आज कल इतने लोगों को इतनी कम उम्र में कैन्सर क्यों हो जाता है?...


user

S Bajpay

Yoga Expert | Beautician & Gharelu Nuskhe Expert

1:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

राम राम जी की आपका प्रश्न आजकल इतने लोगों को इतनी कम उम्र में कैंसर क्यों हो जाता है कैंसर होने का मतलब है आजकल इतनी ज्यादा कीटाणु मारने के लिए दवाई उपयोग होती है कोई भी चीज सुध नहीं है सभी में केमिकल है सब्जियां शब्द नहीं है दूध सुद्धनिया यहां तक कि हवा की सुध नहीं पानी शुद्ध नहीं है यही सब कारण है कैंसर होने की और सही नहीं है जो भी है जी ने उनको खाने का तरीका सही नहीं है अगर केमिकल युक्त सब्जियां हैं तो उन्हें गर्म पानी में नमक डालकर थोड़ी देर उनको अरे तू करके शक्तियों का उपयोग करना चाहिए पर्यावरण पर्यावरण के लिए पेड़ लगाना नहीं चाहता है सब्जी इतना ज्यादा केमिकल डाला जाता है के सब्जियों का स्वाद ही गायब हो गया और यह चीजें लेना है शराब का सेवन करना तमाखू है यह सब कहां का है यह इतनी जल्दी जो है छोटे लोगों में भी कैंसर हो जाता है आपका दिन शुभ हो दोस्तों ध्यान दो

ram ram ji ki aapka prashna aajkal itne logo ko itni kam umar me cancer kyon ho jata hai cancer hone ka matlab hai aajkal itni zyada kitanu maarne ke liye dawai upyog hoti hai koi bhi cheez sudh nahi hai sabhi me chemical hai sabjiyan shabd nahi hai doodh suddhaniya yahan tak ki hawa ki sudh nahi paani shudh nahi hai yahi sab karan hai cancer hone ki aur sahi nahi hai jo bhi hai ji ne unko khane ka tarika sahi nahi hai agar chemical yukt sabjiyan hain toh unhe garam paani me namak dalkar thodi der unko are tu karke shaktiyon ka upyog karna chahiye paryavaran paryavaran ke liye ped lagana nahi chahta hai sabzi itna zyada chemical dala jata hai ke sabjiyon ka swaad hi gayab ho gaya aur yah cheezen lena hai sharab ka seven karna tamakhu hai yah sab kaha ka hai yah itni jaldi jo hai chote logo me bhi cancer ho jata hai aapka din shubha ho doston dhyan do

राम राम जी की आपका प्रश्न आजकल इतने लोगों को इतनी कम उम्र में कैंसर क्यों हो जाता है कैंसर

Romanized Version
Likes  275  Dislikes    views  2281
WhatsApp_icon
18 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Kavita Panyam

Certified Award Winning Counseling Psychologist

1:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कोई भी बीमारी जो होती है वह हमारे सोच की वजह से आती है सोच के पीछे जो इमोशंस होते हैं अगर उसको हम सही वक्त पर एड्रेस नहीं करते हैं तो वह हमारी बॉडी में किसी एक पाठ में बीमारी की जगह बन जाती है और वहां पर एक छोटे से होती शेरवा छोटे प्रॉब्लम से होती है और बाद में बड़ा भी हो सकता है उनमें से एक बीमारी कैंसर भी हो सकता है और कैंसर की वजह होती है जिसको हम बोलते इंग्लिश में रीसेंट मेंट अगर आपने गुस्सा बहुत भरा हुआ है अगर आप में हेड रेडनेस है अरे क्या किसी से नफरत करते हैं आप ज्यादा सोचते हैं अगर आपकी सोच बहुत ही नेगेटिव है आप रिलेटिव बर्तन डिस्टिक इंसान बनते जा रहे हैं तो डेफिनेटली उससे रूप में हम कह सकते हैं कि कैंसर उसे और जो नहीं हो सकता है दूसरा क्या-क्या खराब की बॉडी की इम्युनिटी कम है और आपको लगता है कि आपकी बॉडी के ज्वाइंट बॉडी साइज इन यूनिटी है उसके वजह से भी ऐसा हो सकता है क्या इस बीमारी आ सकती है अगर आपकी इम्यूनिटी कम है तो भी तीसरा ऐसा होता है कि अगर आप ज्यादा स्मोकिंग करते हैं और आपकी इम्यूनिटी कम है तो लंग कैंसर भी आ सकता है अगर आप आजकल क्या है कि आप किसी एक चीज को मैं क्रिकेट नहीं कर सकते कि क्यों आता है इन सारे कारणों बस जो है यह बीमारी आ सकती है और हमारी छोटी से छोटी एज वालों को भी हो रही है ऐसा नहीं है कि यह बड़ी उम्र की लोगों को ही गोरी है यंग पीपल तो है ही बहुत सफर कर रहे हैं इस प्रॉब्लम के साथ इस बीमारी के साथ और वैसे इस बीमारी का इलाज जो है जो पहले नहीं था आज है हमारे पास तकनीकी जानकारी के वजह से मेडिकल फील्ड काफी एडवांस हो चुकी है जिसकी वजह से इसकी और भी है उतनी ही तेजी से बढ़ रही है जैसी बीमारियां बढ़ रही है लेकिन हमें चाहिए कि हम नेगेटिव ना सोचे पॉजिटिव सोचा खुश रहे और चर्च से दूर रहे टेस्ट होता है वह कई तरह की बीमारियों के हमारी बॉडी में मैंने सर्च करता है जिसमें से एक कैंसर भी है तो अच्छा सोचे अच्छा करें और stress-free रहे बी हैप्पी एंड गिव हैप्पीनेस गॉड ब्लेस

