तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा को शरण देने का भारत को क्या लाभ हुआ?...


user

Ravi Sharma

Advocate

1:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कूटनीतिक में राजनीतिक दृष्टि से देखा जाए तो बहुत सी ऐसी चीजें होती हैं यह किसी भी लाभ व हानि के लिए नहीं की जाती है मां की जाती है क्योंकि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ऐसा करने के लिए आप वहां से होते हैं किसी को अस्थाई नाम यानी की शरण देना चाहे वही युद्ध से संबंधित हो चाहे वह राजनीतिक अस्थिरता से संबंधित हो किसी भी अन्य देश का कर्तव्य होता है भारत में अपनाया कर्तव्य निभाएं तिब्बत के प्रति जमुना ने उसके धर्मगुरु दलाई लामा को भारत में शरण दी भारत को इस से कोई लाभ तो नहीं हुआ क्योंकि किसी भी प्रकार का आर्थिक व राजनीतिक लाभ उनसे मिलने वाला नहीं था हां कुछ हानि हुई क्योंकि उसके चीन के साथ संबंध आने वाले भविष्य के लिए निर्धारित हो गए कि वह ठीक नहीं हो पाएंगे दलाई लामा जब तक भारत में निवास करेंगे हां यह जरुर मानता हूं कि बौद्ध धर्म जो कि एक शांति पसंद धर्म है उसको भारत में अपना प्रचार प्रसार करने का तथा अपनी जड़ें जमाने का एक बार फिर से मौका मिला हालांकि मैं भी मानता हूं कि जिस प्रकार से बौद्ध धर्म भारत से ही निकला तो बौद्ध धर्म को भारत में प्रचार प्रसार की आवश्यकता नहीं थी परंतु फिर भी दलाई लामा ने एक बहुत महत्वपूर्ण योगदान दिया है भारत में बौद्ध धर्म की जड़े मजबूत करने के लिए तथा अब देखा जाए तो अंतरराष्ट्रीय कानूनों के आधार पर अगर आप चरण देती है किसी युद्धबंदी को या राजनीतिक अस्थिरता के शिकार किसी व्यक्ति को और आप का यह कर्तव्य होता है तो भारत में अपने कर्तव्य परायण तरीके से बहुत ही अच्छे तरीके से अपने कर्तव्य का निर्वहन किया है तथा आने वाले समय में यथा स्थिति बनी रहेगी आशा संदेशा है सरकारी बदलती रहेंगी भारत की बदलता रहेगा तिब्बती बदलता रहेगा परंतु यथास्थिति आती है पिछले 70 साल से क्योंकि तो बनी हुई है सताने वाले संग मूवीज ऐसी की तैसी ही बनने से पहले की संभावनाएं हैं धन्यवाद

kutanitik mein raajnitik drishti se dekha jaaye toh bahut si aisi cheezen hoti hai yah kisi bhi labh va hani ke liye nahi ki jaati hai maa ki jaati hai kyonki antararashtriya sthar par aisa karne ke liye aap wahan se hote hai kisi ko asthai naam yani ki sharan dena chahen wahi yudh se sambandhit ho chahen vaah raajnitik asthirata se sambandhit ho kisi bhi anya desh ka kartavya hota hai bharat mein apnaya kartavya nibhayen tibet ke prati jamuna ne uske dharmguru dalai lama ko bharat mein sharan di bharat ko is se koi labh toh nahi hua kyonki kisi bhi prakar ka aarthik va raajnitik labh unse milne vala nahi tha haan kuch hani hui kyonki uske china ke saath sambandh aane waale bhavishya ke liye nirdharit ho gaye ki vaah theek nahi ho payenge dalai lama jab tak bharat mein niwas karenge haan yah zaroor manata hoon ki Baudh dharm jo ki ek shanti pasand dharm hai usko bharat mein apna prachar prasaar karne ka tatha apni jaden jamane ka ek baar phir se mauka mila halaki main bhi manata hoon ki jis prakar se Baudh dharm bharat se hi nikala toh Baudh dharm ko bharat mein prachar prasaar ki avashyakta nahi thi parantu phir bhi dalai lama ne ek bahut mahatvapurna yogdan diya hai bharat mein Baudh dharm ki jade majboot karne ke liye tatha ab dekha jaaye toh antararashtriya kanuno ke aadhaar par agar aap charan deti hai kisi yuddhabandi ko ya raajnitik asthirata ke shikaar kisi vyakti ko aur aap ka yah kartavya hota hai toh bharat mein apne kartavya parayan tarike se bahut hi acche tarike se apne kartavya ka nirvahan kiya hai tatha aane waale samay mein yatha sthiti bani rahegi asha sandesha hai sarkari badalti rahegi bharat ki badalta rahega tibbati badalta rahega parantu yathasthiti aati hai pichle 70 saal se kyonki toh bani hui hai satane waale sang movies aisi ki taisi hi banne se pehle ki sambhavnayen hai dhanyavad

कूटनीतिक में राजनीतिक दृष्टि से देखा जाए तो बहुत सी ऐसी चीजें होती हैं यह किसी भी लाभ व हा

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  233
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
tibbati dharmguru ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!