रजिया सुल्तान कौन थी?...


user

Chandan Singh

want to become IPS Officer

2:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो फ्रेंड साहब का प्रश्न है रजिया सुल्तान कौन थी मित्र भारत की प्रथम महिला शासिका रजिया सुल्तान थी जो किंतु तमीज की पुत्री थी और रजिया सुल्तान जो थी वह दिल्ली की प्रथम महिला शासिका थी मित्र इल्तुतमिश जो थे वह कुतुबुद्दीन ऐबक के दमाद थे कुतुबुद्दीन ऐबक गुलाम वंश का संस्थापक था तो रजिया सुल्तान भी गुलाम वंश के हिसा सिक्का थी तो दोस्त रजिया सुल्तान का जन्म 1205 ईस्वी में दिल्ली में ही हुआ था और रजिया सुल्तान जो है दोस्त 1236 ईस्वी में दिल्ली की सल्तनत पर की गद्दी पर बैठी थी और इल्तुतमिश की पुत्री रजिया सुल्तान जो है वह 12 से 36 ईसवी में गद्दी पर गई थी और 12 से 40 ईसवी तक वह गद्दी को संभाल ली उसके बाद अल्तूनिया अल्तूनिया एक राजा था जो कि अल्तूनिया ने रजिया सुल्तान को युद्ध में ललकारा और रजिया सुल्तान अल्तूनिया से हार गई और इसी युद्ध में के बाद रजिया सुल्तान को मार दिया गया दोस्त मैं बता रहा हूं आपको कि रजिया सुल्तान का एक प्रेमी भी था जमात उद्दीन याकूत और यह प्रेमी जोड़ा रजिया सुल्तान का यह तुर्क का नहीं था इसीलिए रजिया सुल्तान के संत अंत में रजिया सुल्तान का विरोध होने लगा था क्योंकि वह एक तुर्की की तुर्क वंश की शासिका थी अर्थात * तमीज जो था वह तुर्की था और गुलाम वंश का साक्षी का थी इसलिए इनके अपने ही राज्य में मुगलों द्वारा विरोध होने लगा और यही कारण था कि अल्तूनिया को इनके अपने राज्य के ही महामंत्री और कई सेनानायक जो थे वह सभी अल्तूनिया से मिल गए और यही रजिया सुल्तान का हार का कारण बना और याकूत भी मारा गया और रजिया सुल्तान भी मारी गई तो दोस्त रजिया सुल्तान जो थी वह दिल्ली की प्रथम महिला शासिका थी प्रथम तुर्की महिला शासिका थी जो कि गुलाम वंश की शासिका थी यह 1236 इस विषय 1240 ईस्वी तक दिल्ली सल्तनत की गद्दी पर बैठी

hello friend saheb ka prashna hai rajiya sultan kaun thi mitra bharat ki pratham mahila shasika rajiya sultan thi jo kintu tamij ki putri thi aur rajiya sultan jo thi vaah delhi ki pratham mahila shasika thi mitra iltutmish jo the vaah kutubuddin aibak ke damad the kutubuddin aibak gulam vansh ka sansthapak tha toh rajiya sultan bhi gulam vansh ke hissa sikka thi toh dost rajiya sultan ka janam 1205 isvi me delhi me hi hua tha aur rajiya sultan jo hai dost 1236 isvi me delhi ki sultanate par ki gaddi par baithi thi aur iltutmish ki putri rajiya sultan jo hai vaah 12 se 36 isvi me gaddi par gayi thi aur 12 se 40 isvi tak vaah gaddi ko sambhaal li uske baad altuniya altuniya ek raja tha jo ki altuniya ne rajiya sultan ko yudh me lalkaara aur rajiya sultan altuniya se haar gayi aur isi yudh me ke baad rajiya sultan ko maar diya gaya dost main bata raha hoon aapko ki rajiya sultan ka ek premi bhi tha jamaat uddhin yakut aur yah premi joda rajiya sultan ka yah turk ka nahi tha isliye rajiya sultan ke sant ant me rajiya sultan ka virodh hone laga tha kyonki vaah ek turkey ki turk vansh ki shasika thi arthat tamij jo tha vaah turkey tha aur gulam vansh ka sakshi ka thi isliye inke apne hi rajya me mugalon dwara virodh hone laga aur yahi karan tha ki altuniya ko inke apne rajya ke hi mahamantri aur kai senanayak jo the vaah sabhi altuniya se mil gaye aur yahi rajiya sultan ka haar ka karan bana aur yakut bhi mara gaya aur rajiya sultan bhi mari gayi toh dost rajiya sultan jo thi vaah delhi ki pratham mahila shasika thi pratham turkey mahila shasika thi jo ki gulam vansh ki shasika thi yah 1236 is vishay 1240 isvi tak delhi sultanate ki gaddi par baithi

