क्या बॉलीवुड को पैड मेन्स जैसी अधिक प्रेरणात्मक फिल्में बनाने की ज़रूरत है? क्यों?...


user

Ravi Sharma

Advocate

1:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बॉलीवुड में जहां एक और बहुत ही घिसी पिटी और पुराने ढंग की फिल्में बनाई जाती हैं| वही मसाला फिल्म भी बनाई जाती हैं, जिनका कोई औचित्य आज के समय में नजर नहीं आता है| जिस प्रकार की फिल्में यूरोप के देशों में बनती है, व अमेरिका में बनती है, उस प्रकार की फिल्में शायद भारत में नहीं बनती है| तो इस प्रकार का जो एक नया दौर शुरु हुआ है, जिसमें बहुत ही प्रेरणात्मक और समाज सुधार से संबंधित फिल्में बनाई जा रही है| मैं उसका पूर्णत समर्थन करता हूं| विशेषकर जो ऐसा वर्ग है, जो पिछड़ा हुआ है, जिनको उतनी सुविधाएं नहीं मिल पा रही है, या एक प्रकार से महिलाओं के लिए प्रतिदिन की समस्याओं को उजागर करने वाली व उनका निदान प्रदान करने वाली से प्रेरणा लेने वाली जो फिल्में बन रही है, वह बनना बहुत ही आवश्यक है| समाज में फैली हुई विषमताओं व समस्याओं को उजागर करके, उनका निदान करके, उनका एक परमानेंट सलूशन जो भी होता है, वह प्रोवाइड करने वाली जो फिल्में है, उनका बनना आज के समय में बहुत आवश्यक हो चुका है| तो इस विषय में बहुत से फिल्मकार आगे बढ़ कर आ रहे हैं सरकार को चाहिए कि वह उनकी मदद करे उनकी फिल्में बनाने में क्योंकि करदाता के पैसे से अगर आप बड़े बड़े उद्योगपतियों के ऋण माफ कर सकते हैं| तो क्या आप करदाताओं के मनोरंजन का भी इंतजाम नहीं किया जाना चाहिए करदाताओं के पैसों से| यह ज्यादा अच्छा रहेगा, कि हमारे लिए फिल्में बनाने के लिए सरकार सहयोग करें, अगर वह सरकार ऋण दाताओं के ऋण जो लेकर बैठे हुए हैं, बड़े बड़े उद्योगपतियों का रण माफ कर सकती है|

bollywood mein jaha ek aur bahut hi ghisi PT aur purane dhang ki filme banai jaati hain wahi masala film bhi banai jaati hain jinka koi auchitya aaj ke samay mein nazar nahi aata hai jis prakar ki filme europe ke deshon mein banti hai va america mein banti hai us prakar ki filme shayad bharat mein nahi banti hai toh is prakar ka jo ek naya daur shuru hua hai jisme bahut hi prernatmak aur samaj sudhaar se sambandhit filme banai ja rahi hai main uska purnat samarthan karta hoon visheshkar jo aisa varg hai jo pichda hua hai jinako utani suvidhaen nahi mil paa rahi hai ya ek prakar se mahilaon ke liye pratidin ki samasyaon ko ujagar karne wali va unka nidan pradan karne wali se prerna lene wali jo filme ban rahi hai vaah banna bahut hi aavashyak hai samaj mein faili hui vishamataon va samasyaon ko ujagar karke unka nidan karke unka ek permanent salution jo bhi hota hai vaah provide karne wali jo filme hai unka banna aaj ke samay mein bahut aavashyak ho chuka hai toh is vishay mein bahut se filmakar aage badh kar aa rahe hain sarkar ko chahiye ki vaah unki madad kare unki filme banane mein kyonki kardata ke paise se agar aap bade bade udyogpatiyon ke rin maaf kar sakte hain toh kya aap kardataon ke manoranjan ka bhi intajam nahi kiya jana chahiye kardataon ke paison se yah zyada accha rahega ki hamare liye filme banane ke liye sarkar sahyog kare agar vaah sarkar rin dataon ke rin jo lekar baithe hue hain bade bade udyogpatiyon ka ran maaf kar sakti hai

बॉलीवुड में जहां एक और बहुत ही घिसी पिटी और पुराने ढंग की फिल्में बनाई जाती हैं| वही मसाला

Romanized Version
Likes  45  Dislikes    views  836
KooApp_icon
WhatsApp_icon
13 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!