस एक विजिट एक्साइटेटरी क्या क्लिनिकल साइकोलॉजिस्ट के पास जाइए और उनकी बात करना चाहते अभी बात कर सकते हैं आप आपका बात कर सकते और अनुसूचित जाति का सप्लीमेंट का विकराल रूप ले लेता है उसी को खुद से डाल दिया किसी भी कंडीशन को मेरा सजेशन से डांस करने का कोशिश ना करें कभी आप टिकट बुक पढ़िए आप इंटरनेट पर जो साइंटिफिकली आमिर के लिए अपने चौधरी का डांस करें

OCTET use kiya jata hai kyonki psychology psychology par hai india ke saath aur zyada education nahi hai is baat ko lekar baki thi toh main aap educated honge lekin psycho psycho limited nahi hai isliye aap koi bhi ek tarike se saansad log use karte hain lekin OCD ek bahut hi specific diagnosis compulsive disorder ismein bahut saare technical tips of reshanal software nahi kaha ja sakta usi mein se kuch repeat it is not se jo basically location se kuch attitude thought so sakte jo baant sakte hain toh jab tak vo chaal criteria sunti nahi hota hai hum log kisi ke paas massage ko operation nahi kar sakte usi type se compulsion to define karne ke liye bhi kuch kar diya hai aur jab optional compulsive disorder uske work life mein uske personal life mein intarafeyar paida karne lage tabhi us par recording hota hai ki 10 state ke kisi bhi jagah ki condition kya hai yeh aap kuch apne man se samajhna bus ek visit excitatory kya clinical psychologist ke paas jaiye aur unki baat karna chahte abhi baat kar sakte hain aap aapka baat kar sakte aur anusuchit jati ka supplement ka vikaraal roop le leta hai usi ko khud se daal diya kisi bhi condition ko mera suggestion se dance karne ka koshish na karein kabhi aap ticket book padhie aap internet par jo scientifically aamir ke liye apne choudhary ka dance karein

ओसीटीईटी यूज किया जाता है क्योंकि साइकोलॉजी साइकोलॉजी पर है इंडिया के साथ और ज्यादा एजुकेश

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  161
WhatsApp_icon
user

ANUBHA JAIN

REHABILITATION COUNSELLORS

2:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ओसीडी मतलब ऑब्सेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर ऐसा इस आर्डर है क्योंकि आजकल बहुत लोग ऐसे ही बात कर लेते हैं कि जैसे अगर किसी आदमी ने इसी पर चढ़ने बहुत ज्यादा कोई काम कर रही थी कि कोई काम करा तो दूसरे लोग कहते थे तो सीधी नहीं बिना उसका टाइम नहीं होता एक कान के पीछे पड़ता ना तो बार-बार करना एंड कंपल्शन का मतलब होता है कि इस काम को बार-बार करने के हमारे दिमाग में विचार आते हैं और हम विचारों को रोक नहीं पाते हैं कि हमें बार-बार करते हैं दलित स्कालरशिप कंपल्सिव डिसऑर्डर तुसी दिमाग में विचार आएगा कि मुझे बार-बार हाथ बहुत बन गया और मुझे पापा हाथ धोने हैं बहुत बाराहाट बाराहाट करते हैं ताला लगा दिया आपने खाना लगाती हूं भारतपुर दूर जाने के बाद फ्रेंड मुझे मेरी टेबल बिल्कुल साफ करने की वह टेबल साफ कर लिए पहले फिर भी उसको बार-बार साफ करते हैं यह सोच कर के किनारे इरिटेबल गंदी हो रही है उनसे बार-बार उनको रोक नहीं पाते हैं वही काम दोबारा करते हैं है साले को चेक करना है भाई बहन है कि बहन की बीमारी नहीं होती तो बहन भी होता है तो लेने लगे लेकिन ऐसा नहीं है और तुम तक आई हुई थी इसका इलाज संभव है तो अगर आपको ऐसा लगता है कि आप इस बीमारी से ग्रसित है तो आप अपना इलाज करा सकते हैं उसकी तो सकते

