मैं छोटी छोटी बातों पर ग़ुस्सा हो जाता हूँ। मैं अपने ग़ुस्से को कंट्रोल करना चाहता हूँ, पर कर नहीं पाता हूँ, ऐसे में मुझे क्या करना चाहिए?...


user

Kavita Panyam

Certified Award Winning Counseling Psychologist

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जिंदगी में हम सिर्फ दो ही तरह कैसे जी सकते हैं एक होता है लाभ और एक होता है फिर इनकी एक होता है प्यार का पद और दूसरा होता है डर का पद अगर आप प्यार को चलेंगे तो आप हमेशा पॉजिटिव रहेंगे और अगर आप डर कुछ नहीं तो आपके मन में गुस्सा दुख वाली फीलिंग और साजिद नेगेटिव फीलिंग होती है तभी आती है अगर आप फीयर बेस्ट मोड्स ऑपरेट करते हैं तो तो अगर आपको छोटी बातों पर गुस्सा आ रहा है तो प्लीज आप देखिए कि आपको किस बात से परेशानी है कहां पर आपके लाइफ में आपको डर लग रहा है आप कहां पर फंसे हुए हैं कहां पर वेयर आर यू स्ट्रक हो सकता है कि वहां पर आपकी बात छोड़ भी ना हो इसलिए वह आपकी पूरी लाइफ में कहीं ना कहीं वो प्रॉब्लम जो है वह झलक रही है आपको उसकी झलक जो है आपके हरेक लाइफ के एरिया में नजर आ रही है क्योंकि आपका मुझे बेसिक यीशु है आरकब रिजल्ट नहीं हुआ है तो आपको चाहिए कि आप उसको आईडेंटिफाई करें कि वह कौन सी चीज है जो आपकी रोल में ही हुए हैं जो फिर से नहीं है और उसके बाद जब उस उनको आप खुल जाएंगे तो फिर आप इस डर से बाहर आएंगे उसके बाद आपको गुस्सा नहीं आएगा कब आएगा और फिर आप 19 बंदगी जी पाएंगे बेहाला को गुस्सा आता है तो आपको चाहिए कि आप फटाफट रिपोर्ट न करें रियत नगर फोन करना सीखिए जब गुस्सा आता है किसी ने कुछ कह दिया उतना उतना ही उत्तर इमोशनल ना हो लेकिन आप ज्यादा गुस्सा कर रहे हैं पिक्चर क्वॉलिटी पहले से ही परेशान हैं तो आपको चाहिए कि आप उस रूम से चले जाइए उस जगह से चले जाइए बाहर चले जाइए एक वन टू टेन अकाउंट कीजिए थोड़ा शांत रहिए क्योंकि गुस्सा आने के लिए शांत रहना बहुत जरूरी होता है जिसके लिए आपको चाहिए कि आपका मेंटल मेकअप ऐसा हो कि आप जल्दी इन से घटना हुई है कोई आपको गुस्सा दिलाता है तो आपको लगता है कि उधर आ रहा है लेकिन ऐसा नहीं है वह आपका रिएक्शन है तो पिता रेंट पर कीजिए कि आपका डर आपके लाइफ में कहां पर मौजूद

zindagi mein hum sirf do hi tarah kaise ji sakte hain ek hota hai labh aur ek hota hai phir inki ek hota hai pyar ka pad aur doosra hota hai dar ka pad agar aap pyar ko chalenge toh aap hamesha positive rahenge aur agar aap dar kuch nahi toh aapke man mein gussa dukh wali feeling aur sajid Negative feeling hoti hai tabhi aati hai agar aap fear best mods operate karte hain toh toh agar aapko choti baaton par gussa aa raha hai toh please aap dekhiye ki aapko kis baat se pareshani hai kahaan par aapke life mein aapko dar lag raha hai aap kahaan par fanse hue hain kahaan par where R you struck ho sakta hai ki wahan par aapki baat chod bhi na ho isliye vaah aapki puri life mein kahin na kahin vo problem jo hai vaah jhalak rahi hai aapko uski jhalak jo hai aapke harek life ke area mein nazar aa rahi hai kyonki aapka mujhe basic yeshu hai arakab result nahi hua hai toh aapko chahiye ki aap usko aidentifai kare ki vaah kaun si cheez hai jo aapki roll mein hi hue hain jo phir se nahi hai aur uske baad jab us unko aap khul jaenge toh phir aap is dar se bahar aayenge uske baad aapko gussa nahi aayega kab aayega aur phir aap 19 bandagi ji payenge behala ko gussa aata hai toh aapko chahiye ki aap phataphat report na kare riyat nagar phone karna sikhiye jab gussa aata hai kisi ne kuch keh diya utana utana hi uttar emotional na ho lekin aap zyada gussa kar rahe hain picture quality pehle se hi pareshan hain toh aapko chahiye ki aap us room se chale jaiye us jagah se chale jaiye bahar chale jaiye ek van to ten account kijiye thoda shaant rahiye kyonki gussa aane ke liye shaant rehna bahut zaroori hota hai jiske liye aapko chahiye ki aapka mental makeup aisa ho ki aap jaldi in se ghatna hui hai koi aapko gussa dilata hai toh aapko lagta hai ki udhar aa raha hai lekin aisa nahi hai vaah aapka reaction hai toh pita rent par kijiye ki aapka dar aapke life mein kahaan par maujud

जिंदगी में हम सिर्फ दो ही तरह कैसे जी सकते हैं एक होता है लाभ और एक होता है फिर इनकी एक हो

Romanized Version
Likes  64  Dislikes    views  1199
WhatsApp_icon
21 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Dr.Rinita Jain

Consultant psychologist

1:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आमतौर पर हमें गुस्सा तभी आता है जब हम कुछ भी गलत होने पर दूसरे को जिम्मेदार ठहराते हैं छोटी-छोटी बातें आपको बड़ी-बड़ी लगने लगती है क्योंकि आप उन्हें तूल देते हो सहज नहीं ले पाते गुस्सा नियंत्रण करने के बहुत सारे तरीके हैं लेकिन सबसे पहले मैं बोलना सीखना पड़ेगा हम मैं उपलब्धि के लिए और दूसरे को असफलता के लिए उपयोग करते हैं बदलाव करके देखिए गुस्सा नियंत्रित होगा एवं काम में मन लगेगा जीवन में इन्हें अपने साथ जोड़े जैसे बोलने से पहले सूची गुस्सा आने पर सामने वाले से लड़ने की जगह अपनी भावनाएं व्यक्त करें गुस्सा दिलाने वाली परिस्थितियों को समझ कर उसका उपाय करने में अपनी ऊर्जा खर्च करें माफ करना सीखे अगर आपको व्यक्ति गलत लगता है तो उसे माफ़ अपने लिए करें उससे उसकी गलतियों के साथ छोड़ दे जीवन में हास्य रस लाइए योग व्यायाम को दैनिक हिस्सा बनाइए वृद्धि एक्सरसाइज गुस्सा नियंत्रित करने में सहायक होती है अगर फिर भी आप गुस्से पर नियंत्रण नहीं कर पा रही हैं तो व्यवस्था एक परामर्श

