क्या आपको लगता है कि लोकसभा बिल दे र है हैं कि आयुर्वेद और होमिओपैथी डॉक्टर एलोपैथी का अभ्यास कर सकते हैं एक अच्छी बात है?...


user

Dr. Prasenjit Dhargawe

Ayurvedic Doctor

0:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां यह सही बात है अच्छा होना चाहिए इसमें एलोपैथी और दिखाऊंगा एलर्जी का ज्ञान आयुर्वेद और उनसे तलाक होना जरूरी है मॉडर्न साइंस का कोई भी क्रिटिकल अवस्था में आयुर्वेदिक एवं विधि डॉक्टर उसका इलाज सही ढंग से कर सके धन्यवाद

haan yah sahi baat hai accha hona chahiye isme allopathy aur dikhaunga allergy ka gyaan ayurveda aur unse talak hona zaroori hai modern science ka koi bhi critical avastha me ayurvedic evam vidhi doctor uska ilaj sahi dhang se kar sake dhanyavad

हां यह सही बात है अच्छा होना चाहिए इसमें एलोपैथी और दिखाऊंगा एलर्जी का ज्ञान आयुर्वेद और उ

Romanized Version
Likes  86  Dislikes    views  970
WhatsApp_icon
28 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Dr HIMANI

Homeopathic Physician

2:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आयुर्वेद होम्योपैथी और एलोपैथी बहुत और तीनों अलग-अलग सिस्टम है मैं आठवीं के अभी और सारे लोग हैं पढ़ते हैं और उनका शरीर तो हॉट किडनी और जो सिस्टम है अलग-अलग को चढ़ाया जाता है 135 है अच्छी बात नहीं है अगर हम और कन्वर्ट करें लेकिन देखा जाए कि कुछ अगर एलोपैथिक मेडिसिन सेविंग होती है और ऐसी कंडीशन में उनको और देना इंपॉर्टेंट हो जाता है जहां पर की एलोपैथिक और आयुर्वेदिक मेडिसिन करने की बात आती है तो वहां पर जहां पर आप दे सकते हैं और मालिश दे सकते हैं

ayurveda homeopathy aur allopathy bahut aur tatvo alag alag system hai main aatthvi ke abhi aur saare log hain padhte hain aur unka sharir toh hot KIDNEY aur jo system hai alag alag ko chadaya jata hai 135 hai achi baat nahi hai agar hum aur convert kare lekin dekha jaaye ki kuch agar allopathic medicine saving hoti hai aur aisi condition me unko aur dena important ho jata hai jaha par ki allopathic aur ayurvedic medicine karne ki baat aati hai toh wahan par jaha par aap de sakte hain aur maalish de sakte hain

आयुर्वेद होम्योपैथी और एलोपैथी बहुत और तीनों अलग-अलग सिस्टम है मैं आठवीं के अभी और सारे लो

Romanized Version
Likes  24  Dislikes    views  278
WhatsApp_icon
user

Dr Raj Kumar Kochar

Ayurvedic Doctors ( Researcher )

0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे को नहीं लगता है कि ऐसा कोई बिल आएगा क्योंकि 2009 में जो संशोधन किया गया था बिल के अंदर उसमें यह प्रावधान रखा गया था कि होम्योपैथिक और आयुर्वेदिक डॉक्टर 30% को भी एमरजैंसी टाइम में एलोपैथिक दवाइयां दे सकते हैं

mere ko nahi lagta hai ki aisa koi bill aayega kyonki 2009 me jo sanshodhan kiya gaya tha bill ke andar usme yah pravadhan rakha gaya tha ki homeopathic aur ayurvedic doctor 30 ko bhi emergency time me allopathic davaiyan de sakte hain

मेरे को नहीं लगता है कि ऐसा कोई बिल आएगा क्योंकि 2009 में जो संशोधन किया गया था बिल के अंद

Romanized Version
Likes  361  Dislikes    views  2708
WhatsApp_icon
user

Dr Ramswaroop Babele

Astrologer Doctor Ayurveda Hypnotherepist

0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आयुर्वेद और होम्योपैथी के चिकित्सकों को एलोपैथी चिकित्सा करने के लिए सरकार जो बिल लेकर आने वाली है जला रही है उसमें एक ब्रिज पोस्ट करने का प्रावधान है जो तकरीबन 6 महीने का होगा वह ब्रिज कोर्स करने के बाद एलोपैथी चिकित्सा की जाए तो मुझे लगता है वह ठीक है

ayurveda aur homeopathy ke chikitsakon ko allopathy chikitsa karne ke liye sarkar jo bill lekar aane wali hai jala rahi hai usme ek bridge post karne ka pravadhan hai jo takareeban 6 mahine ka hoga vaah bridge course karne ke baad allopathy chikitsa ki jaaye toh mujhe lagta hai vaah theek hai

आयुर्वेद और होम्योपैथी के चिकित्सकों को एलोपैथी चिकित्सा करने के लिए सरकार जो बिल लेकर आने

Romanized Version
Likes  137  Dislikes    views  3236
WhatsApp_icon
user

Dr.Vineet Kumar Gaur

Homeopathic Doctor

0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आरू अतुल को खत्म हुई चुकी है ऐसा कर लेते लेकिन होता तो डॉक्टर को भी अगर एलोपैथी कराने करने का अधिकार दे दिया गया तो ठीक हूं तू भी हो प्रति भी खत्म हो जाएगी क्योंकि आदमी पेथियर समाजसेवा कम पैसे के पीछे ज्यादा भागते हैं एलोपैथी में पैसा आसानी से कम मेहनत से और ज्यादा मिल जाता है इसलिए ऐसा करना गलत है

aru atul ko khatam hui chuki hai aisa kar lete lekin hota toh doctor ko bhi agar allopathy karane karne ka adhikaar de diya gaya toh theek hoon tu bhi ho prati bhi khatam ho jayegi kyonki aadmi pethiyar samajseva kam paise ke peeche zyada bhagte hain allopathy me paisa aasani se kam mehnat se aur zyada mil jata hai isliye aisa karna galat hai

आरू अतुल को खत्म हुई चुकी है ऐसा कर लेते लेकिन होता तो डॉक्टर को भी अगर एलोपैथी कराने करने

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  82
WhatsApp_icon
user

Dr. Dilip Kumar

Homeopathy Doctor

1:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जहां तक एक बिल आ रहा है लोकसभा में क्यों होम्योपैथिक और आयुर्वेदिक डॉक्टर एलोपैथिक डॉक्टर का प्रेक्टिस कर सकते लेकिन जहां तक हम लोगों का मानना है कि जिसको आप 5 साल या 7 साल आयुर्वेद पर हमें पैथिक पड़े वह एलोपैथिक जानकारी आपके पास बहुत कम है क्योंकि एलोपैथिक पढ़ने में भी पांच 7 साल लग जाता है ठीक है उस आधार पर आप कुछ दवा बता देंगे कोई पेन किलर बता देंगे एंटीबायोटिक बता देंगे क्या आप लिखिए लेकिन होगा एंटीबायोटिक का किस दवा के साथ नहीं चलना है जो थोड़ा पढ़ के एमबीबीएस करने के बाद उसको पता है आपको कुछ दिन की ट्रेनिंग में कितना पता कैसे चलेगा इसीलिए यह एक अच्छी चीज नहीं है आयुर्वेद डॉक्टर को आयुर्वेदिक दवा लिंग करना चाहिए हमें पैथिक डॉक्टर को ही प्रतीक दवा ही करना चाहिए नहीं तो नीम हकीम खतरे जान का खतरा बढ़ जाएगा और वैसे भी लोग जब एलोपैथिक डॉक्टर एलोपैथिक हॉस्पिटल सब जगह उपलब्धि है तो कोई क्यों नीम हकीम से इलाज कराने के लिए जाएगा क्योंकि आप उन पर थी का डी ग्रेड अप को एडमिट कार्ड डिग्री है तो अंग्रेजी दवा आपसे लिखाने क्यों जाएगा इसलिए अच्छा है कि जो जो पर किया है वह उसी 35a इलाज करें

jaha tak ek bill aa raha hai lok sabha me kyon homeopathic aur ayurvedic doctor allopathic doctor ka practice kar sakte lekin jaha tak hum logo ka manana hai ki jisko aap 5 saal ya 7 saal ayurveda par hamein paithik pade vaah allopathic jaankari aapke paas bahut kam hai kyonki allopathic padhne me bhi paanch 7 saal lag jata hai theek hai us aadhar par aap kuch dawa bata denge koi pen killer bata denge antibiotic bata denge kya aap likhiye lekin hoga antibiotic ka kis dawa ke saath nahi chalna hai jo thoda padh ke MBBS karne ke baad usko pata hai aapko kuch din ki training me kitna pata kaise chalega isliye yah ek achi cheez nahi hai ayurveda doctor ko ayurvedic dawa ling karna chahiye hamein paithik doctor ko hi prateek dawa hi karna chahiye nahi toh neem hakim khatre jaan ka khatra badh jaega aur waise bhi log jab allopathic doctor allopathic hospital sab jagah upalabdhi hai toh koi kyon neem hakim se ilaj karane ke liye jaega kyonki aap un par thi ka d grade up ko admit card degree hai toh angrezi dawa aapse likhane kyon jaega isliye accha hai ki jo jo par kiya hai vaah usi 35a ilaj kare

