क्या भारत में दंगो को आतंकवादी हमलों से कम माना जाए? ये दंगे कौन कराता है?...


user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

1:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह बात बिल्कुल सत्य है कि भारत को विदेशी आक्रमणकारियों से कम खतरा है जो देश से बाहर के दुश्मन हैं उनसे कम खतरा है लेकिन जो देश के अंदर बसे हुए हैं जो देश की भूमि पर रहे हैं वह रहे हैं ऐसी दंगाइयों से ऐसे धर्म उन्मादी लोगों से ज्यादा खतरा है क्योंकि ऐसे लोग ही अनमोल माध्यम करके दंगा भड़का थे और इन सबके जो फसाद है यह सब का मेन कारण वह सब नेताओं के भड़काऊ भाषण नेता लोग अपनी रिस्पांसिबिलिटी ना फील करते हुए अपने व्यक्तिगत स्वार्थों को ध्यान में रखते हुए अपने राजनीतिक हितों की रक्षा करने के लिए यह धर्म और महत्वपूर्ण भड़काऊ भाषण देते हैं जिनके कारण से ऐसे तब दंगे बढ़ाते हैं और जिनमें अपार जन-धन की हानि होती है दिल्ली के दंगों में लगभग 50 55 लोग मारे गए हैं काफी घर जलाए गए हैं काफी लोगों की दुकानें जला दी काफी लोगों की अन्य चीजों को कार है जी पेपर से या दिन को आग लगा दी गई है काफी नुकसान हुआ है अब चाहे हिंदू का नुकसान हो चाहे मुसलमान का पाकिस्तान भारत का हुआ है इसलिए ऐसी जो भड़काऊ भाषण देने वाले नेता हैं उन लोगों पर भी कार्यवाही होनी चाहिए क्योंकि तुष्टिकरण की नीति के अंदर दिन को छोड़ दिया जाएगा तो निश्चित मान के चलिए ऐसे हमलों को अंजाम देते रहेंगे और परिणाम स्वरुप सुंदरी जनता दुखी रहेगी जलती रहेगी और उनका नुकसान होता रहेगा

yah baat bilkul satya hai ki bharat ko videshi aakramanakaariyon se kam khatra hai jo desh se bahar ke dushman hain unse kam khatra hai lekin jo desh ke andar base hue hain jo desh ki bhoomi par rahe hain vaah rahe hain aisi dangaiyon se aise dharm unmadi logo se zyada khatra hai kyonki aise log hi anmol madhyam karke danga bhadaka the aur in sabke jo fasad hai yah sab ka main karan vaah sab netaon ke bhadkau bhashan neta log apni responsibility na feel karte hue apne vyaktigat swarthon ko dhyan mein rakhte hue apne raajnitik hiton ki raksha karne ke liye yah dharm aur mahatvapurna bhadkau bhashan dete hain jinke karan se aise tab dange badhate hain aur jinmein apaar jan dhan ki hani hoti hai delhi ke dango mein lagbhag 50 55 log maare gaye hain kaafi ghar jalae gaye hain kaafi logo ki dukanein jala di kaafi logo ki anya chijon ko car hai ji paper se ya din ko aag laga di gayi hai kaafi nuksan hua hai ab chahen hindu ka nuksan ho chahen muslim ka pakistan bharat ka hua hai isliye aisi jo bhadkau bhashan dene waale neta hain un logo par bhi karyavahi honi chahiye kyonki Tustikaran ki niti ke andar din ko chod diya jaega toh nishchit maan ke chaliye aise hamlo ko anjaam dete rahenge aur parinam swarup sundari janta dukhi rahegi jalti rahegi aur unka nuksan hota rahega

यह बात बिल्कुल सत्य है कि भारत को विदेशी आक्रमणकारियों से कम खतरा है जो देश से बाहर के दुश

Romanized Version
Likes  217  Dislikes    views  2123
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Abhishek Sharma

