24 उच्च न्यायालयों में 400 से अधिक न्यायाधीशों की सीट ख़ाली है।क्या इसी वजह से फ़ैसलों में देरी होती है?...


play
user

Awdhesh Singh

Former IRS, Top Quora Writer, IAS Educator

0:55

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लिखे जो न्यायालय में सीटें खाली हैं 400 से ज्यादा इसका असर तो लाजमी है पैसों में और अगर यह 400 लोग मान लिया Wanted होते हैं तो रोज कई सारे हजारों फैसले बोलोगे सकते थे और इसमें कोई दो राय नहीं है कि जो पेंडेंसी है वह काफी हद तक कम हो जाती तो इसमें कोई दो राय नहीं है कि जो उच्च न्यायालय पर खा लिया को एक बहुत बड़ा कारण है कि नहीं अकेला कारण नहीं है इसके अलावा बहुत सारे कारण हैं जिसमें जो आपके जो बाकी लोग हैं जैसे आप के एडवोकेट सेवर जेल में लेते रहते हैं टाइम से आते नहीं हैं और जो एक न्यायालय की जो प्रक्रिया है वह बहुत ज्यादा कॉन्प्लेक्स है और उस चक्कर में भी बहुत सारी डिलीट होती हैं 2 सीटों को भरना बहुत जरूरी है लेकिन उसके साथ-साथ में उसमें जो गुणात्मक सुधार है और उसमें जो प्रक्रिया में सुधार है वह भी अगर हम चाहते हैं कि न्यायालय हैं उसमें तेजी से फैसले

likhe jo nyayalaya mein seaten khaali hain 400 se jyada iska asar to lajmi hai paison mein aur agar yeh 400 log maan liya Wanted hote hain to roj kai sare hajaron chahiye faisle bologe sakte the aur isme koi do rai nahi hai ki jo pendensi hai wah kaafi had tak kum ho jati to isme koi do rai nahi hai ki jo uccha chahiye nyayalaya par kha liya ko ek bahut bada kaaran hai ki nahi akela kaaran nahi hai iske alava bahut sare kaaran hain jisme jo aapke jo baki log hain jaise aap ke edavoket sevar jail mein lete rehte hain time se aate nahi hain aur jo ek nyayalaya ki jo prakriya hai wah bahut jyada conplex hai aur us chakkar mein bhi bahut saree delete hoti hain 2 seaton ko bharna bahut zaroori hai lekin uske saath saath mein usamen chahiye jo gunatmak sudhaar hai aur usamen chahiye jo prakriya mein sudhaar hai wah bhi agar hum chahte hain ki nyayalaya hain usamen chahiye teji se faisle

लिखे जो न्यायालय में सीटें खाली हैं 400 से ज्यादा इसका असर तो लाजमी है पैसों में और अगर यह

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  490
WhatsApp_icon
9 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

MD HAROON

Teacher

0:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दोस्तों आपके द्वारा पूछा गया सवाल है 24 उच्च न्यायालय में 400 से अधिक न्यायाधीशों की सीट खाली है क्या इसी वजह से फैसला में गिरी होती है बिल्कुल आपने जो कहा यह बिल्कुल सही है क्योंकि जब न्यायाधीश ही नहीं होंगे कम न्यायाधीश होंगे और ज्यादा होंगे तो फैसले में देरी होगी ही

doston aapke dwara poocha gaya sawaal hai 24 ucch nyayalaya me 400 se adhik nyaydhisho ki seat khaali hai kya isi wajah se faisla me giri hoti hai bilkul aapne jo kaha yah bilkul sahi hai kyonki jab nyayadhish hi nahi honge kam nyayadhish honge aur zyada honge toh faisle me deri hogi hi

दोस्तों आपके द्वारा पूछा गया सवाल है 24 उच्च न्यायालय में 400 से अधिक न्यायाधीशों की सीट ख

Romanized Version
Likes  80  Dislikes    views  1015
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

