विज्ञान के आने का आकार के कारण ही आज मनुष्य का जीवन बहुत आरामदायक हो गया है कैसे?...


user
Play

Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Anil Bajpai

Writer | Publisher | Investor | Hotelier | Devloper

0:24
Play

Likes  149  Dislikes    views  2975
WhatsApp_icon
user

Pramod Kumar Singh

Motivator And Business

1:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विज्ञान के आने के पहले भी मनुष्य का जीवन आरामदायक ही था कष्ट तो उसे होता है जो अपने लक्ष्य की ओर चलते हैं जिससे आराम ढूंढिए उसे आराम मिलता है जिसे जो काम ढूंढ रहा है उसे काम मिलता है अपना अपना गोल है अपना अपना लक्ष्य है अपना अपना टारगेट है गोल के ऊपर आपको वह होना पड़ेगा यानी कि जाना पड़ेगा यदि आपका कोई गोली नहीं है आप उसको अच्छी भी नहीं करना चाहते हैं तो आराम ही आराम है किस-किस को गाइए किस-किस को रोइए आराम बड़ी चीज है मुंह ढक के सोइए ठीक है आराम हमेशा रहा है कर्मयोगी आराम नहीं करते हैं इसलिए वह अपने लक्ष्य को प्राप्त कर लेते हैं और रोगी आराम जिनका लक्ष्य होता है वह आराम करते हैं और रोगी ही अपना जीवन यापन करते हैं धन्यवाद

vigyan ke aane ke pehle bhi manushya ka jeevan aaramadayak hi tha kasht toh use hota hai jo apne lakshya ki aur chalte hain jisse aaram dhundhiye use aaram milta hai jise jo kaam dhundh raha hai use kaam milta hai apna apna gol hai apna apna lakshya hai apna apna target hai gol ke upar aapko vaah hona padega yani ki jana padega yadi aapka koi goli nahi hai aap usko achi bhi nahi karna chahte hain toh aaram hi aaram hai kis kis ko gaiye kis kis ko roiye aaram badi cheez hai mooh dhak ke soiye theek hai aaram hamesha raha hai karmayogi aaram nahi karte hain isliye vaah apne lakshya ko prapt kar lete hain aur rogi aaram jinka lakshya hota hai vaah aaram karte hain aur rogi hi apna jeevan yaapan karte hain dhanyavad

विज्ञान के आने के पहले भी मनुष्य का जीवन आरामदायक ही था कष्ट तो उसे होता है जो अपने लक्ष्य

Romanized Version
Likes  170  Dislikes    views  2425
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!