koi bhi bimari jo hoti hai vaah hamare soch ki wajah se aati hai soch ke peeche jo emotional hote hain agar usko hum sahi waqt par address nahi karte hain toh vaah hamari body mein kisi ek path mein bimari ki jagah ban jaati hai aur wahan par ek chote se hoti sherva chote problem se hoti hai aur baad mein bada bhi ho sakta hai unmen se ek bimari cancer bhi ho sakta hai aur cancer ki wajah hoti hai jisko hum bolte english mein recent ment agar aapne gussa bahut bhara hua hai agar aap mein head redness hai are kya kisi se nafrat karte hain aap zyada sochte hain agar aapki soch bahut hi Negative hai aap relative bartan district insaan bante ja rahe hain toh definetli usse roop mein hum keh sakte hain ki cancer use aur jo nahi ho sakta hai doosra kya kya kharab ki body ki immunity kam hai aur aapko lagta hai ki aapki body ke joint body size in unity hai uske wajah se bhi aisa ho sakta hai kya is bimari aa sakti hai agar aapki immunity kam hai toh bhi teesra aisa hota hai ki agar aap zyada smoking karte hain aur aapki immunity kam hai toh lung cancer bhi aa sakta hai agar aap aajkal kya hai ki aap kisi ek cheez ko main cricket nahi kar sakte ki kyon aata hai in saare karanon bus jo hai yah bimari aa sakti hai aur hamari choti se choti age walon ko bhi ho rahi hai aisa nahi hai ki yah badi umr ki logo ko hi gori hai young pipal toh hai hi bahut safar kar rahe hain is problem ke saath is bimari ke saath aur waise is bimari ka ilaj jo hai jo pehle nahi tha aaj hai hamare paas takniki jaankari ke wajah se medical field kaafi advance ho chuki hai jiski wajah se iski aur bhi hai utani hi teji se badh rahi hai jaisi bimariyan badh rahi hai lekin hamein chahiye ki hum Negative na soche positive socha khush rahe aur church se dur rahe test hota hai vaah kai tarah ki bimariyon ke hamari body mein maine search karta hai jisme se ek cancer bhi hai toh accha soche accha kare aur stress free rahe be happy and give Happiness god bless

कोई भी बीमारी जो होती है वह हमारे सोच की वजह से आती है सोच के पीछे जो इमोशंस होते हैं अगर

Romanized Version
Likes  90  Dislikes    views  2552
WhatsApp_icon
play
user

Dr. KRISHNA CHANDRA

Rehabilitation Psychologist

1:59

Likes  88  Dislikes    views  4312
WhatsApp_icon
user

Bhavin J. Shah

Life Coach

1:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कैंसर होने की सबसे महत्व की वजह है स्ट्रेस बहुत सारी रीजन है उसमें से सोच बहुत महत्वपूर्ण आदेश देने इंसान बहुत सारा स्ट्रेस खुद के सर पर ले लेता है और जूजू उसको जिसको कभी लिखित करना चाहिए या कमी नहीं करना चाहिए वह नहीं करता है तो वह सब कुछ उसके सर पर आ जाता है जरूरी यह है कि छोटी उम्र में इससे बचने के लिए हेल्थ के प्रति ध्यान देना बहुत जरूरी है क्योंकि हेल्थ एक ऐसी चीज है हम किसी को डेलिकेट नहीं कर सकते और उसके लिए फिजिकल मेंटल यह दोनों हेल्थ पर ध्यान देना जरूरी है फिजिकल में दो चीजें जरूरी है हम क्या खाते हैं और कितना खाते हैं और मेंटल में हम मेडिटेशन करते हैं और अच्छे मोटिवेशनल कोट्स एशिया वीडियोस देखते हैं इंसान एक बार का खाना नहीं खाएगा तो चलेगा लेकिन मेंटल हेल्थ के लिए उसको टाइम निकालना ही चाहिए यह अगर यह बहुत छोटी छोटी चीजें है 1 मिनट मेडिटेशन 1 मिनट रीडिंग वन वीडियो क्लिप वंदे स्वीट नहीं खाना ऐसा कुछ कर कर के कर कर के इंसान अपने आप को बैलेंस लग सकता है और कैंसर से दूर रह सकता है थैंक यू

cancer hone ki sabse mahatva ki wajah hai stress bahut saree reason hai usme se soch bahut mahatvapurna aadesh dene insaan bahut saara stress khud ke sir par le leta hai aur juju usko jisko kabhi likhit karna chahiye ya kami nahi karna chahiye vaah nahi karta hai toh vaah sab kuch uske sir par aa jata hai zaroori yah hai ki choti umr mein isse bachne ke liye health ke prati dhyan dena bahut zaroori hai kyonki health ek aisi cheez hai hum kisi ko delicate nahi kar sakte aur uske liye physical mental yah dono health par dhyan dena zaroori hai physical mein do cheezen zaroori hai hum kya khate hain aur kitna khate hain aur mental mein hum meditation karte hain aur acche Motivational quotes asia videos dekhte hain insaan ek baar ka khana nahi khaega toh chalega lekin mental health ke liye usko time nikalna hi chahiye yah agar yah bahut choti choti cheezen hai 1 minute meditation 1 minute reading van video clip vande sweet nahi khana aisa kuch kar kar ke kar kar ke insaan apne aap ko balance lag sakta hai aur cancer se dur reh sakta hai thank you

