क्या आज की कार्य संस्कृति हमारे मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों में योगदान दे रही है?...


user

Dr. Shweta Sharma

Psychologist

1:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए अपने फोन पर जाता है इसकी वजह से हमारी मैडम सूर्या कैसे बचा सकते हैं क्योंकि आपका कम्युनिकेशन आरक्षण हमारे जो बेसिक हेल्थ होती है हेल्थ के लिए जरूरी होता है कि हमारी लाइफ में एक्सरसाइज सुरक्षा को और मजबूत करने के लिए तो यह चारों चीजें हमारी लाइट चली जाती है हमारा कर्ज़ अपना जचता पहले यह सभी चीजों को लेकर कुछ ना कुछ नहीं बैठे योगा सुबह उठकर हमारे कुछ खाने की टाइमिंग यहां पर कुछ ऐसा ही नहीं होती हमारी टॉप टॉप लेवल पर भी हमारे इंडियन बर्थडे रूम

dekhiye apne phone par jata hai iski wajah se hamari madam shurya kaise bacha sakte hain kyonki aapka communication aarakshan hamare jo basic health hoti hai health ke liye zaroori hota hai ki hamari life mein exercise suraksha ko aur mazboot karne ke liye toh yah charo cheezen hamari light chali jaati hai hamara karz apna jachata pehle yah sabhi chijon ko lekar kuch na kuch nahi baithe yoga subah uthakar hamare kuch khane ki timing yahan par kuch aisa hi nahi hoti hamari top top level par bhi hamare indian birthday room

देखिए अपने फोन पर जाता है इसकी वजह से हमारी मैडम सूर्या कैसे बचा सकते हैं क्योंकि आपका कम्

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  103
WhatsApp_icon
24 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
2:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वीर नववर्ष को हमेशा बड़ा चाहिए वह कल क्या क्या प्रॉब्लम होता है अगर आप लोग कर रहे हैं काम और उसके बाद मैं तेरा तो बहुत ज्यादा आकाश के सेंटर जो आपको आपके घर के मित्रों से बोलो या कहीं से भी बोलो बड़ी सीट अपने घर से स्कूल जा रहे हो या उसके लिए जा रहे हैं 40 घंटा हमें मैंने जैसे तरीका कंपटीशन है लोगों से हम कंपटीशन खुद हम लोगों से हमारे बच्चे को आज हमारे बच्चे को भी आना चाहिए या खुदा गवाह है तो मुझे अगर इंक्रीमेंट चाहिए वह एक करके अच्छा लेकर जाते हैं जो कि अगर हमारे बस में नहीं है तो हमें कुछ टेंशन लेकर बैठ जाते कि मुझे यह बता स्वागत है जहां हम बैठे वहीं हमने करना चाहिए का एक पर मेंटल हो सकता है कि हमें एकदम से पता नहीं होता कि इसमें अच्छे बहुत ज्यादा और किया तो समझ में आए

veer navavarsh ko hamesha bada chahiye vaah kal kya kya problem hota hai agar aap log kar rahe hain kaam aur uske baad main tera toh bahut zyada akash ke center jo aapko aapke ghar ke mitron se bolo ya kahin se bhi bolo badi seat apne ghar se school ja rahe ho ya uske liye ja rahe hain 40 ghanta hamein maine jaise tarika competition hai logon se hum competition khud hum logon se hamare bacche ko aaj hamare bacche ko bhi aana chahiye ya khuda gavah hai toh mujhe agar increment chahiye vaah ek karke accha lekar jaate hain jo ki agar hamare bus mein nahi hai toh hamein kuch tension lekar baith jaate ki mujhe yah bata swaagat hai jahan hum baithe wahin humne karna chahiye ka ek par mental ho sakta hai ki hamein ekdam se pata nahi hota ki isme acche bahut zyada aur kiya toh samajh mein aaye

वीर नववर्ष को हमेशा बड़ा चाहिए वह कल क्या क्या प्रॉब्लम होता है अगर आप लोग कर रहे हैं काम

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  108
WhatsApp_icon
user

Ram Ghulam Razdan

Psychiatrist

0:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मानसिक स्वास्थ्य शारीरिक स्वास्थ्य का भी ध्यान देना है कृति स्वास्थ्य विभाग मंत्री हिंदी में इसलिए जरूरी है यह गंगापुर के लिए इंटरेस्टेड काम करें जैसे कि आप इन एजुकेशन पिंपरी-चिंचवड time4education

mansik swasthya sharirik swasthya ka bhi dhyan dena hai kriti swasthya vibhag mantri hindi me isliye zaroori hai yah Gangapur ke liye interested kaam kare jaise ki aap in education pimpri chinchwad time4education

मानसिक स्वास्थ्य शारीरिक स्वास्थ्य का भी ध्यान देना है कृति स्वास्थ्य विभाग मंत्री हिंदी म