जहां तक एक बिल आ रहा है लोकसभा में क्यों होम्योपैथिक और आयुर्वेदिक डॉक्टर एलोपैथिक डॉक्टर

Romanized Version
Likes  33  Dislikes    views  314
WhatsApp_icon
user

Prakash Sharma

Ayurvedic Doctor ,, 7078335626,, WhatsApp

5:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां मैंने सुना बहुत लोगों के जवाब हो पैथिक डॉक्टरों के बीच में आयुर्वेदिक डॉक्टरों कभी सुना है भाई साहब ऐसी बताइए हर दवाई के अपने-अपने फायदे हैं जब वह जिंदा है आप किसी आप जिस पर चीनी प्रैक्टिस करते करते हो एलोपैथिक में प्रैक्टिस करता है तो उसे आयुर्वेद से परहेज नहीं होना चाहिए और कोई आयुर्वेद से प्रैक्टिस करता है तो उसको होम्योपैथिक से कोई परहेज नहीं होना चाहिए अजय से प्रैक्टिस करता है उसको घुमाने से कोई परहेज नहीं होना चाहिए मान लीजिए आपके सिर में दर्द है या बहुत पेन है तो भाई साहब ऐसी बताइए मुझे होम्योपैथिक और आयुर्वेदिक में यूनानी में ऐसी कौन सी दवा है एक बार छोड़कर जो 1 घंटे में दर्द बंद कर दे नहीं कर सकते 1 घंटे में नहीं कर सकती एलोपैथिक कर दे तो ऐसा होता है कि आप कोई भी प्रति चला रहे हो चलाइए और मान लीजिए कोई लरिया 10 की कोई ऐसी दवाई आपको जरूरत पड़ती है यह बढ़िया सी है तो उसमें एलोपैथिक देने में क्या हर्ज है वह सी दवाई हैं अभी जो है शुगर की है शुगर की जिनकी एलोपैथिक चल रही है तो क्या आप एकदम हटाकर अपनी शुगर की दवाई से कंफर्म कर ले खून पतला करने की जिंदगी चल रही है उसको तुरंत हटा कर आप जो आपने हमें प्रतिज्ञा आयुर्वेदिक दे सकते हैं और दे देंगे तो क्या वो काम कर लेगी नहीं कर सकते हां आप ऐसा कर सकते हैं इसकी हार्ड की बीपी की शुगर की पेन की ऐसी कोई भी दवा चल रही हो सांस की तो उसको जो आप अपनी दवाई देखे एक हफ्ता दी आपने 3 दिन भी आपकी अपनी दवाई जो है पावर है 3 दिन में आप उसको हाफ करा दे एलोपैथिक को और एलोपैथिक 3 दिन बाद फिर जो है आप बिल्कुल बंद कर दें यह तरीके से आप कर सकते हैं लेकिन मुझे नहीं लगता जो डायरेक्ट कहते हैं कि वह तुरंत ऐसा कर लेंगे एक आदमी जो जिसके बॉडी में एक चीज रम गई है मैंने तो यहां तक देखा है कि जो एलोपैथिक जाए तो ज्यादा इस्तेमाल करते हैं उनको हमें पति काम ही नहीं करती क्योंकि उसके इतने जो है वह बॉडी पर एलोपैथिक के स्ट्रेस होते हैं हमें पैथिक तुरंत काम नहीं करती 15 दिन 20 दिन खाएगा जब काम करेगी बस बाकी तो आप लोग जानो हो सकता है मेरी बात से लोग सहमत भी हो सकते हैं सहमत भी हो सकते हैं मैंने अपने विचार हैं सच परेशान करता है क्या कह सकते हो याद हो तो बताइए मैं जानना चाहूंगा डायरेक्ट कोई भी दवा इस्तेमाल नहीं कर सकते अगर किसी का एलोपैथिक चल रही है आयुर्वेदिक आपको सड़क से संभाल कर दें तुरंत बंद नहीं कर सकते हम उठाते हुए नहीं कर सकते यूनानी में नहीं कर सकता बीरजरस को हटा सकती कोई भी खराब नहीं होती बना लीजिए एलोपैथिक दवाई है एलोपैथिक भाई उम्र तो दिखा सकता वहां पर फेल है आयुर्वेदिक जो है फास्ट रिलीफ नहीं दे देगी आपको तुरंत पहने कंट्रोल कर लेगी 3 दिन बाद पर कंट्रोल करेगी बॉडी का या 24 घंटे में करेगी तीसरा मरी रुक जाएगा कि 24 घंटे आपका इंतजार करेगा यह भी लोग भाग जाते हैं आजकल किस को दिक्कत कौन आदमी रुक सकता है 2 दिन 3 दिन दर्द हो रहा है कोई प्रॉब्लम हो तो वह तुरंत उसको डिलीवरी आप अगर पेट में है उसको तो आपसे मिल कर दीजिए अगर बम काम करता है ठीक है नहीं बा हमसे आ गया पेन किलर ही देनी है उसको उसके बाद वह धीरे-धीरे स्पीड हो जाता है मेरा पति पति जो भी होगा पहली बार भेज यूनानी कोई भी पति चलाइए और जिसके रेगुलर चल रही है उसकी आप 1 दिन में कैसे बंद कर सकते हैं वैसे वह धीरे-धीरे आप 1 हफ्ते में 8 दिन में 15 दिन में है उसको लोड हो जो लेकर आई है उसको खत्म कीजिए धन्यवाद

ji haan maine suna bahut logo ke jawab ho paithik doctoron ke beech me ayurvedic doctoron kabhi suna hai bhai saheb aisi bataiye har dawai ke apne apne fayde hain jab vaah zinda hai aap kisi aap jis par chini practice karte karte ho allopathic me practice karta hai toh use ayurveda se parhej nahi hona chahiye aur koi ayurveda se practice karta hai toh usko homeopathic se koi parhej nahi hona chahiye ajay se practice karta hai usko ghumaane se koi parhej nahi hona chahiye maan lijiye aapke sir me dard hai ya bahut pen hai toh bhai saheb aisi bataiye mujhe homeopathic aur ayurvedic me unani me aisi kaun si dawa hai ek baar chhodkar jo 1 ghante me dard band kar de nahi kar sakte 1 ghante me nahi kar sakti allopathic kar de toh aisa hota hai ki aap koi bhi prati chala rahe ho chalaiye aur maan lijiye koi lariya 10 ki koi aisi dawai aapko zarurat padti hai yah badhiya si hai toh usme allopathic dene me kya harz hai vaah si dawai hain abhi jo hai sugar ki hai sugar ki jinki allopathic chal rahi hai toh kya aap ekdam hatakar apni sugar ki dawai se confirm kar le khoon patla karne ki zindagi chal rahi hai usko turant hata kar aap jo aapne hamein pratigya ayurvedic de sakte hain aur de denge toh kya vo kaam kar legi nahi kar sakte haan aap aisa kar sakte hain iski hard ki BP ki sugar ki pen ki aisi koi bhi dawa chal rahi ho saans ki toh usko jo aap apni dawai dekhe ek hafta di aapne 3 din bhi aapki apni dawai jo hai power hai 3 din me aap usko half kara de allopathic ko aur allopathic 3 din baad phir jo hai aap bilkul band kar de yah tarike se aap kar sakte hain lekin mujhe nahi lagta jo direct kehte hain ki vaah turant aisa kar lenge ek aadmi jo jiske body me ek cheez rum gayi hai maine toh yahan tak dekha hai ki jo allopathic jaaye toh zyada istemal karte hain unko hamein pati kaam hi nahi karti kyonki uske itne jo hai vaah body par allopathic ke stress hote hain hamein paithik turant kaam nahi karti 15 din 20 din khaega jab kaam karegi bus baki toh aap log jano ho sakta hai meri baat se log sahmat bhi ho sakte hain sahmat bhi ho sakte hain maine apne vichar hain sach pareshan karta hai kya keh sakte ho yaad ho toh bataiye main janana chahunga direct koi bhi dawa istemal nahi kar sakte agar kisi ka allopathic chal rahi hai ayurvedic aapko sadak se sambhaal kar de turant band nahi kar sakte hum uthate hue nahi kar sakte unani me nahi kar sakta birajaras ko hata sakti koi bhi kharab nahi hoti bana lijiye allopathic dawai hai allopathic bhai umar toh dikha sakta wahan par fail hai ayurvedic jo hai fast relief nahi de degi aapko turant pehne control kar legi 3 din baad par control karegi body ka ya 24 ghante me karegi teesra mari ruk jaega ki 24 ghante aapka intejar karega yah bhi log bhag jaate hain aajkal kis ko dikkat kaun aadmi ruk sakta hai 2 din 3 din dard ho raha hai koi problem ho toh vaah turant usko delivery aap agar pet me hai usko toh aapse mil kar dijiye agar bomb kaam karta hai theek hai nahi ba humse aa gaya pen killer hi deni hai usko uske baad vaah dhire dhire speed ho jata hai mera pati pati jo bhi hoga pehli baar bhej unani koi bhi pati chalaiye aur jiske regular chal rahi hai uski aap 1 din me kaise band kar sakte hain waise vaah dhire dhire aap 1 hafte me 8 din me 15 din me hai usko load ho jo lekar I hai usko khatam kijiye dhanyavad