कैंसर होने की सबसे महत्व की वजह है स्ट्रेस बहुत सारी रीजन है उसमें से सोच बहुत महत्वपूर्ण

Romanized Version
Likes  85  Dislikes    views  2396
WhatsApp_icon
user

Nikhil Ranjan

HoD - NIELIT

1:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लिखे जैसे आपने पूछा है कि आजकल इतने लोगों को इतनी कमरों में कैंसर क्यों हो जाता है तो इसका एक कारण तो है हमारा रहमत है हमारे खाने पीने की आदत है जो हम लोग पाश्चात्य संस्कृति की और हमारा दुकान हो गया है वह भी उसका एक कारण है बता जाएंगे कि जो जंक फूड है वह सांस के लिए कभी भी अच्छा नहीं माना जाता लेकिन फिर भी हम लोग जंक फूड की ओर जाते हैं खाते हैं वह बहुत इंजॉय करते हैं कुछ लोग तो उसको कभी कभी खाते हैं और कुछ बहुत ज्यादा है रेगुलर बेसिस पर खाते हैं जो कभी-कभी भारतीय आहार लेते हैं और डेली बेसिस पर जंक फूड ही खाना पसंद करते हैं पिज़्ज़ा बर्गर के अलावा उनको दूसरी चीजें पसंद नहीं आती बता जाएंगे यह जो पैकिंग में होकर आती है प्लास्टिक की पैकेजिंग में आती है प्लास्टिक की अगर अभी पिछले दिनों एक सर्वे भी हुआ था उस में पाया गया कि जब मंडल वाटर की जो बोतल एम खरीद के पीते हैं उसमें भी कई नैनो माइक्रोंस के कांड प्लास्टिक क्यों उस पानी के अंदर खुल जाते हैं और इसी तरह जो हम खाना खाते हैं जो हम बाजार से पैक करा कर चाऊमीन लेकर आते हैं यादों से जंग फूड लेकर आते हैं वह सब उसके जो प्लास्टिक के छोटे-छोटे काम है उसके अंदर आ जाते हैं और जब हो उसको खाते हैं तो हमारी बॉडी में ही आ जाते हैं और उसको भी साफ कर देते हैं और हमें दूसरी कई बीमारियों से ग्रस्त कर देते हैं जिसमें से एक बीमारी का नाम कैंसिल है थोड़ा कर हम स्वस्थ आहार ले अच्छा हमने तो इस समस्या से हमें छुटकारा मिल सकता है और इसमें कमी भी आ सकती है धन्यवाद

likhe jaise aapne puchha hai ki aajkal itne logo ko itni kamron mein cancer kyon ho jata hai toh iska ek kaaran toh hai hamara rahmat hai hamare khane peene ki aadat hai jo hum log pashchayat sanskriti ki aur hamara dukaan ho gaya hai wah bhi uska ek kaaran hai bata jaenge ki jo junk food hai wah saans ke liye kabhi bhi accha nahi mana jata lekin phir bhi hum log junk food ki aur jaate hain khate hain wah bahut enjoy karte hain kuch log toh usko kabhi kabhi khate hain aur kuch bahut zyada hai regular basis par khate hain jo kabhi kabhi bharatiya aahaar lete hain aur daily basis par junk food hi khana pasand karte hain pizza burger ke alava unko dusri cheezen pasand nahi aati bata jaenge yeh jo packing mein hokar aati hai plastic ki packaging mein aati hai plastic ki agar abhi pichle dinon ek survey bhi hua tha us mein paya gaya ki jab mandal water ki jo bottle m kharid ke peete hain usme bhi kai nano maikrons ke kaand plastic kyon us pani ke andar khul jaate hain aur isi tarah jo hum khana khate hain jo hum bazaar se pack kara kar chowmin lekar aate hain yaadon se jung food lekar aate hain wah sab uske jo plastic ke chote chhote kaam hai uske andar aa jaate hain aur jab ho usko khate hain toh hamari body mein hi aa jaate hain aur usko bhi saaf kar dete hain aur humein dusri kai bimariyon se grast kar dete hain jisme se ek bimari ka naam cancel hai thoda kar hum swasthya aahaar le accha humne toh is samasya se humein chhutkara mil sakta hai aur ismein kami bhi aa sakti hai dhanyavad

लिखे जैसे आपने पूछा है कि आजकल इतने लोगों को इतनी कमरों में कैंसर क्यों हो जाता है तो इसका