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  124
WhatsApp_icon
user

Deapti Mishra

Clinica Psychologist

6:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे भी आजकल तो बातें यह जरूरी प्रश्न है बहुत अच्छा है क्या होता है कि अभी क्या वर्क लाई हो गई उसको शक्ति वाला भी हो गया है कि शिफ्ट ड्यूटी होने लगी है अब रात को भी लोग जांच के काम कर रहे हैं तो पूरे जो लाइफ रूटीन होता था पहले लाइफ स्टाइल जो जीवन शैली है वही पूरी की पूरी डिस्टर्ब हो गई है तो उसके कारण सबसे ना समझते होती है और काम में जाना है आप दोनों एंड वाइट पति पत्नी दोनों ही ज्यादातर परिवारों में काम कर रहे हैं तो उसका भी टेंशन रहता है कि बच्चे का ख्याल ठीक से नहीं रख पा रहे हैं मेड के साथ छोड़ा तो वह ठीक से रख रही है कि नहीं रख रही है स्कूल में क्या प्रॉब्लम आ रही है नहीं आ रही है तो और आपस में भी जितना पहले जैसे अपने आधार सिस्टम एक जगह घर का माहौल रहा है जॉब कब है तो बाहर का पूरा और आर्थिक सो जा रहे हैं वह सब सामान ले रहे ट्रिक बैलेंस रहता था वह खत्म हो गया अब सुबह से दूर-दूर भी जाना है काम करने से जल्दी जल्दी बात कर जाना है और जल्दी काम निपटाने के ऑफिस में बहुत बहुत प्रेशर रहता है कंपटीशन बहुत ज्यादा रहता है तो 35 ट्रैक्टर वहां पर तनाव रहता कि घर में आओ दोनों जने काम करके आए तो उसमें फिर आपस में रिलैक्स आराम नहीं कर पाते लोग खेल दी है यानी कि जो भी परिवार में बहुत ज्यादा अच्छा समय पहले लोग दिखा पाते थे अब वह नहीं होता है उसके बाद हर समय व्यक्ति टेंशन में रहता है तो एक-दो मनोरंजन का विलोम ध्यान नहीं रखते हैं अब एक दूसरे का क्योंकि हमेशा काम करना है फिर जल्दी-जल्दी ऑफिस चली घर काम ले आए उसके बाद काम करना है बच्चे को पढ़ाना है देखना है थोड़ा बहुत अपना अपना न देखा टीवी लैपटॉप और उसके बाद फिर सुबह की तैयारी करना है तो क्या हो गया बेसिकली में मुख्य रूप से हो रहा है कि लोग सिर्फ जी रहे भाग भाग रहे काम करना है तो यहां पर हमको अपना थोड़ा तो लाइफ स्टाइल में यानी की जीवन शैली में बदलाव लाना है अब क्या ऐसा समय की काम करना दोनों के लिए जरूरी भी मानसिक रूप से भी जरूरी है क्योंकि अब है तो आप उसमें एक सामान्य से बैठाना है बैलेंस बैठाना है तो टाइम जो एक आलसी होते 24 घंटे होते हैं हर किसी के पास लेकिन जब बड़े लोगों की हम लाइव देखें जीवन देखते हैं तो उसमें सारी चीजों पर ध्यान देते हैं तो पॉजिटिव चीजें जो हैं उनको लाइफ में अपने जीवन में उनको भाग बनाना है ताकि हमारे ऊपर जो काम है उसका प्रेशर बहुत ज्यादा न पड़े हो और हम उसको भी इंजॉय करते हैं और काम से रिलेटेड इन समिति होता कि अगर हम जहां पर काम कर रहे हैं वहां पर हम को संतोष नहीं हम संतुष्ट नहीं जॉब सेटिस्फेक्शन नहीं है तो भी उसे बहुत ज्यादा प्रॉब्लम होती है तो कहना चाहिए देखना चाहिए काम हम अगर हमको बैटर मिल सकता है जहां पर हम को गाड़ियों की संतुष्टि होगी जब सेटिस्फेक्शन होगा तो उस चीज को करने की कोशिश करनी चाहिए बल्कि की बजाय इसके कि हम जो काम हमको पसंद नहीं है उसमें लगे रहे क्योंकि उससे ज्यादा तनाव होता है और दूसरा एक ही थोड़ा ध्यान करना योगा करना याद करना थोड़ा सुबह समय अपने लिए कम से कम आधा घंटा हर किसी को चाहे वह बड़ा हो जाए बच्चा हो निकालना जरूरी है कि सिर्फ आधे घंटे सुबह शाम को ले लिया में क्या ऑफिस से आते समय अगर आ सकते हैं तो वॉक करके चल के हम आ गए अगर हमको ऐसे नहीं हम करना कि ऑफिस में ही अगर ऊपर नीचे चल सकते हैं थोड़ी देर में बैठे कंप्यूटर वाले बस में और ज्यादा प्रॉब्लम होती है उस आंखों की एक्सरसाइज कर ली बीच में थोड़ा हाथ पैर की एक्सरसाइज कर लिए थोड़ी देर बीच में गहरी सांस लेनी है उसको थोड़ी देर रोक के रखना है छोड़ना है ब्रीडिंग एक्सरसाइज होती है वह करना है आपको कुछ ऐसे मारने हैं और एक टाइम टेबल बनाना है दिन भर का कि हमको इसमें बजे आएगी यह करना है 2:00 बजे यह करना है 3:00 बजे करना है उस हिसाब से अपना पूरे हफ्ते तो सप्ताह कई टाइम टेबल बना लेने से हमको बहुत सारा समय मिल जाता है जो कि ऐसे नहीं मिल पाता है तो काम और घर के बीच में एक बैलेंस बनाना एक संतुलन बनाना है और उनको टाइम टेबल बनाना है उसमें हमको थोड़ा सा अपने लिए ध्यान देना है जो शारीरिक के लिए हम कुछ एक्सरसाइज कर सकते हैं खान-पान का ध्यान रखना हेल्दी फूड खाना है ज्यादा जंग फूड बगैर नहीं खाना है हाय थोड़ा बहुत वह भी खा ले लेकिन ज्यादा है कि फल खाने सब्जी खानी है अभी खाना खाने प्रॉपर टाइम पर बैठ कर नाश्ता करना है खाना खाना है यह सारी चीजों पर थोड़ा सा फोकस कमेंट हम खाली काम करते रहते हैं अरे खाना खा लेंगे खा लेंगे उससे क्या होता है और शरीर थक जाता है और जब एक बार थकान लगने लग गई फिर उसके बाद लगातार काम करते रह जाओ तो शरीर बिल्कुल से काम करना छोड़ दें ताकि हम लोग बीमार पड़ जाते हैं देखना है कि कहां पर हमारी लिमिट जो हो रही है वह क्रॉस हो रही हैं तो वहां थोड़ी देर देख लेना है आधा घंटा कि ऐसे थोड़ी देर डिग्रेडिंग मेरी सांस ले लिया थोड़ा सा चैनल करके आगे थोड़ा पानी पी लिया जूस पी लिया इससे करके फिर काम करें तो अपने खान-पान का ध्यान रखना है थोड़ा ध्यान योग या कुछ भी तरह के एक्सरसाइज हो गए करना नहीं तो सिर्फ मॉर्निंग वॉक चलने टहलना वह कर सकते हैं उस खाना समय पर खाना है और समय को बांट लेना कि जब हम घर में हैं तो उस समय ऑफिस का काम में करना है वह घर का समय और कुछ इंटरटेनमेंट अपना कुछ मनोरंजन का भी देखना है जो कि पूरा परिवार मिलकर साथ में थोड़ी देर कर सके कोई काम तो चले जा रहे हैं तो सब लोग हम सबको साथ में खाना कम से कम एक टाइम चाहिए हमको अपने शरीर का ध्यान रखना अच्छे से कर पाएंगे अपने मन में आया था मगर मिल सके तो वह करने की कोशिश करनी चाहिए नहीं मिल रहा है तुम जो है उसको एक्सेप्ट करना है और कुछ विकार करना कि चलो नहीं हम दूसरा कुछ और मिल सकता है हो सकता है अभी अभी अच्छे से करें तो फिर हम

