परिषदीय शिक्षा व्यवस्था में सुधार के प्रयास नहीं हो रहे हैं ।क्या देश विश्वगुरु बन पाएगा?...


play
user

Swati

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:47

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखी मां काली जूते टॉमस बैडमिंटन में काले उन्होंने कैसे लिखा था मैंने तो इंडियन एजुकेशन उसमें उससे पहले जो हमारी हिंदुस्तान की जो एजुकेशन थी वह मेरी पोषण संस्कृत अरेबिक इन सब के ऊपर बेजती पर उनके लिखने के बाद उनका कहना था कि और जो इंडियंस पढ़ रहे हैं यानी कि जो संस्कृति या ऐसे सब लेंगुएज इंडियंस पर है उससे उनका देश कभी भी प्रोग्रेस नहीं कर सकता और उनके जो डाल दो और टोटके वाले जो पढ़ाने वाली चीज है उसे लोग मजाक उड़ाएंगे तो वहां से इंग्लिश और जो साइंस फौरन कंट्री इस मैडिटेशन कंट्रीज में थी वह लेकर आए हमारे देश के अंदर और तब से वह चीज चले जा रही है जैसे कि बाकी देश में होता है आपको बहुत जल्दी ही दो सब्जेक्ट पढ़ने है वही पढ़ाए जाते हैं पर हमारे यहां तो दसवीं तक तो सबको सेम सब्जेक्ट पढ़ने ही पड़ेंगे और उसके बाद भी आप के पास जा ऑप्शन नहीं है दूसरा मैं 1 आउंगी कि जो जैसे भी पढ़ाई है वह भी सितम नहीं करवाई जाती ट्यूशन पर बच्चे डिपेंड रहते हैं स्कूलों में पढ़ाई नहीं हो पा + सरकारी स्कूलों का तो बहुत ही बुरा हाल है और सरकारी स्कूलों में जो गरीब बच्चे फिर वह तो पढ़ नहीं पा रहे लेकिन पूरे विश्व में इंटेलिजेंट लोग भारतीय नहीं माने जाते फोन कंट्री तूने बहुत जल्दी हार कर लेती है फोन कंपनी तूने बहुत जल्दी हार कर दें क्योंकि हम भारतीयों का दिमाग बहुत तेज चलता है थोड़ा और दिया जाए ऐसी पढ़ाई पर जो भी हिसाब से हो जो उनके लिए बेनेफिशियल हो और वह पढ़कर भारत के लिए ही कुछ कर पाए तो हमारा देश प्रोग्रेस कर पाएगा वरना तो विश्व गुरु नहीं बनता है

dekhi maa kali joote Tomas Badminton mein kaale unhone kaise likha tha maine toh indian education usme usse pehle jo hamari Hindustan ki jo education thi vaah meri poshan sanskrit arabic in sab ke upar bejti par unke likhne ke baad unka kehna tha ki aur jo indians padh rahe hai yani ki jo sanskriti ya aise sab language indians par hai usse unka desh kabhi bhi progress nahi kar sakta aur unke jo daal do aur totake waale jo padhane wali cheez hai use log mazak udaenge toh wahan se english aur jo science phauran country is meditation countries mein thi vaah lekar aaye hamare desh ke andar aur tab se vaah cheez chale ja rahi hai jaise ki baki desh mein hota hai aapko bahut jaldi hi do subject padhne hai wahi padhaye jaate hai par hamare yahan toh dasavi tak toh sabko same subject padhne hi padenge aur uske baad bhi aap ke paas ja option nahi hai doosra main 1 aungi ki jo jaise bhi padhai hai vaah bhi sitam nahi karwai jaati tuition par bacche depend rehte hai schoolon mein padhai nahi ho paa sarkari schoolon ka toh bahut hi bura haal hai aur sarkari schoolon mein jo garib bacche phir vaah toh padh nahi paa rahe lekin poore vishwa mein Intelligent log bharatiya nahi maane jaate phone country tune bahut jaldi haar kar leti hai phone company tune bahut jaldi haar kar de kyonki hum bharatiyon ka dimag bahut tez chalta hai thoda aur diya jaaye aisi padhai par jo bhi hisab se ho jo unke liye beneficial ho aur vaah padhakar bharat ke liye hi kuch kar paye toh hamara desh progress kar payega varna toh vishwa guru nahi banta hai

देखी मां काली जूते टॉमस बैडमिंटन में काले उन्होंने कैसे लिखा था मैंने तो इंडियन एजुकेशन उस

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  106
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!