Romanized Version
Likes  469  Dislikes    views  5871
WhatsApp_icon
user

Mudit Gupta

Career Expert

1:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इतने कम लोग इतने कम उम्र में कैंसर इसलिए हो रहा है क्योंकि ज्ञान सर जो है वह लाइव चल रिलेटेड नॉन कम्युनिकेबल डिजीज है पहले के लोगों को कैंसर कम इसलिए होता था क्योंकि वह अपना लाइफ स्टाइल बहुत हेल्थी तरीके से मेंटेन करते थे योगा करते थे कसरत करते थे सुबह मॉर्निंग वॉक पर जाते थे बाहर का कम खाते थे अल्कोहलिक हुक्का सिगरेट को यह सब का सेवन वह काफी काम करते थे घर का खाना खाते थे उनकी पाटन होता था फिर सुलगा क्लाइव सेल्फ 114 की सुबह 10:00 बजे काम पर जाएंगे सात आठ नौ दस घर आ जाएंगे फैमिली के साथ टाइम स्पेंड करेंगे आजकल लाइफ सेल का फ्यूचर हो गया है आज का लाइव लाइन है कि आप को सुबह 10:00 बजे से रात्रि 11:00 बजे तक ऑफिस में काम कर रहे हैं एल्कोहल कि आप इन्सुलिन पर ज्यादा रहने लगे हैं सारा टाइम आप परेशान रहते हैं डिप्रेस रहते हैं खुशी नहीं है लोगों के जीवन में और ज्यादा टाइम गर्ल फेसबुक इंटरनेट पर सेंड करो शामली के साथ कम टाइम सेंड कर रहे थे तो यह सर के मेंटल हॉस्पिटल सर्जिकल हॉस्पिटल लाइफ रिलेटेड आज तक ट्रेन सिमुलेटर इफेक्ट है कि आजकल लोगों में बीमारियां चाचा जी ने डायबिटीज कार्डियोवैस्कुलर डिजीज यह सब काफी ज्यादा होने लगे हैं

itne kam log itne kam umr mein cancer isliye ho raha hai kyonki gyaan sir jo hai vaah live chal related non communicable disease hai pehle ke logo ko cancer kam isliye hota tha kyonki vaah apna life style bahut healthy tarike se maintain karte the yoga karte the kasrat karte the subah morning walk par jaate the bahar ka kam khate the alcohol hukka cigarette ko yah sab ka seven vaah kaafi kaam karte the ghar ka khana khate the unki patan hota tha phir sulga clive self 114 ki subah 10 00 baje kaam par jaenge saat aath nau das ghar aa jaenge family ke saath time spend karenge aajkal life cell ka future ho gaya hai aaj ka live line hai ki aap ko subah 10 00 baje se ratri 11 00 baje tak office mein kaam kar rahe hain alcohol ki aap insuline par zyada rehne lage hain saara time aap pareshan rehte hain depress rehte hain khushi nahi hai logo ke jeevan mein aur zyada time girl facebook internet par send karo shamili ke saath kam time send kar rahe the toh yah sir ke mental hospital surgical hospital life related aaj tak train simuletar effect hai ki aajkal logo mein bimariyan chacha ji ne diabetes kardiyovaiskular disease yah sab kaafi zyada hone lage hain

इतने कम लोग इतने कम उम्र में कैंसर इसलिए हो रहा है क्योंकि ज्ञान सर जो है वह लाइव चल रिलेट

Romanized Version
Likes  91  Dislikes    views  2509
WhatsApp_icon
user

Govind Mishra

Business|Success|Oratory Coach

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कैंसर एक ऐसी बीमारी है जो फैलती जा रही है कुछ वर्षों पहले जैसे बुखार थी हर घर में होता था किसी ना किसी को आजकल कैंसर वही स्थिति में आ चुकी है अजब जिसके घर में देखे किसी ना किसी को कैंसर हुआ है और किस में किसी की मृत्यु कैंसर की वजह से हुई यह बीमारी का कारण आज से नहीं है रब देखे तो हरित क्रांति हिंदुस्तान में जब से आई है तो उत्तर प्रदेश हरियाणा पंजाब यह कुछ ऐसे स्टेट से जो हरित क्रांति में सबसे आगे रहे और आगे इसलिए रहे क्योंकि पेस्टिसाइड्स इंसेंटिसाइड्स फर्टिलाइजर्स केमिकल्स का प्रयोग बहुत ज्यादा हुआ और इसकी वजह से फसल की पैदावार बढ़ता चला गया इन चीजों का दुष्परिणाम लंबे समय में दिखता है और आज उसका दुष्परिणाम हम देख रहे हैं क्योंकि केंद्रीय जितने भी काम करते हैं इस इशारे हमारे भोजन में आने लगे और भोजन के जरिए हमारे शरीर का हिस्सा बनते चले गए हरी केमिकल्स धीरे धीरे हमारे शरीर में कैंसर के तत्वों को पैदा करने लग गए आज छोटी उम्र में कैंसर इसलिए हो रहा है क्योंकि हमारा खाना हमारा पानी हमारी हवा सब के सब प्रदूषित हैं और कैंसर एक प्रदूषण का ही कारण है कि हमारे शरीर में वही प्रदूषण के कारक जाते हैं और हमारी कोशिकाओं को वह नष्ट कर रहे होते हैं और धीरे-धीरे यह कैंसर हार हमारे सारे कोशिकाओं में फैलता जाता है और शरीर इस से ग्रस्त हो जाता है इस कदर इस को दूर करना है तो हमें फिर से जड़ से शुरू करना होगा जीरो से शुरू करना होगा अपने खान-पान को अपने रहन सहन को बदलना होगा जो कि वाकई में बहुत कठिन कार्य है लेकिन इसको किया जा सकता है ताकि आने वाली पीढ़ियां जो है वह इस महामारी का शिकार ना हो आइए कैंसर से लड़ते हैं एक साथ धन्यवाद