माननीय उच्च न्यायालय के कई पद निश्चित रूप से खाली है और इससे न्याय प्राप्त करने में सबसे बड़ा बाधक उत्पन्न हो रहा है

mananiya ucch nyayalaya ke kai pad nishchit roop se khaali hai aur isse nyay prapt karne me sabse bada badhak utpann ho raha hai

माननीय उच्च न्यायालय के कई पद निश्चित रूप से खाली है और इससे न्याय प्राप्त करने में सबसे

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  126
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  5  Dislikes    views  60
WhatsApp_icon
user
2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

न्यायालय में सीटें खाली होने की सबसे बड़ी वजह है शिक्षा

nyayalaya mein seaten khaali hone ki sabse badi wajah hai shiksha

न्यायालय में सीटें खाली होने की सबसे बड़ी वजह है शिक्षा

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  29
WhatsApp_icon
user

Pragati

Aspiring Lawyer

1:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां अगर हम देश के न्यायालयों की और वहां के जगत की बात करें तो भारत में बहुत सारे ऐसे ही जगह है जहां पर उच्च न्यायालयों में आयोजित की जगह खाली है और वहां पर न्यायाधीश नहीं है कोई भी जॉब भेजो कैसे इसका फैसला कर पाए और अगर हम देखें तो कुछ एक या दो लाख लोगों के ऊपर सिर्फ एक न्यायाधीश है बल्कि अगर एक एक या दो लाख लोगों की कैसे देखे जाए तो वह बहुत ज्यादा है परंतु उनका न्याय देने के लिए एक ही न्यायाधीश बैठे हुए हैं तो यह जो देश में हमारे न्यायालय में न्यायाधीश की जो कमी है उसकी वजह से हमारे देश में जो RSS के फैसले आते हैं वह बहुत देर में आते हैं और कई कई कई कई बार फैसला आने में इतनी देर हो जाती है कि वह इंसान खुद भी मर चुके होते हैं या फिर उनकी नई पीढ़ी आ चुकी होती है उस फैसले को लेने के लिए लेकिन वह पैसा तब भी नहीं आ पाता तो जो देश में न्याय लो मैं और जो न्यायाधीश की कमी है उसी की वजह से हमारे देश की न्याय व्यवस्था है वह अच्छे से काम नहीं कर पा रही और न्यायाधीशों की जो कमी है वह एक और चीज है जो देश में लोगों को एक विश्वास होता है न्यायालय पर उसको भी कहीं ना कहीं काम कर रही है क्योंकि अगर किसी भी इंसान को केस का फैसला नहीं मिल पा रहा है तो वह एक इरिटेशन की वजह से न्यायालयों से दूर होते जा रहे हैं उन पर भरोसा करना कम कर रहे हैं तो मेरे हिसाब से अगर न्यायाधीशों की जल्दी से जल्दी नियुक्ति की जाए और नए न्यायाधीश बनाया जाए चाहे वह उच्च न्यायालय हो या फिर छोटे न्यायालय उन सभी में तभी हम जल्दी यह फैसला कैसे दे पाएंगे और न्यायाधीश ढंग से पैसे कर पाएंगे और जितनी जो जनसंख्या है उस हिसाब से जल्दी से जल्दी करना पड़ेगा तभी जितने भी कैसे जब उनके फैसले में देरी से नहीं आएंगे