OCD matlab obsessive kampalsiv disorder aisa is order hai kyonki aajkal bahut log aise hi baat kar lete hain ki jaise agar kisi aadmi ne isi par chadhne bahut zyada koi kaam kar rahi thi ki koi kaam kara toh dusre log kehte the toh seedhi nahi bina uska time nahi hota ek kaan ke peeche padta na toh baar baar karna and compulsion ka matlab hota hai ki is kaam ko baar baar karne ke hamare dimag mein vichar aate hain aur hum vicharon ko rok nahi paate hain ki hamein baar baar karte hain dalit scholarship kampalsiv disorder tusi dimag mein vichar aayega ki mujhe baar baar hath bahut ban gaya aur mujhe papa hath dhone hain bahut barahat barahat karte hain tala laga diya aapne khana lagati hoon bharatapur dur jaane ke baad friend mujhe meri table bilkul saaf karne ki vaah table saaf kar liye pehle phir bhi usko baar baar saaf karte hain yah soch kar ke kinare irritable gandi ho rahi hai unse baar baar unko rok nahi paate hain wahi kaam dobara karte hain hai saale ko check karna hai bhai behen hai ki behen ki bimari nahi hoti toh behen bhi hota hai toh lene lage lekin aisa nahi hai aur tum tak I hui thi iska ilaj sambhav hai toh agar aapko aisa lagta hai ki aap is bimari se grasit hai toh aap apna ilaj kara sakte hain uski toh sakte

ओसीडी मतलब ऑब्सेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर ऐसा इस आर्डर है क्योंकि आजकल बहुत लोग ऐसे ही बात कर

Romanized Version
Likes  121  Dislikes    views  1526
WhatsApp_icon
user

Dr.Nisha Joshi

Psychologist

0:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

उसके लक्षण में लाभ और दशमलव का कोई है हम लोग ज्यादा टाइम करता है जैसे कि घर पर झाड़ू लगाना वह दादा टाइम चालू लगाता है

uske lakshan mein labh aur dashamlav ka koi hai hum log zyada time karta hai jaise ki ghar par jhaad lagana wah dada time chalu lagata hai

उसके लक्षण में लाभ और दशमलव का कोई है हम लोग ज्यादा टाइम करता है जैसे कि घर पर झाड़ू लगाना

Romanized Version
Likes  212  Dislikes    views  4854
WhatsApp_icon
user

Dr. PRAVINA MISHRA

REHABILITATION PSYCHOLOGIST

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ओपीडी ओपीडी भी होता है और ओसीडी और पर्सनालिटी डिसऑर्डर होता है वह सीडी डिसऑर्डर नहीं आता है लेकिन लाइटर चलता है कि यह तो मेरे साथ होता ही है यही होता है ऊपर वाले होते हैं उनको अगर में होती है लेकिन उनको का मैं हूं क्योंकि हम अपनी बात अपने प्रोफेशन वाले से कैसे बात करें वह प्लेटफार्म उनको नहीं पता होता है

OPD OPD bhi hota hai aur OCD aur personality disorder hota hai wah CD disorder nahi aata hai lekin lighter chalta hai ki yeh toh mere saath hota hi hai yahi hota hai upar wale hote hain unko agar mein hoti hai lekin unko ka main hoon kyonki hum apni baat apne profession wale se kaise baat karein wah platform unko nahi pata hota hai

ओपीडी ओपीडी भी होता है और ओसीडी और पर्सनालिटी डिसऑर्डर होता है वह सीडी डिसऑर्डर नहीं आता ह

Romanized Version
Likes  32  Dislikes    views  452
WhatsApp_icon
user

Mr. SANJAY KUMAR TIWARI

REHABILITATION PSYCHOLOGIST

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ओसीडी मतलब की बात नहीं चाहती है हमारा मन जानता है कि ताला लगा दिया