जी हां मैंने सुना बहुत लोगों के जवाब हो पैथिक डॉक्टरों के बीच में आयुर्वेदिक डॉक्टरों कभी

Romanized Version
Likes  41  Dislikes    views  408
WhatsApp_icon
user

Dr. Asif Ali

Homeopathy Doctor

1:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए आप का सवाल है क्या एलोपैथी होम्योपैथी डॉक्टर एलोपैथिक अभ्यास कर सकते हैं मैं इससे बिल्कुल भी इत्तेफाक नहीं रखता मैं डॉक्टर आसिफ अली रामपुर यूपी से होम्योपैथिक चिकित्सक होने के नाते यह बात आपसे कर रहा हूं कि एक होम्योपैथिक डॉक्टर अभ्यास कर सकता है मैं यह नहीं कह सकता नहीं कर सकता लेकिन अगर होम्योपैथी पढ़ने के बाद एलोपैथी में जाता है तो शायद यह डॉ हैनिमैन की आत्मा के को सच्ची श्रद्धांजलि नहीं होगी क्योंकि होम्योपैथिक डॉ हैनिमैन एक बहुत बड़े एलोपैथिक डॉक्टर से एलोपैथी को त्याग करके ही वह होम्योपैथी में आए थे और होम्योपैथिक एडमिशन हुआ था तो एक एलोपैथी एक होम्योपैथिक चिकित्सक को अगर एक बीएचएमएस की स्टडी उसने की है तो मैं समझता हूं अपना सर सर उसको जो है जो है समय देखे और उसको अच्छी सी स्टडी करके लोगों की सेवा करनी चाहिए तो कन्वर्ट होने की क्या जरूरत है कि एलोपैथी के लिए तो बहुत लोग मारे धारेश्वर रहे हैं तो आप अगर होंगे बैठी को चूस करके गए हो तो उसकी सेवा करो अभ्यास कर सकते हैं मैं यह नहीं कह रहा कि नहीं कर सकते लेकिन मैं समझता हूं इस समय के बिल लोग लोकसभा में दिए जा रहे हैं तो गलत है होम्योपैथी चिकित्सक अगर अपने अंदर अंदर आत्मा से अच्छा होम्योपैथिक डॉक्टर है तो वह इस तरह की बातें नहीं करेगा होम्योपैथी की सेवा करेगा जी थैंक यू

dekhiye aap ka sawaal hai kya allopathy homeopathy doctor allopathic abhyas kar sakte hain main isse bilkul bhi iktefaak nahi rakhta main doctor asif ali rampur up se homeopathic chikitsak hone ke naate yah baat aapse kar raha hoon ki ek homeopathic doctor abhyas kar sakta hai main yah nahi keh sakta nahi kar sakta lekin agar homeopathy padhne ke baad allopathy me jata hai toh shayad yah Dr. hainimain ki aatma ke ko sachi shraddhaanjali nahi hogi kyonki homeopathic Dr. hainimain ek bahut bade allopathic doctor se allopathy ko tyag karke hi vaah homeopathy me aaye the aur homeopathic admission hua tha toh ek allopathy ek homeopathic chikitsak ko agar ek BHMS ki study usne ki hai toh main samajhata hoon apna sir sir usko jo hai jo hai samay dekhe aur usko achi si study karke logo ki seva karni chahiye toh convert hone ki kya zarurat hai ki allopathy ke liye toh bahut log maare dhareshwar rahe hain toh aap agar honge baithi ko chus karke gaye ho toh uski seva karo abhyas kar sakte hain main yah nahi keh raha ki nahi kar sakte lekin main samajhata hoon is samay ke bill log lok sabha me diye ja rahe hain toh galat hai homeopathy chikitsak agar apne andar andar aatma se accha homeopathic doctor hai toh vaah is tarah ki batein nahi karega homeopathy ki seva karega ji thank you

देखिए आप का सवाल है क्या एलोपैथी होम्योपैथी डॉक्टर एलोपैथिक अभ्यास कर सकते हैं मैं इससे बि

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  93
WhatsApp_icon
user

Dr Jagdish R Gadhavi

Ayurvedic Doctor

1:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमें डर लगता है हमारे दिल्ली के अंदर जो भी मेरी कल के लिए बैठे हैं क्योंकि शशांत शासन है वह शासन देते हैं कुछ समझ समझ रहे कि गुजरात में या भारत में सभी जगह प्रेक्टिस करने वाले एलोपैथी डॉक्टर है तो वह आयुर्वेद दवा लिख सकते हैं तो आयुर्वेद डॉक्टर एलोपैथी दवा क्यों नहीं लिख सकते हैं बात रही कहां की पढ़ने की तो आयुर्वेद डॉक्टर जो है यह वैसे होम्योपैथी है हेलो परी इलेक्ट्रोपैथी है सब डॉक्टर अपने अपने तरीके से करीब 5 इयर्स का उनको एक्सपीरियंस होता है एक्सपीरियंस के पेज पर उसको सब इतना जैसे गवर्नमेंट में रिटायर्ड ऑफीसर को एक्सटेंड किया जाता है इसी तरह एक प्रैक्टिशनर 25 से 30 बरस से उसकी जो आयु है उसका उस विषय में काम कर रहा है तू बोल इतना एक्सपर्ट होगा उनको सोच कर समझ कर यह निर्णय जल्दी से जल्द लेना चाहिए

hamein dar lagta hai hamare delhi ke andar jo bhi meri kal ke liye baithe hain kyonki shashant shasan hai vaah shasan dete hain kuch samajh samajh rahe ki gujarat me ya bharat me sabhi jagah practice karne waale allopathy doctor hai toh vaah ayurveda dawa likh sakte hain toh ayurveda doctor allopathy dawa kyon nahi likh sakte hain baat rahi kaha ki padhne ki toh ayurveda doctor jo hai yah waise homeopathy hai hello pari ilektropaithi hai sab doctor apne apne tarike se kareeb 5 years ka unko experience hota hai experience ke page par usko sab itna jaise government me retired officer ko eksatend kiya jata hai isi tarah ek practitioner 25 se 30 baras se uski jo aayu hai uska us vishay me kaam kar raha hai tu bol itna expert hoga unko soch kar samajh kar yah nirnay jaldi se jald lena chahiye

हमें डर लगता है हमारे दिल्ली के अंदर जो भी मेरी कल के लिए बैठे हैं क्योंकि शशांत शासन है

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  229
WhatsApp_icon
user

Dr Chaman Rawat

Homeopathy Doctor

1:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नहीं अगर होम्योपैथिक और आयुर्वेदिक डॉक्टर एलोपैथी के प्रैक्टिस करेंगे तो फिर बैठी और आयुर्वेदिक का फिर क्या होगा जो जिस तिथि से बिलॉन्ग करते हैं जिसने इसकी ट्रेनिंग ली है उसको उसी तरह की वैसी करनी चाहिए और मेरा ऐसा मानना है कि एलोपैथी जस्ट फॉर मैनेजमेंट मैनेजमेंट इन आरडीसी सिर्फ उस समय के लिए बीमारी को ठीक कर देती है आगे वह बीमारी आपसे फिर दूर होगी आने वाले कुछ ही समय में कुछ महीनों में पहले पति मेरे समझ से तो बिल्कुल भी नहीं करनी चाहिए जो भी होता है तो रेडके डॉक्टर से और बाकी जानना जरूरी है उनको इंटर्नशिप भाई जाती है एलोपैथिक इंटर्नशिप के लिए हॉस्पिटल में ग्लूकोज चढ़ाने है या किसी बंदे बहुत ही सीकर के अंदर कोई आया है तो आपको बिल्कुल एलिमेंट के लिए आ सकते हैं लेकिन ठीक करने के लिए आप अपनी बेटी का ही सहारा है जो भी अजीत बैटरी में जो जानकार हो जाता है जहां पर थी में आयुर्वेदिक में इलाज एलोपैथी वाले अपने में जो हैं जानकार हैं तो आप अपनी धरती मस्ती रखी है और उसी को कीजिए हर पैथी में पैसा है हर व्यक्ति में सक्सेस है हर कोई मिलना है बता तो मैं लगे रहिए सीख लीजिए अच्छे से उसको

nahi agar homeopathic aur ayurvedic doctor allopathy ke practice karenge toh phir baithi aur ayurvedic ka phir kya hoga jo jis tithi se Belong karte hain jisne iski training li hai usko usi tarah ki vaisi karni chahiye aur mera aisa manana hai ki allopathy just for management management in RDC sirf us samay ke liye bimari ko theek kar deti hai aage vaah bimari aapse phir dur hogi aane waale kuch hi samay me kuch mahinon me pehle pati mere samajh se toh bilkul bhi nahi karni chahiye jo bhi hota hai toh redke doctor se aur baki janana zaroori hai unko internship bhai jaati hai allopathic internship ke liye hospital me glucose chadhane hai ya kisi bande bahut hi sikar ke andar koi aaya hai toh aapko bilkul element ke liye aa sakte hain lekin theek karne ke liye aap apni beti ka hi sahara hai jo bhi ajit battery me jo janakar ho jata hai jaha par thi me ayurvedic me ilaj allopathy waale apne me jo hain janakar hain toh aap apni dharti masti rakhi hai aur usi ko kijiye har paithi me paisa hai har vyakti me success hai har koi milna hai bata toh main lage rahiye seekh lijiye acche se usko