aamtaur par hamein gussa tabhi aata hai jab hum kuch bhi galat hone par dusre ko zimmedar thahrate hain choti choti batein aapko badi badi lagne lagti hai kyonki aap unhe tool dete ho sehaz nahi le paate gussa niyantran karne ke bahut saare tarike hain lekin sabse pehle main bolna sikhna padega hum main upalabdhi ke liye aur dusre ko asafaltaa ke liye upyog karte hain badlav karke dekhiye gussa niyantrit hoga evam kaam mein man lagega jeevan mein inhen apne saath jode jaise bolne se pehle suchi gussa aane par saamne waale se ladane ki jagah apni bhaavnaye vyakt kare gussa dilaane wali paristhitiyon ko samajh kar uska upay karne mein apni urja kharch kare maaf karna sikhe agar aapko vyakti galat lagta hai toh use maaf apne liye kare usse uski galatiyon ke saath chod de jeevan mein hasya ras laiye yog vyayam ko dainik hissa banaiye vriddhi exercise gussa niyantrit karne mein sahayak hoti hai agar phir bhi aap gusse par niyantran nahi kar paa rahi hain toh vyavastha ek paramarsh

आमतौर पर हमें गुस्सा तभी आता है जब हम कुछ भी गलत होने पर दूसरे को जिम्मेदार ठहराते हैं छोट

Romanized Version
Likes  21  Dislikes    views  630
WhatsApp_icon
play
user

Mahika Sharma

Clinical Psychologist

1:49

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पहली बार तो उनको अपने बारे में हम सेंड करते अपनी बारी में ज्ञान होना कि हमें किस तरह का इंसान हूं मेरे क्या-क्या आदित्य है क्या चीजें मुझे पसंद ना पसंद है और किन-किन कारणों से अक्सर मुझे गुस्सा आ जाता है आज पहली बार उनको यह आईडिया लग जाए तो फिर वह अपने आप को संभाल पाएंगे कि आप अपने आप को बेहतर तैयार कर पाएंगे ओंकारा की सिचुएशन के लिए जिम में उनको ज्यादा गुस्सा आने के चांस हैं पहला यह कि ना कभी कभी हमारी बात नहीं होता है तो उनके लिए उनको मेरी तरफ से यही एडवाइजरी की कि वह अपने और जो गुस्से के समय में जो खयाल आते हैं उनका लूपर अमरनाथ अक्सर रुता में बहुत ही घृणा वाले ख्याल आते हैं गुस्से का भी ख्याल आते हमारे ख्याल और हमारी बारी भोरी दूसरे को मैच करते हैं एक ही राखी चलते हैं तो उस समय में बहुत ज्यादा दबाव बहुत ज्यादा गुस्से वाला है तो खराबी बहुत ज्यादा कुत्ते वाला ही आएगा उस पर हमारा मन ना करे गुस्सा आया और उसको जाने को रोकने की जगह या दूसरे के प्रति को व्यवहारिक रूप में उसको निकालने की जगह को महसूस करने दे अपने आपको हमारे बारे में बदलाव आने के चांस इंस्पेक्टर बेहतर होता है उस गुस्से को महसूस करना अब कुत्ते वाली ख्याल ऊपर अमर ना करना और व्यवहारिक रूप से उसको ना निकालना पड़ेगा अलग-अलग तरीकों से उसको निकालने की कोशिश करना उससे काफी अच्छी

pehli baar toh unko apne bare mein hum send karte apni baari mein gyaan hona ki hamein kis tarah ka insaan hoon mere kya kya aditya hai kya cheezen mujhe pasand na pasand hai aur kin kin karanon se aksar mujhe gussa aa jata hai aaj pehli baar unko yah idea lag jaaye toh phir vaah apne aap ko sambhaal payenge ki aap apne aap ko behtar taiyar kar payenge onkara ki situation ke liye gym mein unko zyada gussa aane ke chance hain pehla yah ki na kabhi kabhi hamari baat nahi hota hai toh unke liye unko meri taraf se yahi advisory ki ki vaah apne aur jo gusse ke samay mein jo khayal aate hain unka lupar amarnath aksar ruta mein bahut hi ghrina waale khayal aate hain gusse ka bhi khayal aate hamare khayal aur hamari baari bhori dusre ko match karte hain ek hi rakhi chalte hain toh us samay mein bahut zyada dabaav bahut zyada gusse vala hai toh kharabi bahut zyada kutte vala hi aayega us par hamara man na kare gussa aaya aur usko jaane ko rokne ki jagah ya dusre ke prati ko vyavaharik roop mein usko nikalne ki jagah ko mehsus karne de apne aapko hamare bare mein badlav aane ke chance inspector behtar hota hai us gusse ko mehsus karna ab kutte wali khayal upar amar na karna aur vyavaharik roop se usko na nikalna padega alag alag trikon se usko nikalne ki koshish karna usse kaafi achi

पहली बार तो उनको अपने बारे में हम सेंड करते अपनी बारी में ज्ञान होना कि हमें किस तरह का इं

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  730
WhatsApp_icon
user

dr. Meena pathak

clinical Psychologist

0:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

उसके लिए कहीं ना कहीं हम का फैमिली एनवायरमेंट या फिर स्कूल का इन्वायरमेंट या फिर तो उनका आचरण करना चाहिए क्योंकि जब छोटे थे रेंट का टाइम 9:00 ना बच्चों को वह भी बहुत हद तक किस चीज में हिस्सा लेता है कि अगर तेरे अपने बच्चों को टाइम नहीं देते तो बच्चे हो जाते हैं और जिनके बार-बार गुस्सा होता है तो या तो कोई जुगाड़ के लिए किसी की यह कहां से क्यों होता है ऐसा होता कि नहीं

uske liye kahin na kahin hum ka family environment ya phir school ka environment ya phir toh unka aacharan karna chahiye kyonki jab chote the rent ka time 9 00 na baccho ko vaah bhi bahut had tak kis cheez mein hissa leta hai ki agar tere apne baccho ko time nahi dete toh bacche ho jaate hain aur jinke baar baar gussa hota hai toh ya toh koi jugaad ke liye kisi ki yah kahaan se kyon hota hai aisa hota ki nahi

उसके लिए कहीं ना कहीं हम का फैमिली एनवायरमेंट या फिर स्कूल का इन्वायरमेंट या फिर तो उनका आ