mujhe bhi aajkal toh batein yah zaroori prashna hai bahut accha hai kya hota hai ki abhi kya work lai ho gayi usko shakti vala bhi ho gaya hai ki shift duty hone lagi hai ab raat ko bhi log jaanch ke kaam kar rahe hain toh poore jo life routine hota tha pehle life style jo jeevan shaili hai wahi puri ki puri disturb ho gayi hai toh uske karan sabse na samajhte hoti hai aur kaam me jana hai aap dono and white pati patni dono hi jyadatar parivaron me kaam kar rahe hain toh uska bhi tension rehta hai ki bacche ka khayal theek se nahi rakh paa rahe hain made ke saath choda toh vaah theek se rakh rahi hai ki nahi rakh rahi hai school me kya problem aa rahi hai nahi aa rahi hai toh aur aapas me bhi jitna pehle jaise apne aadhar system ek jagah ghar ka maahaul raha hai job kab hai toh bahar ka pura aur aarthik so ja rahe hain vaah sab saamaan le rahe trick balance rehta tha vaah khatam ho gaya ab subah se dur dur bhi jana hai kaam karne se jaldi jaldi baat kar jana hai aur jaldi kaam niptane ke office me bahut bahut pressure rehta hai competition bahut zyada rehta hai toh 35 tractor wahan par tanaav rehta ki ghar me aao dono jane kaam karke aaye toh usme phir aapas me relax aaram nahi kar paate log khel di hai yani ki jo bhi parivar me bahut zyada accha samay pehle log dikha paate the ab vaah nahi hota hai uske baad har samay vyakti tension me rehta hai toh ek do manoranjan ka vilom dhyan nahi rakhte hain ab ek dusre ka kyonki hamesha kaam karna hai phir jaldi jaldi office chali ghar kaam le aaye uske baad kaam karna hai bacche ko padhana hai dekhna hai thoda bahut apna apna na dekha TV laptop aur uske baad phir subah ki taiyari karna hai toh kya ho gaya basically me mukhya roop se ho raha hai ki log sirf ji rahe bhag bhag rahe kaam karna hai toh yahan par hamko apna thoda toh life style me yani ki jeevan shaili me badlav lana hai ab kya aisa samay ki kaam karna dono ke liye zaroori bhi mansik roop se bhi zaroori hai kyonki ab hai toh aap usme ek samanya se baithana hai balance baithana hai toh time jo ek aalsi hote 24 ghante hote hain har kisi ke paas lekin jab bade logo ki hum live dekhen jeevan dekhte hain toh usme saari chijon par dhyan dete hain toh positive cheezen jo hain unko life me apne jeevan me unko bhag banana hai taki hamare upar jo kaam hai uska pressure bahut zyada na pade ho aur hum usko bhi enjoy karte hain aur kaam se related in samiti hota ki agar hum jaha par kaam kar rahe hain wahan par hum ko santosh nahi hum santusht nahi job setisfekshan nahi hai toh bhi use bahut zyada problem hoti hai toh kehna chahiye dekhna chahiye kaam hum agar hamko better mil sakta hai jaha par hum ko gadiyon ki santushti hogi jab setisfekshan hoga toh us cheez ko karne ki koshish karni chahiye balki ki bajay iske ki hum jo kaam hamko pasand nahi hai usme lage rahe kyonki usse zyada tanaav hota hai aur doosra ek hi thoda dhyan karna yoga karna yaad karna thoda subah samay apne liye kam se kam aadha ghanta har kisi ko chahen vaah bada ho jaaye baccha ho nikalna zaroori hai ki sirf aadhe ghante subah shaam ko le liya me kya office se aate samay agar aa sakte hain toh walk karke chal ke hum aa gaye agar hamko aise nahi hum karna ki office me hi agar upar niche chal sakte hain thodi der me baithe computer waale bus me aur zyada problem hoti hai us aakhon ki exercise kar li beech me thoda hath pair ki exercise kar liye thodi der beech me gehri saans leni hai usko thodi der rok ke rakhna hai chhodna hai Breeding exercise hoti hai vaah karna hai aapko kuch aise maarne hain aur ek time table banana hai din bhar ka ki hamko isme baje aayegi yah karna hai 2 00 baje yah karna hai 3 00 baje karna hai us hisab se apna poore hafte toh saptah kai time table bana lene se hamko bahut saara samay mil jata hai jo ki aise nahi mil pata hai toh kaam aur ghar ke beech me ek balance banana ek santulan banana hai aur unko time table banana hai usme hamko thoda sa apne liye dhyan dena hai jo sharirik ke liye hum kuch exercise kar sakte hain khan pan ka dhyan rakhna healthy food khana hai zyada jung food bagair nahi khana hai hi thoda bahut vaah bhi kha le lekin zyada hai ki fal khane sabzi khaani hai abhi khana khane proper time par baith kar nashta karna hai khana khana hai yah saari chijon par thoda sa focus comment hum khaali kaam karte rehte hain are khana kha lenge kha lenge usse kya hota hai aur sharir thak jata hai aur jab ek baar thakan lagne lag gayi phir uske baad lagatar kaam karte reh jao toh sharir bilkul se kaam karna chhod de taki hum log bimar pad jaate hain dekhna hai ki kaha par hamari limit jo ho rahi hai vaah cross ho rahi hain toh wahan thodi der dekh lena hai aadha ghanta ki aise thodi der degrading meri saans le liya thoda sa channel karke aage thoda paani p liya juice p liya isse karke phir kaam kare toh apne khan pan ka dhyan rakhna hai thoda dhyan yog ya kuch bhi tarah ke exercise ho gaye karna nahi toh sirf morning walk chalne tahalana vaah kar sakte hain us khana samay par khana hai aur samay ko baant lena ki jab hum ghar me hain toh us samay office ka kaam me karna hai vaah ghar ka samay aur kuch entertainment apna kuch manoranjan ka bhi dekhna hai jo ki pura parivar milkar saath me thodi der kar sake koi kaam toh chale ja rahe hain toh sab log hum sabko saath me khana kam se kam ek time chahiye hamko apne sharir ka dhyan rakhna acche se kar payenge apne man me aaya tha magar mil sake toh vaah karne ki koshish karni chahiye nahi mil raha hai tum jo hai usko except karna hai aur kuch vikar karna ki chalo nahi hum doosra kuch aur mil sakta hai ho sakta hai abhi abhi acche se kare toh phir hum

मुझे भी आजकल तो बातें यह जरूरी प्रश्न है बहुत अच्छा है क्या होता है कि अभी क्या वर्क लाई ह

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  143
WhatsApp_icon
user

Namrata Tiwari

Psychologist

0:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हाथो हाथ से निकली अगर हम बहुत कल्चर की बात करके बताओ प्लीज टू डिप्रेशन और नॉट वर्क कल्चर डेफिनेटली करता है डिप्रेशन को यह एक एक पात्र हो सकता है क्योंकि फॉर एग्जांपल अभी जैसे चल रहा है अगर हम आईटी इंडस्ट्री को देखें तो आईटी इंडस्ट्री का एग्जाम को ले तो वहां थे मेनू बटन नॉट प्रेशर बहुत ज्यादा होता है और रात में काम करना पड़ता है तो हमारी की साइकिल डिस्टर्ब होती है उससे बहुत सारी चीजें होती है तो इसकी वजह से एक-एक रीजन हो सकता है कि प्रेषित करें

hatho hath se nikli agar hum bahut culture ki baat karke batao please to depression aur not work culture definetli karta hai depression ko yah ek ek patra ho sakta hai kyonki for example abhi jaise chal raha hai agar hum it industry ko dekhen toh it industry ka exam ko le toh wahan the menu button not pressure bahut zyada hota hai aur raat mein kaam karna padta hai toh hamari ki cycle disturb hoti hai usse bahut saree cheezen hoti hai toh iski wajah se ek ek reason ho sakta hai ki preshit karen