नहीं अगर होम्योपैथिक और आयुर्वेदिक डॉक्टर एलोपैथी के प्रैक्टिस करेंगे तो फिर बैठी और आयुर्

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  85
WhatsApp_icon
user

Dr.Amit Agrahari

Alopathic Ayurvedic Unani Doctor

0:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जहां तक आयुर्वेदिक या यूनानी डॉक्टरों की बात है तो मान लीजिए नियम तो यही एक भाई कि लोग अपनी पति का इलाज करें और और हर पैकिंग में बहुत सारे लोगों की बढ़िया अचूक दवा है तो आप ऐसा कर सकते हैं

jahan tak ayurvedic ya unani doctoron ki baat hai toh maan lijiye niyam toh yahi ek bhai ki log apni pati ka ilaj kare aur aur har packing mein bahut saare logo ki badhiya achuk dawa hai toh aap aisa kar sakte hain

जहां तक आयुर्वेदिक या यूनानी डॉक्टरों की बात है तो मान लीजिए नियम तो यही एक भाई कि लोग अपन

Romanized Version
Likes  159  Dislikes    views  1298
WhatsApp_icon
user

Dr. Shakeel Akhtar

Homeopathy Doctor

0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ज्ञान प्राप्त ज्ञान प्राप्त करना बहुत अच्छी बात है वह भले ही किसी भी पैसे का ज्ञान हो आयुर्वेद एलोपैथी में पैथिक का ज्ञान ज्ञान प्राप्त करना बहुत अच्छी बात है लेकिन एक्रीशन कोई चाहिए कि जो जिस पैथी का डॉक्टर है वह अपने पति को ही फॉलो करें तो ज्यादा अच्छा है उसे उसकी पैथी आगे बढ़ेगी वैसे फिल्म्स लिखना कोई बुरी बात नहीं है जिस बैठी का इल्म सीखना चाहे बहुत अच्छी बात है जितना सीख लिया जाए

gyaan prapt gyaan prapt karna bahut achi baat hai vaah bhale hi kisi bhi paise ka gyaan ho ayurveda allopathy mein paithik ka gyaan gyaan prapt karna bahut achi baat hai lekin ekrishan koi chahiye ki jo jis paithi ka doctor hai vaah apne pati ko hi follow kare toh zyada accha hai use uski paithi aage badhegi waise films likhna koi buri baat nahi hai jis baithi ka ilm sikhna chahen bahut achi baat hai jitna seekh liya jaaye

ज्ञान प्राप्त ज्ञान प्राप्त करना बहुत अच्छी बात है वह भले ही किसी भी पैसे का ज्ञान हो आयुर

Romanized Version
Likes  21  Dislikes    views  124
WhatsApp_icon
user

Dr. Ashish Kumar

Homeopathy Doctor

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नहीं यह अच्छी बात तो नहीं है क्या भेज दिया हूं ऊपर से डॉक्टर एलोपैथिक अभ्यास कर सकती है अच्छी चीज तो नहीं है इससे क्या होगा क्या करूं किसी का जमीन जो जड़ है मैंने और वेद का जमीन जमीन उसका जो क्वालिटी है वह गायब हो जाएगा और उसका हो जाएगा तो फिर लगभग समाप्त है उसमें बहुत प्रॉब्लम होती है इसका बहुत खराब हो जाएगा

nahi yah achi baat toh nahi hai kya bhej diya hoon upar se doctor allopathic abhyas kar sakti hai achi cheez toh nahi hai isse kya hoga kya karu kisi ka jameen jo jad hai maine aur ved ka jameen jameen uska jo quality hai vaah gayab ho jaega aur uska ho jaega toh phir lagbhag samapt hai usme bahut problem hoti hai iska bahut kharab ho jaega

नहीं यह अच्छी बात तो नहीं है क्या भेज दिया हूं ऊपर से डॉक्टर एलोपैथिक अभ्यास कर सकती है अच

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  143
WhatsApp_icon
play
user

Awdhesh Singh

Former IRS, Top Quora Writer, IAS Educator

0:48

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नहीं ! मुझे नहीं लगता कि यह उचित चीज है, कि जो आयुर्वेदिक और होम्योपैथिक की जो डॉक्टर एलोपेथिक का भी अभ्यास कर सकते हैं ;क्योंकि एलोपैथिक के जो ट्रीटमेंट है वह बहुत ही ज्यादा उसके लिए ट्रेनिंग की जरूरत होती है और वह जो चार पांच साल एमबीबीएस करते हैं एलोपैथी में वह भी अपने को कंप्लीट डॉक्टर महसूस नहीं करते हैं l ज्यादातर लोग एमडी करते हैं, एमएस करते हैं और हायर एजुकेशन के लिए जाते हैं, तब जाकर के वह महसूस करते हैं की उनको, जो अपनी डॉक्टरी की अच्छी परख हो गई है, और जो लोग आयुर्वेद और होमियोपैथी के डॉक्टर हैं अगर वह लोग एलोपैथी की प्रेक्टिस करने लगेंगे, तो इस देश का क्या होगा ? तो मैं नहीं समझता कि एक बहुत ही अच्छी कोई योजना है और जब तक जो डॉक्टर से उनकी आलोपैथी में उनको सर्टिफाइड ना हो, तब तक उनको एलोपैथी का प्रेक्टिस करने की परमिशन नहीं मिलनी चाहिए l

nahi ! mujhe nahi lagta ki yeh uchit cheez hai ki jo ayurvedic aur homeopathic ki jo doctor elopethik ka bhi abhyas kar sakte hain kyonki allopathic ke jo treatment hai wah bahut hi jyada uske liye training ki zarurat hoti hai aur wah jo char paanch saal MBBS karte hain allopathy mein wah bhi apne ko complete doctor mehsus nahi karte hain l jyadatar log MD karte hain ms karte hain aur hire education ke liye jaate hain tab jaakar ke wah mehsus karte hain ki unko jo apni daktari ki acchi parakh ho gayi hai aur jo log ayurveda aur homeopathy ke doctor hain agar wah log allopathy ki practice karne lagenge to is desh ka kya hoga ? to main nahi samajhata ki ek bahut hi acchi koi yojana hai aur jab tak jo doctor se unki alopaithi mein unko certified na ho tab tak unko allopathy ka practice karne ki permission nahi milani chahiye l

नहीं ! मुझे नहीं लगता कि यह उचित चीज है, कि जो आयुर्वेदिक और होम्योपैथिक की जो डॉक्टर एलोप

Romanized Version
Likes  39  Dislikes    views  512
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  3  Dislikes    views  54
WhatsApp_icon
user

Amber Rai

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आ देखे मैं नहीं समझता कि मतलब मां कर रहा प्रेक्टिकल ही देखा जाए तो मैं नहीं समझता कि जो लोग जो डॉक्टर जो है वह आयुर्वेद आयुर्वेद और होम्योपैथी का अगर वह डॉक्टर से प्रैक्टिस कर रहे हैं तो उन्हें एलोपैथिक लिपि अभ्यास करने की इजाजत देनी चाहिए क्योंकि अगर वह एक पल में जो है वह चले गए तो उनको उसी फिल्में रहना चाहिए या करो एलोपैथी में आ जाएंगे तो वह हो सकता है अपना जो फील है वह छोड़ देंगे हेलो आयुर्वेद छोड़ देंगे या होम्योपैथी हो सकते हैं वह छोड़ देंगे तो मैं सोचा क्यों नहीं करना चाहिए लेकिन अच्छी तरह से देखा जाए तो क्योंकि आयुर्वेद और होम्योपैथी डॉक्टर में जो डॉक्टर जो होते हैं उनको ज्यादा जो इनका में वह नहीं आ पाती है ज्यादा इनकम एलोपैथिक डॉक्टर को भी आ सकती है आती है आ सकती नहीं आती है अभी भी आती है तो मैं चलता है इसलिए हो सकता है कि सरकार ने डॉक्टरों की मदद करने के लिए डॉक्टर के हित में हो सकते हैं उनको प्रेक्टिस करने की इजाजत दी अगर देखा जाए तो इसमें दोनों प्रोस्पेक्टस से देखा जा सकता है जिसमें एक प्राकृतिक से देखा जाए तो यह सही नहीं है और दूसरे पूर्णांक डॉक्टरों के प्रोस्पेक्टस से देखा जाए तो यह अच्छी बातें तो देखते हैं यह पास होता है कि नहीं लोकसभा और राज्यसभा में बिल

