क्या ईश्वर में विश्वास रखने के लिए मंदिर जाना ज़रूरी है?...


user

RAHUL BHADOTIYA

Yog Expert /Motivater/Life Coach

1:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी नमस्कार ने अपने प्रश्न यह पूछा है कि क्या ईश्वर में विश्वास रखने के लिए मंदिर जाना जरूरी है ऐसा जरूरी नहीं है कि आप ईश्वर में विश्वास रखने के लिए मंदिर जाने से होता है इसमें आप अपना आई श्रम शक्ति के रूप में रखते हैं भक्ति आंतों का कहीं भी बैठे कहीं भी कभी भी कुछ भी कर सकते हैं और वक्त तो ऑल टाइम आपका कर विश्वास ऑल टाइम है भक्ति करें अपने एग्जांपल द सुना होगा कि मीराबाई का मीराबाई का गुणगान करते थे उनके बारे में भजन करके तुम करते थे शबरी शबरी भगवान राम की भक्ति और वह एक निश्चित भक्ति करते उनको उनको यह नहीं था कि क्या मिलेगा या नहीं मिलेगा अलग यही भक्ति होती है भक्ति योग हे भगवान एवं लाभ जो हमारे ग्रंथ है भक्ति के दो प्रकार की बधाई की अपरा और परा अपरा भक्ति में यही है कि आप ईश्वर के प्रति दिन हो चुके हैं अपना वक्त वक्त यही है कि आप मतलब कि आज भी आपको हर जीव और जंतु में आप अपने इश्वर को देखते हैं बाकी और ग्रंथों में भक्ति को नौ प्रकार से बताया गया जिसमें कुछ ऐसे प्रकार हैं सत्संग करना ईश्वर के गुणगान करना और सत्संग करना इसमें गुणगान में भजन कीर्तन करना भगवान का और मंत्र जप करना है संतों का आदर करना संतोष में रहना या नहीं खुश रहना बस जो भी हमारे पास है और अपने आप को विश्व के प्रति अनुषा पर करना मतलब की कृपा निधान जो भी आप हमें मिला हुआ ईश्वर का ही उस ईश्वर में सर्व हर चीज छोड़ देना उसके भरोसे छोड़ देना है कि आपने आपको बस डिपॉट कर देना भगवान के प्रतिशत में अपने आपकी श्रद्धा है जबकि भक्ति धन्यवाद मैं इतना कहना चाहूंगा

ji namaskar ne apne prashna yah poocha hai ki kya ishwar me vishwas rakhne ke liye mandir jana zaroori hai aisa zaroori nahi hai ki aap ishwar me vishwas rakhne ke liye mandir jaane se hota hai isme aap apna I shram shakti ke roop me rakhte hain bhakti anton ka kahin bhi baithe kahin bhi kabhi bhi kuch bhi kar sakte hain aur waqt toh all time aapka kar vishwas all time hai bhakti kare apne example the suna hoga ki mirabai ka mirabai ka gunagan karte the unke bare me bhajan karke tum karte the shabri shabri bhagwan ram ki bhakti aur vaah ek nishchit bhakti karte unko unko yah nahi tha ki kya milega ya nahi milega alag yahi bhakti hoti hai bhakti yog hai bhagwan evam labh jo hamare granth hai bhakti ke do prakar ki badhai ki apara aur para apara bhakti me yahi hai ki aap ishwar ke prati din ho chuke hain apna waqt waqt yahi hai ki aap matlab ki aaj bhi aapko har jeev aur jantu me aap apne ishvar ko dekhte hain baki aur granthon me bhakti ko nau prakar se bataya gaya jisme kuch aise prakar hain satsang karna ishwar ke gunagan karna aur satsang karna isme gunagan me bhajan kirtan karna bhagwan ka aur mantra jap karna hai santo ka aadar karna santosh me rehna ya nahi khush rehna bus jo bhi hamare paas hai aur apne aap ko vishwa ke prati anusha par karna matlab ki kripa nidhaan jo bhi aap hamein mila hua ishwar ka hi us ishwar me surv har cheez chhod dena uske bharose chhod dena hai ki aapne aapko bus dipat kar dena bhagwan ke pratishat me apne aapki shraddha hai jabki bhakti dhanyavad main itna kehna chahunga

जी नमस्कार ने अपने प्रश्न यह पूछा है कि क्या ईश्वर में विश्वास रखने के लिए मंदिर जाना जरूर

Romanized Version
Likes  122  Dislikes    views  3242
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
ग्रिटीट्यूड ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!