दोहावली किसकी रचना है?...


user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने क्वेश्चन पूछा दोहावली की रचना किसने की थी तो इसका सही जवाब है सुधा सूरदास ने दोहावली की रचना की थी धन्यवाद

aapne question poocha dohavali ki rachna kisne ki thi toh iska sahi jawab hai sudha surdas ne dohavali ki rachna ki thi dhanyavad

आपने क्वेश्चन पूछा दोहावली की रचना किसने की थी तो इसका सही जवाब है सुधा सूरदास ने दोहावली

Romanized Version
Likes  30  Dislikes    views  535
WhatsApp_icon
8 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

BOB

Teacher

0:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दोहावली जो है और तुलसी तुलसीदास जी की रचनाएं हैं और उनकी रचनाओं को दोहा कहा जाता है

dohavali jo hai aur tulsi tulsidas ji ki rachnaye hain aur unki rachnaon ko doha kaha jata hai

दोहावली जो है और तुलसी तुलसीदास जी की रचनाएं हैं और उनकी रचनाओं को दोहा कहा जाता है

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  363
WhatsApp_icon
user

विकास सिंह

दिल से भारतीय

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दोहावली किसकी रचना है दोहावली जिसको आप तुलसी दोहावली के नाम से भी जान सकते हैं या जाने जाते हैं यह तुलसीदास की रचनाएं तुलसीदास जो कि आप एक बहुत ही अच्छे पॉइंट और संत बोल सकते हैं 1 फ्लोर पर बोल सकते हैं इनका जन्म 1511 में बांदा में हुआ था और उनका देहांत 1633 में हुआ था हिंदी साहित्य के महान कवि थे

dohavali kiski rachna hai dohavali jisko aap tulsi dohavali ke naam se bhi jaan sakte hai ya jaane jaate hai yah tulsidas ki rachnaye tulsidas jo ki aap ek BA hut hi acche point aur sant bol sakte hai 1 floor par bol sakte hai inka janam 1511 mein BA nda mein hua tha aur unka dehant 1633 mein hua tha hindi sahitya ke mahaan kabhi the

दोहावली किसकी रचना है दोहावली जिसको आप तुलसी दोहावली के नाम से भी जान सकते हैं या जाने जात

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  157
WhatsApp_icon
user

Rahul kumar

Junior Volunteer

0:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दोहावली किसकी रचना है तो दोहावली जो है हमारे भारत के बहुत ही महान कवि महान संत बोल सकते हैं तुलसीदास जी की रचना है और इस दोहावली में श्रीराम की जीवन कथा के बारे में वर्णन किया गया है यह भारत का प्रमुख धार्मिक ग्रंथों में से एक है और इस दोहावली के अंदर में 573 दोहे हैं उनकी कुल पृष्ठ संख्या 57 है इसमें की 573 दोहे लिखे गए हैं और इस बदलाव के लिए बुक्स मैं आपको हर हर जगह अवेलेबल है आप चाहे तो खरीद सकते हैं पढ़ सकते हैं और अच्छी बुक है

dohavali kiski rachna hai toh dohavali jo hai hamare bharat ke BA hut hi mahaan kabhi mahaan sant bol sakte hai tulsidas ji ki rachna hai aur is dohavali mein shriram ki jeevan katha ke BA re mein varnan kiya gaya hai yah bharat ka pramukh dharmik granthon mein se ek hai aur is dohavali ke andar mein 573 dohe hai unki kul prishth sankhya 57 hai isme ki 573 dohe likhe gaye hai aur is BA dlav ke liye books main aapko har har jagah available hai aap chahen toh kharid sakte hai padh sakte hai aur achi book hai

दोहावली किसकी रचना है तो दोहावली जो है हमारे भारत के बहुत ही महान कवि महान संत बोल सकते है

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  160
WhatsApp_icon
user

Gulnaz

लेवल 1 (बिगिनर)

1:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दोहावली किसकी रचना है देखिए दोहावली यह जो है तुलसीदास के दोहों की एक संग्रह ग्रंथ है इसकी मुद्रित पाठ में 573 दो है इन्हीं दोनों में उनके दोहे गोस्वामी तुलसीदास के अन्य ग्रंथों में आप ही मिलते हैं और उन से लिए गए हैं उदाहरण आता बहुत ही राम चरित्र मानस और समय के प्रश्न से लिए गए हैं फिर उन्होंने रचनाओं के दोहे वाली में लिए गए हैं उन्हें तथा इसे प्रमाणित तो यह कि नहीं आ रहा है निश्चिंत प्रसंग और अपने पसंद से निकाले लिए जाने वाली मशीन मूल्य ज्ञात होते हैं तो दोहे वाले की यह दुआ है भी कविताएं बाली की उपयुक्त और चंदन की भर्ती कवि के जीवन के अंतिम भाग से संबंध रखते हैं आप पर भी आज जो है असंभव नहीं है कि दोहे पर लिखी चिन्हित दो जो है रचना बियर कविता वाली की चंदू की भर्ती तुलसीदास के कवि जीवन के उतार की है किंतु यह बात उतनी उतनी निश्चय के साथ कविता वाली ने सुन के विषय में भी खा गई है तो वह दोहे वाली की जरूरत नहीं है वह है और तुलसीदास जी हैं तो उनकी जीवन कविता के बारे में उन्होंने लिखा हुआ है