cancer ek aisi bimari hai jo failati ja rahi hai kuch varshon pehle jaise bukhar thi har ghar mein hota tha kisi na kisi ko aajkal cancer wahi sthiti mein aa chuki hai ajab jiske ghar mein dekhe kisi na kisi ko cancer hua hai aur kis mein kisi ki mrityu cancer ki wajah se hui yah bimari ka karan aaj se nahi hai rab dekhe toh harit kranti Hindustan mein jab se I hai toh uttar pradesh haryana punjab yah kuch aise state se jo harit kranti mein sabse aage rahe aur aage isliye rahe kyonki pesticides insentisaids fertilizers Chemicals ka prayog bahut zyada hua aur iski wajah se fasal ki paidavar badhta chala gaya in chijon ka dushparinaam lambe samay mein dikhta hai aur aaj uska dushparinaam hum dekh rahe hai kyonki kendriya jitne bhi kaam karte hai is ishare hamare bhojan mein aane lage aur bhojan ke jariye hamare sharir ka hissa bante chale gaye hari Chemicals dhire dhire hamare sharir mein cancer ke tatvon ko paida karne lag gaye aaj choti umr mein cancer isliye ho raha hai kyonki hamara khana hamara paani hamari hawa sab ke sab pradushit hai aur cancer ek pradushan ka hi karan hai ki hamare sharir mein wahi pradushan ke kaarak jaate hai aur hamari koshikaaon ko vaah nasht kar rahe hote hai aur dhire dhire yah cancer haar hamare saare koshikaaon mein failata jata hai aur sharir is se grast ho jata hai is kadar is ko dur karna hai toh hamein phir se jad se shuru karna hoga zero se shuru karna hoga apne khan pan ko apne rahan sahan ko badalna hoga jo ki vaakai mein bahut kathin karya hai lekin isko kiya ja sakta hai taki aane wali peedhiyaan jo hai vaah is mahamari ka shikaar na ho aaiye cancer se ladte hai ek saath dhanyavad

कैंसर एक ऐसी बीमारी है जो फैलती जा रही है कुछ वर्षों पहले जैसे बुखार थी हर घर में होता था

Romanized Version
Likes  93  Dislikes    views  2555
WhatsApp_icon
user

Dr. Priya Shatanjib Jha

Psychologist|Counselor|Dentist

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्ते दोस्तों मेरी आणि डॉक्टर प्रिया झा के तरफ से आप सब को दिन की बहुत सारी शुभकामनाएं डांसर के बहुत सारे कारण होते हैं उनमें से दिखे बेसिक मीनिंग ऑफ कैंसर जॉब सबसे बेसिक मीनिंग ऑफ साइंटिफिक टर्म्स में यह है जो है मल्टीप्लिकेशन ऑफ सेल्स इन द बॉडी तो अगर वह एक सफल है जितना हमारा बॉडी नहीं संभाल पाता है तो एडमिन लीजन मतलब कैंसिल ट्यूशन यह सब तभी होता है जब हमारा जो बॉडी है वह अच्छे मात्र में गुरु नहीं कर रहा है यानी कि हम देखे दीनी चीजें हैं जिनमें से सबसे इंपॉर्टेंट रेस्ट है बॉडी का फ्री डाइट है अब जो खाना खा रहे हो और उसके बाद एक्सरसाइज है और पता है यह तीनों चीजों को छोड़कर और एक है जो बहुत इंपॉर्टेंट है जिसकी लोग ज्यादा बातें नहीं करते हैं वह है हमारा मेंटल स्टेट ऑफ योर बॉडी द मेंटल हेल्थ तो वह दशरथ ओसियां अकॉर्डिंग टू मेक तुम्हें रिपीट कर देती हूं आपका डाइट आप का रेस्ट एक्सरसाइज एंड मेंटल हेल्थ अभी यह चीज है जो है पुराने जमाने में बहुत ज्यादा लोग यह चारों सीटों में इंवॉल्व थे आज के जमाने में अगर आप देखोगे टेक्नोलॉजी का इंवॉल्वमेंट ज्यादा है हमारे घर में ही हम एक एप्लीकेशन से सब कुछ ऑर्डर कर सकते हैं तो एक्सरसाइज तो वही चला गया खाने में हम लोग सब कुछ रिफाइन खा रहे हैं कोई भी नेचर से जो डायरेक्ट ली जो चीज आता है जैसे भाजी की सब्जी हो गया दाल हो गया फ्रूट सो गए यह सारी चीजों में ध्यान पहुंचने पर मिलावट है खाना जो है यह पुराने टाइम के अकॉर्डिंग नहीं है रेस्ट में हम कम करते हैं ज्यादा फोन से डिक्टेट रहते हैं एंड मेंटल स्टेट हम सब का कंपलीट हो गया है और खराब हो गया है तो कैंसर जो है कैंसर का जो जो कौन है उसको बढ़ाने वाली सब चीजें हम लोग कर रहे हैं इसीलिए आज के जमाने में कैंसर ज्यादा देखा और देखा जा रहा है और पाया जा रहा है थैंक यू