aa dekhe main nahi samajhata ki matlab maa kar raha prektikal hi dekha jaye to main nahi samajhata ki jo log jo doctor jo hai wah ayurveda ayurveda aur homeopathy ka agar wah doctor se practice kar rahe hain to unhen chahiye allopathic lipi abhyas karne ki ijajat deni chahiye kyonki agar wah ek pal mein jo hai wah chale gaye to unko ussi filme rehna chahiye ya karo allopathy mein aa jaenge to wah ho sakta hai apna jo feel hai wah chod denge hello ayurveda chod denge ya homeopathy ho sakte hain wah chod denge to main socha kyu nahi karna chahiye lekin acchi tarah se dekha jaye to kyonki ayurveda aur homeopathy doctor mein jo doctor jo hote hain unko jyada jo inka mein wah nahi aa pati hai jyada income allopathic doctor ko bhi aa sakti hai aati hai aa sakti nahi aati hai abhi bhi aati hai to main chalta hai isliye ho sakta hai ki sarkar ne daktaro ki madad karne ke liye doctor ke hit mein ho sakte hain unko practice karne ki ijajat di agar dekha jaye to isme dono prospektas se dekha ja sakta hai jisme ek prakritik se dekha jaye to yeh sahi nahi hai aur dusre chahiye purnank chahiye daktaro ke prospektas se dekha jaye to yeh acchi batein to dekhte hain yeh paas hota hai ki nahi lok sabha aur rajya sabha mein bill

आ देखे मैं नहीं समझता कि मतलब मां कर रहा प्रेक्टिकल ही देखा जाए तो मैं नहीं समझता कि जो लो

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  148
WhatsApp_icon
user

Dr Anurag Mishra

(Doctor )Homeopath

1:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आयुर्वेदिक डॉक्टरों को और मक्का के डॉक्टरों को जहां तक सवाल एलोपैथिक दवा देने का तो मैं समझता हूं जरूर देनी चाहिए क्योंकि हर पैथिक एक लिमिटेशन होती है अगर आपके पास कोई पेशेंट आया है तो वह आपका पहला मकसद यही होगा किसको की ओर करें अभी डिपेंड करता है कि उसको क्या बीमारी है और कितनी इंटेंसिटी की बीमारी है और आप कोई भी पता होना चाहिए कि आपके दवा दे रहे हो पैथिक की आयुर्वेदिक कि उसके लिमिटेशंस क्या है वह कितना कितना एक्टिव है और बीमारी की इंटेंसिटी देखते हुए ही इलाज करना चाहिए क्योंकि हर पैसे का मोटिवेट ही है कि पेशेंट को लिली पहुंचाया जाए पहुंचाया जाए और बीमारी के हिसाब से ही प्रार्थी का निर्णय होता है कुछ बीमारियों का इलाज में पैसे की बहुत अच्छा है कुछ पहले प्रत्येक में कुछ का आयुर्वेदिक में डिपेंड करता है कि आप ही समझे कि पेशेंट जो है वह बीमारी जो है उसकी किस राशि से ज्यादा बेकार है और इमरजेंसी के केस में अगर उसको 122 जलाकथिक देना अगर जरूरत पड़ रही है तो देख कर उसको उसको संभाला जा सकता है फिर आप अपने पति से भी उसको देख सकते हैं बस स्टॉप पेशेंट को दिलीप मिलना चाहिए फर्स्ट स्टेप बताइए

ayurvedic doctoron ko aur makka ke doctoron ko jaha tak sawaal allopathic dawa dene ka toh main samajhata hoon zaroor deni chahiye kyonki har paithik ek limitation hoti hai agar aapke paas koi patient aaya hai toh vaah aapka pehla maksad yahi hoga kisko ki aur kare abhi depend karta hai ki usko kya bimari hai aur kitni intention ki bimari hai aur aap koi bhi pata hona chahiye ki aapke dawa de rahe ho paithik ki ayurvedic ki uske Limitations kya hai vaah kitna kitna active hai aur bimari ki intention dekhte hue hi ilaj karna chahiye kyonki har paise ka motivate hi hai ki patient ko lily pahunchaya jaaye pahunchaya jaaye aur bimari ke hisab se hi prarthi ka nirnay hota hai kuch bimariyon ka ilaj me paise ki bahut accha hai kuch pehle pratyek me kuch ka ayurvedic me depend karta hai ki aap hi samjhe ki patient jo hai vaah bimari jo hai uski kis rashi se zyada bekar hai aur emergency ke case me agar usko 122 jalakthik dena agar zarurat pad rahi hai toh dekh kar usko usko sambhala ja sakta hai phir aap apne pati se bhi usko dekh sakte hain bus stop patient ko dilip milna chahiye first step bataiye

आयुर्वेदिक डॉक्टरों को और मक्का के डॉक्टरों को जहां तक सवाल एलोपैथिक दवा देने का तो मैं सम

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  114
WhatsApp_icon
user

Swati

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए और लोकसभा में 1:00 बजे यूज़ किया गया है जिसके तहत डॉक्टर आयुर्वेद आया होम्योपैथी उन्होंने उनकी पढ़ाई की है उन्हें परमिशन मिल जाएगी एलोपैथिक में प्रेक्टिस करने की अगर वह एक ब्रिज कोर्स पास कर देते हैं तो जो नेशनल मेडिकल कमीशन मिले 2017का इसके अंदर कुछ ऐसे मतलब ही चाहता है कि एक जस्टिन जो अभी आलरेडी सिस्टम रूल्स है उनको थोड़ा चेंज कर कर एक नई पार्टी का गठन यूज़ करने के लिए इस फिल्म में जो प्रॉब्लम ऑफ फोर्टी नाइन है वह कहता है कि जो सेंट्रल काउंसिल ऑफ होम्योपैथी और सेंट्रल काउंसिल ऑफ इंडियन मेडिसिन है अगली सुबह सही है जो होती है यह चाहता है कि जो इंटरफेरेंस है होम्योपैथी और एलोपैथी उनके बीच में डिफेंस भाग जाए लेकिन मुझे लगता है कि एक पर्टिकुलर लेवल तक जो एलोपैथिक वाले भी और जो होम्योपैथिक वाले 20 इंच होते हैं वह सीन पढ़ाई ही करते हैं और आप थोड़ा आगे जाकर बदली बस एकदम चेंज हो जाता है उनकी जो प्रैक्टिस है वह चेंज हो जाती है तो उसे ब्रिज कोर्स है अगर कि इतना सक्षम है की एलोपैथिक पड़े हुए बच्चों को यह सूरज को उतनी अच्छी सी ट्रेन कर सके कि वह बेसिक लेवल पर हो वह एलोपैथी भी कर सके वह प्रैक्टिस चालू कर सके तो शादी ठीक है क्योंकि अभी मैं डॉक्टर की बहुत जरूरत है लेकिन अगर ये ब्रिज कोर्स में सक्षम नहीं है तो अलार्म नहीं करना चाहिए क्योंकि बहुत लोगों की जान होती है डॉक्टर के हाथ में तू इस ब्रिज कोर्स पर डिपेंड करेगा कि यह सही है या नहीं

dekhie chahiye aur lok sabha mein 1:00 baje use kiya gaya hai jiske tahat doctor ayurveda aaya homeopathy unhone unki padhai ki hai unhen chahiye permission mil jayegi allopathic mein practice karne ki agar wah ek bridge course paas kar dete hain to jo national medical commision mile ka iske andar kuch aise matlab hi chahta hai ki ek justin jo abhi already system rules hai unko thoda change kar kar ek nayi party ka gathan use karne ke liye is film mein jo problem of FORTE nine hai wah kahata hai ki jo central council of homeopathy aur central council of indian medicine hai agli subah sahi hai jo hoti hai yeh chahta hai ki jo interference hai homeopathy aur allopathy unke beech mein defence bhag jaye lekin mujhe lagta hai ki ek particular level tak jo allopathic wale bhi aur jo homeopathic wale 20 inch hote hain wah seen padhai hi karte hain aur aap thoda aage jaakar badli bus ekdam change ho jata hai unki jo practice hai wah change ho jati hai to use bridge course hai agar ki itna saksham hai ki allopathic pade chahiye hue baccho ko yeh suraj ko utani chahiye acchi si train kar sake ki wah basic level par ho wah allopathy bhi kar sake wah practice chalu kar sake to shadi theek hai kyonki abhi main doctor ki bahut zarurat hai lekin agar ye bridge course mein saksham nahi hai to alarm nahi karna chahiye kyonki bahut logo chahiye ki jaan hoti hai doctor ke hath mein tu is bridge course par depend karega ki yeh sahi hai ya nahi