ji haan agar hum desh ke nyayalayon ki aur wahan ke jagat ki baat kare chahiye to bharat mein bahut sare aise hi jagah hai jaha par uccha chahiye nyayalayon mein aayojit ki jagah khaali hai aur wahan par nyayadhish nahi hai koi bhi job bhejo kaise iska faisla kar paye aur agar hum dekhen to kuch ek ya do lakh logo chahiye ke upar sirf ek nyayadhish hai balki agar ek ek ya do lakh logo chahiye ki kaise dekhe jaye to wah bahut jyada hai parantu unka nyay dene ke liye ek hi nyayadhish baithey hue hain to yeh jo desh mein hamare nyayalaya mein nyayadhish ki jo kami hai uski wajah se hamare desh mein jo RSS ke faisle aate hain wah bahut der mein aate hain aur kai kai kai kai baar faisla aane mein itni der ho jati hai ki wah insaan khud bhi mar chuke hote hain ya phir unki nayi pidhi aa chuki hoti hai us faisle ko lene ke liye lekin wah paisa tab bhi nahi aa pata to jo desh mein nyay lo main aur jo nyayadhish ki kami hai ussi ki wajah se hamare desh ki nyay vyavastha hai wah acche se kaam nahi kar pa rahi aur nyayadhisho ki jo kami hai wah ek aur cheez hai jo desh mein logo chahiye ko ek vishwas hota hai nyayalaya par usko bhi kahin na kahin kaam kar rahi hai kyonki agar kisi bhi insaan ko case ka faisla nahi mil pa raha hai to wah ek irritation ki wajah se nyayalayon se dur hote ja rahe hain un par bharosa karna kum kar rahe hain to mere hisab se agar nyayadhisho ki jaldi se jaldi niyukti ki jaye aur naye nyayadhish banaya jaye chahe wah uccha chahiye nyayalaya ho ya phir chote nyayalaya un sabhi mein tabhi hum jaldi yeh faisla kaise de paenge aur nyayadhish dhang se paise kar paenge aur jitni jo jansankhya hai us hisab se jaldi se jaldi karna padega tabhi jitne bhi kaise jab unke faisle mein deri se nahi aayenge

जी हां अगर हम देश के न्यायालयों की और वहां के जगत की बात करें तो भारत में बहुत सारे ऐसे ही

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  187
WhatsApp_icon
user

Shubham

Software Engineer in IBM

1:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ठीक है दोस्त मैं आपकी बात से पूरा सहमत हूं और जो आपने ध्यान दिया उस हिसाब से मैं सहमत हूं और जो कैसेट हमारे देश में काफी सालों से पेंडिंग पड़े हैं वह पेंडिंग ही रह जाएंगे जो न्यायाधीशों की 408 सीटें बैकेंड पड़ी है वह सिर्फ और सिर्फ हमारे भारत में करेक्शन और न्यायालयों की खामियों को दिखाता है लगभग आज भी हमारे भारत में तीन करोड़ के जस पेंडिंग पड़े इंडियन कोर्ट्स है जिसमें सिर्फ और सिर्फ 400002 4000064 हाईकोर्ट के हाथों से कितना बड़ा आंकड़ा है हमारी गवर्नमेंट को इस पर ध्यान देना चाहिए यह सिर्फ और सिर्फ 2:00 बजे से पहले रिज़ल्ट यह तो कैसे जितने ज्यादा है और जो न्यायाधीश हैं वह इतने कम इस द डिफरेंस है वह काफी ज्यादा है तो काफी ज्यादा टाइम लगता है एक केस को सॉल्व करने में जिसकी वजह से इतने सारे कैसे पेंडिंग रह जाते हैं पहले जिस दूसरी चीज हमारे भारत में कितने करप्शन है कि एक केस को इतना घुमाया जाता है उस पर इतनी बार इंक्वायरी की जाती है उसका भी कोई सलूशन नहीं निकाला जाता क्योंकि इंक्वायरी अभी देखी नहीं जाती तू दो न्यायाधीशों की सीटें अजूबे क्यों पड़ी है तो हमारी गवर्नमेंट को इस पर इंक्वायरी बतानी चाहिए हालांकि हमारी बेटी भी थी लेकिन कोई सलूशन नहीं आया और जो यह जो वैकेंसी पड़ी है उसको जल्दी से फुल करना चाहिए ताकि जो इतने सारे केस पेंडिंग पड़े हैं यह जल्दी से जल्दी सॉल्व हो क्योंकि हमारे देश का यह हाल है कि कुछ कैसे इसको तो 506 साल लग जाते हैं सर होने में और कुछ मैसेज तो 10:12 12 साल लग जाते हैं और उसके बाद भी इसका कोई सलूशन नहीं निकलता तो जो न्यायाधीशों की संख्या है उसको सही से बढ़ाना चाहिए और सही करना चाहिए और किन पड़ी है उसको ओपन करना चाहिए और हमारी सरकार को इन चीजों पर ध्यान देना चाहिए ताकि इतने सारे जो केस पेंडिंग पड़े सालों से जल्दी से जल्दी कम टाइम में 16 उपाय थैंक यू