namaste doston meri aani doctor priya jha ke taraf se aap sab ko din ki bahut saree subhkamnaayain dancer ke bahut saare karan hote hain unmen se dikhe basic meaning of cancer job sabse basic meaning of scientific terms mein yah hai jo hai multiplication of sales in the body toh agar vaah ek safal hai jitna hamara body nahi sambhaal pata hai toh admin legion matlab cancel tuition yah sab tabhi hota hai jab hamara jo body hai vaah acche matra mein guru nahi kar raha hai yani ki hum dekhe dini cheezen hain jinmein se sabse important rest hai body ka free diet hai ab jo khana kha rahe ho aur uske baad exercise hai aur pata hai yah tatvo chijon ko chhodkar aur ek hai jo bahut important hai jiski log zyada batein nahi karte hain vaah hai hamara mental state of your body the mental health toh vaah dashrath osiyan according to make tumhe repeat kar deti hoon aapka diet aap ka rest exercise and mental health abhi yah cheez hai jo hai purane jamane mein bahut zyada log yah charo seaton mein invalwa the aaj ke jamane mein agar aap dekhoge technology ka invalwament zyada hai hamare ghar mein hi hum ek application se sab kuch order kar sakte hain toh exercise toh wahi chala gaya khane mein hum log sab kuch refine kha rahe hain koi bhi nature se jo direct li jo cheez aata hai jaise bhaji ki sabzi ho gaya daal ho gaya fruit so gaye yah saree chijon mein dhyan pahuchne par milavat hai khana jo hai yah purane time ke according nahi hai rest mein hum kam karte hain zyada phone se dictate rehte hain and mental state hum sab ka complete ho gaya hai aur kharab ho gaya hai toh cancer jo hai cancer ka jo jo kaun hai usko badhane wali sab cheezen hum log kar rahe hain isliye aaj ke jamane mein cancer zyada dekha aur dekha ja raha hai aur paya ja raha hai thank you

नमस्ते दोस्तों मेरी आणि डॉक्टर प्रिया झा के तरफ से आप सब को दिन की बहुत सारी शुभकामनाएं डा

Romanized Version
Likes  95  Dislikes    views  2689
WhatsApp_icon
user

Dr.Pavan Mishra

Naturopath Doctor | Physician

3:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अभी आपने जो पेशंस किया है आजकल इतने कम लोगों को इतनी कम उम्र में कैंसर क्यों हो जाता है इसका सबसे पहला कारण है कि इसकी जिम्मेदार हम स्वयं आपको सबको पता है कि जो भी चीजें हम यूज कर रहे हैं ऑलरेडी पेस्टिसाइड से जमीन से जैसे आप सुबह में ब्रश करते हैं उसमें देखिए केमिकल होता है जो हम पेस्ट कर रहे होते हैं चाय कोलगेट होप एक्सीडेंट हो यहां तक कि मैं दंत कांति की भी बात करता हूं उसमें भी बहुत ज्यादा केमिकल मैंने जो स्टेशन करके देखा है इसको तो बेहतर है कि कोई हर्बल पेस्ट यूज करें अब आप सोचेंगे कि हर्बल कौन सा टेस्ट यूज़ किया जाए तो इसमें आता है ग्लिस्टर स्थापना दिवस स्टेशन करके देखा है और भी अगर कंपनियां है कोई ठीक-ठाक आपको लगती हैं तो आप यूज़ करके देख सकते हैं क्योंकि कोलगेट वगैरह जो जितने इकोस्पेस हैं यह बहुत ही ज्यादा नुकसान करते हैं इनके कंटेंट्स ऑलरेडी आपके मुंह के अंदर रहते हैं और वह कैंसर का बहुत प्रभाव बहुत प्रमुख कारण है और दूसरा जो भी है में चिप्स हो गया कुरकुरे हो गया या आपका कोकोकोला हो गया जो भी कोल्ड ड्रिंक्स वगैरह है यह भी कैंसर के लिए बहुत अहम भूमिका निभाते हैं तीसरा प्रमुख कारण यह है कि जब भी हमें कोई छोटी मोटी बीमारी होती है तो हम क्या करते हैं उसके लिए मेडिसिंस ले लेते हैं मेरी अगली जैसे कहीं पर दर्द हुआ हमने तुरंत दर्द की दवा खा ली गई थी छोटी मोटी कोई प्रॉब्लम हमने दवाइयां खाली बिना किसी डॉक्टर के जो कि थोड़ी अवेयरनेस हो गई है लोगों को पता चल गया है बुखार है तो यह दवा खा लो दर्द है तो मोगरा यह मतलब कैसे होते हैं खातिर अपने आप बिना किसी डायग्नोज की दवाइयां खाते रहते हैं बिना किसी रीजन के जब भी थोड़ी बहुत सालों में दवाई खाने लग गए तो वह भी एक कैंसर का बहुत है इसलिए है क्योंकि वह क्या करता है आपके सेंस को खत्म कर देता है जैसे मान लो कहीं से पेन हो आपको आपने मेडिसिंस ले ले पेन की दर्द की दवा ले ली वह आपके साथ को खत्म कर दिया 3 का कारण है वह खत्म नहीं होता उससे उससे जो सेंसटिविटी होती जो सच होता है दर्द होने का वह खत्म होता है तो कारण जब खत्म नहीं हुआ तो वह किसी और को कन्वर्ट हो गया सिग्नल जो होता है सिगनलिंग सिस्टम जो ब्रेन को मैसेज जाता है कि आपको दर्द हो रहा है वह सिग्नल ही ब्लॉक हो गया और सिग्नल लॉक होने के बाद आपको धीरे-धीरे करके उठा सीन जो है डिटॉक्सिफाई नहीं हो पाता है क्योंकि हम उस कारण को नहीं आता तो उसको दबाने का काम करते हैं जो प्रमुख कारण है कैंसर के लिए और जो इस तरह से खानपान है लाइफ स्टाइल है पोलूशन से लड़ने के लिए मैं अपनी ईमेल आईडी को स्टार्ट करना होगा सादा जीवन उच्च विचार इस सिस्टम को अपनाना पड़ेगा अच्छा खाना खाए लिविंग डाइट खाएं और यह पैकेट वाले जो भी खाना वगैरह पासपोर्ट वगैरह है इन सब चीजों का जो भी खानपान है यह बंद कर दिया जाए यह सब बंद करेंगे अच्छे से योगा मेडिटेशन लिविंग डाइट अच्छा मैनेजमेंट करेंगे इस तरह से तो फिर कोई ऐसी दिक्कत कैंसर की नहीं हो सकती है धन्यवाद