देखिए और लोकसभा में 1:00 बजे यूज़ किया गया है जिसके तहत डॉक्टर आयुर्वेद आया होम्योपैथी उन्

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  182
WhatsApp_icon
user

Ridhima

Mass Communications Student

1:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे हिसाब से यह बहुत ही गलत बात है कि लोकसभा विरोधी आयुर्वेद और होमियोपैथी डॉक्टर को एलोपैथी योग का अभ्यास कर सकते हैं कि क्या देखूं तो हर जुदाई का रहता है वह सब्जेक्ट अलग-अलग रहते उसका साइंस अलग रहता है उसका फील्ड अलग रहता है तो आप कैसे वह दो दूसरे फील्ड को बोल सकते हो कि आप तीसरा फील्ड जो एक है जैसा हम सोचे कि आप अगर होम्योपैथी डॉक्टर है तो आप अगर बोलेंगे कि हां आप एलोपैथी भी कर सकते हो आप अभ्यास कर सकते हो तो यह गलत है उसको जानकारी नहीं रहेगी क्योंकि वह इतने साल से उसी की स्पीड में वह माहिर है उसी का स्टडी की है और उसी सीन में उनका डिग्री है तो अचानक से अब बोले तो तो कहां से उन लोग कर पाएंगे और यह भी बात है कि कोई कोई जो अगर कोई उल्लू बनाना रहेगा किसी को किसी डॉक्टर को तो वह कुछ भी किसी को भी क्या कैसा भी दवाई रिप्लेस कर कर सकता पैसा के लिए और वह करप्ट इंसान जैसा कोई भी कर सकता है तो वह बस आखरी हिंदी एंड लाइफ के लिए अनहेल्दी रहेगा बल्की बहुत अनुवाद रहेगा यह डिसीजन

mere hisab se yeh bahut hi galat baat hai ki lok sabha virodhi ayurveda aur homeopathy doctor ko allopathy yog ka abhyas kar sakte hain ki kya dekhu to har judaii ka rehta hai wah subject alag alag rehte uska science alag rehta hai uska field alag rehta hai to aap kaise wah do dusre chahiye field ko bol sakte ho ki aap teesra field jo ek hai jaisa hum soche ki aap agar homeopathy doctor hai to aap agar bolenge ki haan aap allopathy bhi kar sakte ho aap abhyas kar sakte ho to yeh galat hai usko jankari nahi rahegi kyonki wah itne saal se ussi ki speed mein wah mahir hai ussi ka study ki hai aur ussi seen mein unka degree chahiye hai to achanak se ab bole to to Kahan chahiye se un log kar paenge aur yeh bhi baat hai ki koi koi jo agar koi ullu banana rahega kisi ko kisi doctor ko to wah kuch bhi kisi ko bhi kya kaisa bhi dawai replace kar kar sakta paisa ke liye aur wah corrupt insaan jaisa koi bhi kar sakta hai to wah bus aakhri hindi end life ke liye anaheldi rahega bulky bahut anuvad rahega yeh decision

मेरे हिसाब से यह बहुत ही गलत बात है कि लोकसभा विरोधी आयुर्वेद और होमियोपैथी डॉक्टर को एलोप

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  135
WhatsApp_icon
user

Sameer Tripathy

Political Critic

1:00
Play

Likes  1  Dislikes    views  15
WhatsApp_icon
user

Dr.Sumeet Gautam

Homeopathy Doctor

1:08
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे व्यक्तिगत विचार से यह उचित नहीं है ए होम्योपैथिक अथवा आयुर्वेदिक चिकित्सा अभ्यास करने वाले चिकित्सक एलोपैथी में चिकित्सा करें क्योंकि मुझे नहीं लगता कि होम्योपैथिक डॉक्टर को किसी और पति की कोई आवश्यकता है होम्योपैथी अपने आप में कंप्लीट बैठी हैं और पूरे अध्ययन काल के दौरान जो साडे 5 वर्ष का डिग्री का कोण गोरा कोर्स होता है बीएचएमएस में विभिन्न प्रकार के विषय और सभी तरह की दवाओं का ज्ञान हम लोग हम लोगों को समझाया जाता है पढ़ाया जाता है उसका हम अध्ययन करते हैं तो ऐसा संभव नहीं है कि हम किसी और पे थी कि किसी भी दवा का उपयोग करने के लिए पूरी तरह स्वतंत्र हैं क्योंकि हमें उसका आंतरिक ज्ञान ही नहीं है केवल सुपरफिशियल नॉलेज होने से उसका ज्ञान ठीक नहीं है बुखार के लिए पेरासिटामोल की गोली तो सभी जानते हैं लेकिन उसका तकनीकी तौर पर और कानूनी तौर पर इस्तेमाल ठीक नहीं मेरे विचार से होम्योपैथी तथा आयुर्वेदिक अपनी-अपनी पैथी में प्रैक्टिस करें वह ज्यादा अच्छा है

mere vyaktigat vichar se yah uchit nahi hai a homeopathic athva ayurvedic chikitsa abhyas karne waale chikitsak allopathy mein chikitsa kare kyonki mujhe nahi lagta ki homeopathic doctor ko kisi aur pati ki koi avashyakta hai homeopathy apne aap mein complete baithi hain aur poore adhyayan kaal ke dauran jo saade 5 varsh ka degree ka kon gora course hota hai BHMS mein vibhinn prakar ke vishay aur sabhi tarah ki dawaon ka gyaan hum log hum logo ko samjhaya jata hai padhaya jata hai uska hum adhyayan karte hain toh aisa sambhav nahi hai ki hum kisi aur pe thi ki kisi bhi dawa ka upyog karne ke liye puri tarah swatantra hain kyonki hamein uska aantarik gyaan hi nahi hai keval suparafishiyal knowledge hone se uska gyaan theek nahi hai bukhar ke liye paracetamol ki goli toh sabhi jante hain lekin uska takniki taur par aur kanooni taur par istemal theek nahi mere vichar se homeopathy tatha ayurvedic apni apni paithi mein practice kare vaah zyada accha hai

मेरे व्यक्तिगत विचार से यह उचित नहीं है ए होम्योपैथिक अथवा आयुर्वेदिक चिकित्सा अभ्यास करने

Romanized Version
Likes  51  Dislikes    views  567
WhatsApp_icon
user

Pinkesh Negi

Yoga Ayurveda

1:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे नहीं लगता कि यह सही है यह बिल्कुल गलत है की आयुर्वेदिक डॉक्टर एक एलोपैथिक की ट्रेनिंग ले बिल्कुल नहीं और जो इस प्रकार से करते हैं उन्हें समझता हूं मैं शायद दुनिया में उन साबुन से बड़ा मूर्ख कोई नहीं है क्योंकि वह जो करेंगे वह अपने आप में सेटिस्फाई नहीं है वह अपनी चिकित्सा पद्धति पर भरोसा नहीं रखते उन्हें अपने आप पर बिलीव नहीं है कि हम हमने जो किया है हमने तो पढ़ा है वह सही है या गलत है या उसका वो इस्तेमाल नहीं करना चाहते तो इसलिए वह लोग होंगे जिन्हें आयुर्वेद के बारे में नॉलेज नहीं होगा और जिनको आयुर्वेद जो पढ़ना है और जिसको अच्छे से अच्छे से पढ़ाया गया है और अच्छे से समझा जाता है इतना बेसिक नॉलेज वह नहीं ले सकते तो मैंने समझता कि वह लोग एलोपैथी का नॉलेज भी सही से ले पाएंगे क्योंकि एलोपैथी में बहुत ज्यादा कंफ्यूजन है और बहुत ज्यादा ही उसमें डिजीरों के बारे में बताया गया है लेकिन आयुर्वेद में सिंपल सा है सरल भाषा में है और हर किसी के समझ में आने वाला है बहुत आसान है और पूरा एकदम साइंटिफिक है आयुर्वेद अच्छे से कर सकते हैं लेकिन यह तो गलत है जो इस तरह से कर रहे हैं मैं इसका सपोर्ट कभी नहीं करूंगा

mujhe nahi lagta ki yah sahi hai yah bilkul galat hai ki ayurvedic doctor ek allopathic ki training le bilkul nahi aur jo is prakar se karte hain unhe samajhata hoon main shayad duniya me un sabun se bada murkh koi nahi hai kyonki vaah jo karenge vaah apne aap me satisfy nahi hai vaah apni chikitsa paddhatee par bharosa nahi rakhte unhe apne aap par believe nahi hai ki hum humne jo kiya hai humne toh padha hai vaah sahi hai ya galat hai ya uska vo istemal nahi karna chahte toh isliye vaah log honge jinhen ayurveda ke bare me knowledge nahi hoga aur jinako ayurveda jo padhna hai aur jisko acche se acche se padhaya gaya hai aur acche se samjha jata hai itna basic knowledge vaah nahi le sakte toh maine samajhata ki vaah log allopathy ka knowledge bhi sahi se le payenge kyonki allopathy me bahut zyada confusion hai aur bahut zyada hi usme dijiron ke bare me bataya gaya hai lekin ayurveda me simple sa hai saral bhasha me hai aur har kisi ke samajh me aane vala hai bahut aasaan hai aur pura ekdam scientific hai ayurveda acche se kar sakte hain lekin yah toh galat hai jo is tarah se kar rahe hain main iska support kabhi nahi karunga

