अहोई अष्टमी कब मनाते हैं?...


user

🇮🇳 pt.sudhakar shukla🇮🇳

🦚Birth kundli Specialist🌹Jyotishi Kendra🇮🇳भारत भाग्य विधाता 🇮🇳 social Work Associate Professionals🌹 jitendra Shukla🇮🇳🚩 9517287000🚩

4:03
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह व्रत कार्तिक मास दीपावली जो कार्तिक अमावस्या को दीपावली मनाई जाती है उससे 1 सप्ताह पहले कार्तिक अष्टमी को अहोई अष्टमी के रूप में मनाया जाता है छोटे छोटे बच्चे के कल्याण के लिए पुत्र की दीर्घायु के लिए आवश्यक समृद्धि के लिए माताएं अहोई मां की पूजा करके या व्रत रखती हैं इस बार की दीपावली होती है अहोई अष्टमी भी उसी वालों की होती है जैसे रविवार को मान लेते हैं दीपावली पढ़ने वाले तो उससे एक हफ्ता पहले कर रविवार करवा चौथ के समान ही अहोई अष्टमी एक महत्वपूर्ण त्यौहार है करवा चौथ का व्रत स्त्री द्वारा पति की दीर्घायु की कामना हेतु किया जाता है और आयुष हुई अष्टमी का व्रत पुत्रों की दीर्घायु तथा मंगल कामना के लिए किया जाता है एक दिन सायंकाल दीवार पर आठ कोने वाली एक पुतली अंकित की जाती है उस पुतली के पास ही चाहिए माता जी तथा उसके बच्चों के चित्र भी बनाए जाते हैं फिर पृथ्वी की शुद्धि और पवित्र कर एक लोटे से जल भरकर एक पीड़ा पाठ कलर्स की भांति रखकर अहोई माता की कथा सुनी जाती है पूजा के पहले एक चांदी की अहोई माता बनवाएं और चांदी के मोती भी बनवाए जिस प्रकार गले में पहनने के हार में पेंडल लगा होता है उसी प्रकार चांदी की लड़ाई और दौरे में चांदी के दाने दल वाले सिरोही की रोली चावल दुधवा भारत से पूजा करें जल से भरे लौटे कलश पर रखें एक कटोरी में हलवा तथा रुपए का बायना जो बांटने के लिए होता है अर्थात पुत्र या इन सभी लोगों के लिए रख लें और 7 दाने गेहूं के लेकर कथा सुने यह कोई कथा होती है जो माताएं बोलती हैं कथा सुनने के बाद वही की माला गले में पहन लें तथा जो आपसे बड़े हो उनसे उनका पैर छूकर आशीर्वाद लें और चंद्रमा को अर्घ्य दें फिर दीपावली के बाद किसी अच्छे दिन अहोई की माला को उतार कर उसकी पूजा करके गुड़ का भोग लगाकर जल के छींटे दें और अगले वर्ष उपयोग के लिए संभाल कर रखें दूसरा पुत्र उत्पन्न होने पर इसकी माला से चांदी दो मोती तथा डलवा लिए जाते हैं ताकि से स्त्री जितने पुत्र होते हैं उसी प्रकार से उसको बनवाकर रहती है ठीक है तथा एक साहूकार जी की कथा होती है जिसके साथ बैठे होते हैं बेटी होती है उसके सभी पुत्र का विवाह हो चुका होता है दीपावली से पहले 7 ओवरों में अपनी ननद के साथ जंगल में मिट्टी लेने गई वहां पर मिट्टी खोद रही थी वही है क्या ही की मांग से मिट्टी खोदने सोते समय ननंद के हाथ याहू का बच्चा मर गया इससे क्रुद्ध होकर शाहू माता बोली मैं तेरे को मतलब उसको मार दूंगी तो मतलब आप के पुत्रों को मैं मार दूंगी या काट लूंगी सब भाभी अपने अपने अपने बच्चों को बचाने के लिए अपनी सासू मां से पूछो विचार किया और उसी प्रकार से यह कथाएं हैं जो माताएं बहने सुनाती है संभवत राम को संपूर्ण नहीं आती

yah vrat kartik mass deepawali jo kartik amavasya ko deepawali manai jaati hai usse 1 saptah pehle kartik ashtami ko ahoi ashtami ke roop me manaya jata hai chote chote bacche ke kalyan ke liye putra ki dirghayu ke liye aavashyak samridhi ke liye matayein ahoi maa ki puja karke ya vrat rakhti hain is baar ki deepawali hoti hai ahoi ashtami bhi usi walon ki hoti hai jaise raviwar ko maan lete hain deepawali padhne waale toh usse ek hafta pehle kar raviwar karva chauth ke saman hi ahoi ashtami ek mahatvapurna tyohar hai karva chauth ka vrat stree dwara pati ki dirghayu ki kamna hetu kiya jata hai aur ayush hui ashtami ka vrat putron ki dirghayu tatha mangal kamna ke liye kiya jata hai ek din sayankal deewaar par aath kone wali ek putali ankit ki jaati hai us putali ke paas hi chahiye mata ji tatha uske baccho ke chitra bhi banaye jaate hain phir prithvi ki shudhi aur pavitra kar ek lote se jal bharkar ek peeda path colors ki bhanti rakhakar ahoi mata ki katha suni jaati hai puja ke pehle ek chaandi ki ahoi mata banwaye aur chaandi ke moti bhi banwaye jis prakar gale me pahanne ke haar me pendal laga hota hai usi prakar chaandi ki ladai aur daure me chaandi ke daane dal waale sirohi ki roli chawal dudhwa bharat se puja kare jal se bhare laute kalash par rakhen ek katori me halwa tatha rupaye ka bayna jo baantne ke liye hota hai arthat putra ya in sabhi logo ke liye rakh le aur 7 daane gehun ke lekar katha sune yah koi katha hoti hai jo matayein bolti hain katha sunne ke baad wahi ki mala gale me pahan le tatha jo aapse bade ho unse unka pair chhukar ashirvaad le aur chandrama ko arghya de phir deepawali ke baad kisi acche din ahoi ki mala ko utar kar uski puja karke good ka bhog lagakar jal ke chheente de aur agle varsh upyog ke liye sambhaal kar rakhen doosra putra utpann hone par iski mala se chaandi do moti tatha dalwa liye jaate hain taki se stree jitne putra hote hain usi prakar se usko banavakar rehti hai theek hai tatha ek sahukar ji ki katha hoti hai jiske saath baithe hote hain beti hoti hai uske sabhi putra ka vivah ho chuka hota hai deepawali se pehle 7 ovaron me apni nanad ke saath jungle me mitti lene gayi wahan par mitti khod rahi thi wahi hai kya hi ki maang se mitti khodne sote samay nanand ke hath yahoo ka baccha mar gaya isse kruddh hokar shahu mata boli main tere ko matlab usko maar dungi toh matlab aap ke putron ko main maar dungi ya kaat lungi sab bhabhi apne apne apne baccho ko bachane ke liye apni sasu maa se pucho vichar kiya aur usi prakar se yah kathaen hain jo matayein behne sunati hai sambhavat ram ko sampurna nahi aati

यह व्रत कार्तिक मास दीपावली जो कार्तिक अमावस्या को दीपावली मनाई जाती है उससे 1 सप्ताह पहले

Romanized Version
Likes  78  Dislikes    views  1950
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!