हाथो हाथ से निकली अगर हम बहुत कल्चर की बात करके बताओ प्लीज टू डिप्रेशन और नॉट वर्क कल्चर ड

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  131
WhatsApp_icon
play
user

Snehalata Patnaik

Senior Career Counselor

1:09

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एप्पल सिक्स आप लोग फ्री में आपकी मतलब आपको कोई काम आसान है क्या जवाब चाहिए आपको जिस पर फोन करना है आपको कोई व्यक्ति बन जाता है और आप पता करना है तेल कंपनियां अपनी तरफ से आपकी तो काम देखते हैं तो अपनापन नहीं आता ना वह हमको करना है मुझे कुछ करना है तब से दबाव रहेगा आपको लगता मुझे इतना काम करना है और मुझे इतना पैसा आपके हाथ में आ रहे हैं ना तो आपके पास मुझे करना है कैसे करें

apple six aap log free mein aapki matlab aapko koi kaam aasaan hai kya jawab chahiye aapko jis par phone karna hai aapko koi vyakti ban jata hai aur aap pata karna hai tel companiyan apni taraf se aapki toh kaam dekhte hain toh apnapan nahi aata na vaah hamko karna hai mujhe kuch karna hai tab se dabaav rahega aapko lagta mujhe itna kaam karna hai aur mujhe itna paisa aapke hath mein aa rahe hain na toh aapke paas mujhe karna hai kaise karen

एप्पल सिक्स आप लोग फ्री में आपकी मतलब आपको कोई काम आसान है क्या जवाब चाहिए आपको जिस पर फोन

Romanized Version
Likes  123  Dislikes    views  1515
WhatsApp_icon
user

Raj Alampur

Psychologist and Career counsellor(मनोविज्ञानी और परामर्शदाता)

2:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे पहले तू इसमें जो आज हम पेरेंट्स रूह में से ज्यादातर यहां चलते रहता है जो हमारी पैरंट्स बच्चों की तरफ इसी साल से देख रही थी वहीं 60% अधिक रहा है कि वह किसी न किसी काम नहीं तोड़ते जरूरी बात यह है कि काम नहीं कोई बुराई नहीं है लेकिन काम की प्लानिंग कैसे करते हैं यह सबसे बड़ी बुराई की घटना को पानी निकालना है कि प्राप्त करना है तो हमारे यहां बच्चे या फिर कल सा बनता जा रहा है कि को रघु कर ले थोड़ा थोड़ा और किसी भी चीज़ में अंबिग्विटी आज लोग अच्छी नौकरी करने के बावजूद भी सुसाइड करते हैं और कुछ ऐसे प्राइवेट सेक्टर में जहां लोग खुश हो कर काम कर रहे तो हमारा एटीट्यूड और हमारा काम करने की प्लानिंग कैसी है निश्चित रूप से हमारी व्यवस्था को प्रभावित करता है आप ही से मोटी कोर्ट एग्जामिनेशन का निरीक्षण के हिसाब से पुराने रिवाजों के हिसाब से कि 4:00 से 5:00 बजे उठना जरूरी है और यह भी जरूरी है कि साइंटिफिक प्रूफ है कि उस टाइम हमारे अंदर दोहा शमशु 3:12 बजे तक 9:10 बजे ऐसी बहुत सारी चीजें दूसरे दूसरे कलर मिक्स कर दी है जिसके कारण तनाव बढ़ता जा रहा है तू जरूरी है सबसे अच्छे सैंडल फैंसी स्टोर कनेक्टेड टू जोर से अपने आप से जुड़े दूसरा हमें डिस्टर्ब कर रहा है तू दूसरा डिस्टर्ब करने की तो फिर भगवान तो तेरा भाई इसका दिमाग का क्या करना है हमें तो खुशी हो रही है और हमें कुछ और इंसल्ट फील करवा देगा तो हम रुक जाएंगे कल से डिलीट लानी जरूरी

sabse pehle tu isme jo aaj hum parents ruh mein se jyadatar yahan chalte rehta hai jo hamari Parents bacchon ki taraf isi saal se dekh rahi thi wahin 60 adhik raha hai ki vaah kisi na kisi kaam nahi todte zaroori baat yah hai ki kaam nahi koi burayi nahi hai lekin kaam ki planning kaise karte hain yah sabse badi burayi ki ghatna ko paani nikalna hai ki prapt karna hai toh hamare yahan bacche ya phir kal sa banta ja raha hai ki ko raghu kar le thoda thoda aur kisi bhi cheez mein ambigwiti aaj log achi naukri karne ke bawajud bhi suicide karte hain aur kuch aise private sector mein jahan log khush ho kar kaam kar rahe toh hamara attitude aur hamara kaam karne ki planning kaisi hai nishchit roop se hamari vyavastha ko prabhavit karta hai aap hi se moti court examination ka nirikshan ke hisab se purane rivajon ke hisab se ki 4 00 se 5 00 baje uthana zaroori hai aur yah bhi zaroori hai ki scientific proof hai ki us time hamare andar doha shamashu 3 12 baje tak 9 10 baje aisi bahut saree cheezen dusre dusre color mix kar di hai jiske karan tanaav badhta ja raha hai tu zaroori hai sabse acche sandal fancy store connected to jor se apne aap se jude doosra hamein disturb kar raha hai tu doosra disturb karne ki toh phir bhagwan toh tera bhai iska dimag ka kya karna hai hamein toh khushi ho rahi hai aur hamein kuch aur insult feel karva dega toh hum ruk jaenge kal se delete lani zaroori

सबसे पहले तू इसमें जो आज हम पेरेंट्स रूह में से ज्यादातर यहां चलते रहता है जो हमारी पैरंट्

Romanized Version
Likes  124  Dislikes    views  1643
WhatsApp_icon
user

Dr.Nisha Joshi

Psychologist

0:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आओ मैं अपने यहां की कल्चर से यहां पर कर दो इतना तो नहीं रहता मंत्री के यहां से और दोनों में जो उसमें छोटो रहेगा

aao main apne yahan ki culture se yahan par kar do itna toh nahi rehta mantri ke yahan se aur dono mein jo usmein chhoto rahega

आओ मैं अपने यहां की कल्चर से यहां पर कर दो इतना तो नहीं रहता मंत्री के यहां से और दोनों मे