मुझे नहीं लगता कि यह सही है यह बिल्कुल गलत है की आयुर्वेदिक डॉक्टर एक एलोपैथिक की ट्रेनिंग

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  124
WhatsApp_icon
user

Dr. Gaurav Kaushal

Homeopathy Doctor

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे सबसे यह बिल पास नहीं होना चाहिए इसके लिए मैं बिल्कुल भी नहीं किसी और को तो बेटी हमारी बेटी अपने आप में दम है अगर हम चाहे तो कोई भी ट्रीटमेंट कैसे कर सकते हैं तो हमें किसी भी दवाइयों की एलोपैथी की जरूरत नहीं है फिर ब्रिज कोर्स द्वारा एलोपैथिक अभ्यास करें तो यह मेरी सबसे अच्छा नहीं है तो आयुर्वेद के लिए ठीक है हमारे लिए ठीक नहीं है केवल भाई साहब आयुर्वेद के लिए भी ठीक नहीं है क्योंकि आप एक पति के विस्तार को रोक रहे हैं अगर आप हेलो प्रदीप के साथ में कर रहे हैं तो अपनी बेटी पर भरोसा रखिए अपने पति को आगे बढ़ाइए इसी पर अगर आप काम करेंगे तो आप अवधेश नहीं आने वाले टाइम में बहुत आगे तक जाएंगे तो और कहीं का भी विकास होगा

mere sabse yah bill paas nahi hona chahiye iske liye main bilkul bhi nahi kisi aur ko toh beti hamari beti apne aap mein dum hai agar hum chahen toh koi bhi treatment kaise kar sakte hain toh hamein kisi bhi dawaiyo ki allopathy ki zarurat nahi hai phir bridge course dwara allopathic abhyas kare toh yah meri sabse accha nahi hai toh ayurveda ke liye theek hai hamare liye theek nahi hai keval bhai saheb ayurveda ke liye bhi theek nahi hai kyonki aap ek pati ke vistaar ko rok rahe hain agar aap hello pradeep ke saath mein kar rahe hain toh apni beti par bharosa rakhiye apne pati ko aage badhaiye isi par agar aap kaam karenge toh aap awdhesh nahi aane waale time mein bahut aage tak jaenge toh aur kahin ka bhi vikas hoga

मेरे सबसे यह बिल पास नहीं होना चाहिए इसके लिए मैं बिल्कुल भी नहीं किसी और को तो बेटी हमारी

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  119
WhatsApp_icon
user

alok.prasanna

I'm an advocate in Bengaluru

1:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे ख्याल से तो यह गलत बात तो नहीं है लेकिन कितना अच्छा लगा और कितना बुरा होगा यह देखने के लिए तो हम इन स्कीम का रोज देखना पड़ेगा अभी तो जो जो नया विधि बना रहा है उसमें तो बस एक गया बताया है कि गवर्नमेंट चाहे तो शुरू कर सकते हैं लेकिन अभी तो हमें पता नहीं कि कौन सा कन्वर्जन कोर्स होगा कैसे करेंगे और कौन सा प्रैक्टिशनर उसको भी उपलब्ध होगा वैसे ही ऐसे ऐसे नहीं है कि हमारा देश में जो 5 साल में व्यस्त करें वह सब रूरल एरियाज में जगह काम कर रहा है मेरे ख्याल से तो यह प्राइमरी रूरल एरिया उसके लिए ही बना हुआ है इसकी और हमें यह जाना होगा कि यह तो सर्जरी वाला कॉन्प्लेक्स प्रोसीजर के लिए तो नहीं कनवर्जन होगा यह तो बस बेसिकली जो प्राइमरी हेल्थ केयर है जो छोटी मोटी दवाई देना पड़ेगा बस उसका ऐसे चिकित्सक के लिए ही कर रहा है तो देखना खेती कैसे करें करते हैं यह रूल्स और किन-किन लोगों को यह कन्वर्शन करने के लिए परमिशन देंगे

mere khayal se to yeh galat baat to nahi hai lekin kitna accha laga aur kitna bura hoga yeh dekhne ke liye to hum in scheme ka roj dekhna padega abhi to jo jo naya vidhi bana raha hai usamen chahiye to bus ek gaya bataya hai ki government chahe to shuru kar sakte hain lekin abhi to hume pata nahi ki kaun sa conversion course hoga kaise karenge aur kaun sa praiktishanar usko bhi uplabdha hoga waise hi aise aise nahi hai ki hamara desh mein jo 5 saal mein vyasta kare chahiye wah sab rural areas mein jagah kaam kar raha hai mere khayal se to yeh primary rural area uske liye hi bana hua hai iski aur hume yeh jana hoga ki yeh to surgery wala conplex procedure ke liye to nahi kanavarjan hoga yeh to bus basically jo primary health care hai jo choti moti dawai dena padega bus uska aise chikitsak ke liye hi kar raha hai to dekhna kheti kaise kare chahiye karte hain yeh rules aur kin kin logo chahiye ko yeh kanwarshan karne ke liye permission denge

मेरे ख्याल से तो यह गलत बात तो नहीं है लेकिन कितना अच्छा लगा और कितना बुरा होगा यह देखने क

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  121
WhatsApp_icon
user

.

Hhhgnbhh

1:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह तो बिल है जो अब लोकसभा पास करने के लिए सोच रहे हैं उसमें है क्या की आयुर्वेदिक जो डॉक्टर और जो होम्योपैथी डॉक्टर है वह अब हेलो एलोपैथी पर जा सकते हैं या नहीं जा सकते हैं l तो इसमें विचार चल रहा है कि लोकसभा कह रही है कि उनको जाने की इजाजत दे देनी चाहिए और होता क्या जब आप एक होम्योपैथी डॉक्टर है या फिर एक आयुर्वेदिक डॉक्टर ने तो आपने उसी हिसाब से पढ़ाई करिए होती है, अपने उसी हिसाब से प्रैक्टिस कर ही होती है l और जो आपके एलोपैथी डॉक्टर से वह काफी उनको उनके पास इतना एक्सपीरियंस हो चुका होता है तो वह उस हिसाब से काम कर रहे होते हैं l वह एलोपैथिक डॉक्टर में कितना एक्सपीरियंस हो जाता तो अगर ऐसे ही अगर हमने बिल पास कर दे तो जितने भी होम्योपैथी डॉक्टर ने और जो आयुर्वेदिक डॉक्टर है वह काफी ज्यादा चेंज करके वह होम्योपैथी और आयुर्वेदिक को छोड के एलोपैथी में जाएंगे कि वहां पैसा ज्यादा है l तो अगर वह एलोपैथी के अंदर चले जाते हैं तो होगा यह के लोगों को भी समझ नहीं आ पाएगा कि यह अभी होम्योपैथी से आए हैं या फिर यह पहले से ही एलोपैथ करते हैं क्योंकि ओब्विऔस्लि में जो डॉक्टर पहले से एलोपैथी करते हुए आए हैं वह ज्यादा एक्सपीरियंस हो गए एस कोम्पर टू बाकी जो डॉक्टर है जो होम्योपैथी करते हो जो एलोपैथी में आए l तो मेरे हिसाब से ऐसा करना तो सही नहीं होगा क्योंकि जो डॉक्टर जिस में स्पेशलाइजेशन करता है वह जो इतने टाइम से प्रक्टिस करते हुए आ रहे हैं वह उसी के अंदर बहुत आगे होते हैं, बहुत ज्यादा सफल हो पाते हैं बाकी इस चीज में मेरे को नहीं लगता कि लोकसभा को रिस्क लेना चाहिए l और जहां तक की बात है क्या उनकी पेमेंट वगैरा इनक्रीस करने की क्योंकि हमने देखे क्यों होम्योपैथी जो है होम्योपैथिक डॉक्टर से इतना कमा नहीं पाते जब हम एलोपैथी डॉक्टर से केम्पर करते हैं l तो इनकी सोर्स ऑफ इनकम बढ़ाने का हमें सोचना चाहिए l जो भी ऐसे डॉक्टर से होते हैं उनको कॉलेज या कहीं और पर विजिटिंग लगानी चाहिए उनकी ताकि उनका सोर्स ऑफ इनकम बढे l पर हां मेरे हिसाब से यह कर देना कि वह एलोपैथी प्रेक्टिस कर सके यह थोड़ा गलत हो सकता है l