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  81
WhatsApp_icon
user

Jitendra Goswami

Meditation Expert

9:03
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे दोस्त आपका सवाल है मैं छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा हो जाता हूं मैं अपने गुस्से को कंट्रोल करना चाहता हूं पर कर नहीं पाता हूं ऐसे मुझे क्या करना चाहिए तो दोस्त सबसे पहले आपके बारे में एक बात बता दूं कि आप बहुत ही साफ दिल के हैं अगर आपको इतना गुस्सा आता है कि आप उसे कंट्रोल करना चाहते हैं उसके दुष्परिणाम आप जान रहे हैं लेकिन फिर भी आप से रुकता नहीं है और बाद में आपको पछतावा होता है तो यह समझ लीजिए आपकी दूर आपके हाथ में अब नहीं रही है आपकी दूर आपकी आत्मा कंट्रोल कर रही है इसलिए आप रोक नहीं पाते हैं तो इस बात की तो बधाई हो कि आप बहुत ही नेक दिल इंसान जरूर आपने कुछ ऐसे काम भी किए होंगे जो बेईमान लोग करते हैं जो पापी लोग करते हैं लेकिन वह सब आपने मजबूरी में किए हुए उन सब को करने के बाद आप पछतावा होता होगा और शायद आदमी होगा तो यह गुस्सा आपको छोटी-छोटी बातों में आ रहा है यह गुस्सा है जो गुस्सा लोगों ने आपको बुलाया है जो लोगों ने आप पर किया है जवाब छोटे थे तो आपके मां-बाप चिल्लाते हुए इधर मत जा मत जा अगर कोई मां आती है 1 बच्चे खिलाती है करनी क्यों चिल्लाई हाई वाइब्रेशन किया तुरंत निकाल पाए रिटर्न न कर पाए बेड थिंकिंग भारी है यह सब जो निकल रही है तो निकलने दो जो गुस्सा आ रहा है निकलने दो लेकिन कोशिश करो कोशिश भी मत करो तुम तो तुमको खाली ध्यान दो कि तुम कर क्या रहा हूं जब तुम्हें किसी चीज को गुस्सा आए तो इस गुस्से का कारण जरूर होगा तुरंत हमारा जो गुस्सा है हमारी जो आत्मा है वह तो इसलिए बैठी है कि इसके अंदर आया कुछ है तो उसे मौका मिले हो वह बाहर निकाल सके क्योंकि अंदर से हर कोई खाली होना चाहता है इसीलिए तुमने देखा नहीं हर कोई अगर कोई किसी को कुछ सुनाने लगता है तो कितनी बातें समय कहां कहां की बातें सुना था उसे भी नहीं पता कि वह तो मोकामा से ऐसी तुम्हारे अंदर गुस्सा कूट-कूट कर भरा हुआ है और तुम्हारी आत्मा मौके की तलाश में रहती है कि कब यह गुस्सा निकाल सके तो तुम लोगों में गलतियां देख लेते हो रियल में तुम अपने अंदर कोई धारणा बनाते बना देते हो कि इस प्रकार के कार्य करें ऐसा आपके साथ करें लेकिन वह आपके साथ बैठा नहीं करता उसको लगता है आपको पता चल जाता कि मौका है अब आप उस को कंट्रोल कैसे कर पाएंगे नहीं कर सकते क्योंकि मान लीजिए आपके पिता ने आपको ₹200 दूसरों का गुस्सा आपके पिता के पास ₹200 रखे हैं उन्हें जमा कर रखे आप सोच रहे कि यह ₹200 ₹200 पाकर बाजार से राशन लेकर आ अब आप तो बहुत कोशिश कर रहे हैं कि मैं ना जाऊं ना जाऊं ना जाऊं लेकिन बाप साडे ₹200 का खर्च करके आ रही है राशन लेकर आना है या लेकर आना पड़ेगा आत्मा बैठी है आपके अंदर सुपरकॉन्शियस बैठा हुआ है वह सब जानता है उसने आपको गुस्सा पकड़ा दिया उसने मौका देखा और आपको कुत्ता पकड़ा दिया आपको से करना पड़ेगा आप लाख कोशिश कर लोगे आप गुस्सा ना करें लेकिन उस समय तो आप भूल ही जाते हैं कि गुस्सा कर रहे हैं आपको पता है कि आप गुस्सा कर रहे तो आप बहुत बहुत अच्छी कंडीशन में है इन कुछ लोगों को पता भी नहीं होता कि वह गुस्सा कर रहे हैं और उनकी गलती है तो आखरी मगर आप देखोगे तो आपको आपकी ही गलती हो गई गुस्सा करने का आप क्यों गुस्सा कर रहे हैं वह किसी और में आपके अंदर भर रखा वापसी पर करें जिसकी बिल्कुल छोटी सी था जिसकी वजह से आपने गुस्सा निकाल दिया फाइंड माय न था लेकिन आपने उसको गुस्सा उड़ेल दिया सजावट उड़ेल दी आपने ऐसा करने लगते हैं कि किसी भी दोस्त किसी ने चोरी की है जो हजार ₹500 का जुर्माना देकर उसकी सजा माफ की जा सकती लेकिन आप उसे फांसी पर चढ़ाने की कोशिश करने लगे आप गुस्सा कर रहे हो उसकी उसका फाइल जरूर होगा लेकिन क्या वह फाइल इतना बड़ा है कि जिससे आप पहनना करता होगा क्योंकि गुड लेटर इंसान को गुस्सा नहीं आता है तो शायद होगा लेकिन उसको आप देखिए क्या है अगर आप सफल हो जाते हैं कि आपको गुस्सा क्रिकबज आ रहा है रियली कब तक गुस्सा कंट्रोल कर सकते लेकिन अगर आपको पता नहीं है कि आपको गुस्सा क्यों आया सारा गुस्सा कंट्रोल नहीं कर सकते हो इतनी बड़ी गलती है तो निकाल दो जब आप उसको गुस्सा निकाल लोगे तो उस गुस्से के दुष्परिणाम आपके मन को पता चलेंगे फिजिकल बॉडी को आपकी बुक गुस्से के उपाय रहे हो प्राप्ति आत्मा को अपने तन मन को पता चलेगा कि हर कहीं गुस्सा करने से क्या फायदा तो फिर गुस्सा करने लगेगा उन लोगों को भी देखो कि वास्तव में बोलो गुस्सा करने लायक से अब आप निकाल कर देख लो मैं तो कहता हूं आप एक बच्चे पर ही गुस्सा निकाल कर देख लो पूरी तरीके से प्यार करने के लिए क्या दबाना बहुत जब आप समझते जाएंगे गुस्से के दुष्परिणाम क्या है उसका किस वजह से आपको दोनों चीजें पता चल जाए आप गुस्सा कंट्रोल कर सकते आप अपनी एनर्जी का उपयोग कीजिए कहीं जिम जाने के लिए जिन पर लगाने लगी है सुबह सुबह जल्दी उठकर शुरू करेंगे तो कुछ ही देर में 21 से 2 मिनट के अंदर आप मन से सकता है दो ध्यान रखें दोनों की भी गलती हो सकती है जिसकी भी गलती हो सकती है और आपकी भी गलती हो सकती है यदि आपको पता चल जाएगा कि गुस्सा किस वजह से आ रहा है गुस्सा खत्म हो जाएगा और मुझे एनर्जी है जो दीवाल में ओपन चलाइए या फिर किसी तस्वीरें अपने हाथों का उपयोग कीजिए ना तो कॉफी पी लीजिए आप एनर्जी निकाल सकते हैं वह निकाल दीजिए का रूप लेकर बाहर आने की कोशिश करती है क्योंकि अंदर यह बहुत जमा हो रही हमको सेंड करते ही नहीं क्या मैं अपनी एनर्जी को बेस्ट कर सकें बनर्जी का बेस्ट करना बहुत जरूरी है शुक्रिया मेरे ख्याल से मैं आपको मेरे हिसाब से मेरी जानकारी के हिसाब से तो सही मार्गदर्शन दे पाया शुक्रिया

