अरुणाचल प्रदेश को चीन दक्षिणी तिब्बत का हिस्सा क्यों बताता है?...


user

Ravi Sharma

Advocate

1:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अरुणाचल प्रदेश कोचीन दक्षिणी तिब्बत का हिस्सा बताता है क्योंकि इसके पीछे कुछ ऐतिहासिक कारण है ना चल प्रदेश के जो मूल जनजातियां हैं वह अरुणाचल प्रदेश की नहीं होते अन्य पूर्वोत्तर राज्यों के पिता बर्मा होते हुए चीन होते हुए अन्य राज्य से है परंतु एक बहुत ही पुरानी बात है तिब्बत के गठन के बाद तिब्बत का क्षेत्र निर्धारित किया गया था अंतर्राष्ट्रीय मानकों के आधार पर उस हिसाब से देखा जाए तो अरुणाचल प्रदेश में है तिब्बत का हिस्सा नहीं माना जा सकता अगर है तो सिरसा से लेह लद्दाख किस प्रकार से तिब्बत का हिस्सा है जो कि मुझे नहीं लगता इस प्रकार कि जिस प्रकार के अंतर्राष्ट्रीय मानचित्र निर्धारित होते हैं तथा अंतरराष्ट्रीय परिस्थितियों के आधार पर तिब्बत का हिस्सा ना लेह लद्दाख है ना ही अलग देशों से भारत का अभिन्न अंग है पता किस प्रकार के जो भी दावे चीन करता है मैं उसको सिरे से खारिज करता हूं देखिए इसके साथ-साथ मुझे ऐसा भी लगता है कि केवल फूल चाल की भाषा होने से अथवा समान जो की भौगोलिक आपके नियमितता है उसके आधार पर आप किसी देश को या किसी प्रांत को अपने देश का हिस्सा नहीं बता सकते ऐतिहासिक रूप से भी लिखा जाए तो इस प्रकार से अफगानिस्तान भारत में अनुवाद और बहुत बड़ा है तिब्बत का चित्र बताओ भारत के अंदर ही आता था परंतु उस समय की परिस्थितियां कुछ और थी परंतु आज की परिस्थितियां कुछ और है तो मुझे ऐसा लगता है कि इस प्रकार के दावे बिल्कुल गलत है तथा इसका में भरपूर खंडन करता हूं धन्यवाद

arunachal pradesh cochin dakshini tibbet ka hissa batata hai kyonki iske peeche kuch aitihasik karan hai na chal pradesh ke jo mul janajatiyan hain vaah arunachal pradesh ki nahi hote anya purvottar rajyon ke pita burma hote hue china hote hue anya rajya se hai parantu ek bahut hi purani baat hai tibbet ke gathan ke baad tibbet ka kshetra nirdharit kiya gaya tha antarrashtriya maankon ke aadhaar par us hisab se dekha jaaye toh arunachal pradesh mein hai tibbet ka hissa nahi mana ja sakta agar hai toh sirsa se leh laddakh kis prakar se tibbet ka hissa hai jo ki mujhe nahi lagta is prakar ki jis prakar ke antarrashtriya manchitra nirdharit hote hain tatha antararashtriya paristhitiyon ke aadhaar par tibbet ka hissa na leh laddakh hai na hi alag deshon se bharat ka abhinn ang hai pata kis prakar ke jo bhi daave china karta hai main usko sire se khareej karta hoon dekhiye iske saath saath mujhe aisa bhi lagta hai ki keval fool chaal ki bhasha hone se athva saman jo ki bhaugolik aapke niyamitta hai uske aadhaar par aap kisi desh ko ya kisi prant ko apne desh ka hissa nahi bata sakte aitihasik roop se bhi likha jaaye toh is prakar se afghanistan bharat mein anuvad aur bahut bada hai tibbet ka chitra batao bharat ke andar hi aata tha parantu us samay ki paristhiyaann kuch aur thi parantu aaj ki paristhiyaann kuch aur hai toh mujhe aisa lagta hai ki is prakar ke daave bilkul galat hai tatha iska mein bharpur khandan karta hoon dhanyavad

अरुणाचल प्रदेश कोचीन दक्षिणी तिब्बत का हिस्सा बताता है क्योंकि इसके पीछे कुछ ऐतिहासिक कारण

Romanized Version
Likes  24  Dislikes    views  344
KooApp_icon
WhatsApp_icon
5 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!