गांव भारतीय संस्कृति का आधार है सत्य असत्य बताना?...


user

Yog Guru Gyan Ranjan Maharaj

Founder & Director - Kashyap Yogpith

3:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यहां तक आपका क्वेश्चन है गांव भारतीय संस्कृति का आधार है यह सत्य है इसमें कोई संदेह नहीं है एक गांव भारतीय संस्कृति का आधार बिंदु है हमारा देश गांव का देश है शहरों में जितने लोग जितनी आबादी बसी हुई है 70 से 80 परसेंट लोग गांव से ही हैं और गांव से ही उनका संबंध है इसलिए जो गांव मैं आज भी लोग रहते हैं उनको भारतीय संस्कृति से काफी सरोकार होता आज भी भारत के गांव के लोग अपनी संस्कृति को संभाल कर रखे हैं भारतीय संस्कृति का धरोहर आज गांव में निवास करते हैं भारतीय संस्कृति का आधार स्तंभ आज भी गांव में ही बचा हुआ है अगर गांव के लोगों की सोच भी शहर के लोगों के सोच के जैसा हो जाए तो भारतीय संस्कृति को विलुप्त होने से कोई रोक नहीं सकता आज गांव के लोग ही भारतीय संस्कृति को आगे बढ़ाने में और गांव से शहर तक पहुंचाने में हमारे ग्रामीण लोगों का मेन भूमिका लेकिन क्योंकि एक बहुत बड़ा जनसंख्या का भाग शहर शहर में रहने लगा और गांव से कोई सरोकार न रखने के वजह से भारतीय संस्कृति की ब्लू पता कुछ ना कुछ असर तो जरूर पड़ा है लेकिन जो पुराने ख्याल के लोग हैं आज भी भारतीय संस्कृति को आधार मानकर ही चलते हैं आज भारत के लोग ही भारतीय संस्कृति को विलुप्त होने से बचा रहे धन्यवाद

yahan tak aapka question hai gaon bharatiya sanskriti ka aadhar hai yah satya hai isme koi sandeh nahi hai ek gaon bharatiya sanskriti ka aadhar bindu hai hamara desh gaon ka desh hai shaharon me jitne log jitni aabadi basi hui hai 70 se 80 percent log gaon se hi hain aur gaon se hi unka sambandh hai isliye jo gaon main aaj bhi log rehte hain unko bharatiya sanskriti se kaafi sarokar hota aaj bhi bharat ke gaon ke log apni sanskriti ko sambhaal kar rakhe hain bharatiya sanskriti ka dharohar aaj gaon me niwas karte hain bharatiya sanskriti ka aadhar stambh aaj bhi gaon me hi bacha hua hai agar gaon ke logo ki soch bhi shehar ke logo ke soch ke jaisa ho jaaye toh bharatiya sanskriti ko vilupt hone se koi rok nahi sakta aaj gaon ke log hi bharatiya sanskriti ko aage badhane me aur gaon se shehar tak pahunchane me hamare gramin logo ka main bhumika lekin kyonki ek bahut bada jansankhya ka bhag shehar shehar me rehne laga aur gaon se koi sarokar na rakhne ke wajah se bharatiya sanskriti ki blue pata kuch na kuch asar toh zaroor pada hai lekin jo purane khayal ke log hain aaj bhi bharatiya sanskriti ko aadhar maankar hi chalte hain aaj bharat ke log hi bharatiya sanskriti ko vilupt hone se bacha rahe dhanyavad

यहां तक आपका क्वेश्चन है गांव भारतीय संस्कृति का आधार है यह सत्य है इसमें कोई संदेह नह

Romanized Version
Likes  267  Dislikes    views  8924
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!