mere dost aapka sawaal hai main choti choti baaton par gussa ho jata hoon main apne gusse ko control karna chahta hoon par kar nahi pata hoon aise mujhe kya karna chahiye toh dost sabse pehle aapke bare me ek baat bata doon ki aap bahut hi saaf dil ke hain agar aapko itna gussa aata hai ki aap use control karna chahte hain uske dushparinaam aap jaan rahe hain lekin phir bhi aap se rukata nahi hai aur baad me aapko pachtava hota hai toh yah samajh lijiye aapki dur aapke hath me ab nahi rahi hai aapki dur aapki aatma control kar rahi hai isliye aap rok nahi paate hain toh is baat ki toh badhai ho ki aap bahut hi neck dil insaan zaroor aapne kuch aise kaam bhi kiye honge jo beiimaan log karte hain jo papi log karte hain lekin vaah sab aapne majburi me kiye hue un sab ko karne ke baad aap pachtava hota hoga aur shayad aadmi hoga toh yah gussa aapko choti choti baaton me aa raha hai yah gussa hai jo gussa logo ne aapko bulaya hai jo logo ne aap par kiya hai jawab chote the toh aapke maa baap chillate hue idhar mat ja mat ja agar koi maa aati hai 1 bacche khilati hai karni kyon chillai high vibration kiya turant nikaal paye return na kar paye bed thinking bhari hai yah sab jo nikal rahi hai toh nikalne do jo gussa aa raha hai nikalne do lekin koshish karo koshish bhi mat karo tum toh tumko khaali dhyan do ki tum kar kya raha hoon jab tumhe kisi cheez ko gussa aaye toh is gusse ka karan zaroor hoga turant hamara jo gussa hai hamari jo aatma hai vaah toh isliye baithi hai ki iske andar aaya kuch hai toh use mauka mile ho vaah bahar nikaal sake kyonki andar se har koi khaali hona chahta hai isliye tumne dekha nahi har koi agar koi kisi ko kuch sunaane lagta hai toh kitni batein samay kaha kaha ki batein suna tha use bhi nahi pata ki vaah toh mokama se aisi tumhare andar gussa kut kut kar bhara hua hai aur tumhari aatma mauke ki talash me rehti hai ki kab yah gussa nikaal sake toh tum logo me galtiya dekh lete ho real me tum apne andar koi dharana banate bana dete ho ki is prakar ke karya kare aisa aapke saath kare lekin vaah aapke saath baitha nahi karta usko lagta hai aapko pata chal jata ki mauka hai ab aap us ko control kaise kar payenge nahi kar sakte kyonki maan lijiye aapke pita ne aapko Rs dusro ka gussa aapke pita ke paas Rs rakhe hain unhe jama kar rakhe aap soch rahe ki yah Rs Rs pakar bazaar se raashan lekar aa ab aap toh bahut koshish kar rahe hain ki main na jaaun na jaaun na jaaun lekin baap saade Rs ka kharch karke aa rahi hai raashan lekar aana hai ya lekar aana padega aatma baithi hai aapke andar suparakanshiyas baitha hua hai vaah sab jaanta hai usne aapko gussa pakada diya usne mauka dekha aur aapko kutta pakada diya aapko se karna padega aap lakh koshish kar loge aap gussa na kare lekin us samay toh aap bhool hi jaate hain ki gussa kar rahe hain aapko pata hai ki aap gussa kar rahe toh aap bahut bahut achi condition me hai in kuch logo ko pata bhi nahi hota ki vaah gussa kar rahe hain aur unki galti hai toh aakhri magar aap dekhoge toh aapko aapki hi galti ho gayi gussa karne ka aap kyon gussa kar rahe hain vaah kisi aur me aapke andar bhar rakha wapsi par kare jiski bilkul choti si tha jiski wajah se aapne gussa nikaal diya find my na tha lekin aapne usko gussa udel diya sajawat udel di aapne aisa karne lagte hain ki kisi bhi dost kisi ne chori ki hai jo hazaar Rs ka jurmana dekar uski saza maaf ki ja sakti lekin aap use fansi par chadhane ki koshish karne lage aap gussa kar rahe ho uski uska file zaroor hoga lekin kya vaah file itna bada hai ki jisse aap pahanna karta hoga kyonki good letter insaan ko gussa nahi aata hai toh shayad hoga lekin usko aap dekhiye kya hai agar aap safal ho jaate hain ki aapko gussa krikabaj aa raha hai really kab tak gussa control kar sakte lekin agar aapko pata nahi hai ki aapko gussa kyon aaya saara gussa control nahi kar sakte ho itni badi galti hai toh nikaal do jab aap usko gussa nikaal loge toh us gusse ke dushparinaam aapke man ko pata chalenge physical body ko aapki book gusse ke upay rahe ho prapti aatma ko apne tan man ko pata chalega ki har kahin gussa karne se kya fayda toh phir gussa karne lagega un logo ko bhi dekho ki vaastav me bolo gussa karne layak se ab aap nikaal kar dekh lo main toh kahata hoon aap ek bacche par hi gussa nikaal kar dekh lo puri tarike se pyar karne ke liye kya dabana bahut jab aap samajhte jaenge gusse ke dushparinaam kya hai uska kis wajah se aapko dono cheezen pata chal jaaye aap gussa control kar sakte aap apni energy ka upyog kijiye kahin gym jaane ke liye jin par lagane lagi hai subah subah jaldi uthakar shuru karenge toh kuch hi der me 21 se 2 minute ke andar aap man se sakta hai do dhyan rakhen dono ki bhi galti ho sakti hai jiski bhi galti ho sakti hai aur aapki bhi galti ho sakti hai yadi aapko pata chal jaega ki gussa kis wajah se aa raha hai gussa khatam ho jaega aur mujhe energy hai jo diwal me open chalaiye ya phir kisi tasveeren apne hathon ka upyog kijiye na toh coffee p lijiye aap energy nikaal sakte hain vaah nikaal dijiye ka roop lekar bahar aane ki koshish karti hai kyonki andar yah bahut jama ho rahi hamko send karte hi nahi kya main apni energy ko best kar sake banerjee ka best karna bahut zaroori hai shukriya mere khayal se main aapko mere hisab se meri jaankari ke hisab se toh sahi margdarshan de paya shukriya

मेरे दोस्त आपका सवाल है मैं छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा हो जाता हूं मैं अपने गुस्से को कंट्र