theek hai dost main aapki baat se pura sahmat hoon aur jo aapne dhyan diya us hisab se main sahmat hoon aur jo kaiset hamare desh mein kaafi salon se pending pade chahiye hain wah pending hi rah jaenge jo nyayadhisho ki 408 seaten baikend padi hai wah sirf aur sirf hamare bharat mein correction aur nyayalayon ki khamiyon ko dikhaata hai lagbhag aaj bhi hamare bharat mein teen crore ke jas pending pade chahiye indian courts hai jisme sirf aur sirf 400002 4000064 highcourt ke hathon se kitna bada akanda hai hamari government ko is par dhyan dena chahiye yeh sirf aur sirf 2:00 baje se pehle result yeh to kaise jitne jyada hai aur jo nyayadhish hain wah itne kum is d difference hai wah kaafi jyada hai to kaafi jyada time lagta hai ek case ko solve karne mein jiski wajah se itne sare kaise pending rah jaate hain pehle jis dusri cheez hamare bharat mein kitne corruption hai ki ek case ko itna ghumaya jata hai us par itni baar enquiry ki jati hai uska bhi koi salution nahi nikaala jata kyonki enquiry abhi dekhi nahi jati chahiye tu do nyayadhisho ki seaten ajoobe kyu padi hai to hamari government ko is par enquiry batani chahiye halaki hamari beti bhi thi lekin koi salution nahi aaya aur jo yeh jo vacancy padi hai usko jaldi se full karna chahiye taki jo itne sare case pending pade chahiye hain yeh jaldi se jaldi solve ho kyonki hamare desh ka yeh haal hai ki kuch kaise isko to 506 saal lag jaate hain sar hone mein aur kuch massage to 10:12 12 saal lag jaate hain aur uske baad bhi iska koi salution nahi nikalta to jo nyayadhisho ki sankhya hai usko sahi se badhana chahiye aur sahi karna chahiye aur kin padi hai usko open karna chahiye aur hamari sarkar ko in chijon par dhyan dena chahiye taki itne sare jo case pending pade chahiye salon se jaldi se jaldi kum time mein 16 upay thank you

ठीक है दोस्त मैं आपकी बात से पूरा सहमत हूं और जो आपने ध्यान दिया उस हिसाब से मैं सहमत हूं