हेलो फ्रेंड साहब का प्रश्न है रजिया सुल्तान कौन थी मित्र भारत की प्रथम महिला शासिका रजिया

Romanized Version
Likes  42  Dislikes    views  746
WhatsApp_icon
7 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
0:18
Play

Likes  70  Dislikes    views  1275
WhatsApp_icon
user
0:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रजिया सुल्तान इल्तुतमिश की पुत्री थी इल्तुतमिश ने अपना उत्तराधिकारी अपनी पुत्री रजिया सुल्तान को नियुक्त किया था रजिया सुल्तान दिल्ली की जनता और तुर्की अमीरों के सहयोग से 12 से 36 ईसवी में दिल्ली के सिंहासन पर बैठी थी पर्दा प्रथा त्याग कर दिया पुरुषों की तरह होगा एवं कुलाह पहनकर राज दरबार में खुले मुंह से जाने लगी थी घोड़े पर सवार होकर रजिया युद्ध मेदान में भी जाने लगी थी दिल्ली सल्तनत की प्रथम महिला शासिका रजिया की रजिया सुल्तान की पतंग का महत्वपूर्ण कारण उसका फ्री होना था

rajiya sultan iltutmish ki putri thi iltutmish ne apna uttradhikari apni putri rajiya sultan ko niyukt kiya tha rajiya sultan delhi ki janta aur turkey amiron ke sahyog se 12 se 36 isvi mein delhi ke sinhaasan par baithi thi parda pratha tyag kar diya purushon ki tarah hoga evam kulah pehankar raj darbaar mein khule mooh se jaane lagi thi ghode par savar hokar rajiya yudh medan mein bhi jaane lagi thi delhi sultanate ki pratham mahila shasika rajiya ki rajiya sultan ki patang ka mahatvapurna karan uska free hona tha

रजिया सुल्तान इल्तुतमिश की पुत्री थी इल्तुतमिश ने अपना उत्तराधिकारी अपनी पुत्री रजिया सुल्

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  132
WhatsApp_icon
play
user

Bhaskar Saurabh

Politics Follower | Engineer

0:14

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रजिया सुल्तान दिल्ली की सुल्तान थी और उन्होंने 10 नवंबर 1236 से 14 अक्टूबर 1240 तक दिल्ली पर राज किया था

rajiya sultan delhi ki sultan thi aur unhone 10 november 1236 se 14 october 1240 tak delhi par raj kiya tha

रजिया सुल्तान दिल्ली की सुल्तान थी और उन्होंने 10 नवंबर 1236 से 14 अक्टूबर 1240 तक दिल्ली

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  152
WhatsApp_icon
user
0:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रजिया सुल्ताना जो दिल्ली की बहुत बड़ी सुल्तान थी 10 अक्टूबर 1236 को पैदा हुई थी और 14 अक्टूबर 12 से 40 तक यह सुल्तान रही है दिल्ली की और इनका जो जन्म है वह 1205 बताओ गांव के अंदर हुआ था और यह 14 अक्टूबर 1240 को दिल्ली में इनकी डेथ हो गई थी उनका पूरा नाम है रजिया उद्दीन और उनके पति का नाम मलिक अल्तूनिया था और जीवन को दफनाया गया वह दिल्ली में ही दफनाया गया था

rajiya sultana jo delhi ki bahut badi sultan thi 10 october 1236 ko paida hui thi aur 14 october 12 se 40 tak yah sultan rahi hai delhi ki aur inka jo janam hai vaah 1205 batao gaon ke andar hua tha aur yah 14 october 1240 ko delhi mein inki death ho gayi thi unka pura naam hai rajiya uddhin aur unke pati ka naam malik altuniya tha aur jeevan ko dafnaya gaya vaah delhi mein hi dafnaya gaya tha

