विधानसभा और विधान परिषद में क्या अंतर है?...


user

Abhishek Sharma

Forest Range Officer, MP

1:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विधानसभा राज्य के अंदर चुने हुए विधायकों का एक समूह होता है जिसका नेता जिसमें नेता दल जो होता है प्रमुख वह मुख्यमंत्री होता है जिसका एक छोटा सा मंत्रिपरिषद होता है और राज्य का राज्यपाल उसे शपथ दिलाता है विधान परिषद चुने हुए लोगों का नहीं होता यहां पर विधानसभा की एक बैठक होती है विधानसभा जब चाहे तब विधान परिषद का निर्माण कर सकती है या विधानसभा का विधान परिषद को भंग कर सकती है विधान परिषद के बनने के बाद वहां पर जितने भी लोग होते हैं उन्हें अलग अलग टाइप के जैसे कि 18010 किसी विशेष इंडस्ट्रीज के होते हैं या 1:00 22 को चुने हुए जाते हैं नेताओं के द्वारा मदद टोटली मान लीजिए कि र स पा रहा उस राज्य का जिस तरह से केंद्र में लोकसभा तथा राज्यसभा हे राजा राज्यसभा के सभी सदस्य मनोनीत होते हैं उसी तरह से विधान परिषद की भी सारे के सारे सदस्य मनोनीत होकर जाते हैं और विधान परिषद का को होना ही सही से नहीं है तुम भारत में किन 7 राज्यों में विधान परिषद है और लोग विधानसभा जब चाहे तब विधान परिषद बना सकती है तथा विधान परिषद को बंद भी कर सकती है लेकिन अपन हाउस में यानी कि लोकसभा कविराज सभा का मन नहीं कर सकती राज्यसभा के लाइट हाउस है जो कभी कभी भी भंग हो नहीं सकता वह हमेशा कारण में रहता है हमेशा कार्य करता है धन्यवाद

vidhan sabha rajya ke andar chune hue vidhayakon ka ek samuh hota hai jiska neta jisme neta dal jo hota hai pramukh vaah mukhyamantri hota hai jiska ek chota sa mantriparishad hota hai aur rajya ka rajyapal use shapath dilata hai vidhan parishad chune hue logo ka nahi hota yahan par vidhan sabha ki ek BA ithak hoti hai vidhan sabha jab chahen tab vidhan parishad ka nirmaan kar sakti hai ya vidhan sabha ka vidhan parishad ko bhang kar sakti hai vidhan parishad ke BA nne ke BA ad wahan par jitne bhi log hote hai unhe alag alag type ke jaise ki 18010 kisi vishesh industries ke hote hai ya 1 00 22 ko chune hue jaate hai netaon ke dwara madad totally maan lijiye ki r s paa raha us rajya ka jis tarah se kendra mein lok sabha tatha rajya sabha hai raja rajya sabha ke sabhi sadasya manonit hote hai usi tarah se vidhan parishad ki bhi saare ke saare sadasya manonit hokar jaate hai aur vidhan parishad ka ko hona hi sahi se nahi hai tum bharat mein kin 7 rajyo mein vidhan parishad hai aur log vidhan sabha jab chahen tab vidhan parishad BA na sakti hai tatha vidhan parishad ko BA nd bhi kar sakti hai lekin apan house mein yani ki lok sabha kaviraj sabha ka man nahi kar sakti rajya sabha ke light house hai jo kabhi kabhi bhi bhang ho nahi sakta vaah hamesha karan mein rehta hai hamesha karya karta hai dhanyavad

विधानसभा राज्य के अंदर चुने हुए विधायकों का एक समूह होता है जिसका नेता जिसमें नेता दल जो ह

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  404
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विधानसभा और विधान परिषद में क्या अंतर है तो विधानसभा के अंदर जो सदस्य चुने जाते हैं वह जनता के वोटों के द्वारा चयनित होते जनता के वोटों के बाद जीत कर आते हैं वह विधानसभा में होते हैं और जो विधान परिषद है वह किसी विशेष व्यक्तियों को नामांकित करती है या वह विधानसभा के जो सदस्य है वह वोटिंग करके विधान परिषद के सदस्यों को चेक करते हैं एक तरफ से लोकसभा व राज्यसभा है उसी प्रकार विधानसभा और विधान परिषद भी हैं किंतु कई स्टेट में विधान परिषद नहीं है वहां केवल विधानसभा है अगर कोई मंत्री बनता है या मुख्यमंत्री बनता है कोई भी तो मूवी धान सभा का अगर सदस्य नहीं है तो वह विधान परिषद का सदस्य बन जाता है जैसे कि हमारे मनमोहन सिंह से राज्यसभा के सदस्य और पढ़े आप डाल रहे हो नहीं सुनाओ