OCD matlab ki baat nahi chahti hai hamara man jaanta hai ki tala laga diya

ओसीडी मतलब की बात नहीं चाहती है हमारा मन जानता है कि ताला लगा दिया

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  671
WhatsApp_icon
user

Manisha Jethwani

Psychologist

2:13
Play

Likes  13  Dislikes    views  188
WhatsApp_icon
user

Dr HITESH KUMAR PATEL

Consultant Psychologist

1:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ओके उसी ने चली उसको इनाम ब्रेक करे तो उसे कंपल्सिव डिसऑर्डर बताया जाए जहां पर दो-तीन से जुड़ी हुई थी ऑप्शन दूसरे लोगों को बार-बार एक ही बात को रोकने के लिए काफी कम लोग बार-बार कोई एक ही था क्रिकेट टीवी आ रहा है कुछ करने के लिए या फिर कुछ चीजों को रोकने के लिए सुबह कम कर दो ऑपरेशन अगर इंसान को मतलब किसी को है तो उसका ऑप्शन पता चलेगा कि आप बार-बार एक ही चीज के बारे में सोच रहा है बार-बार एक ही चीज मतलब उसके माइंड में आ रही है रिपीट रिपीट रिपीट बहुत ज्यादा है मतलब हमारे हमारे साथ कुछ बुरा हुआ है तो बार-बार आप बताते हैं नार्मल है लेकिन यह कुछ हद से बाहर चल रहा है उसको रोकने के लिए हम क्रिया करने विचार कैसे की बहुत कम एग्जांपल ज्यादातर लोगों ने सुना हुआ है कि मुझे कुछ इनफेक्शन लग जाएगा बीमारी लग जाएगी यह तो बार-बार आते रहते मुझे कुछ हुआ है मुझे पेट में दर्द हुआ है मुझे इन्फेक्शन हुआ मैं बीमार हूं मुझको बीमारी हो गई बारात हो पता कहीं से लग जाता है जाट और रिया के प्रति मतलब डेली रूटीन को तोड़ते हुए भी बार-बार वह भी निवेश कर रहे हैं तो वह थोड़ा आगे के लिए चला जाता है

ok usi ne chali usko inam break kare toh use compulsive disorder bataya jaye jaha par do teen se judi hui thi option dusre logo ko baar baar ek hi baat ko rokne ke liye kaafi kam log baar baar koi ek hi tha cricket TV aa raha hai kuch karne ke liye ya phir kuch chijon ko rokne ke liye subah kam kar do operation agar insaan ko matlab kisi ko hai toh uska option pata chalega ki aap baar baar ek hi cheez ke bare mein soch raha hai baar baar ek hi cheez matlab uske mind mein aa rahi hai repeat repeat repeat bahut zyada hai matlab hamare hamare saath kuch bura hua hai toh baar baar aap batatey hain normal hai lekin yeh kuch had se bahar chal raha hai usko rokne ke liye hum kriya karne vichar kaise ki bahut kam example jyadatar logo ne suna hua hai ki mujhe kuch infaction lag jayega bimari lag jayegi yeh toh baar baar aate rehte mujhe kuch hua hai mujhe pet mein dard hua hai mujhe infection hua main bimar hoon mujhko bimari ho gayi baraat ho pata kahin se lag jata hai jaat aur riya ke prati matlab daily routine ko todte hue bhi baar baar wah bhi nivesh kar rahe hain toh wah thoda aage ke liye chala jata hai

ओके उसी ने चली उसको इनाम ब्रेक करे तो उसे कंपल्सिव डिसऑर्डर बताया जाए जहां पर दो-तीन से जु