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  165
WhatsApp_icon
user

Anubhav Upadhyay

Psychologist

1:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखे कई बार ऐसा होता है कि हम छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा करने लगते हैं लेकिन हमें नहीं पता होता कि गुस्सा यह जो हमको रिएक्ट करते हैं बातों पर वह थोड़ा ज्यादा है इस बात का एहसास हमें कब नहीं होता हमें कुछ देर बाद या कुछ दिन बाद होता है कि हमने यहां पर ज्यादा रिजेक्ट कर दिया जाता गुस्सा कर दिया लेकिन अब सब कुछ पता होते हुए भी जब आप फिर से एक ऐसी सिचुएशन आती है तो फिर हम वैसे ही फिर से रिजेक्ट कर देते हैं इस परिस्थिति में हो सकता है कि आप अपने आप को असहाय महसूस कर रहे हो तो आपको अंदर मैनेजमेंट पर थोड़ा सा काम करना चाहिए अगर आप किसी से कॉलेज के पास चले जाए किसी से कंसल्ट कर ले तो बहुत ही अच्छा है अगर नहीं कर पा रहे तो आप एंगर मैनेजमेंट के लिए मेडिटेशन योगा माइंडफूलनेस प्रैक्टिसेज इस तरीके की चीजों का सहारा ले सकते जो आपके फोकस आप को शांत रखें किसी भी तरह का कोई जॉब कर सकते हैं जिससे आप को शांति मिले आप ऐसी चीजों का इस्तेमाल करें कर फिर भी किसी सहायता की जरूरत है तो मेरा कांटेक्ट नंबर डिटेल मैंने अपने डिस्क्रिप्शन में दे रखी आप मुझसे साथ ले सकते हैं धन्यवाद आपका दिन शुभ हो

dekhe kai baar aisa hota hai ki hum choti choti baaton par gussa karne lagte hain lekin hamein nahi pata hota ki gussa yah jo hamko react karte hain baaton par vaah thoda zyada hai is baat ka ehsaas hamein kab nahi hota hamein kuch der baad ya kuch din baad hota hai ki humne yahan par zyada reject kar diya jata gussa kar diya lekin ab sab kuch pata hote hue bhi jab aap phir se ek aisi situation aati hai toh phir hum waise hi phir se reject kar dete hain is paristithi mein ho sakta hai ki aap apne aap ko asahay mehsus kar rahe ho toh aapko andar management par thoda sa kaam karna chahiye agar aap kisi se college ke paas chale jaaye kisi se Consult kar le toh bahut hi accha hai agar nahi kar paa rahe toh aap anger management ke liye meditation yoga maindafulnes practices is tarike ki chijon ka sahara le sakte jo aapke focus aap ko shaant rakhen kisi bhi tarah ka koi job kar sakte hain jisse aap ko shanti mile aap aisi chijon ka istemal kare kar phir bhi kisi sahayta ki zarurat hai toh mera Contact number detail maine apne description mein de rakhi aap mujhse saath le sakte hain dhanyavad aapka din shubha ho

देखे कई बार ऐसा होता है कि हम छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा करने लगते हैं लेकिन हमें नहीं पता

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  77
WhatsApp_icon
user

Anju Shrimali

Life Coach

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे पहली बात तो यह है कि जब भी आपको ऐसे गुस्सा आता है तो बिग बूटी ब्रेड लेकर सबसे पहले यह सूची किस सोच में मैं गुस्सा कर रही हूं इतनी बड़ी बात है या यह कि मुझे गुस्सा करना चाहिए क्या अपने आप को इस तरह से समझाइए कि चलो इस ग्रुप से आधे घंटे बाद करूंगा ना वहां पर आपको दीजिए शांति से बैठे थे उसी बात को सोती है जिस बात पर गुस्सा कर रहे थे तो लगता है तब तक वह गुस्सा और बात आपको हंसी आएगी तो इतनी बड़ी बात भी नहीं थी तो गुस्से को कंट्रोल करने के लिए आपको मेडिटेशन कीजिए अपने आप को कंट्रोल कर दीजिए कि नहीं अपने आप से क्वेश्चन कर बैठी है कि वाक्य में गुस्सा इतना जरूरी है कि जो सबसे ज्यादा हम आपको खुद को पहुंचाएगा इमोशनली वाली

sabse pehli baat toh yah hai ki jab bhi aapko aise gussa aata hai toh big buti bread lekar sabse pehle yah suchi kis soch mein main gussa kar rahi hoon itni badi baat hai ya yah ki mujhe gussa karna chahiye kya apne aap ko is tarah se samjhaiye ki chalo is group se aadhe ghante baad karunga na wahan par aapko dijiye shanti se baithe the usi baat ko soti hai jis baat par gussa kar rahe the toh lagta hai tab tak vaah gussa aur baat aapko hansi aayegi toh itni badi baat bhi nahi thi toh gusse ko control karne ke liye aapko meditation kijiye apne aap ko control kar dijiye ki nahi apne aap se question kar baithi hai ki vakya mein gussa itna zaroori hai ki jo sabse zyada hum aapko khud ko pahuchaayega emotionally waali

सबसे पहली बात तो यह है कि जब भी आपको ऐसे गुस्सा आता है तो बिग बूटी ब्रेड लेकर सबसे पहले यह

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  93
WhatsApp_icon
user

Shikha Mittal

mental Health Counsellor

1:08
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कैसे कोई पेशेंट हमारे पास आता है किसी को कोई भी हमारे पास आएगा और हमें बोलेगा कि मुझे गुस्सा बहुत आता है उसके पास आएगा जब उसके पास इस चीज को कम करना चाहता है तो ऑटोमेटिक वीवो हमारे साथ बात करेगा हम उसे कुछ सजेस्ट करेंगे तो वह हमें हेल्प करेगा और हम उसकी हेल्प करेंगे कि आपको गुस्सा आता है तो आप उस टाइम पर उस टाइम पर यह नहीं तो गुस्सा नहीं आएगा आपको गुस्सा आएगा उसको सोचे सोचे भी नहीं तो 2 मिनट के लिए हम चुप रह सकते हैं जो हम बोलते हैं तुरंत आंसर कोई कसर जो रह सकता है बोलना है वह 2 मिनट बाद जो नहीं बोलेगा कुछ और बोलेगा कि 2 मिनट कंटिन्यू

kaise koi patient hamare paas aata hai kisi ko koi bhi hamare paas aayega aur hamein bolega ki mujhe gussa bahut aata hai uske paas aayega jab uske paas is cheez ko kam karna chahta hai toh Automatic vivo hamare saath baat karega hum use kuch suggest karenge toh vaah hamein help karega aur hum uski help karenge ki aapko gussa aata hai toh aap us time par us time par yah nahi toh gussa nahi aayega aapko gussa aayega usko soche soche bhi nahi toh 2 minute ke liye hum chup reh sakte hain jo hum bolte hain turant answer koi kesar jo reh sakta hai bolna hai vaah 2 minute baad jo nahi bolega kuch aur bolega ki 2 minute continue

कैसे कोई पेशेंट हमारे पास आता है किसी को कोई भी हमारे पास आएगा और हमें बोलेगा कि मुझे गुस्

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  209
WhatsApp_icon
user

Rahul Kumar

Psychologist

0:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे बड़ी मच्छी मजा है कि आप गुस्से का कारण करने की बात और दूसरी बात करने से क्या अगर ऐसा कुछ है तो गुस्सा करना ठीक है लेकिन ऐसा होता नहीं है इससे बेटर है कि आपको गुस्सा को कंट्रोल करें और दूसरी बात किया कर उसके बावजूद भी अगर आप इतना नहीं सोच पाते हैं कि गुस्सा को मैं कंट्रोल कर उसके लिए सबसे अच्छा होता है आपसे हमारे इसी तरह से प्रॉब्लम

sabse badi macchi maza hai ki aap gusse ka karan karne ki baat aur dusri baat karne se kya agar aisa kuch hai toh gussa karna theek hai lekin aisa hota nahi hai isse better hai ki aapko gussa ko control kare aur dusri baat kiya kar uske bawajud bhi agar aap itna nahi soch paate hain ki gussa ko main control kar uske liye sabse accha hota hai aapse hamare isi tarah se problem