vidhan sabha aur vidhan parishad mein kya antar hai toh vidhan sabha ke andar jo sadasya chune jaate hai vaah janta ke voton ke dwara chayanit hote janta ke voton ke BA ad jeet kar aate hai vaah vidhan sabha mein hote hai aur jo vidhan parishad hai vaah kisi vishesh vyaktiyon ko naamaankit karti hai ya vaah vidhan sabha ke jo sadasya hai vaah voting karke vidhan parishad ke sadasyon ko check karte hai ek taraf se lok sabha va rajya sabha hai usi prakar vidhan sabha aur vidhan parishad bhi hai kintu kai state mein vidhan parishad nahi hai wahan keval vidhan sabha hai agar koi mantri BA nta hai ya mukhyamantri BA nta hai koi bhi toh movie dhaan sabha ka agar sadasya nahi hai toh vaah vidhan parishad ka sadasya BA n jata hai jaise ki hamare manmohan Singh se rajya sabha ke sadasya aur padhe aap daal rahe ho nahi sunao

विधानसभा और विधान परिषद में क्या अंतर है तो विधानसभा के अंदर जो सदस्य चुने जाते हैं वह जनत

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  142
WhatsApp_icon
play
user

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जैसे केंद्र में लोकसभा और राज्यसभा होता है वैसे ही राज्य में विधानसभा विधानपरिषद होता है लोकसभा निम्न सदन होता है और सभा विधान सभा विधान परिषद विधानसभा से विधायक को चुनते हैं वह सब मिलकर टीम को चिंता है जैसे लोकसभा को चुनते हैं सब लोकसभा के सदस्य निर्वाचित सदस्य विधानसभा में किसी भी राज्य में विधानसभा की कम से कम 60 से अधिक से अधिक 500 से ज्यादा नहीं होता जम्मू कश्मीर में 36 सेक्शन में

jaise kendra mein lok sabha aur rajya sabha hota hai waise hi rajya mein vidhan sabha vidhanparishad hota hai lok sabha nimn sadan hota hai aur sabha vidhan sabha vidhan parishad vidhan sabha se vidhayak ko chunte hai vaah sab milkar team ko chinta hai jaise lok sabha ko chunte hai sab lok sabha ke sadasya nirvachit sadasya vidhan sabha mein kisi bhi rajya mein vidhan sabha ki kam se kam 60 se adhik se adhik 500 se zyada nahi hota jammu kashmir mein 36 section mein

जैसे केंद्र में लोकसभा और राज्यसभा होता है वैसे ही राज्य में विधानसभा विधानपरिषद होता है ल

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  12
WhatsApp_icon
user

Jyoti Mehta

Ex-History Teacher

1:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

राज्य विधानमंडल में दो सदन होते हैं विधानसभा और विधान परिषद विधानसभा व विधान परिषद को संविधान के द्वारा अलग-अलग कार्य दिए गए हैं शक्ति व अधिकार विधानसभा के पास विधान परिषद से अधिक है विधान सभा के सदस्यों को सीधा जनता द्वारा चुना जाता है वह जनता के प्रत्यक्ष प्रतिनिधि होते हैं विधानसभा का कार्यकाल 5 वर्ष का होता है आपातकाल में से बढ़ाया या बंद किया जा सकता है इसमें निर्वाचित होने के लिए न्यूनतम आयु सीमा 25 वर्ष होनी चाहिए प्रत्येक राज्य की विधानसभा में कम से कम 7 अधिक से अधिक 500 सदस्य हो सकते हैं विधानसभा का नेता राज्य के मुख्यमंत्री होते हैं राज्य का बजट विधान सभा द्वारा ही पारित किया जाता है इसके अलावा विधान परिषद विधानमंडल का उच्च सदन होता है वर्तमान में छह राज्यों में विधान परिषद मौजूद है विधान परिषद के सदस्यों की संख्या राज्य की विधानसभा के कुल सदस्यों की एक तिहाई से अधिक नहीं होनी चाहिए विधान परिषद का सदस्य बनने के लिए न्यूनतम आयु 30 वर्ष होनी चाहिए परिषद के प्रत्येक सदस्य का कार्यकाल 6 वर्ष होता है विधानसभा और विधान परिषद में यह मुख्य अंतर है

rajya vidhanmandal mein do sadan hote hai vidhan sabha aur vidhan parishad vidhan sabha va vidhan parishad ko samvidhan ke dwara alag alag karya diye gaye hai shakti va adhikaar vidhan sabha ke paas vidhan parishad se adhik hai vidhan sabha ke sadasyon ko seedha janta dwara chuna jata hai vaah janta ke pratyaksh pratinidhi hote hai vidhan sabha ka karyakal 5 varsh ka hota hai aapatkal mein se BA dhaya ya BA nd kiya ja sakta hai isme nirvachit hone ke liye ninuntam aayu seema 25 varsh honi chahiye pratyek rajya ki vidhan sabha mein kam se kam 7 adhik se adhik 500 sadasya ho sakte hai vidhan sabha ka neta rajya ke mukhyamantri hote hai rajya ka budget vidhan sabha dwara hi paarit kiya jata hai iske alava vidhan parishad vidhanmandal ka ucch sadan hota hai vartaman mein cheh rajyo mein vidhan parishad maujud hai vidhan parishad ke sadasyon ki sankhya rajya ki vidhan sabha ke kul sadasyon ki ek tihai se adhik nahi honi chahiye vidhan parishad ka sadasya BA nne ke liye ninuntam aayu 30 varsh honi chahiye parishad ke pratyek sadasya ka karyakal 6 varsh hota hai vidhan sabha aur vidhan parishad mein yah mukhya antar hai