Romanized Version
Likes  26  Dislikes    views  410
WhatsApp_icon
user

Dr. Pallavee Trivedi

REHABILITATION PSYCHOLOGIST

1:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इसको बार-बार कर रहा है उसको पता चल रहा है कि मैं बार-बार कह रहा हूं विदाउट कर रहा हूं हाथ धोने की आदत है बार-बार उसके साथ बालों में मुझे नहीं करना है फिर भी वह कर रहा है तो उसको भी पता है कि मैं इस को रोक नहीं पा रहा हूं तो वह बताएगा कि यह जो मेरा भी हक है वह मुझे रोकना है मुझे ऐसा नहीं करना है फिर भी मैं कर रहा हूं ओपीडी का टाइटल तो साइकोलॉजी क्या साइकाइट्रिक के गांव के रहने वाले लोग हैं उनको भी पता चलेगा कि यह अपने आप को रोक नहीं पा रहा है यह बात दोहराने से यह बात करने से या वह वीडियो दिखाने से तो इस वजह से जैसे कि कोई कोई तो बता दे ऐसा होता है कि जो नंबर प्लेट के नंबर भी बहुत सारे अकाउंट करता रहता है उसको आती है वह इंसान को पता चल रहा है कि आदत हो गई है और बादलों में कहीं ना कहीं कुछ प्रॉब्लम हो रही है तो वह तुरंत जान जाएगा कोई कोई एसोसिएशन आपका अगर आपके रिलेशनशिप में शौक नहीं कर रहा है तो पता चल ही जाता है और वह काम चला लिया

isko baar baar kar raha hai usko pata chal raha hai ki main baar baar keh raha hoon without kar raha hoon hath dhone ki aadat hai baar baar uske saath balon mein mujhe nahi karna hai phir bhi wah kar raha hai toh usko bhi pata hai ki main is ko rok nahi pa raha hoon toh wah batayega ki yeh jo mera bhi haq hai wah mujhe rokna hai mujhe aisa nahi karna hai phir bhi main kar raha hoon OPD ka title toh psychology kya psychiatrist ke gaon ke rehne wale log hain unko bhi pata chalega ki yeh apne aap ko rok nahi pa raha hai yeh baat doharane se yeh baat karne se ya wah video dikhane se toh is wajah se jaise ki koi koi toh bata de aisa hota hai ki jo number plate ke number bhi bahut saare account karta rehta hai usko aati hai wah insaan ko pata chal raha hai ki aadat ho gayi hai aur badalon mein kahin na kahin kuch problem ho rahi hai toh wah turant jaan jayega koi koi association aapka agar aapke Relationship mein shauk nahi kar raha hai toh pata chal hi jata hai aur wah kaam chala liya

इसको बार-बार कर रहा है उसको पता चल रहा है कि मैं बार-बार कह रहा हूं विदाउट कर रहा हूं हाथ

Romanized Version
Likes  24  Dislikes    views  504
WhatsApp_icon
user

Vedachary Pathak Singrauli

सनातन सुरक्षा परिषद् संस्थापक

0:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर आपके पास ओसीडी है तो आप अपने जानकारी के अनुसार इसे बता सकते हैं धन्यवाद

agar aapke paas OCD hai toh aap apne jaankari ke anusaar ise bata sakte hain dhanyavad

अगर आपके पास ओसीडी है तो आप अपने जानकारी के अनुसार इसे बता सकते हैं धन्यवाद

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  623
WhatsApp_icon
user
1:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे मिस्टर साइज में है इसलिए धर्म है ट्यूसडे को चुस्ती और सिस्टर टैटू आर्टिस्ट में दर्द होता है ना वह चीज तो हमेशा और करना चाहता है थोड़ा तो उसको अपने से ज्यादा मल्टी प्रॉब्लम हो जाता है तो हमेशा चाहता है मीटिंग के लिए हमारा मित्र इमोशनल पोस्टर पैदा होता है कान को इधर से उधर कर दे तो वह हमेशा में किस डिस्टिक को ऑपरेटिव कंपल्सिव डिसऑर्डर ही बोलते हैं झाड़ना अभिमान को एडिट करके रखना कोई सितम आता है आता है जाता है कि उसके अंदर की सीट

hamare mister size mein hai isliye dharm hai tyusade ko chusti aur sister tattoo artist mein dard hota hai na vaah cheez toh hamesha aur karna chahta hai thoda toh usko apne se zyada multi problem ho jata hai toh hamesha chahta hai meeting ke liye hamara mitra emotional poster paida hota hai kaan ko idhar se udhar kar de toh vaah hamesha mein kis district ko operative kampalsiv disorder hi bolte hain jhadna abhimaan ko edit karke rakhna koi sitam aata hai aata hai jata hai ki uske andar ki seat

हमारे मिस्टर साइज में है इसलिए धर्म है ट्यूसडे को चुस्ती और सिस्टर टैटू आर्टिस्ट में दर्द

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  72
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!