सबसे बड़ी मच्छी मजा है कि आप गुस्से का कारण करने की बात और दूसरी बात करने से क्या अगर ऐसा

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  65
WhatsApp_icon
user

Ritu

Counselling Psychologist

1:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पहले तू अगर उससे गुस्सा आया है ठीक है सबसे पहले हम उसको काम धाम करेंगे ठीक है अगर ऐसे साइकोलॉजिस्ट में बता रहे हो अगर मेरे पास कोई अंदर वाला कोई भी आया तो सबसे पहले उसको बताना उसका रिजल्ट पूछना ठीक है रीजन तो उसके उसका पहले उसका हो सकता है कि सब बहुत टाइम से उसको बहुत चीजें परेशान कर रही है बहुत अच्छे ट्यूशन फीस उसको गुस्सा आ रहा है तो उसकी पहले सिचुएशंस को सॉल्व करना दिन उसको बोलना है कि अगर आपको आगे से गुस्सा गुस्सा करने से उसको जो पार्टी प्रिवेंशन हैं जो गुस्सा करने के लिए उसके पास एक्सपीरियंस हो सकता उसके पास स्क्रीन शॉट डेड प्ले अगर आप गुस्सा करते तो आपका काम सही नहीं होते उनके भी होते हैं ठीक है तो हम उसको कभी पूछिए कि आपके पास अगर आपके साथ क्या हुआ है वाली अवधेश सिंह ठीक है फिर हम उसको बताएंगे कि कैसे आप अपनी अंडर मैनेजमेंट कर सकते हो कि सबसे पहले क्या होता है कि हम लोग मैं अगर मेरे पास कोई इससे पहले उसका केस पी लेना कि हम उसके बाद हम उसको यह टाइप करते हैं कि अगर आपको गुस्सा के तोहफे से कलेक्टर वाइस करो कि किसी को लेकर इंपॉर्टेंट वॉकिंग वगैरह करो थोड़ा खाने वाले का जो भी होता है टाइम स्ट्राइक में थोड़ा कंट्रोल करो हो सकता है कि उसके डाइट की वजह से वह दादागिरी जेनेटिकली भी हो सकता है एंड हो सकता है कि डाइट में कुछ ऐसा किसको बीपी हो इस वजह से गुस्सा करता हूं इससे पहले हमको मेडिकल चेकअप के लिए भी भेज दी थी उसका बीपी तो नहीं आई है

pehle tu agar usse gussa aaya hai theek hai sabse pehle hum usko kaam dhaam karenge theek hai agar aise psychologist mein bata rahe ho agar mere paas koi andar vala koi bhi aaya toh sabse pehle usko batana uska result poochna theek hai reason toh uske uska pehle uska ho sakta hai ki sab bahut time se usko bahut cheezen pareshan kar rahi hai bahut acche tuition fees usko gussa aa raha hai toh uski pehle sichueshans ko solve karna din usko bolna hai ki agar aapko aage se gussa gussa karne se usko jo party prevention hai jo gussa karne ke liye uske paas experience ho sakta uske paas screen shot dead play agar aap gussa karte toh aapka kaam sahi nahi hote unke bhi hote hai theek hai toh hum usko kabhi puchiye ki aapke paas agar aapke saath kya hua hai wali awdhesh Singh theek hai phir hum usko batayenge ki kaise aap apni under management kar sakte ho ki sabse pehle kya hota hai ki hum log main agar mere paas koi isse pehle uska case p lena ki hum uske baad hum usko yah type karte hai ki agar aapko gussa ke tohfe se collector voice karo ki kisi ko lekar important walking vagera karo thoda khane waale ka jo bhi hota hai time strike mein thoda control karo ho sakta hai ki uske diet ki wajah se vaah dadagiri jenetikli bhi ho sakta hai and ho sakta hai ki diet mein kuch aisa kisko BP ho is wajah se gussa karta hoon isse pehle hamko medical checkup ke liye bhi bhej di thi uska BP toh nahi I hai

पहले तू अगर उससे गुस्सा आया है ठीक है सबसे पहले हम उसको काम धाम करेंगे ठीक है अगर ऐसे साइक

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  85
WhatsApp_icon
user

Laxmi Soni

Psychologist

0:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एंड्राइड मैनेजमेंट टिप्स वधू चाहिए बैकवर्ड काउंटिंग मेडिटेशन करना सेट कर देना चाहिए अगर हो रहा है तो ऐसी पिक्चर में से हट जाना चाहिए तो सिचुएशनशिप दूर चला जाना चाहिए कुछ टाइम के लिए बहुत सारा पानी पीना चाहिए थोड़ा कम हो जाता है और या फिर साइकोड्रामा करके भी कर सकते हैं कि इतना कि जितना ज्यादा गुस्सा तब फिर उसको उसी टाइम पर आती है तबीयत तबीयत

android management tips vadhu chahiye backward counting meditation karna set kar dena chahiye agar ho raha hai toh aisi picture mein se hut jana chahiye toh sichueshanaship dur chala jana chahiye kuch time ke liye bahut saara paani peena chahiye thoda kam ho jata hai aur ya phir saikodrama karke bhi kar sakte hain ki itna ki jitna zyada gussa tab phir usko usi time par aati hai tabiyat tabiyat

एंड्राइड मैनेजमेंट टिप्स वधू चाहिए बैकवर्ड काउंटिंग मेडिटेशन करना सेट कर देना चाहिए अगर हो

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  83
WhatsApp_icon
user

Abhishek Sharma

Forest Range Officer, MP

1:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने अपनी सवाल में ही अपना जवाब दे दिया है आपने कहा है जरा जरा सी बात पर आपको गुस्सा आ जाता है इसका मतलब यह है कि बाद में चाहे कोई बहुत इंपॉर्टेंट चीज हो ना वह आपको गुस्सा जरूर आता है इसका मतलब यह है कि आप में संयम की कमी है घबराइए मत यह चीज मेरे साथ भी होती है लेकिन इसके लिए मैंने कुछ ऐसे तरीके अपनाए हैं जिससे कि मेरा गुस्सा कुछ समय के लिए शांत हो जाता है और मैं अपना वहां से ध्यान हटा सकता हूं इसके लिए पैरा तरीका यह है कि आप उल्टी गिनती शुरु कर दीजिए लेकिन 10:00 से नहीं 100 से 100 9998 हिंदी में इंग्लिश में जिस भाषा में बोलना चाहिए इससे यह होगा कि आपका ध्यान गिनती हो की तरफ चला जाएगा यह पिक और काम कर सकते हैं अगर आपको गुस्सा आ रहा है तो अगर आपके पास पानी है तो जितना ज्यादा पानी हो सके एक बार में पी लीजिए और उसके बाद आखरी गुड को मुंह में दबाए रखिए उसके बाद आपको गुस्सा शांत हो जाएगा यह दो तीन चीजें आप कर सकते हैं इसके बाद आपको गुस्सा थोड़ा कंट्रोल में हो जाएगा और भविष्य में इस चीज में सुधार करने के लिए थोड़ा प्यार योगा यह सब चीजों को कीजिए इससे कॉन्संट्रेशन बढ़ेगा वजन बढ़ने से आपकी एकाग्रता बढ़ेगी ताकि आप बाद में कई चीजों पर सैया बना सकें संयम बनाएंगे तो छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा ना भी कम हो जाएगा बहुत-बहुत धन्यवाद अगर आप कोई मेरा कमेंट पसंद आया हो तो बिल्कुल इसे लाइक कीजिए धन्यवाद