राज्य विधानमंडल में दो सदन होते हैं विधानसभा और विधान परिषद विधानसभा व विधान परिषद को संवि

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  202
WhatsApp_icon
user

Sharmistha

Ops Answerer

1:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे पहले मैं आपको विधानसभा और विधान परिषद की शक्तियां जो है कहां-कहां बराबर होती है मैं उनके बारे में आपको बताना चाहूंगी कि पहला जो है वह साधारण विधायकों को शुरू करना दूसरा मुख्यमंत्री और अन्य मंत्रियों की नियुक्ति करना और आपको जानना चाहिए कि जो मंत्री विधानमंडल के किसी भी सदन के सदस्य हो सकते हैं तीसरा यह कि राज्यपाल जो अध्यादेश जारी करते हैं उनको एक्सेप्ट तो रिजेक्ट करना और हर राज्य में कुछ समय धार्मिक संस्थाएं होती है जैसे राज्य वित्त आयोग और राज्य लोक सेवा आयोग इन संस्थाओं के द्वारा से जारी के रिपोर्ट पर विचार करना ठीक है और विधानसभा की शक्तियां विधान परिषद से जो है किन मामलों में ज्यादा होती है तो उसके बारे में बताना चाहूंगी जैसे कि धन विधेयक होता है केवल विधानसभा में ही आरंभ किए जा सकते हैं निकले शामली में ही आराम कर सकते हैं विधान परिषद धन विदेश में नाम ना तो संशोधन कर सकती और ना उसे खारिज कर सकती है यदि चाहे तो 14 दिन तक रोक सके इसमें संशोधन से संबंधित सिफारिश दे सकती है विधानसभा उन सिफारिशों को स्वीकार भी कर सकते और खारिज भी कर सकते हैं और हर स्थिति में विधानसभा की रैली जो है अंतिम बार आता है कि वित्तीय विधेयक जो होते हैं केवल विधानसभा में ही प्रस्तुत की जा सकता है और जैसे वैसे एक बार जो है वित्तीय विधेयक प्रस्तुत हो गया तो दोनों सदनों की शक्तियां दो बराबर होती है

sabse pehle main aapko vidhan sabha aur vidhan parishad ki shaktiyan jo hai kahaan kahaan BA rabar hoti hai unke BA re mein aapko BA taana chahungi ki pehla jo hai vaah sadhaaran vidhayakon ko shuru karna doosra mukhyamantri aur anya mantriyo ki niyukti karna aur aapko janana chahiye ki jo mantri vidhanmandal ke kisi bhi sadan ke sadasya ho sakte hai teesra yah ki rajyapal jo adhyadesh jaari karte hai unko except toh reject karna aur har rajya mein kuch samay dharmik sansthayen hoti hai jaise rajya vitt aayog aur rajya lok seva aayog in sasthaon ke dwara se jaari ke report par vichar karna theek hai aur vidhan sabha ki shaktiyan vidhan parishad se jo hai kin mamlon mein zyada hoti hai toh uske BA re mein BA taana chahungi jaise ki dhan vidhayak hota hai keval vidhan sabha mein hi aarambh kiye ja sakte hai nikle shamili mein hi aaram kar sakte hai vidhan parishad dhan videsh mein naam na toh sanshodhan kar sakti aur na use khareej kar sakti hai yadi chahen toh 14 din tak rok sake isme sanshodhan se sambandhit sifarish de sakti hai vidhan sabha un sifarisho ko sweekar bhi kar sakte aur khareej bhi kar sakte hai aur har sthiti mein vidhan sabha ki rally jo hai antim BA ar aata hai ki vittiy vidhayak jo hote hai keval vidhan sabha mein hi prastut ki ja sakta hai aur jaise waise ek BA ar jo hai vittiy vidhayak prastut ho gaya toh dono sadano ki shaktiyan do BA rabar hoti hai

सबसे पहले मैं आपको विधानसभा और विधान परिषद की शक्तियां जो है कहां-कहां बराबर होती है मैं उ

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  36
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
विधानसभा और विधान परिषद में क्या अंतर है ; vidhan sabha aur vidhan parishad mein antar ; vidhan sabha or vidhan parishad me antar ; vidhan sabha aur vidhan parishad mein kya antar hai ; vidhan sabha vidhan parishad mein antar ; vidhan sabha or vidhan parishad ; विधान सभा विधान परिषद में अंतर ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!