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  169
WhatsApp_icon
user

Sachin Bharadwaj

Faculty - Mathematics

1:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

न्यायाधीशों की कमी यह तो एक बहुत बड़ा मुद्दा है जिसकी वजह से 30 मिलियन कैसे सुप्रीम कोर्ट हाईकोर्ट और अदर्स बोर्डिंग कोर्ट के अंदर पेंडिंग है अगर मैं एक घड़ी की बात बोलूं तो लगभग 65000 कैसे सुप्रीम कोर्ट के अंदर 40 मिलियन के सॉरी फॉर मेल इन कैसे हाई कोर्ट के अंदर 30 मिलियन ओवरऑल आप देख सकते हैं लेकिन इसके अलावा भी बहुत सारे ऐसे कारण है जिसकी वजह से इतने सारे केस पेंडिंग पड़े हुए हैं और इनका जो डिसीजन है उसको आने में 20 से 25 साल लग जाते हैं लेकिन किसी भी दूसरे सरकारी संस्थानों की तरह नायक प्रणाली के अंदर ही भ्रष्टाचार है और उसको मना नहीं किया जा सकता क्योंकि कुछ दिन पहले हमने देखा कि सुप्रीम कोर्ट के जजों ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की और उन्होंने सीबीआई रेड चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया दीपक मिश्रा जी हैं उनके ऊपर एलिवेशन लगाए तो यह चीज दिखाती है कहीं ना कहीं सुप्रीम कोर्ट के अंदर चीजें ठीक नहीं हो रही है दूसरा मुझे लगता है कि पारदर्शिता की कमी आप को शायद पता होगा आरटीआई को कोई भी व्यक्ति कानूनी प्रणाली के अंदर नहीं लगा सकता है तो कहीं ना कहीं यह सारी चीजें ऐसी है जिसकी वजह से जिस केस का डिसीजन 2 साल में आना होता है उसको लगाते हैं 20 साल को 2 महीने में आना होता है उसको लगते हैं 4 या 5 साल तो यही वह कारण है जिसकी वजह से सुप्रीम कोर्ट के अंदर ने कैसे स्पेंड देंगे जजों की तो बहुत ज्यादा कमी है 400 दिन से आपने बताया शायद इससे भी ज्यादा जजों की कमी है ताकि इतने सारे लोग इतने पेंडिंग केस ों को कॉल करने के लिए मुझे लगता है बहुत ज्यादा जजों की जरूरत होगी अपॉइंटमेंट कि हालांकि सरकार ने कॉलेजियम सिस्टम की बात क्यों उसको रिप्लाई भी किया लेकिन रिजल्ट ने सेट इस फैक्टरी नहीं रहे

nyayadhisho ki kami yeh to ek bahut bada mudda hai jiski wajah se 30 million kaise supreme court highcourt aur others boarding court ke andar pending hai agar main ek ghadi ki baat bolu to lagbhag 65000 kaise supreme court ke andar 40 million ke sorry for mail in kaise hi court ke andar 30 million ovaraal aap dekh sakte hain lekin iske alava bhi bahut sare aise kaaran hai jiski wajah se itne sare case pending pade chahiye hue hain aur inka jo decision hai usko aane mein 20 se 25 saal lag jaate hain lekin kisi bhi dusre chahiye sarkari sansthano ki tarah nayak pranali ke andar hi bhrashtachar hai aur usko mana nahi kiya ja sakta kyonki kuch din pehle humne dekha ki supreme court ke jajon ne ek press conference ki aur unhone cbi red chief justice of india dipak chahiye mishra ji hain unke upar elevation lagaye to yeh cheez dikhaati hai kahin na kahin supreme court ke andar cheezen theek nahi ho rahi hai doosra mujhe lagta hai ki pardarshita ki kami aap ko shayad pata hoga rti ko koi bhi vyakti kanooni pranali ke andar nahi laga sakta hai to kahin na kahin yeh saree cheezen aisi hai jiski wajah se jis case ka decision 2 saal mein aana hota hai usko lagate hain 20 saal ko 2 mahine mein aana hota hai usko lagte hain 4 ya 5 saal to yahi wah kaaran hai jiski wajah se supreme court ke andar ne kaise spend denge jajon ki to bahut jyada kami hai 400 din se aapne bataya shayad isse bhi jyada jajon ki kami hai taki itne sare log itne pending case on ko call karne ke liye mujhe lagta hai bahut jyada jajon ki zarurat hogi appointment chahiye ki halaki sarkar ne collegium system ki baat kyu usko reply bhi kiya lekin result ne set is factory nahi rahe

न्यायाधीशों की कमी यह तो एक बहुत बड़ा मुद्दा है जिसकी वजह से 30 मिलियन कैसे सुप्रीम कोर्ट