Romanized Version
Likes  133  Dislikes    views  4889
WhatsApp_icon
user

Dr R L BHARADWAJ

Asst Professor in Psychology

1:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक्चुली जो ओवरलोडिंग है इसके ऊपर उसको थोड़ा थोड़ा कम किया जाए और जब तक वॉल्यूम कम नहीं होगा प्रेशर बोलते रहेंगे क्योंकि जो भी ड्यूटी देते हैं आप जो भी तरह की जो भी सिस्टम है उसमें आदमी ढंग से आराम नहीं कर पाता कि गुड नाइट और जो भी मिलेगा तो आप ही देखिए के कभी-कभी जिसे नाइट शिफ्ट चल रही है तो नाइट शिफ्ट की आवाज में देसी राई 2 दिन बाद तो उसको साथ में नहीं जाना बंद हो जाता है तो प्रॉपर जो सिर्फ नहीं होती वह बहुत खतरनाक है और वही मेंटल टेंशंस को बढ़ाती है ओपन स्वीट मोस्ट इंर्पोटेंट एस्पेक्ट ओं एनी पर्सनैलिटी फॉर गुड हेल्थ फॉर मेंटल हेल्थ फॉर सोशल हेल्थ

ekchuli jo overloading hai iske upar usko thoda thoda kam kiya jaaye aur jab tak volume kam nahi hoga pressure bolte rahenge kyonki jo bhi duty dete hain aap jo bhi tarah ki jo bhi system hai usmein aadmi dhang se aaram nahi kar pata ki good night aur jo bhi milega toh aap hi dekhiye ke kabhi kabhi jise night shift chal rahi hai toh night shift ki awaaz mein desi rai 2 din baad toh usko saath mein nahi jana band ho jata hai toh proper jo sirf nahi hoti vaah bahut khataranaak hai aur wahi mental tenshans ko badhati hai open sweet most important espekt on any personality for good health for mental health for social health

एक्चुली जो ओवरलोडिंग है इसके ऊपर उसको थोड़ा थोड़ा कम किया जाए और जब तक वॉल्यूम कम नहीं होग

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  119
WhatsApp_icon
user

Shahbaz Khan

Life Coach, Motivational Speaker

2:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कैंडी बंदरी बट मैच को पूरा डिटेल नहीं कहूंगा बस एक ही पसंद हो सकता है इसका रीजन यह बताता हूं मैं क्योंकि आजकल टूडेज क्रिटिक्स सोसाइटी हर चीज को चुटकियों में फास्ट और इंस्टिट्यूशन चाहिए दो कि अपन को प्ले सेट चाहिए वह अभी इस चाहिए आप चाहे तो खोल ले लीजिए को 3 महीने के अंदर मेरे को फोन डिलीवरी आधे घंटे के अंदर मेरे को मेरे को डिलीट करना है ऑनलाइन करना है फेसबुक आईडी a82 हो रहा है अपन नेचर से दूर हो रहे हैं अपन रिलेशनशिप से दूर हो रहे हैं अपन ग्रिटीट्यूड ग्रिटीट्यूड से दूर हो रहे हैं अपन काम नहीं करते अपनी प्रोसेस में पहले से एप्लीकेशन ओपन देना भूल जाते हैं कि एटीट्यूट फल देना भूल जाते थैंक्सगिविंग अपन देना भूल जाते हैं तो यह हो रहा है आजकल अगर मैं कॉल पर सोसायटी के करीब 9 घंटे की जॉब बोल कर अपना फंडा जॉब करते थक जाते हो जाते और अपने आप से भी तो होता ही है अपना एक ब्लॉक में लाइफ अपना हाथ के एक तबके कराके देख लो देख चेंबर है अगर आप जो टाइम जो है वह सिर्फ और सिर्फ काम में भर देंगे तो कहीं ना कहीं जगह रह जाती बहुत कम जगह रह जाती है अपने खुद के लिए अपने परिवार के लिए अपने बिलॉन्ग इसके लिए अपने चाहने वालों के लिए अपने लाइफ के पर्पस के लिए वह जो जगह है वह खाली रह जाती है क्योंकि अपन में जो है सिर्फ जॉब जॉब जॉब जॉब जॉब करके नहीं वह सो जा रहे लाइफ का फूल खिल कर दिया है अब जब तक अपन को चीज खाली नहीं करेंगे अपन उसको बैलेंस नहीं कर पाते और लोग वह चीज पहले कर ही नहीं पाते क्योंकि वह से चिपकी चौक से आगे सोचने बातें रुको रुको सपने में यह सोचते हैं कि मेरे को सुबह क्या काम करना है मेरा बॉस मेरे को गाली देगा मेरा सीन स टारगेट नहीं हो रहा है यार मैं मेरे बच्चों को टाइम कैसे दूंगा बाद में किस-किस जिंदगी कैसे रहूंगा वह सोचते ही नहीं होती कि नहीं होता ही नहीं है

candy bandari but match ko pura detail nahi kahunga bus ek hi pasand ho sakta hai iska reason yah batata hoon main kyonki aajkal tudej critics society har cheez ko chutkiyon mein fast aur instityushan chahiye do ki apan ko play set chahiye vaah abhi is chahiye aap chahen toh khol le lijiye ko 3 mahine ke andar mere ko phone delivery aadhe ghante ke andar mere ko mere ko delete karna hai online karna hai facebook id a82 ho raha hai apan nature se dur ho rahe hain apan Relationship se dur ho rahe hain apan gritityud gritityud se dur ho rahe hain apan kaam nahi karte apni process mein pehle se application open dena bhool jaate hain ki etityut fal dena bhool jaate thainksagiving apan dena bhool jaate hain toh yah ho raha hai aajkal agar main call par sociaty ke kareeb 9 ghante ki job bol kar apna fanda job karte thak jaate ho jaate aur apne aap se bhi toh hota hi hai apna ek block mein life apna hath ke ek tabke Karake dekh lo dekh chamber hai agar aap jo time jo hai vaah sirf aur sirf kaam mein bhar denge toh kahin na kahin jagah reh jaati bahut kam jagah reh jaati hai apne khud ke liye apne parivar ke liye apne Belong iske liye apne chahne walon ke liye apne life ke purpose ke liye vaah jo jagah hai vaah khaali reh jaati hai kyonki apan mein jo hai sirf job job job job job karke nahi vaah so ja rahe life ka fool khil kar diya hai ab jab tak apan ko cheez khaali nahi karenge apan usko balance nahi kar paate aur log vaah cheez pehle kar hi nahi paate kyonki vaah se chipaki chauk se aage sochne batein ruko ruko sapne mein yah sochte hain ki mere ko subah kya kaam karna hai mera boss mere ko gaali dega mera seen s target nahi ho raha hai yaar main mere bacchon ko time kaise dunga baad mein kis kis zindagi kaise rahunga vaah sochte hi nahi hoti ki nahi hota hi nahi hai

कैंडी बंदरी बट मैच को पूरा डिटेल नहीं कहूंगा बस एक ही पसंद हो सकता है इसका रीजन यह बताता ह

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  138
WhatsApp_icon
user

MS.JOSHI MINAL

Rehabilitation counselor

0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वह तो देखो प्रॉब्लम तो ऐसा कुछ भी नहीं है कोई भी वर्क लोड हो हमारा सीट हो या कोई भी हो उसमें थोड़ा तो रहता है उसमें कोई उसको मैंने सुना हमारे ऊपर होता है उसको कैसे मोटिवेट करना है कैसे नहीं करना है वह हम सोचते हैं कि हमें क्या करना है तो थोड़ी प्रॉब्लम तो रहती है फिर भी मैंने करना पड़ता है

vaah toh dekho problem toh aisa kuch bhi nahi hai koi bhi work load ho hamara seat ho ya koi bhi ho usmein thoda toh rehta hai usmein koi usko maine suna hamare upar hota hai usko kaise motivate karna hai kaise nahi karna hai vaah hum sochte hain ki hamein kya karna hai toh thodi problem toh rehti hai phir bhi maine karna padta hai

