राज्य सभा ने दिवालियापन और दिवालियापन संहिता संशोधन विधायक को मंजूरी दी, इसका क्या असर होगा?...


play
user

Swati

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:45

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए लोकसभा में 28 सितंबर को एक विधेयक पेश किया गया जिसमें दिवाला और दिवालियापन संहिता में संशोधन करने की मांग की गई ताकि सीधी की कमियों को दूर किया जा सके और जानबूझकर कर्ज नहीं चुकाने वाले बकायदा खुद की परिसंपत्तियों के बोली नहीं लगा सके और इसका मकसद है कि जो अनैतिक लोगों को दिवालियापन और दिवालियापन संहिता के प्रावधानों का दुरुपयोग का दुर्व्यवहार करने से रोका जाएगा ऐसे अपात्र व्यक्ति या संस्था ने जो या तो जान कर के अचूक करता है या जिन के खातों में गैर निष्पादित परिसंपत्तियां है इसके अंदर शामिल होंगे वह दिखा लिया करता जिन्होंने 23 नवंबर से पहले दिवाला की कार्रवाई में भाग लिया था BP 1 महीने में अपनी बकाया राशि को स्पष्ट करने के लिए जोरदार संपत्ति के लिए बोली लगा सकते हैं संस्था सदस्यों को चीन की चिंताओं का जवाब देते हुए अरुण जेटली ने कहा कि पूरे प्रयास बैंकिंग क्षेत्र को मजबूत बनाने और राजनीति से अलग करने के लिए है अरुण जेटली ने कहा दिवालिया प्रक्रिया के दौरान कहां बैंकों और असुरक्षित लेनदारों को कुछ बाल कटवाने लगाना होगा और अगर एक ही प्रबंधन वापस आ जाए तो कुछ भी नहीं बदलेगा देखिए जो करता रैवेन प्रक्रियाओं का प्रयोग कर उपयोग कर रहे हैं उन्होंने कहा कि बड़े लंबित मामले मोटे तौर पर दो श्रेणियों में होता है एक बड़ी संपत्ति और दूसरा है तो व्यापारिक कंपनियां आई पी सी कंपनी की संपत्ति बहुत कम है

dekhiye lok sabha mein 28 september ko ek vidhayak pesh kiya gaya jisme diwala aur diwaliyapan sanhita mein sanshodhan karne ki maang ki gayi taki seedhi ki kamiyon ko dur kiya ja sake aur janbujhkar karj nahi chukaane waale bakayada khud ki parisampattiyon ke boli nahi laga sake aur iska maksad hai ki jo anaitik logo ko diwaliyapan aur diwaliyapan sanhita ke pravdhano ka durupyog ka durvyavahar karne se roka jaega aise apatra vyakti ya sanstha ne jo ya toh jaan kar ke achuk karta hai ya jin ke khaaton mein gair nishpaadit parisampattiyan hai iske andar shaamil honge vaah dikha liya karta jinhone 23 november se pehle diwala ki karyawahi mein bhag liya tha BP 1 mahine mein apni bakaya rashi ko spasht karne ke liye jordaar sampatti ke liye boli laga sakte hai sanstha sadasyon ko china ki chintaon ka jawab dete hue arun jaitley ne kaha ki poore prayas banking kshetra ko majboot banane aur raajneeti se alag karne ke liye hai arun jaitley ne kaha diwaliya prakriya ke dauran kahaan bankon aur asurakshit lendaron ko kuch baal katvane lagana hoga aur agar ek hi prabandhan wapas aa jaaye toh kuch bhi nahi badlega dekhiye jo karta raiven prakriyaon ka prayog kar upyog kar rahe hai unhone kaha ki bade lambit mamle mote taur par do shreniyon mein hota hai ek baadi sampatti aur doosra hai toh vyaparik companiya I p si company ki sampatti bahut kam hai

देखिए लोकसभा में 28 सितंबर को एक विधेयक पेश किया गया जिसमें दिवाला और दिवालियापन संहिता मे

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  140
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!