भारत में लोगों को हिंदू धर्म क्यों दिया गया?...


user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत में लोगों को हिंदू धर्म क्यों दिया गया भारत में नहीं पूरे विश्व में एक ही धर्म है वह हिंदू और हिंदू धर्म क्या है हिंदू एक जीने का तरीका है जो ईश्वर का तरीका है भगवान ने हमें जो हिंदू शब्द को आप समझने की जरूरत है उसको आप समझेंगे तो आपको इस चीज का पता लग जाएगा ईश्वर है मैंने ज्ञान और प्रकाशन की बिंदी का मतलब है आनंद पैमाने देने वाला हूं मैंने ऊर्जा जो हमें ऊर्जा देता है ज्ञान और प्रकाश देता है वह अनंत ईश्वर ने जो विधि बनाई है उसके अनुसार जो जीता है वही हिंदू बनाता है और हिंदू कोई धर्म नहीं होता है आप इसको धर्म जो कहते हो हिंदू तो एक भगवान की दी हुई जीने की विधि हिंदू को जीने की जी के अनुसार अगर हम भगवान के बताए रास्ते के अनुसार जीते हैं तो हमारा जीवन का उद्धार हो जाता है इसीलिए हिंदू कोई धर्म मेरे हिसाब से नहीं धर्म तो धर्म है धर्म की परिभाषा आप पहले समझे धर्म कैसे होता है जैसे चाहिए वैसे रचना और मैसेज मेरी रचना धैर्य पूर्वक जब मैं विधि के अनुसार भगवान की बताई हुई कर्म करूंगा तो वह धर्म अपने आप हो जाएगा धर्य से क्या विक्रम की रचना ही मेरे द्वारा धर्म कहलाती है तो इस चीज को शब्दों को जानिए शब्दों के गुणों को जानिए और इस प्रकार का अज्ञानता का रक्षक उचित नहीं है यहां सब को बराबर का जीने का अधिकार है और सब ईश्वर की विधि के अनुसार ही जीते हैं इसलिए हिंदू धर्म और मुसलमान जाना यह जनाब यहां से जितने भी दुनिया में जीने के तरीके बताएं इसके लिए हमारा संविधान इसके लिए हमारे यहां हर उसमें सब को पूरा अधिकार है ऐसा देश नहीं ढूंढने से नहीं मिलेगा धर्म देखना है पाकिस्तान में चले जाइए धर्म देखना है और अन्य देशों में चले जाइए जहां तुम दूसरी बात भी नहीं कर सकते हो अभी धर्म आपने देखा कहां है जहां खुलापन मिलता है बकवास नहीं जाता होती है इसीलिए हम को अपनी वाणी पर संयम का पुरवा और देश को एकता के सूत्र में बांधने वाले ही शब्द बोलने चाहिए शब्द का बहुत बड़ा महत्व है हम शास्त्रों को पढ़ते नहीं है शास्त्रों को देखते नहीं है हम दूसरे की भावनाओं को समझते नहीं हैं अनाप-शनाप अपने हो हम शब्दों का दुरुपयोग करते हैं और समाज में बुराइयां को बोलते हैं जिस बुराइयों को हम बोल रहे हैं इससे समाज में एकता की जो उचित नहीं है धन्यवाद

bharat me logo ko hindu dharm kyon diya gaya bharat me nahi poore vishwa me ek hi dharm hai vaah hindu aur hindu dharm kya hai hindu ek jeene ka tarika hai jo ishwar ka tarika hai bhagwan ne hamein jo hindu shabd ko aap samjhne ki zarurat hai usko aap samjhenge toh aapko is cheez ka pata lag jaega ishwar hai maine gyaan aur prakashan ki bindi ka matlab hai anand paimane dene vala hoon maine urja jo hamein urja deta hai gyaan aur prakash deta hai vaah anant ishwar ne jo vidhi banai hai uske anusaar jo jita hai wahi hindu banata hai aur hindu koi dharm nahi hota hai aap isko dharm jo kehte ho hindu toh ek bhagwan ki di hui jeene ki vidhi hindu ko jeene ki ji ke anusaar agar hum bhagwan ke bataye raste ke anusaar jeete hain toh hamara jeevan ka uddhar ho jata hai isliye hindu koi dharm mere hisab se nahi dharm toh dharm hai dharm ki paribhasha aap pehle samjhe dharm kaise hota hai jaise chahiye waise rachna aur massage meri rachna dhairya purvak jab main vidhi ke anusaar bhagwan ki batai hui karm karunga toh vaah dharm apne aap ho jaega dharya se kya vikram ki rachna hi mere dwara dharm kahalati hai toh is cheez ko shabdon ko janiye shabdon ke gunon ko janiye aur is prakar ka agyanata ka rakshak uchit nahi hai yahan sab ko barabar ka jeene ka adhikaar hai aur sab ishwar ki vidhi ke anusaar hi jeete hain isliye hindu dharm aur musalman jana yah janab yahan se jitne bhi duniya me jeene ke tarike bataye iske liye hamara samvidhan iske liye hamare yahan har usme sab ko pura adhikaar hai aisa desh nahi dhundhne se nahi milega dharm dekhna hai pakistan me chale jaiye dharm dekhna hai aur anya deshon me chale jaiye jaha tum dusri baat bhi nahi kar sakte ho abhi dharm aapne dekha kaha hai jaha khulapan milta hai bakwas nahi jata hoti hai isliye hum ko apni vani par sanyam ka purva aur desh ko ekta ke sutra me bandhne waale hi shabd bolne chahiye shabd ka bahut bada mahatva hai hum shastron ko padhte nahi hai shastron ko dekhte nahi hai hum dusre ki bhavnao ko samajhte nahi hain anap shanap apne ho hum shabdon ka durupyog karte hain aur samaj me buraiyan ko bolte hain jis buraiyon ko hum bol rahe hain isse samaj me ekta ki jo uchit nahi hai dhanyavad

भारत में लोगों को हिंदू धर्म क्यों दिया गया भारत में नहीं पूरे विश्व में एक ही धर्म है वह

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  167
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!