वह तो देखो प्रॉब्लम तो ऐसा कुछ भी नहीं है कोई भी वर्क लोड हो हमारा सीट हो या कोई भी हो उसम

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  157
WhatsApp_icon
user

Kankan Sarmah

Psychologist

1:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वह कल सैंडी के सबसे इंपोर्टेंट बात तो यह होता है कि आप कौन सा काम कर रहे हो पहले यह जानना जरूरी होता है कि आपके हिसाब से किस तरीके से क्या काम करेगा कुछ कुछ लोगों के साथ यह होते हैं कि वह दिखावा पर जाता है कि मिस्टर स्वयं 242 इन समथिंग तो मुझे भी कुछ करना है मुझे भी आगे निकलना है लेकिन वह खुद भूल जाते हैं क्योंकि कितना है और उनका कभी अपने बारे में खुद को देख करना चाहता है तो इसे क्या होते हैं वह लोग मेंटल स्ट्रेस में आ जाते हैं और वह के बाद में क्या करते हैं उनको हम पर करते हैं तो इस तरीके से चाहते हैं हम लोग के पास बहुत से लोग आते हैं बोलते भी है कि मेरे साथ यह हो रहे मेरे साथ बोल रहे हैं लेकिन पहले बात तो यह कि वह क्या चाहते हैं वह कौन है वह खुद को पहचानते नहीं थे इसलिए वह कल में क्या है प्रॉब्लम बहुत ज्यादा हो जाता है लेकिन वह बंद है काम करें सेल्स में बाद में क्या होता है वह करके देखें

vaah kal sandy ke sabse important baat toh yah hota hai ki aap kaun sa kaam kar rahe ho pehle yah janana zaroori hota hai ki aapke hisab se kis tarike se kya kaam karega kuch kuch logon ke saath yah hote hain ki vaah dikhawa par jata hai ki mister swayam 242 in something toh mujhe bhi kuch karna hai mujhe bhi aage nikalna hai lekin vaah khud bhool jaate hain kyonki kitna hai aur unka kabhi apne bare mein khud ko dekh karna chahta hai toh ise kya hote hain vaah log mental stress mein aa jaate hain aur vaah ke baad mein kya karte hain unko hum par karte hain toh is tarike se chahte hain hum log ke paas bahut se log aate hain bolte bhi hai ki mere saath yah ho rahe mere saath bol rahe hain lekin pehle baat toh yah ki vaah kya chahte hain vaah kaun hai vaah khud ko pehchante nahi the isliye vaah kal mein kya hai problem bahut zyada ho jata hai lekin vaah band hai kaam karen sales mein baad mein kya hota hai vaah karke dekhen

वह कल सैंडी के सबसे इंपोर्टेंट बात तो यह होता है कि आप कौन सा काम कर रहे हो पहले यह जानना

Romanized Version
Likes  115  Dislikes    views  1638
WhatsApp_icon
user

DR SURI

Rehabilitation Psychologist

0:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल बिल्कुल नॉनस्टॉप स्टेट जो है वह बहुत भाई सुबह सबसे ज्यादा बड़ी ही तो है वह तो मर कर चलिए और दूसरे से ज्यादा की हैं इंसान की जोड़ी

bilkul bilkul nonstop state jo hai wah bahut bhai subah sabse zyada badi hi toh hai wah toh mar kar chaliye aur dusre se zyada ki hain insaan ki jodi

बिल्कुल बिल्कुल नॉनस्टॉप स्टेट जो है वह बहुत भाई सुबह सबसे ज्यादा बड़ी ही तो है वह तो मर क

Romanized Version
Likes  37  Dislikes    views  1186
WhatsApp_icon
user

Pratishtha Trivedi

Clinical Psychologist

0:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी बिल्कुल डॉट कॉम पर टर्न ऑफ कल्चर है सब दूसरों सबसे बेहतर नहीं करना चाहते

ji bilkul dot com par turn of culture hai sab dusron sabse behtar nahi karna chahte

जी बिल्कुल डॉट कॉम पर टर्न ऑफ कल्चर है सब दूसरों सबसे बेहतर नहीं करना चाहते

Romanized Version
Likes  45  Dislikes    views  537
WhatsApp_icon
user

ANUBHA JAIN

REHABILITATION COUNSELLORS

1:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आजकल की भागदौड़ की जिंदगी में हम लोग जो काम कर रहे हैं वह बहुत ही प्रेस वाला है कि हमें 5:00 बजे काम पर पहुंचना होता है और शाम को देर तक मिली है मेरी चीज में देर तक काम करता है और कितना टारगेट हो रंजीत काम है कि मेंटल प्रेशर बहुत ज्यादा पड़ जाता है तो कभी इतना ज्यादा हो जाता है कि दो आज तक सुसाइड करने लगे अगर टारगेट पूरे नहीं होते उनके वर्क कल्चर है तू बेल्ली हो गया कंप्यूटर एंड मोबाइल मोबाइल पर लगे रहते हैं या कंप्यूटर पर रहते हैं अभी दोनों एक जगह से दूसरी जगह ज्यादा सुनती नहीं है ना वह बीच में गैस लेते हैं क्योंकि उनको युद्ध की टारगेट पूरा करना है लगातार उनका इतना परेशान होता है उनको अपनी फैमिली की चिंता होती है ना घर परिवार की चिंता होती है और इससे बहुत ज्यादा बीमारियां हो रहा टाटा की चीज की प्रॉब्लम है इसकी वजह से

aajkal ki bhagdaud ki zindagi mein hum log jo kaam kar rahe hain vaah bahut hi press vala hai ki hamein 5 00 baje kaam par pahunchana hota hai aur shaam ko der tak mili hai meri cheez mein der tak kaam karta hai aur kitna target ho ranjeet kaam hai ki mental pressure bahut zyada pad jata hai toh kabhi itna zyada ho jata hai ki do aaj tak suicide karne lage agar target poore nahi hote unke work culture hai tu belly ho gaya computer and mobile mobile par lage rehte hain ya computer par rehte hain abhi dono ek jagah se dusri jagah zyada sunti nahi hai na vaah beech mein gas lete hain kyonki unko yudh ki target pura karna hai lagatar unka itna pareshan hota hai unko apni family ki chinta hoti hai na ghar parivar ki chinta hoti hai aur isse bahut zyada bimariyan ho raha tata ki cheez ki problem hai iski wajah se

आजकल की भागदौड़ की जिंदगी में हम लोग जो काम कर रहे हैं वह बहुत ही प्रेस वाला है कि हमें 5:

