भारत में छात्र बेरोज़गार है प्रधानमंत्री क्यों कुछ नहीं बोलते?...


user

Dr J B Tiwari

Chairman and Managing Director

1:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं डॉक्टर जेपी तिवारी आपको प्रणाम करता हूं और आप का सवाल है भारत में छात्र पर रोजगार हैं प्रधान जी क्यों कुछ नहीं बोलते तो आपका सवाल बिल्कुल सही है बेरोजगारी एक समस्या है हमारे यहां लेकिन अकेले प्रधानमंत्री कुछ नहीं कर सकेंगे इसके लिए बेरोजगारी एक मानसिकता भी हमारे यहां जैसे आप पढ़ लिख लेते हैं पढ़ने के बाद सर्टेन अपने पास किया है गुलशन कलिया फसलें शंकर लिया अभी आप नौकरी खोजना शुरू कर देते हैं आप क्यों नहीं कहते कि हम आप खुद ऐसा कुछ व्यवसाय करें कुछ ऐसा करेंगे लोगों को नौकरी दें जब तक हम लोग अपनी मानसिकता नौकरी से कन्वर्ट करके बिजनेस की तरफ नहीं लेकर जाएंगे तब तक ऐसे सुशील क्रिएट होता ही रहेगा आज एक अपॉर्चुनिटी है सारा देराबिश आज मेरे देश की तरफ देख रहा है यूज को आगे आना चाहिए अपना धंधा स्थापित करना चाहिए और लोगों को रोजगार देना चाहिए तो मैं मानता हूं प्रधानमंत्री भी इसके लिए तैयार हैं उन्होंने इसके लिए कोशिश कर रहा फोन एक अलग मंत्रालय बना है जिसको स्किल डेवलपमेंट मिनिस्ट्री करते हैं जो देश भर में कई तरीके से रोजगार के लिए ट्रेनिंग देता है रोजगार और मुकेश की बात करता है करता है बनाता है तो आ लेडीस केंद्र सरकार राज्य सरकार सब कुछ कर रही हैं लेकिन अब अपना काम है हमारा आपका रिश्ता उत्तर दायित्व है कि हम उस पर काम करें हम रोजगार दे हम रोजगार खोजे नहीं अगर हमें मानसिकता लेकर आ जाएंगे तो आने वाला भारत बिल्कुल बिल्कुल बदल गए हो जाए बेरोजगार से मुक्त हो जाएगा और देश प्रगति को अब चलेगा

main doctor jp tiwari aapko pranam karta hoon aur aap ka sawaal hai bharat me chatra par rojgar hain pradhan ji kyon kuch nahi bolte toh aapka sawaal bilkul sahi hai berojgari ek samasya hai hamare yahan lekin akele pradhanmantri kuch nahi kar sakenge iske liye berojgari ek mansikta bhi hamare yahan jaise aap padh likh lete hain padhne ke baad certain apne paas kiya hai gulshan kalia faslen shankar liya abhi aap naukri khojana shuru kar dete hain aap kyon nahi kehte ki hum aap khud aisa kuch vyavasaya kare kuch aisa karenge logo ko naukri de jab tak hum log apni mansikta naukri se convert karke business ki taraf nahi lekar jaenge tab tak aise sushil create hota hi rahega aaj ek opportunity hai saara derabish aaj mere desh ki taraf dekh raha hai use ko aage aana chahiye apna dhandha sthapit karna chahiye aur logo ko rojgar dena chahiye toh main maanta hoon pradhanmantri bhi iske liye taiyar hain unhone iske liye koshish kar raha phone ek alag mantralay bana hai jisko skill development ministry karte hain jo desh bhar me kai tarike se rojgar ke liye training deta hai rojgar aur mukesh ki baat karta hai karta hai banata hai toh aa ladies kendra sarkar rajya sarkar sab kuch kar rahi hain lekin ab apna kaam hai hamara aapka rishta uttar dayitva hai ki hum us par kaam kare hum rojgar de hum rojgar khoje nahi agar hamein mansikta lekar aa jaenge toh aane vala bharat bilkul bilkul badal gaye ho jaaye berozgaar se mukt ho jaega aur desh pragati ko ab chalega

मैं डॉक्टर जेपी तिवारी आपको प्रणाम करता हूं और आप का सवाल है भारत में छात्र पर रोजगार हैं

Romanized Version
Likes  22  Dislikes    views  318
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!