क्या यह जरुरी नहीं था छत्रपति शिवाजी का स्मारक से पहले पुराने औवर ब्रिज को मरम्मत?...


user

Shubham

Software Engineer in IBM

0:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल राकेश सर आप मुझे क्वेश्चन पूछा काफी अच्छा है और मुझे लगता है कि जो सरकार ने ओवर ब्रिज की मरम्मत को ना देखकर छत्रपति शिवाजी राव की स्मारक पर ध्यान दिया यह बिल्कुल गलत है क्योंकि ओवर ब्रिज को हजारों लोग रोजाना यूज़ करते हैं तो मुझे लगता है कि इस पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए थे क्योंकि इनकी जान जोखिम में है तो कहीं ना कहीं गवर्नमेंट की गलती है और मैं यह नहीं बोल रहा है कि जो छत्रपति शिवाजी का स्मारक है उसमें नहीं ध्यान देना चाहिए था मेरा यह मानना है कि आप दोनों काम एक साथ कर सकते थे लेकिन आपने एक ही काम किया और दूसरे काम को तो देखा भी नहीं तो मुझे लगता है कि यह गलत है और अगर ऐसे ही चलता रहा तो अमिता के काफी दिक्कत होने वाली है और गवर्नमेंट को इस बारे में सोचना चाहिए थैंक यू

bilkul rakesh sir aap mujhe question poocha kaafi accha hai aur mujhe lagta hai ki jo sarkar ne over bridge ki marammat ko na dekhkar chhatrapati shivaji rav ki smarak par dhyan diya yah bilkul galat hai kyonki over bridge ko hazaro log rojana use karte hain toh mujhe lagta hai ki is par zyada dhyan dena chahiye the kyonki inki jaan jokhim mein hai toh kahin na kahin government ki galti hai aur main yah nahi bol raha hai ki jo chhatrapati shivaji ka smarak hai usme nahi dhyan dena chahiye tha mera yah manana hai ki aap dono kaam ek saath kar sakte the lekin aapne ek hi kaam kiya aur dusre kaam ko toh dekha bhi nahi toh mujhe lagta hai ki yah galat hai aur agar aise hi chalta raha toh Amita ke kaafi dikkat hone wali hai aur government ko is bare mein sochna chahiye thank you

बिल्कुल राकेश सर आप मुझे क्वेश्चन पूछा काफी अच्छा है और मुझे लगता है कि जो सरकार ने ओवर ब्

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  184
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Apurva D

Optimistic Coder

1:34

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए हल जरूर शिवाजी के स्मारक से पहले ओवर ब्रिज की मरम्मत करना जरूरी था 2000 महीने बाहर आने का बोला था और शायद सरकार का ध्यान किस पर भरोसा नहीं गया यह बात अच्छी नहीं है कि लोगों की मौत हो गई है कंगाल ज्यादा इंपोर्टेंट है बहुत ही बड़ी हस्ती है

dekhiye hal zaroor shivaji ke smarak se pehle over bridge ki marammat karna zaroori tha 2000 mahine bahar aane ka bola tha aur shayad sarkar ka dhyan kis par bharosa nahi gaya yah baat achi nahi hai ki logo ki maut ho gayi hai kangal zyada important hai bahut hi badi hasti hai

देखिए हल जरूर शिवाजी के स्मारक से पहले ओवर ब्रिज की मरम्मत करना जरूरी था 2000 महीने बाहर आ

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  157
WhatsApp_icon
user

Pragati

Aspiring Lawyer

0:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी यह बात बिल्कुल सही है कि छत्रपति शिवाजी के स्मारक बनाने से पहले वृक्ष पुराने ओवर ब्रिज की मरम्मत करनी जरूरी थी क्योंकि ओवर ब्रिज को बहुत सारे लोग इस्तेमाल करते हैं और अगर उसको कुछ भी होता है उसकी मरम्मत सही समय पर नहीं होती है और अगर वह कहीं ना कहीं टूट जाता है तो उसे बहुत सारे लोगों को हानि होगी बहुत सारे लोग मर भी सकते तो बीजेपी गवर्नमेंट जॉब महाराष्ट्र में आजकल है उसको छत्रपति शिवाजी की मूर्ति ना बनाकर ओवर ब्रिज की मरम्मत पहले करनी चाहिए

ji yah baat bilkul sahi hai ki chhatrapati shivaji ke smarak banane se pehle vriksh purane over bridge ki marammat karni zaroori thi kyonki over bridge ko bahut saare log istemal karte hain aur agar usko kuch bhi hota hai uski marammat sahi samay par nahi hoti hai aur agar vaah kahin na kahin toot jata hai toh use bahut saare logo ko hani hogi bahut saare log mar bhi sakte toh bjp government maharashtra mein aajkal hai usko chhatrapati shivaji ki murti na banakar over bridge ki marammat pehle karni chahiye

जी यह बात बिल्कुल सही है कि छत्रपति शिवाजी के स्मारक बनाने से पहले वृक्ष पुराने ओवर ब्रिज

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  136
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!