Romanized Version
Likes  117  Dislikes    views  1542
WhatsApp_icon
user

Dr. Jyoti Gupta

Assistant Professor

1:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वह कल सहरसा टू सिक्स एंड डिपेंड करता है कि किस जिद्दी आर्गेनाइजेशन आपने जॉइन किया है उसका बोतल से कैसा है कितना टाइम आप वक्त कितना टाइम होता है कितना इंटरेक्शन टाइम होता है क्योंकि कई बार तो हम अलग-अलग दो एक्सप्रेस इमोशन वादा पर्सनल प्रॉब्लम होती थी ऐसा हो गया कि हमेशा अपने में रहते हैं इमोशनल धीरे धीरे

vaah kal saharsa to six and depend karta hai ki kis jiddi organisation aapne join kiya hai uska bottle se kaisa hai kitna time aap waqt kitna time hota hai kitna interaction time hota hai kyonki kai baar toh hum alag alag do express emotion vada personal problem hoti thi aisa ho gaya ki hamesha apne mein rehte hain emotional dhire dhire

वह कल सहरसा टू सिक्स एंड डिपेंड करता है कि किस जिद्दी आर्गेनाइजेशन आपने जॉइन किया है उसका

Romanized Version
Likes  152  Dislikes    views  2473
WhatsApp_icon
user

Dr HITESH KUMAR PATEL

Consultant Psychologist

0:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अभी जो कल्चरल कल्चर हमारा इंडियन कल्चर चल रहा है अच्छा मेंटल मेंटल मेंटल

abhi jo cultural culture hamara indian culture chal raha hai accha mental mental mental

अभी जो कल्चरल कल्चर हमारा इंडियन कल्चर चल रहा है अच्छा मेंटल मेंटल मेंटल

Romanized Version
Likes  38  Dislikes    views  433
WhatsApp_icon
user

Dr. Mrignayani Agarwal

Clinical Psychologist

0:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्योंकि क्या है कि आजकल हमारी कार्यप्रणाली हो गई है इतनी व्यस्त हो गई है कि हमें एक दूसरे के लिए कहा वह पति पत्नी हो चाहे वह मां बाप को दो बच्चे हैं हमें उन लोगों के लिए जो अपने नजदीकी रिश्तेदार हैं उनके लिए बिल्कुल समय नहीं और हम एक बस आपाधापी वाली जिंदगी जी रहे हैं हमारे लिए बस अपना काम है और कुछ नहीं हमें ना किसी से बात करने का काम है अगर छुट्टी का दिन भी होता है तो लगता है कि जो आपने हमारा क्या है

kyonki kya hai ki aajkal hamari Karya Pranali ho gayi hai itni vyast ho gayi hai ki hamein ek dusre ke liye kaha vaah pati patni ho chahen vaah maa baap ko do bacche hain hamein un logon ke liye jo apne najdiki rishtedar hain unke liye bilkul samay nahi aur hum ek bus apadhapi waali zindagi ji rahe hain hamare liye bus apna kaam hai aur kuch nahi hamein na kisi se baat karne ka kaam hai agar chhutti ka din bhi hota hai toh lagta hai ki jo aapne hamara kya hai

क्योंकि क्या है कि आजकल हमारी कार्यप्रणाली हो गई है इतनी व्यस्त हो गई है कि हमें एक दूसरे

Romanized Version
Likes  35  Dislikes    views  403
WhatsApp_icon
user

Dr Ravi Prakash

Psychiatrist

2:03
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आजकल तू जो वॉइस कल्चर किसको कहा जाता है कि आप से आप कह सकते हैं कि एकेडमिक सेट किया सिरा कैसे कॉम्पिटेटिव एनवायरमेंट है यह किसी के भी लिए जल्दी नहीं है आमतौर पर लोग यह सोचते हैं जो एम्पलाई हैं वह लोग यह सोचते कि सच में बहुत खुश हैं लेकिन वह जो इंटरव्यू है उसे लेकर जो कंपनी का मैनेजर है उन्हें सीईओ है एनर्जी चला रहे हो सब लोग मेरे पेशेंट से आपको अपने कंपनी की जो डिलीवरी है वह आप के बगल वाले या कंप्यूटर ब्रांड से ज्यादा क्या फायदा में हमारे मन का एक विजिटेशन मैडम रिमाइंड कर एक लिमिटेशंस और जैसे इलास्टिक सर आप ही से जाएंगे तो 1 पॉइंट ऑफ नो रिटर्न आएगा तो टूट जाएगा उसके वापस किसी तरीके से ट्रेन हमारी माइंड बहुत लंबे समय तक रहना चाहिए वह क्या सोचेगा ब्रेन का जो न्यूरोकेमेस्ट्री है वहां से रिकवर नहीं कर पाएगा उसको ऑफ द इक्वेशन किया था डिप्रेशन इधर आउटकम उसका क्या मतलब है कि डिप्रेशन जो है इसका एक परिणाम से का उत्सव में जो आज कल का जो एडवांसमेंट है वह इसको बहुत आई हुई रिपोर्ट कर रहा है लेकिन सचिन ने की 19 है जिसको यह किस जाति में है तो आप कोई भी काम ठीक से नहीं कर पाएंगे कि आपके बच्चे वाला दिल्ली के आज के

aajkal tu jo voice culture kisko kaha jata hai ki aap se aap keh sakte hain ki academic set kiya sira kaise competitive environment hai yeh kisi ke bhi liye jaldi nahi hai aamtaur par log yeh sochte hain jo employee hain wah log yeh sochte ki sach mein bahut khush hain lekin wah jo interview hai use lekar jo company ka manager hai unhein ceo hai energy chala rahe ho sab log mere patient se aapko apne company ki jo delivery hai wah aap ke bagal wale ya computer brand se zyada kya fayda mein hamare man ka ek vijiteshan madam remind kar ek Limitations aur jaise elastic sar aap hi se jaenge toh 1 point of no return aaega toh toot jayega uske wapas kisi tarike se train hamari mind bahut lambe samay tak rehna chahiye wah kya sochega brain ka jo nyurokemestri hai wahan se recover nahi kar payega usko of the equation kiya tha depression idhar outcome uska kya matlab hai ki depression jo hai iska ek parinam se ka utsav mein jo aaj kal ka jo advancement hai wah isko bahut I hui report kar raha hai lekin sachin ne ki 19 hai jisko yeh kis jati mein hai toh aap koi bhi kaam theek se nahi kar payenge ki aapke bacche vala delhi ke aaj ke

आजकल तू जो वॉइस कल्चर किसको कहा जाता है कि आप से आप कह सकते हैं कि एकेडमिक सेट किया सिरा क

