जब मुस्लिम भी आज़ादी की लड़ाई लड़े थे तो भारत को हिंदू राष्ट्र क्यों होना चाहिए?...


user

Rajesh Rana

Educator, Lawyer

1:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आजादी की लड़ाई सभी धर्मों के व्यक्तियों ने मिलकर एक साथ लड़ी थी यह देश सभी का देश है यह केवल ना हिंदू है ना मुस्लिम का आना सिक्का नहीं साहित्य हर इंसान हो तो हर उस इंसान का देश है तो इस देश को अपना जमानता है अपना जानता है या फिर किसी का कोई भी आदमी है हमारे देश में जो इस देश को एक पर्टिकुलर धन का बना देना चाहते हो सभी धर्मों में है याद रखना ऐसा नहीं है कि किसी खास धर्म में ही है जिनकी संख्या ज्यादा है वह समाज में ज्यादा फेमस हो जाते लेकिन यह सभी धर्मों में हैं जो चाहते हैं कि उनके धर्म का झंडा लाल किले पर फहराया जाता है यह हमारी समस्या नहीं है उनकी परवरिश उनकी शिक्षा किस तरह से हुई है यह समस्या उन्हें क्या सिखाया गया है यह उनकी समस्या पूरे देश की समस्या नहीं है और चंदा आदमी इस पूरे देश को डिस्टर्ब नहीं कर सकता मैं झूठी हो पीपल जो भारत में रहते हैं यही मानते हैं कि सभी धर्मों पर देश और चंदा आदमी यह मानते हैं कि किसी खास धर्म का दत्त हो जाना चाहिए समस्या हमारी नहीं है ना हमारे देश की है हमारे देश के कुछ नागरिकों की निजी समस्या है वह किसी ना किसी मानसिक बीमारी से ग्रसित हैं उसका इलाज होगा या नहीं होगा यह हम नहीं जानते कि उनका इलाज होना चाहिए उनको यह ज्ञान देना चाहिए यह देश सभी का है इसके आजादी में सभी ने अपनी पूर्णाहुति दी थी

azadi ki ladai sabhi dharmon ke vyaktiyon ne milkar ek saath ladi thi yah desh sabhi ka desh hai yah keval na hindu hai na muslim ka aana sikka nahi sahitya har insaan ho toh har us insaan ka desh hai toh is desh ko apna jamanata hai apna jaanta hai ya phir kisi ka koi bhi aadmi hai hamare desh mein jo is desh ko ek particular dhan ka bana dena chahte ho sabhi dharmon mein hai yaad rakhna aisa nahi hai ki kisi khaas dharm mein hi hai jinki sankhya zyada hai vaah samaj mein zyada famous ho jaate lekin yah sabhi dharmon mein hain jo chahte hain ki unke dharm ka jhanda laal kile par fahraya jata hai yah hamari samasya nahi hai unki parvarish unki shiksha kis tarah se hui hai yah samasya unhe kya sikhaya gaya hai yah unki samasya poore desh ki samasya nahi hai aur chanda aadmi is poore desh ko disturb nahi kar sakta main jhuthi ho pipal jo bharat mein rehte hain yahi maante hain ki sabhi dharmon par desh aur chanda aadmi yah maante hain ki kisi khaas dharm ka dutt ho jana chahiye samasya hamari nahi hai na hamare desh ki hai hamare desh ke kuch nagriko ki niji samasya hai vaah kisi na kisi mansik bimari se grasit hain uska ilaj hoga ya nahi hoga yah hum nahi jante ki unka ilaj hona chahiye unko yah gyaan dena chahiye yah desh sabhi ka hai iske azadi mein sabhi ne apni purnahuti di thi

आजादी की लड़ाई सभी धर्मों के व्यक्तियों ने मिलकर एक साथ लड़ी थी यह देश सभी का देश है यह के

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  160
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!