dohavali kiski rachna hai dekhiye dohavali yah jo hai tulsidas ke dohon ki ek sangrah granth hai iski mudrit path mein 573 do hai inhin dono mein unke dohe goswami tulsidas ke anya granthon mein aap hi milte hai aur un se liye gaye hai udaharan aata BA hut hi ram charitra manas aur samay ke prashna se liye gaye hai phir unhone rachnaon ke dohe wali mein liye gaye hai unhe tatha ise pramanit toh yah ki nahi aa raha hai nishchint prasang aur apne pasand se nikale liye jaane wali machine mulya gyaat hote hai toh dohe waale ki yah dua hai bhi kavitayen BA ali ki upyukt aur chandan ki bharti kabhi ke jeevan ke antim bhag se sambandh rakhte hai aap par bhi aaj jo hai asambhav nahi hai ki dohe par likhi chinhit do jo hai rachna beer kavita wali ki chandu ki bharti tulsidas ke kabhi jeevan ke utar ki hai kintu yah BA at utani utani nishchay ke saath kavita wali ne sun ke vishay mein bhi kha gayi hai toh vaah dohe wali ki zarurat nahi hai vaah hai aur tulsidas ji hai toh unki jeevan kavita ke BA re mein unhone likha hua hai

दोहावली किसकी रचना है देखिए दोहावली यह जो है तुलसीदास के दोहों की एक संग्रह ग्रंथ है इसकी

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  180
WhatsApp_icon
play
user

Rohit Singh

Junior Volunteer

0:11

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दोहावली जो है वह तुलसीदास जी की रचनाएं और इसमें जो है काफी सारे दोहे हैं जिनको एक के बाद एक जीवन के ऊपर आधारित करके बताया गया

dohavali jo hai vaah tulsidas ji ki rachnaye aur isme jo hai kaafi saare dohe hai jinako ek ke BA ad ek jeevan ke upar aadharit karke BA taya gaya

दोहावली जो है वह तुलसीदास जी की रचनाएं और इसमें जो है काफी सारे दोहे हैं जिनको एक के बाद ए

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  1
WhatsApp_icon
user

Manish Singh

VOLUNTEER

0:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लिखित दोहावली जो है जिसका अंत तुलसी दोहावली भी कह सकते हैं वह तुलसीदास जी की रचना है जो कि एक बहुत प्रमुख महान पुण्य कमाए जाते हैं जिनका हिंदी और संस्कृत भाषा तो बहुत अच्छी पकड़ थी तो यह जो तुलसी दोहावली दोहावली है और यह तुलसी दोहावली आप जो भी से कहें वह तुलसीदास जी की रचना है

likhit dohavali jo hai jiska ant tulsi dohavali bhi keh sakte hai vaah tulsidas ji ki rachna hai jo ki ek BA hut pramukh mahaan punya kamaye jaate hai jinka hindi aur sanskrit bhasha toh BA hut achi pakad thi toh yah jo tulsi dohavali dohavali hai aur yah tulsi dohavali aap jo bhi se kahein vaah tulsidas ji ki rachna hai

लिखित दोहावली जो है जिसका अंत तुलसी दोहावली भी कह सकते हैं वह तुलसीदास जी की रचना है जो कि

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  127
WhatsApp_icon
user

gurpreet singh

Computer graduate

0:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दोहावली दोहावली जो है वह तुलसीदास के दोहों की एक संख्या ग्रंथ हैं जिसके मुद्रित 573 दोहे हैं इन्हीं दोनों में उनके दोहे गोस्वामी तुलसीदास के अन्य ग्रंथों में मिलते हैं

dohavali dohavali jo hai vaah tulsidas ke dohon ki ek sankhya granth hai jiske mudrit 573 dohe hai inhin dono mein unke dohe goswami tulsidas ke anya granthon mein milte hain

दोहावली दोहावली जो है वह तुलसीदास के दोहों की एक संख्या ग्रंथ हैं जिसके मुद्रित 573 दोहे ह

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  176
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
dohavali kiski rachna hai ; doha course kiski rachna hai ; dohawali kiski rachna hai ; दोहावली किसकी रचना है ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!