Forest Range Officer, MP

1:54

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दंगों को आतंकवादी हमलों की संज्ञा तो नहीं दी जा सकती क्योंकि वह तो राष्ट्रीय आघात का मामला होता है पूरे देश के किसी भी हिस्से पर अटैक करने में तो देश पटक करने के बराबर है दंगे क्यों होते हैं वह सही बात यह है कि इनका का रण इंटर न्यूज़ कि जो कुछ चीजें होती हैं चाहे वह जाति के आधार पर हो धर्म आधार पर सामाजिक आधार पर हो किसी भी चीज पर वहां पर शासन तथा प्रशासन की विफलता के कारण ज्यादा होते हैं अगर जैसे कई बार ही सिखाया जाता है इस इश्क़ में आपने पढ़ा होगा कि किस जगह पर किसी व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है तो शासन-प्रशासन तुरंत वहां पर आकर उसको वहां से लाश को हटाने के लिए वहां से जब कोशिश करता है व्यक्ति मृत हो जाते हैं उनको हटाने की कोशिश करता था कि वहां पर भीड़ इकट्ठी ना हो सके अगर वह मेरी कट्टी हो जाएगी तो वह इमोशंस में बैठकर कुछ भी कर सकती है इंसान का तो चेहरा होता है लेकिन भीड़ दशहरा नहीं होता इसलिए सबसे जरूरी चीज है कि जहां पर भी इस तरह का इंसिडेंट हो दुखद चीज हो वहां पर भीड़ ना जमाई जाए और हमारे देश में काफी ज्यादा जनसंख्या है तो अगर किसी डेंट होता हम समझने की बहुत है तो एक जगह भीड़ काफी आसानी से लग जाती है तो शासन-प्रशासन काम थोड़ा ज्यादा कठिनाई पूर्व हो जाता है और जहां यह काम थोड़े भी विफल होता है वहां पर यह एक बड़े दंगे के रूप में ले लेता है मुझे लगता है इनके पीछे आतंकी वारदात तो शायद ही हो शायद कभी नहीं होती है बहुत ही मायने उसके इसमें बहुत ही कम के जिसमें जब कोई कहता है आतंकी संगठनों इस चीज की जिम्मेदारी लेता तब मैं जरूर माना जाता है कि हां यह देंगे उसके घर करेंगे और ना दंगों का कारण वही कि जो लोकल अथॉरिटी से वह लोग इस चीज को खर्चे से नाम ले लो ड स्लोगन और उसका पार ना करें तो दंगे होते हैं और सबसे अच्छी चीज है दंगों को रोकने के लिए सबसे जरूरी चीज है जो यह है कि आपको दंगे होने के लिए आपको कोई भी सोशल मीडिया पर कोई ऐसी पोस्ट नहीं करनी चाहिए जिससे कि यह चीजें और भर के लोगों को शांत कराने की कोशिश करनी चाहिए भीड़ नहीं जुटा आने की कोशिश करनी चाहिए धन्यवाद

dango ko aatankwadi hamlo ki sangya toh nahi di ja sakti kyonki vaah toh rashtriya aaghat ka maamla hota hai poore desh ke kisi bhi hisse par attack karne mein toh desh patak karne ke barabar hai dange kyon hote hai vaah sahi baat yah hai ki inka ka ran inter news ki jo kuch cheezen hoti hai chahen vaah jati ke aadhaar par ho dharm aadhaar par samajik aadhaar par ho kisi bhi cheez par wahan par shasan tatha prashasan ki vifalta ke karan zyada hote hai agar jaise kai baar hi sikhaya jata hai is ishq mein aapne padha hoga ki kis jagah par kisi vyakti ki mrityu ho jaati hai toh shasan prashasan turant wahan par aakar usko wahan se laash ko hatane ke liye wahan se jab koshish karta hai vyakti mrit ho jaate hai unko hatane ki koshish karta tha ki wahan par bheed ikatthi na ho sake agar vaah meri kethi ho jayegi toh vaah emotional mein baithkar kuch bhi kar sakti hai insaan ka toh chehra hota hai lekin bheed dussehra nahi hota isliye sabse zaroori cheez hai ki jaha par bhi is tarah ka incident ho dukhad cheez ho wahan par bheed na jamai jaaye aur hamare desh mein kaafi zyada jansankhya hai toh agar kisi dent hota hum samjhne ki bahut hai toh ek jagah bheed kaafi aasani se lag jaati hai toh shasan prashasan kaam thoda zyada kathinai purv ho jata hai aur jaha yah kaam thode bhi vifal hota hai wahan par yah ek bade dange ke roop mein le leta hai mujhe lagta hai inke peeche aatanki vaardaat toh shayad hi ho shayad kabhi nahi hoti hai bahut hi maayne uske isme bahut hi kam ke jisme jab koi kahata hai aatanki sangathano is cheez ki jimmedari leta tab main zaroor mana jata hai ki haan yah denge uske ghar karenge aur na dango ka karan wahi ki jo local authority se vaah log is cheez ko kharche se naam le lo d slogan aur uska par na kare toh dange hote hai aur sabse achi cheez hai dango ko rokne ke liye sabse zaroori cheez hai jo yah hai ki aapko dange hone ke liye aapko koi bhi social media par koi aisi post nahi karni chahiye jisse ki yah cheezen aur bhar ke logo ko shaant karane ki koshish karni chahiye bheed nahi jutta aane ki koshish karni chahiye dhanyavad

दंगों को आतंकवादी हमलों की संज्ञा तो नहीं दी जा सकती क्योंकि वह तो राष्ट्रीय आघात का मामला

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  199
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
dangoko ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!