सुख किससे प्राप्त होता है?...


user

Bk Arun Kaushik

Youth Counselor Motivational Speaker

1:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तू किससे प्राप्त होता है साथियों पहले में तुम को समझना वस्तु किसे कहते हैं क्योंकि आजकल जिस्म सुख समझते हैं वह टेंपरेरी होता है कोठी गाड़ी अच्छी पोस्ट आदि यह सब टेंपरेरी होती है परंतु वास्तव में सुख असली मन का सुख होते हैं जो पर मरने देता उसके लिए सबसे पहले मैं क्या करना पड़ेगा कि अपनी आत्मा की आवाज में था जो मेरे अंदर रियल में चलता है जिसको पूरा नहीं कर पाते एक दूसरे को देख कर हीन भावना से या कोई भी कारण हो सकता है उस बात को जो मन के अंदर जो बात उठती है अच्छी बात होती है उस चुकू देवगन पूरा करते हैं तभी कहा जाता है कि अपनी आत्मा की आवाज सुनो जब उसकी आवाज को सुनते अपने अंदर की आवाज को सुनकर पूरा कर तो असीम सुख मिलता है दूसरा सुक्तम मिलता है जब आप लोगों की हेल्प करते हैं लोगों के दुखों में आप काम आती हैं किसी गरीब आदमी का किसी असहाय लोग का इस तरह के लोगों का जब तुम हेल्प करते हो क्योंकि जो दुआएं मिलती हैं बहुत सुख देती हैं ऐसा कहीं से भी प्राप्त नहीं हो सका इस करोड़ों रुपया खरीद लो फिर भी सुख नहीं मिलता क्यों नहीं लोगों की दुआओं से लोगों के काम आने से मिलता है निशा सुकृति से प्रकार के सुख जब हमारे जीवन के अंदर की सोच रखता हूं लक्ष्य को प्राप्त होता है मिलता है तो बहुत असीम आनंद मिलता है सिम खुशी मिलती है असीम सुख मिलता है इस तरह से हम उस चीज के पीछे भागते हैं तुम्हें ऐसी चीजों के पास के पीछे भागते हैं मिल जाती हैं

tu kisse prapt hota hai sathiyo pehle me tum ko samajhna vastu kise kehte hain kyonki aajkal jism sukh samajhte hain vaah tempareri hota hai kothi gaadi achi post aadi yah sab tempareri hoti hai parantu vaastav me sukh asli man ka sukh hote hain jo par marne deta uske liye sabse pehle main kya karna padega ki apni aatma ki awaaz me tha jo mere andar real me chalta hai jisko pura nahi kar paate ek dusre ko dekh kar heen bhavna se ya koi bhi karan ho sakta hai us baat ko jo man ke andar jo baat uthati hai achi baat hoti hai us chuku devgan pura karte hain tabhi kaha jata hai ki apni aatma ki awaaz suno jab uski awaaz ko sunte apne andar ki awaaz ko sunkar pura kar toh asim sukh milta hai doosra suktam milta hai jab aap logo ki help karte hain logo ke dukhon me aap kaam aati hain kisi garib aadmi ka kisi asahay log ka is tarah ke logo ka jab tum help karte ho kyonki jo duaen milti hain bahut sukh deti hain aisa kahin se bhi prapt nahi ho saka is karodo rupya kharid lo phir bhi sukh nahi milta kyon nahi logo ki duaaon se logo ke kaam aane se milta hai nisha sukriti se prakar ke sukh jab hamare jeevan ke andar ki soch rakhta hoon lakshya ko prapt hota hai milta hai toh bahut asim anand milta hai sim khushi milti hai asim sukh milta hai is tarah se hum us cheez ke peeche bhagte hain tumhe aisi chijon ke paas ke peeche bhagte hain mil jaati hain

तू किससे प्राप्त होता है साथियों पहले में तुम को समझना वस्तु किसे कहते हैं क्योंकि आजकल जि

Romanized Version
Likes  84  Dislikes    views  2786
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!