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  271
WhatsApp_icon
user

Rajsi

Sports Commentator & Reporter

1:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सेंडर स्टाफिंग हमेशा से एक प्रॉब्लम रही है बल्कि अन्य साथियों व स्टाफिंग दोनों ही प्रॉब्लम रही है गवर्नमेंट सेक्टर की अक्सर हमने देखा है कि कहीं कहीं पर जरूरत नहीं होती उससे ज्यादा लोग आ जाते हैं और कहीं नहीं पर पद खाली रहते हैं आए दिन आप किसी भी दुकान चले जाइए यहां पर इस तरह के फॉर्म कब मिलते हैं गवर्मेंट जॉब के फॉर्म मिलते हैं आपको हर जगह हर डिपार्टमेंट की कोई ना कोई पद भी मिलती रहेगी कि यह पद खाली हैं इतने खाली है इस नंबर में खाली है तो हर साल निकलती भी रहती है मिलता पुरानी है जो है वह भी चलती रहती है तो यह बहुत बड़ी प्रॉब्लम रही है जबकि हम सब जानते हैं कि पूरे इंडिया में कितना ज्यादा लोग को किस करते हैं गवर्मेंट जॉब की तरफ तिल उनके तैयारी को देखने के बावजूद उनको बराबर 91 नहीं मिलते हैं यार अगर मैं उसके आगे की पॉलिटिक्स की बात करूं तो कैंडिडेट तो मिलते हैं लेकिन उनके पास से पैसे नहीं आते हैं इसलिए उनको रखा नहीं जाता अदालत सिंह जो कि सामने आती हैं और यह शॉपिंग बिल्कुल आपने सही कहा कि यह फैसले में देरी की वजह हो सकती है क्योंकि उसने न्यायाधीश ही नहीं है याद आपकी जा कर देने वाले बना लीजिएगा न्यायाधीश नहीं होंगे तो फैसला सुनाएगा कौन और जितने हैं उन पर काम का प्रेशर है 5:00 फाइल है और प्लस वह जल्दी जल्दी उनके फैसला सुना भी नहीं सकते क्योंकि सही फैसला देना बहुत जरूरी है तो बहुत सारी चीज़ें आती है जाहिर है अभी से आधे से अधिक न्यायाधीश की सीट खाली है जिस में देरी होती है औरतों में देरी की वजह हो सकती है

sender staff hamesha se ek problem rahi hai balki anya sathiyo va staff dono hi problem rahi hai government sector ki aksar humne dekha hai ki kahin kahin par zarurat nahi hoti usse jyada log aa jaate hai aur kahin nahi par pad khaali rehte hai aaye din aap kisi bhi dukan chale jaiye yahan par is tarah ke form kab milte hai goverment job ke form milte hai aapko har jagah har department ki koi na koi pad bhi milti rahegi ki yeh pad khaali hai itne khaali hai is number mein khaali hai to har saal nikalti bhi rehti hai milta purani hai jo hai wah bhi chalti rehti hai to yeh bahut baadi problem rahi hai jabki hum sab jante hai ki poore india mein kitna jyada log ko kis karte hai goverment job ki taraf til unke taiyari ko dekhne ke bawajud unko barabar 91 nahi milte hai yaar agar main uske aage ki politics ki baat karu chahiye to candidate to milte hai lekin unke paas se paise nahi aate hai isliye unko rakha nahi jata adalat singh jo ki samane aati hai aur yeh shopping bilkul aapne sahi kaha ki yeh faisle mein deri ki wajah ho sakti hai kyonki usne nyayadhish hi nahi hai yaad aapki ja kar dene wale bana leejiyegaa nyayadhish nahi honge to faisla sunaega kaun aur jitne hai un par kaam ka pressure hai 5:00 file hai aur plus wah jaldi jaldi unke faisla suna bhi nahi sakte kyonki sahi faisla dena bahut zaroori hai to bahut saree chize aati hai jaahir hai abhi se aadhe chahiye se adhik nyayadhish ki seat khaali hai jis mein deri hoti hai auraton mein deri ki wajah ho sakti hai

सेंडर स्टाफिंग हमेशा से एक प्रॉब्लम रही है बल्कि अन्य साथियों व स्टाफिंग दोनों ही प्रॉब्लम

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  164
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!