रजिया सुल्ताना जो दिल्ली की बहुत बड़ी सुल्तान थी 10 अक्टूबर 1236 को पैदा हुई थी और 14 अक्ट

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  384
WhatsApp_icon
user

micky garg

Freelancer

0:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रजिया सुल्तान भारत की पहली शासिका थी उसने लगभग 5 वर्षों तक दिल्ली की सल्तनत को संभाला उसका पूरा कार्यकाल संघर्षों में बीता और रजिया सुल्तान का जीवन साहस और वीरता से भरा था WhatsApp भी के लिए प्रेरणादायक रहा रजिया गुलाम वंश के सुल्तान इलेक्ट्रिक मिश्र की पुत्री थी जिस समय रजिया गद्दी पर बैठी उसके चारों तरफ घोर संकट छाया हुआ था दिल्ली सल्तनत के अमीर एवं दरबारी अपने ऊपर एक स्त्री का शासन होते देख नहीं पा रहे थे इसलिए वह लगातार उसके विरुद्ध षड्यंत्र करते रहते थे एक फ्री होते हुए भी रजिया ने जिस निडरता से संकट का सामना किया उसके कारण सभी आधुनिक इतिहासकार उसकी प्रशंसा करते हैं

rajiya sultan bharat ki pehli shasika thi usne lagbhag 5 varshon tak delhi ki sultanate ko sambhala uska pura karyakal sangharshon mein bita aur rajiya sultan ka jeevan saahas aur veerta se bhara tha WhatsApp bhi ke liye preranadayak raha rajiya gulam vansh ke sultan electric mishra ki putri thi jis samay rajiya gaddi par baithi uske charo taraf ghor sankat chhaya hua tha delhi sultanate ke amir evam darbari apne upar ek stree ka shasan hote dekh nahi paa rahe the isliye vaah lagatar uske viruddh shadyantra karte rehte the ek free hote hue bhi rajiya ne jis nidarata se sankat ka samana kiya uske karan sabhi aadhunik itihaaskar uski prashansa karte hain

रजिया सुल्तान भारत की पहली शासिका थी उसने लगभग 5 वर्षों तक दिल्ली की सल्तनत को संभाला उसका

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  135
WhatsApp_icon
user

विकास सिंह

दिल से भारतीय

0:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रजिया सुल्तान कौन थी सुल्तान जीत ज्योतिष मूसली और तुलसी इतिहास की पहली महिला शासक ने बोल सकते हैं और यह और यह किसकी पुत्री थी क्योंकि मूल के राज्य को अन्य मुस्लिम राजकुमारियों की तरह सेना का नेतृत्व तथा प्रशासन के कार्यों का अभ्यास कराया गया था ताकि जरूरत पड़ने पर इस्तेमाल किया जा सके और जो है बस 36 लेकर 22 तारीख तक में राज की थी 10536 में जन्म हुआ बात हुई थी 14 अक्टूबर का जो है आज का समाधि जो है मोहल्ला बना हुआ यह तो मंदिर चांदनी चौक दिल्ली में

rajiya sultan kaun thi sultan jeet jyotish muesli aur tulsi itihas ki pehli mahila shasak ne bol sakte hain aur yah aur yah kiski putri thi kyonki mul ke rajya ko anya muslim rajkumariyo ki tarah sena ka netritva tatha prashasan ke karyo ka abhyas karaya gaya tha taki zarurat padane par istemal kiya ja sake aur jo hai bus 36 lekar 22 tarikh tak mein raj ki thi 10536 mein janam hua baat hui thi 14 october ka jo hai aaj ka samadhi jo hai mohalla bana hua yah toh mandir chandni chauk delhi mein

रजिया सुल्तान कौन थी सुल्तान जीत ज्योतिष मूसली और तुलसी इतिहास की पहली महिला शासक ने बोल स

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  173
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
rajiya sultan movie ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!