कुछ मुद्दे जरुरी होते हुए भी रह जाते है उन में कोई पड़ना नहीं चाहता क्यों? क्या वजह?...


play
user

Sachin Bharadwaj

Faculty - Mathematics

2:00

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी जी हां आपने बिल्कुल सही बात कही है जिस तरह जो मुद्दे सामाजिक मुद्दे उन पर कोई बात नहीं करना चाहता लेकिन जो बेवजह के मुद्दे पर इतनी ज्यादा राजनीति होती है इतनी ज्यादा डिबेट होते हैं किसी अपने चैनल को लेके आप बैठ जाइए शाम को 5:00 बजे से लेकर ह न्यूज़ चैनल को रात के 9:00 बजे तक ड्यूटी डिबेट दिखेगा लेकिन जो जरूरी मध्य है वह डेफिनेटली छूट जाते हैं इसमें एक बार जरूर ऐड करना चाहूंगा कि जिस तरह से हमारे देश के अंदर जो अपॉइंटमेंट की राजनीति होती है उसकी वजह से भी ऐसा हो सकता है दूसरा कहीं न कहीं पार्टियों को यह भी लगता है कि अगर किसी ऐसे मुद्दे को उन्होंने छेड़ छेड़ दिया या स्टार्ट कर दिया जहां किसी पार्टिकल रिलीजन के सेंटीमेंट शर्ट होते हो तो मुझे लगता है कि इस तरह के अगर काम कोई सरकार करती है तो उसको भी डर लगता है कि कहीं उसका जो वोट बैंक के उस पर कुछ खाते नंबर डालने लगे यार मैं यह कह सकता हूं कि उनका मूड में मुझे छूट न जाए अब जैसे एक सामाजिक मुद्दे मगर में बात कर दो पापुलेशन को लेकर हम जानते हैं 2000 आने वाले दो 30 के अंदर हमारे देश की पॉपुलेशन चाइना को सरपंच का जाएगी यह एक्सेसिबिलिटी है जो हर नेता जानता है यहां हमारे देश में रहने वाला व्यक्ति जाता है लेकिन पापुलेशन कंट्रोल के ऊपर कोई भी कोई बात नहीं करता कभी आपने नहीं देखा होगा न्यूज़ चैनल के सो कॉल्ड फॉर डिबेट में पॉपुलेशन की पर बात की जाए कभी नहीं पापुलेशन कंट्रोल की बर्बाद नहीं आती फैमिली प्लानिंग क्यों पर बात नहीं की जाती अच्छी एजुकेशन के लिए बात नहीं की जाती गांव के अंदर प्राइमरी एजुकेशन का जलस्तर है उस पर बात नहीं की जाती बात किस पर की जाती किसी पॉलिटिकल लीडर ने कोई उल्टा सीधा कमेंट कर दिया जैसे हाल ही में हमने देखा मणिशंकर अय्यर जी ने कमेंट कर दिया नीच कह दिया तो उस पर तीन चार दिन तक लगातार वैसे और किसी मुद्दे पर बहस नहीं होती किसी पॉलिटिशन है क्या कह दिया उसमें हमको दो दिन की ब्रेकिंग न्यूज चैनल की पर लेकिन जो जनरल सामाजिक मुद्दों पर कभी आपको बहस नहीं मिलेगी न्यूज चैनल के द्वारा तो मुझे लगता है यह नहीं होना चाहिए होना भी इस तरह की डिबेट से हमारे हमारे

vicky ji haan aapne bilkul sahi baat kahi hai jis tarah jo mudde samajik mudde un par koi baat nahi karna chahta lekin jo bewajah ke mudde par itni zyada raajneeti hoti hai itni zyada debate hote hain kisi apne channel ko leke aap baith jaiye shaam ko 5 00 baje se lekar h news channel ko raat ke 9 00 baje tak duty debate dikhega lekin jo zaroori madhya hai vaah definetli chhut jaate hain isme ek baar zaroor aid karna chahunga ki jis tarah se hamare desh ke andar jo appointment ki raajneeti hoti hai uski wajah se bhi aisa ho sakta hai doosra kahin na kahin partiyon ko yah bhi lagta hai ki agar kisi aise mudde ko unhone ched ched diya ya start kar diya jaha kisi particle religion ke sentiment shirt hote ho toh mujhe lagta hai ki is tarah ke agar kaam koi sarkar karti hai toh usko bhi dar lagta hai ki kahin uska jo vote bank ke us par kuch khate number dalne lage yaar main yah keh sakta hoon ki unka mood mein mujhe chhut na jaaye ab jaise ek samajik mudde magar mein baat kar do population ko lekar hum jante hain 2000 aane waale do 30 ke andar hamare desh ki population china ko sarpanch ka jayegi yah eksesibiliti hai jo har neta jaanta hai yahan hamare desh mein rehne vala vyakti jata hai lekin population control ke upar koi bhi koi baat nahi karta kabhi aapne nahi dekha hoga news channel ke so called for debate mein population ki par baat ki jaaye kabhi nahi population control ki barbad nahi aati family planning kyon par baat nahi ki jaati achi education ke liye baat nahi ki jaati gaon ke andar primary education ka jalstar hai us par baat nahi ki jaati baat kis par ki jaati kisi political leader ne koi ulta seedha comment kar diya jaise haal hi mein humne dekha manisankar iyer ji ne comment kar diya neech keh diya toh us par teen char din tak lagatar waise aur kisi mudde par bahas nahi hoti kisi politician hai kya keh diya usme hamko do din ki breaking news channel ki par lekin jo general samajik muddon par kabhi aapko bahas nahi milegi news channel ke dwara toh mujhe lagta hai yah nahi hona chahiye hona bhi is tarah ki debate se hamare hamare

विकी जी हां आपने बिल्कुल सही बात कही है जिस तरह जो मुद्दे सामाजिक मुद्दे उन पर कोई बात नही

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  131
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!