abhi aapne jo Patience kiya hai aajkal itne kam logo ko itni kam umr mein cancer kyon ho jata hai iska sabse pehla karan hai ki iski zimmedar hum swayam aapko sabko pata hai ki jo bhi cheezen hum use kar rahe hai already pesticide se jameen se jaise aap subah mein brush karte hai usme dekhiye chemical hota hai jo hum paste kar rahe hote hai chai colgate hope accident ho yahan tak ki main dant kanti ki bhi baat karta hoon usme bhi bahut zyada chemical maine jo station karke dekha hai isko toh behtar hai ki koi herbal paste use kare ab aap sochenge ki herbal kaun sa test use kiya jaaye toh isme aata hai glistar sthapna divas station karke dekha hai aur bhi agar companiya hai koi theek thak aapko lagti hai toh aap use karke dekh sakte hai kyonki colgate vagera jo jitne ikospes hai yah bahut hi zyada nuksan karte hai inke contents already aapke mooh ke andar rehte hai aur vaah cancer ka bahut prabhav bahut pramukh karan hai aur doosra jo bhi hai mein chips ho gaya kurkure ho gaya ya aapka coca cola ho gaya jo bhi cold drinks vagera hai yah bhi cancer ke liye bahut aham bhumika nibhate hai teesra pramukh karan yah hai ki jab bhi hamein koi choti moti bimari hoti hai toh hum kya karte hai uske liye medisins le lete hai meri agli jaise kahin par dard hua humne turant dard ki dawa kha li gayi thi choti moti koi problem humne davaiyan khaali bina kisi doctor ke jo ki thodi awareness ho gayi hai logo ko pata chal gaya hai bukhar hai toh yah dawa kha lo dard hai toh mogra yah matlab kaise hote hai khatir apne aap bina kisi dayagnoj ki davaiyan khate rehte hai bina kisi reason ke jab bhi thodi bahut salon mein dawai khane lag gaye toh vaah bhi ek cancer ka bahut hai isliye hai kyonki vaah kya karta hai aapke sense ko khatam kar deta hai jaise maan lo kahin se pen ho aapko aapne medisins le le pen ki dard ki dawa le li vaah aapke saath ko khatam kar diya 3 ka karan hai vaah khatam nahi hota usse usse jo sensativiti hoti jo sach hota hai dard hone ka vaah khatam hota hai toh karan jab khatam nahi hua toh vaah kisi aur ko convert ho gaya signal jo hota hai siganaling system jo brain ko massage jata hai ki aapko dard ho raha hai vaah signal hi block ho gaya aur signal lock hone ke baad aapko dhire dhire karke utha seen jo hai ditaksifai nahi ho pata hai kyonki hum us karan ko nahi aata toh usko dabane ka kaam karte hai jo pramukh karan hai cancer ke liye aur jo is tarah se khanpan hai life style hai pollution se ladane ke liye main apni email id ko start karna hoga saada jeevan ucch vichar is system ko apnana padega accha khana khaye living diet khayen aur yah packet waale jo bhi khana vagera passport vagera hai in sab chijon ka jo bhi khanpan hai yah band kar diya jaaye yah sab band karenge acche se yoga meditation living diet accha management karenge is tarah se toh phir koi aisi dikkat cancer ki nahi ho sakti hai dhanyavad

अभी आपने जो पेशंस किया है आजकल इतने कम लोगों को इतनी कम उम्र में कैंसर क्यों हो जाता है इस