yeh to bill hai jo ab lok sabha paas karne ke liye soch rahe hain usamen chahiye hai kya ki ayurvedic jo doctor aur jo homeopathy doctor hai wah ab hello allopathy par ja sakte hain ya nahi ja sakte hain l to isme vichar chal raha hai ki lok sabha keh rahi hai ki unko jaane ki ijajat de deni chahiye aur hota kya jab aap ek homeopathy doctor hai ya phir ek ayurvedic doctor ne to aapne ussi hisab se padhai kariye hoti hai apne ussi hisab se practice kar hi hoti hai l aur jo aapke allopathy doctor se wah kaafi unko unke paas itna experience ho chuka hota hai to wah us hisab se kaam kar rahe hote hain l wah allopathic doctor mein kitna experience ho jata to agar aise hi agar humne bill paas kar de to jitne bhi homeopathy doctor ne aur jo ayurvedic doctor hai wah kaafi jyada change karke wah homeopathy aur ayurvedic ko chod ke allopathy mein jaenge ki wahan paisa jyada hai l to agar wah allopathy ke andar chale jaate hain to hoga yeh ke logo chahiye ko bhi samajh nahi aa payega ki yeh abhi homeopathy se aaye hain ya phir yeh pehle se hi elopaith karte hain kyonki obwiausli mein jo doctor pehle se allopathy karte hue aaye hain wah jyada experience ho gaye s kompar to baki jo doctor hai jo homeopathy karte ho jo allopathy mein aaye l to mere hisab se aisa karna to sahi nahi hoga kyonki jo doctor jis mein specialisation karta hai wah jo itne time se practice karte hue aa rahe hain wah ussi ke andar bahut aage hote hain bahut jyada safal ho paate hain baki is cheez mein mere ko nahi lagta ki lok sabha ko risk lena chahiye l aur jaha tak ki baat hai kya unki payment vagera increase karne ki kyonki humne dekhe kyu homeopathy jo hai homeopathic doctor se itna kama nahi paate jab hum allopathy doctor se kempar karte hain l to inki source of income badhane ka hume sochna chahiye l jo bhi aise doctor se hote hain unko college ya kahin aur par visiting lagani chahiye unki taki unka source of income badhe l par haan mere hisab se yeh kar dena ki wah allopathy practice kar sake yeh thoda galat ho sakta hai l

यह तो बिल है जो अब लोकसभा पास करने के लिए सोच रहे हैं उसमें है क्या की आयुर्वेदिक जो डॉक्ट

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  147
WhatsApp_icon
user

Shantanu Purohit

Political Analyst, Life Management, Career Counseler

2:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यदि भारत के सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों में झांके संसाधन कम उपलब्ध एवं स्वास्थ्य की सुविधाएं उपलब्ध नहीं है वहां यदि आयुर्वेद और होम्योपैथी डॉक्टर के दवाइयों से भारत के स्वास्थ्य में डॉक्टरों की कमी की समस्या से भारत दूसरा भारत में एक हजार की आबादी पर भी एक डॉक्टर बड़ी मुश्किल से उपलब्ध हो पाता है इसलिए डॉक्टरों की कमी को पूरा करने के लिए यह उपाय करना कोई गलत काम नहीं है एलोपैथिक डॉक्टरों ने विद्यार्थियों ने इस निर्णय का विरोध किया है क्योंकि एक 1 साल का ब्रिज कोर्स करने के बाद कोई आयुर्वेदिक और होम्योपैथिक डॉक्टरों के योग्यता यह अधिकार प्राप्त हो जाएगा कि वह अलग पति का अभ्यास कर सकेगा यदि 5 साल पढ़ने के बाद एलोपैथिक की दवाई लेने के लिए अधिकृत हो पाता है लेकिन देखने में निश्चित रूप से यह अन्याय प्रतीत होता है कि क्यों 1 साल की पढ़ाई करने के बाद किसी व्यक्ति को एलोपैथिक दवाइयां लिखने का अधिकार दिया कैसे जा रहा है परंतु भारत के वर्तमान परिदृश्य स्वास्थ्य से संबंधित चिंताओं को देखते हुए सही एक पक्ष नहीं सभी भक्तों पर करने की आवश्यकता है आयुर्वेदिक डॉक्टर लेकिन इस देश में जितनी बीमारियां होती है क्या हरूप गंभीर रोग होता है छोटा-मोटा सर्दी जुकाम क्यों होता है छोटा-मोटा बुखार भी छोटा मोटा बंदर छोटा मोटा हाथ पैर दर्द छोटी मोटी दिखावटी कोई ऐसे लोग भी होते हैं उनकी उनका इलाज करने के लिए यदि कोई डॉक्टर 1 साल की पढ़ाई करने के बाद अगर भले ही वह आयुर्वेदिक क्या होम्योपैथी से पढ़ा हुआ हूं उसे अधिकार मिल जाए कि वह एलोपैथिक दवाइयां भी लिख सके तो यह भारत के स्वास्थ्य संबंधी एक क्रांतिकारी कदम सिद्ध होगा धन्यवाद

yadi bharat ke sudoor gramin kshetro me jhanke sansadhan kam uplabdh evam swasthya ki suvidhaen uplabdh nahi hai wahan yadi ayurveda aur homeopathy doctor ke dawaiyo se bharat ke swasthya me doctoron ki kami ki samasya se bharat doosra bharat me ek hazaar ki aabadi par bhi ek doctor badi mushkil se uplabdh ho pata hai isliye doctoron ki kami ko pura karne ke liye yah upay karna koi galat kaam nahi hai allopathic doctoron ne vidyarthiyon ne is nirnay ka virodh kiya hai kyonki ek 1 saal ka bridge course karne ke baad koi ayurvedic aur homeopathic doctoron ke yogyata yah adhikaar prapt ho jaega ki vaah alag pati ka abhyas kar sakega yadi 5 saal padhne ke baad allopathic ki dawai lene ke liye adhikrit ho pata hai lekin dekhne me nishchit roop se yah anyay pratit hota hai ki kyon 1 saal ki padhai karne ke baad kisi vyakti ko allopathic davaiyan likhne ka adhikaar diya kaise ja raha hai parantu bharat ke vartaman paridrishya swasthya se sambandhit chintaon ko dekhte hue sahi ek paksh nahi sabhi bhakton par karne ki avashyakta hai ayurvedic doctor lekin is desh me jitni bimariyan hoti hai kya harup gambhir rog hota hai chota mota sardi zukam kyon hota hai chota mota bukhar bhi chota mota bandar chota mota hath pair dard choti moti dikhavati koi aise log bhi hote hain unki unka ilaj karne ke liye yadi koi doctor 1 saal ki padhai karne ke baad agar bhale hi vaah ayurvedic kya homeopathy se padha hua hoon use adhikaar mil jaaye ki vaah allopathic davaiyan bhi likh sake toh yah bharat ke swasthya sambandhi ek krantikari kadam siddh hoga dhanyavad

यदि भारत के सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों में झांके संसाधन कम उपलब्ध एवं स्वास्थ्य की सुविधाएं उ

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  128
WhatsApp_icon
user

vipul

SSC employee

0:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों जिस प्रकार हर सिक्के के 2 पहलू होते हैं ठीक उसी प्रकार इसके भी दो पहलू हो सकते हैं जो मुख्य रूप से डॉक्टरों पर निर्भर करता है क्योंकि जहां पर देखा जाए तो अगर हम किसी रोग का या कोई दिल किसी भी बीमारी काजल इलाज कराते हैं तो वह एलोपैथिक से ठीक नहीं हो पाता है लेकिन आयुर्वेद से या होम्योपैथी से ठीक हो जाता है तो मेरे को लगता है कि सरकार को इस पर इस पर इसे कुछ लोगों को आजमाना चाहिए और अगर पॉजिटिव रिजल्ट है तो उसको लाइव करना चाहिए पाटेकर नेगेटिव रिजल्ट है तो उसे पसंद कर देना चाहिए क्योंकि यह मुख्य रूप से डॉक्टरों पर निर्भर करता है कि वह इसे कैसे यूज करते हैं पॉजिटिव जाने के लिए थैंक्स

namaskar doston jis prakar har sikke ke 2 pahaloo hote hain theek ussi prakar iske bhi do pahaloo ho sakte hain jo mukhya roop se daktaro par nirbhar karta hai chahiye kyonki jaha par dekha jaye to agar hum kisi rog ka ya koi dil kisi bhi bimari kajal ilaj karate hain to wah allopathic se theek nahi ho pata hai lekin ayurveda se ya homeopathy se theek ho jata hai to mere ko lagta hai ki sarkar ko is par is par ise kuch logo chahiye ko ajamana chahiye aur agar positive result hai to usko live karna chahiye patekar Negative result hai to use pasand kar dena chahiye kyonki yeh mukhya roop se daktaro par nirbhar karta hai ki wah ise kaise use karte hain positive jaane ke liye thanks

नमस्कार दोस्तों जिस प्रकार हर सिक्के के 2 पहलू होते हैं ठीक उसी प्रकार इसके भी दो पहलू हो

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  119
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
wah ayurveda ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!