भारतीय विदेश सेवा के अधिकारियों का बैच आकार इतना छोटा क्यों है?...


user

Dr. P. N. Jha

Sr.Facuty, IAS Coaching & Founder of 'TOPPERS IAS by P.N.JHA' app.

1:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारतीय विदेश सेवा के अधिकारी मुख्य रूप से भारत के सांस्कृतिक एंबेसडर कहिए कि कल जो लंबा स्टार के रूप में ही कार्य करते हैं इनका बैकस्टेज छोटा होता है कि भारत के बाहर जहां इनकी पोस्टिंग है या तो सेकेंडरी कंट्री फर्स्ट सेक्रेटरी या फिर एंबेस्डर के रूप में या फिर कोई अन्य पद के रूप में तो इस इस इस सेवा में ऐसे भी बहुत सारे लोग चुने जाते हैं जो प्रोफेसर हैं या आप बहुत दिनों तक हमारे लोकसभा राजसभा के मेंबर रहे हैं कहीं गवर्नर रहे हैं इस तरह के लोग भी इंडस्ट्री के लायक एंबेस्डर और इससे इससे जुड़े जितने भी पद वगैरह हैं उन पर चुने जाते हैं जैसे गौरीशंकर राजहंस बहुत दिनों तक वियतनाम के रहे लाओ उसके रहे प्रभाकर झा उन्होंने भी काफी दिन तक काम किया फ्रेंच जहां बोली जाती है ऐसे तो कई सारे प्रोफेसेस बगैरा सेवा में समय-समय पर डेपुटेशन बेसिस के लिए जाते हैं तोबा कुल मिलाकर ऐसा देखा जाता है कि यह किस तरह का सेवा है जो कि विदेश में भारत की अपनी इच्छा भी बनाने का काम करता है इसके लिए जिस तरह से पुलिस सेवा के लिए स्पेशलाइज पुलिसमैन चाहिए जिनको की आज की जानकारी हो डिसिप्लिन की जानकारी हो आप कोर्ट कचहरी की जानकारी हो लोकी जानकारी हो तो इसमें इस तरह के बहुत बहुत आवश्यकता नहीं है वहां की संस्कृति वहां की भाषा इन सब पर जिनका कमांडो ऐसे भी लोग वहां नियुक्त किए जाते हैं इसीलिए इनका बैंजो होता है इनका आकार जो होता है वह छोटा है कहीं बाहर से भी अधिकारी नियुक्त किए जाते हैं

bharatiya videsh seva ke adhikari mukhya roop se bharat ke sanskritik ambassador kahiye ki kal jo lamba star ke roop mein hi karya karte hai inka baikastej chota hota hai ki bharat ke bahar jaha inki posting hai ya toh secondary country first secretary ya phir embesdar ke roop mein ya phir koi anya pad ke roop mein toh is is is seva mein aise bhi bahut saare log chune jaate hai jo professor hai ya aap bahut dino tak hamare lok sabha rajyasabha ke member rahe hai kahin governor rahe hai is tarah ke log bhi industry ke layak embesdar aur isse isse jude jitne bhi pad vagera hai un par chune jaate hai jaise gaurishankara rajhans bahut dino tak vietnam ke rahe laao uske rahe prabhakar jha unhone bhi kaafi din tak kaam kiya french jaha boli jaati hai aise toh kai saare profeses bagaira seva mein samay samay par deputeshan basis ke liye jaate hai toba kul milakar aisa dekha jata hai ki yah kis tarah ka seva hai jo ki videsh mein bharat ki apni iccha bhi banane ka kaam karta hai iske liye jis tarah se police seva ke liye specialize policemen chahiye jinako ki aaj ki jaankari ho discipline ki jaankari ho aap court kachahari ki jaankari ho laukee jaankari ho toh isme is tarah ke bahut bahut avashyakta nahi hai wahan ki sanskriti wahan ki bhasha in sab par jinka commando aise bhi log wahan niyukt kiye jaate hai isliye inka banjo hota hai inka aakaar jo hota hai vaah chota hai kahin bahar se bhi adhikari niyukt kiye jaate hain

भारतीय विदेश सेवा के अधिकारी मुख्य रूप से भारत के सांस्कृतिक एंबेसडर कहिए कि कल जो लंबा स

Romanized Version
Likes  156  Dislikes    views  3114
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!