aapne apni sawaal mein hi apna jawab de diya hai aapne kaha hai zara zara si baat par aapko gussa aa jata hai iska matlab yah hai ki baad mein chahen koi bahut important cheez ho na vaah aapko gussa zaroor aata hai iska matlab yah hai ki aap mein sanyam ki kami hai ghabaraiye mat yah cheez mere saath bhi hoti hai lekin iske liye maine kuch aise tarike apnaye hain jisse ki mera gussa kuch samay ke liye shaant ho jata hai aur main apna wahan se dhyan hata sakta hoon iske liye paira tarika yah hai ki aap ulti ginti shuru kar dijiye lekin 10 00 se nahi 100 se 100 9998 hindi mein english mein jis bhasha mein bolna chahiye isse yah hoga ki aapka dhyan ginti ho ki taraf chala jaega yah pic aur kaam kar sakte hain agar aapko gussa aa raha hai toh agar aapke paas paani hai toh jitna zyada paani ho sake ek baar mein p lijiye aur uske baad aakhri good ko mooh mein dabaye rakhiye uske baad aapko gussa shaant ho jaega yah do teen cheezen aap kar sakte hain iske baad aapko gussa thoda control mein ho jaega aur bhavishya mein is cheez mein sudhaar karne ke liye thoda pyar yoga yah sab chijon ko kijiye isse concentration badhega wajan badhne se aapki ekagrata badhegi taki aap baad mein kai chijon par saiya bana sake sanyam banayenge toh choti choti baaton par gussa na bhi kam ho jaega bahut bahut dhanyavad agar aap koi mera comment pasand aaya ho toh bilkul ise like kijiye dhanyavad

आपने अपनी सवाल में ही अपना जवाब दे दिया है आपने कहा है जरा जरा सी बात पर आपको गुस्सा आ जात

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  223
WhatsApp_icon
user

Ghan

Real Estate

1:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपको छोटी-छोटी बातों से गुस्सा आता है वह घर में आता है या घर के बाहर आता है या सभी जगह तो प्लीज आप सुबह 5:00 बजे से एक घंटा वह करने के लिए जरूर जाइए फिर वापस आइए घर में फिर शाम को फिर जाइए वहां पर जो आपके सभी लोगों से मिलोगे उनमें से आपको कोई भी ऐसा प्रश्न नहीं करेगा जिससे कि आपको गुस्सा आए हैं धीरे धीरे धीरे से कम होता जाएगा आप अच्छे टेढ़ापन खत्म हो जाएगा अब गुस्सा में कम हो जाएगा आप लोगों में मिलने की बहू नहीं चेंज हो जाएगी लेकिन आप वह कीजिए आपका काम बढ़िया हो जाएगा गुस्सा नाम सेट जाएगा आप फिर एक अच्छा सा दोस्त बना लीजिए एग्जाम गुस्सा खत्म हो जाएगा जब भी गुस्सा करना उस दोस्त पर कीजिए वह बुरा नहीं मानेगा

aapko choti choti baaton se gussa aata hai vaah ghar me aata hai ya ghar ke bahar aata hai ya sabhi jagah toh please aap subah 5 00 baje se ek ghanta vaah karne ke liye zaroor jaiye phir wapas aaiye ghar me phir shaam ko phir jaiye wahan par jo aapke sabhi logo se miloge unmen se aapko koi bhi aisa prashna nahi karega jisse ki aapko gussa aaye hain dhire dhire dhire se kam hota jaega aap acche tedhapan khatam ho jaega ab gussa me kam ho jaega aap logo me milne ki bahu nahi change ho jayegi lekin aap vaah kijiye aapka kaam badhiya ho jaega gussa naam set jaega aap phir ek accha sa dost bana lijiye exam gussa khatam ho jaega jab bhi gussa karna us dost par kijiye vaah bura nahi manega

आपको छोटी-छोटी बातों से गुस्सा आता है वह घर में आता है या घर के बाहर आता है या सभी जगह तो

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  78
WhatsApp_icon
user

RAJNISH SINGH

Teacher/Singer/Business.. What'sAp .7491907565

0:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लिखित छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा आ रही क्या कीजिए कि इससे थोड़ा ध्यान दीजिए और गुस्सा को कम कीजिए सोचे कि मतलब इसको देख लगाना है धीरे-धीरे आप गुस्सा को कम कीजिए और उसी से मोटिवेशनल वीडियो देखिए उसके बाद पढ़ाई कीजिए कहानियां और यह ध्यान रखना है कि हमें गलती है कि मैं घर जाता हूं ठीक है फोकस कीजिए और थोड़ा थोड़ा कम कीजिए कॉल कीजिए

likhit choti choti baaton par gussa aa rahi kya kijiye ki isse thoda dhyan dijiye aur gussa ko kam kijiye soche ki matlab isko dekh lagana hai dhire dhire aap gussa ko kam kijiye aur usi se Motivational video dekhiye uske baad padhai kijiye kahaniya aur yah dhyan rakhna hai ki hamein galti hai ki main ghar jata hoon theek hai focus kijiye aur thoda thoda kam kijiye call kijiye

लिखित छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा आ रही क्या कीजिए कि इससे थोड़ा ध्यान दीजिए और गुस्सा को कम

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  110
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप अपने आप पर कंट्रोल नहीं कर सकते हो कहीं भी आ जाओ एक आम इंसान हूं क्योंकि आज मैं अपने आप में गुस्सा थी तभी होता है जब सामने वाला उसको टेंशन लेता है ना तो गुस्सा आए तो कहीं अकेले में चले जाओ कोई ऐसी जगह जहां शांत वातावरण

aap apne aap par control nahi kar sakte ho kahin bhi aa jao ek aam insaan hoon kyonki aaj main apne aap mein gussa thi tabhi hota hai jab saamne vala usko tension leta hai na toh gussa aaye toh kahin akele mein chale jao koi aisi jagah jaha shaant vatavaran

आप अपने आप पर कंट्रोल नहीं कर सकते हो कहीं भी आ जाओ एक आम इंसान हूं क्योंकि आज मैं अपने आप