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  163
WhatsApp_icon
user

Mr. SANJAY KUMAR TIWARI

REHABILITATION PSYCHOLOGIST

0:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेंटल प्रॉब्लम्स

mental problem

मेंटल प्रॉब्लम्स

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  642
WhatsApp_icon
user

Ayushi Madaan

Clinical Psychologist

0:60
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल करके बहुत ज्यादा आता है कौन सी जॉब कर रहा है आजकल मेरे पास तो कैसे जा रहे हैं व्हाट्सएप पहले ही जाकर चांदी लाइफ की ज्यादा इशकजादे के सामने लाइफ के साथ-साथ आजकल बहुत प्लीज प्लीज बहुत याद आ रहे हैं क्योंकि हम जिस एंबाल्मिंग में रहते हैं आजकल जो हमारा वह कल जो है वह इतना हमें बात करता है क्योंकि हम अपने पूरे दिन 95 या 12 से 13 घंटे अपने पूरे दिन के अपने वर्क एरिया में दिखाते हैं शाम काम करते हैं कई लोग पैसों को लेकर पैदा ही नहीं है और अगर कई बार पैसे को लेकर सैटरडे महीना भी कमा रहे हैं तब भी वह खर्चा को लेकर सजग पाई थी है क्योंकि आजकल लोग मशीन की तरह यूज कर रहे हैं लोगों को इसकी वजह से पैदा होते हुए भी यह जरूरी नहीं है कि तुम खुश होगा या वह सेटिस्फाइड होगा तो एक जॉब सेटिस्फेक्शन जो है वह बहुत हद तक रिक्वायर्ड है और बहुत ज्यादा हमारे मेंटल हेल्थ को बात करते हैं

bilkul karke bahut zyada aata hai kaun si job kar raha hai aajkal mere paas toh kaise ja rahe hain whatsapp pehle hi jaakar chaandi life ki zyada ishakajade ke saamne life ke saath saath aajkal bahut please please bahut yaad aa rahe hain kyonki hum jis embalming mein rehte hain aajkal jo hamara vaah kal jo hai vaah itna hamein baat karta hai kyonki hum apne poore din 95 ya 12 se 13 ghante apne poore din ke apne work area mein dikhate hain shaam kaam karte hain kai log paison ko lekar paida hi nahi hai aur agar kai baar paise ko lekar saturday mahina bhi kama rahe hain tab bhi vaah kharcha ko lekar sajag payi thi hai kyonki aajkal log machine ki tarah use kar rahe hain logon ko iski wajah se paida hote hue bhi yah zaroori nahi hai ki tum khush hoga ya vaah setisfaid hoga toh ek job setisfekshan jo hai vaah bahut had tak required hai aur bahut zyada hamare mental health ko baat karte hain

बिल्कुल करके बहुत ज्यादा आता है कौन सी जॉब कर रहा है आजकल मेरे पास तो कैसे जा रहे हैं व्हा

Romanized Version
Likes  43  Dislikes    views  500
WhatsApp_icon
user

Archana Chaudhary

Rehabilitation Psychologist

0:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लेकिन कहीं ना कहीं रिलेटेड तो होता ही है हम जो भी काम करते हैं उसमें कुछ ना कुछ टेलिंग जल्दी आते हैं जब चैलेंज जाते हैं तो कई बार उठ कर लेते हैं और कई बार में 40 को म्यूट करने में हमें थोड़ी परेशानियां आती हैं तो जो परेशानियां आती हैं तो वह जो होता है वह धीरे-धीरे बढ़ता बीए कंट्रोल नहीं हो पाता और पारिवारिक स्थिति में इंसान और फिर एक ऑफिस अभिषेक बैलेंस नहीं हो पाता और कुछ आता रहता है कंटिन्यू की मनोवैज्ञानिक परेशानी का कारण बन जाता है

lekin kahin na kahin related toh hota hi hai hum jo bhi kaam karte hain usmein kuch na kuch telling jaldi aate hain jab challenge jaate hain toh kai baar uth kar lete hain aur kai baar mein 40 ko mute karne mein hamein thodi pareshaniyan aati hain toh jo pareshaniyan aati hain toh vaah jo hota hai vaah dhire dhire badhta ba control nahi ho pata aur parivarik sthiti mein insaan aur phir ek office abhishek balance nahi ho pata aur kuch aata rehta hai continue ki manovaigyanik pareshani ka karan ban jata hai

लेकिन कहीं ना कहीं रिलेटेड तो होता ही है हम जो भी काम करते हैं उसमें कुछ ना कुछ टेलिंग जल्

Romanized Version
Likes  38  Dislikes    views  617
WhatsApp_icon
user

Deepinder Sekhon

Mental Health Care

0:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बहुत बड़ा दिल है बिल्कुल आपके पास टाइम नहीं है आपने आपके लिए आपके पास टाइम नहीं है अपनी फैमिली के लिए और इतनी इन बोल्ड हो चुके वकील आई स्थाई बिल्कुल में स्टाफ है अब मेट्रोपॉलिटन सुबह उठते हैं रात को घर आते हैं खाना बनाने का भी टाइम नहीं है फिर पीछे से खाना बना दिया ऊपर से बच्चे पैदा कर लिए फिर बच्चों को लुक आफ्टर कर रही है कितने कैसे तुम्हारे पास आते हैं जहां पर रिकॉर्डर वाले बच्चे और पैरंट कह रहे हैं कि हमारे पास तो टाइम भी है बिल्कुल को देखने के लिए कमाई कौन करेगा तो फिर क्या होगा वह वोट किस चीज को किसकी तरफ जा रहे हो आपके प्रश्न की तरफ जा रहे हो आपकी तरफ जा रहे हो तो लाइक नहीं करते हम अपनी बहन हेल्प नहीं करेंगे

bahut bada dil hai bilkul aapke paas time nahi hai aapne aapke liye aapke paas time nahi hai apni family ke liye aur itni in bold ho chuke vakil I sthai bilkul mein staff hai ab metropolitan subah uthte hain raat ko ghar aate hain khana banaane ka bhi time nahi hai phir peeche se khana bana diya upar se bacche paida kar liye phir bacchon ko look after kar rahi hai kitne kaise tumhare paas aate hain jahan par recorder waale bacche aur pairant keh rahe hain ki hamare paas toh time bhi hai bilkul ko dekhne ke liye kamai kaun karega toh phir kya hoga vaah vote kis cheez ko kiski taraf ja rahe ho aapke prashna ki taraf ja rahe ho aapki taraf ja rahe ho toh like nahi karte hum apni behen help nahi karenge

बहुत बड़ा दिल है बिल्कुल आपके पास टाइम नहीं है आपने आपके लिए आपके पास टाइम नहीं है अपनी फै

Romanized Version
Likes  27  Dislikes    views  433
WhatsApp_icon
user

Nida

Teacher-3years experience in Science in Different Schoolhttps://applink.khabri.app/83j6maFvp7VdH4MM9c

0:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी बिल्कुल आज की कार्य संस्कृति हमारे मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दे में योगदान दे रही है फर्क इतना है कि हम उसे किस तरह से अचीव कर रहे हैं

ji bilkul aaj ki karya sanskriti hamare mansik swasthya ke mudde mein yogdan de rahi hai fark itna hai ki hum use kis tarah se achieve kar rahe hain

जी बिल्कुल आज की कार्य संस्कृति हमारे मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दे में योगदान दे रही है फर्क

Romanized Version
Likes  38  Dislikes    views  755
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
अंबिग्विटी ; kya de rahi hai ; mansik swasthya ka arth ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!