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  91
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कभी भी छोटी सी बात पर गुस्सा ना नहीं चाहिए या किसी को गलती हो जाए तो उसको डांटना नहीं चाहिए क्योंकि गलती इंसान से होती है इंसान जब तक गलती नहीं करेगा तो इंसान हैं अपने आपके अंदर गलती को दावों और दूसरे के साथ प्यार मोहब्बत से बात करो बता अच्छा व्यक्ति वही अपने अंदर का गुस्सा

kabhi bhi choti si baat par gussa na nahi chahiye ya kisi ko galti ho jaaye toh usko dantana nahi chahiye kyonki galti insaan se hoti hai insaan jab tak galti nahi karega toh insaan hain apne aapke andar galti ko davon aur dusre ke saath pyar mohabbat se baat karo bata accha vyakti wahi apne andar ka gussa

कभी भी छोटी सी बात पर गुस्सा ना नहीं चाहिए या किसी को गलती हो जाए तो उसको डांटना नहीं चाहि

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  61
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दोस्त आप छोटी-छोटी बातों को गुस्सा हो जाते हैं ओके एक कोई बड़ी बात नहीं है बहुत लोग हो जाते हैं तो मेरा मानना यह है कि छोटी-छोटी बातों को गुस्सा हो

dost aap choti choti baaton ko gussa ho jaate hain ok ek koi badi baat nahi hai bahut log ho jaate hain toh mera manana yah hai ki choti choti baaton ko gussa ho

दोस्त आप छोटी-छोटी बातों को गुस्सा हो जाते हैं ओके एक कोई बड़ी बात नहीं है बहुत लोग हो जात

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  71
WhatsApp_icon
user

Salman Khan

Business Owner

1:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप छोटी-छोटी बातों पर जब गुस्सा हो जाते हो किसी पर भी आप झगड़ा कर बैठते हो तो यह आपका जो मानसिक संतुलन है वह एकदम से बिगड़ जाता है और आपके मन में एकदम से ऐसा आता है कि जैसे सामने वाले प्रकार करते हैं लेकिन इसे हम सुधार सकते हैं जब वह दो सामने वाला बंदा जब गुस्से में आता है तो आप उसकी बातों को इग्नोर कर दो और आप सुबह सुबह गर्म पानी यूज करो हर रोज एक गिलास खाली पेट गर्म पानी यूज करो और जैसे आपका घर में झगड़ा हो रहा है सामने वाले को छोड़ कर के वहां से आप जगह छोड़ दो तो इससे आप को गुस्सा आना धीरे-धीरे बंद हो जाएगा और आप सुरक्षित रह सकते हैं अगर गुस्सा आएगा आपको तो कहीं भी आपको धोखा दे सकता है कहीं भी एक बड़ा झगड़ा करा सकते हैं

aap choti choti baaton par jab gussa ho jaate ho kisi par bhi aap jhagda kar baithate ho toh yah aapka jo mansik santulan hai vaah ekdam se bigad jata hai aur aapke man mein ekdam se aisa aata hai ki jaise saamne waale prakar karte hain lekin ise hum sudhaar sakte hain jab vaah do saamne vala banda jab gusse mein aata hai toh aap uski baaton ko ignore kar do aur aap subah subah garam paani use karo har roj ek gilas khaali pet garam paani use karo aur jaise aapka ghar mein jhagda ho raha hai saamne waale ko chod kar ke wahan se aap jagah chod do toh isse aap ko gussa aana dhire dhire band ho jaega aur aap surakshit reh sakte hain agar gussa aayega aapko toh kahin bhi aapko dhokha de sakta hai kahin bhi ek bada jhagda kara sakte hain

आप छोटी-छोटी बातों पर जब गुस्सा हो जाते हो किसी पर भी आप झगड़ा कर बैठते हो तो यह आपका जो म

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  83
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसी स्थिति में आपके गरीब हाथ में और आंखों में

aisi sthiti mein aapke garib hath mein aur aakhon mein

ऐसी स्थिति में आपके गरीब हाथ में और आंखों में

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  87
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे कुछ आपके पास काम हो तो दे सकते हो क्या मैं पढ़ा लिखा नहीं है हेलो आंटी चुनरी की आंटी की मेरे पास कुछ पढ़े-लिखे की कुछ भी नहीं है मेरे पास शब्द नहीं काम चाहिए मेरे को आपके पास कुछ काम हो तो मुझे दीजिए मैं पढ़ा लिखा नहीं हूं

mujhe kuch aapke paas kaam ho toh de sakte ho kya main padha likha nahi hai hello aunty chunari ki aunty ki mere paas kuch padhe likhe ki kuch bhi nahi hai mere paas shabd nahi kaam chahiye mere ko aapke paas kuch kaam ho toh mujhe dijiye main padha likha nahi hoon

मुझे कुछ आपके पास काम हो तो दे सकते हो क्या मैं पढ़ा लिखा नहीं है हेलो आंटी चुनरी की आंटी

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  42
WhatsApp_icon
user

.

Hhhgnbhh

0:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखे हम सब जानते हैं कि हमें काफी बातों पर गुस्सा आ जाता है तो अगर आपको जरा जरा सी बात पर गुस्सा आता है तो आपको अपना गुस्सा काबू करने के लिए कोई ना कोई एक्सरसाइज है कुछ करना चाहिए तो काफी तरकीबें होती है अपने गुस्से को काबू रखने के लिए आप चाहें तो ऐसा कर सकते हैं कि जब भी आपको गुस्सा आए तो अपने हाथ को मतलब एक मुट्ठी बनाकर उसे ज़ोर से दबा सकते हैं और आप उसको तब तक उतनी दूर से जब आएगी तब तक आपका गुस्सा ठंडा नहीं होता है या फिर अगर आपको कभी गुस्सा है तो अपने दिमाग से बहुत शांति से 20 तक गिनती कर सकते हैं 1234 इस तरीके से अगर आप गिनती करेंगे अपने दिमाग में तो आपका जो कंसंट्रेशन में गुस्से से उतरकर गिनती पर चला जाएगा जिससे आप अपने गुस्से को उस समय के लिए काबू में कर लेंगे

dekhe hum sab jante hain ki hamein kaafi baaton par gussa aa jata hai toh agar aapko zara zara si baat par gussa aata hai toh aapko apna gussa kabu karne ke liye koi na koi exercise hai kuch karna chahiye toh kaafi tarakeeben hoti hai apne gusse ko kabu rakhne ke liye aap chahain toh aisa kar sakte hain ki jab bhi aapko gussa aaye toh apne hath ko matlab ek mutthi banakar use zor se daba sakte hain aur aap usko tab tak utani dur se jab aayegi tab tak aapka gussa thanda nahi hota hai ya phir agar aapko kabhi gussa hai toh apne dimag se bahut shanti se 20 tak ginti kar sakte hain 1234 is tarike se agar aap ginti karenge apne dimag mein toh aapka jo kansantreshan mein gusse se utarakar ginti par chala jaega jisse aap apne gusse ko us samay ke liye kabu mein kar lenge

देखे हम सब जानते हैं कि हमें काफी बातों पर गुस्सा आ जाता है तो अगर आपको जरा जरा सी बात पर

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  197
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
gussa ho kya in english ; आरकब ; ulti ginti in english ; gussa ho in english ; 1234 ginti ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!