Romanized Version
Likes  63  Dislikes    views  1677
WhatsApp_icon
user

Anupam Bohare

Clinical Psychologist

1:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कैंसर का बहुत बड़ा कारण प्लास्टिक का उपयोग है हमारे दैनिक जीवन में सुबह उठते ही हम लोग प्लास्टिक की कोई ना कोई चीज उपयोग करने जैसे उदाहरण 2 प्लस हो गया खाना खाने के लिए आजकल पतन भी प्लास्टिक के होते हैं बोतल की प्लास्टिक की होती है चाय पीने के लिए डिस्पोजल भी प्लास्टिक का होता है सोने के लिए चटाई भी प्लास्टिक की होती है गड्ढों में भी प्लास्टिक होता है यह देखना होगा कि हम प्लास्टिक कम से कम करें इकट्ठा करने में प्लास्टिक एक बहुत बड़ी भूमिका निभाती है प्लास्टिक का त्याग करना चाहिए छोटे-छोटे बच्चों की मस्ती के टिफिन में खाना ले जाए पानी की बॉटल भी उनको स्टील की दिलाएं एवं भोजन करते समय उन्हें किसी धातु के बर्तन का ही उपयोग कराएं प्लास्टिक का त्याग करें कोशिश करें बाहर जाते समय डिस्पोजल का उपयोग ना हो होटल पॉलिथीन में रखा हुआ खाना विशेष तौर से दूध लेने के लिए हम प्लास्टिक का ही प्रयोग करते हैं अतः स्वयं के बर्तन में ऐसा करने से हम कैंसर को नियंत्रित कर सकते हैं

cancer ka bahut bada karan plastic ka upyog hai hamare dainik jeevan mein subah uthte hi hum log plastic ki koi na koi cheez upyog karne jaise udaharan 2 plus ho gaya khana khane ke liye aajkal patan bhi plastic ke hote hain bottle ki plastic ki hoti hai chai peene ke liye disposal bhi plastic ka hota hai sone ke liye chatai bhi plastic ki hoti hai gaddho mein bhi plastic hota hai yah dekhna hoga ki hum plastic kam se kam kare ikattha karne mein plastic ek bahut badi bhumika nibhati hai plastic ka tyag karna chahiye chhote chhote baccho ki masti ke tiffin mein khana le jaaye paani ki bottle bhi unko steel ki dilaye evam bhojan karte samay unhe kisi dhatu ke bartan ka hi upyog karaye plastic ka tyag kare koshish kare bahar jaate samay disposal ka upyog na ho hotel polythene mein rakha hua khana vishesh taur se doodh lene ke liye hum plastic ka hi prayog karte hain atah swayam ke bartan mein aisa karne se hum cancer ko niyantrit kar sakte hain

कैंसर का बहुत बड़ा कारण प्लास्टिक का उपयोग है हमारे दैनिक जीवन में सुबह उठते ही हम लोग प्ल

Romanized Version
Likes  28  Dislikes    views  940
WhatsApp_icon
user

Vivek Shukla

Life coach

1:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमने पूछा कि छोटी उम्र में ही टेंशन ना करो जब छोटी उम्र के बच्चे कैंसर की बीमारी कैसे हो जाते हैं मित्र आप जानते हैं कि गुटखा शराब यह सब चीजों के उपयोग बच्चे छोटी उम्र में सेवन करने लगे हैं या फिर उनको साउथ चडगया की लत लग गई है तू जहां तक लगता है जो छोटी उम्र में ही सब कुछ खाने लगते हैं गुटखा की तरफ के सुरतिया तंबाकू में निकोटिन की सबसे अधिक मात्रा होती है इस प्रकार से उनका शरीर जल लीवर पूरी तरह से डैमेज हो जाता है ऐसे में जब लिवर डैमेज हो जाएगा हर प्रकार का काम करना बंद कर देगा जो लीवर का मानव पाचन क्रिया उसमें भी प्रॉब्लम हो जाएगी तो हर प्रकार की दिक्कतें होंगी तो ऐसे में ब्लड कैंसर होता वहां पर के कैंसर होना आम बात है कई अन्य कारणों से होते हैं सबसे ज्यादा तंबाकू खाने से होता है और लोग इसको अपने शौक में भी बहुत ही ज्यादा मनी युवा पीढ़ी सबसे तेज इसमें उतर रही है जिसके कारण लोगों को कैंसर का सामना तो करना ही पड़ेगा ओके बैंड

humne poocha ki choti umr mein hi tension na karo jab choti umr ke bacche cancer ki bimari kaise ho jaate hain mitra aap jante hain ki gutkha sharab yah sab chijon ke upyog bacche choti umr mein seven karne lage hain ya phir unko south chadgaya ki lat lag gayi hai tu jaha tak lagta hai jo choti umr mein hi sab kuch khane lagte hain gutkha ki taraf ke surtiya tambaku mein nicotine ki sabse adhik matra hoti hai is prakar se unka sharir jal liver puri tarah se damage ho jata hai aise mein jab liver damage ho jaega har prakar ka kaam karna band kar dega jo liver ka manav pachan kriya usme bhi problem ho jayegi toh har prakar ki dikkaten hongi toh aise mein blood cancer hota wahan par ke cancer hona aam baat hai kai anya karanon se hote hain sabse zyada tambaku khane se hota hai aur log isko apne shauk mein bhi bahut hi zyada money yuva peedhi sabse tez isme utar rahi hai jiske karan logo ko cancer ka samana toh karna hi padega ok band

हमने पूछा कि छोटी उम्र में ही टेंशन ना करो जब छोटी उम्र के बच्चे कैंसर की बीमारी कैसे हो ज

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  161
WhatsApp_icon
user

धर्मदेव सिंह भाटी

कुश्ती प्रशिक्षक

1:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बहुत ही शानदार क्वेश्चन पूछा गया है आजकल इतने लोगों को इतनी कम उम्र में कैंसर क्यों हो जाता है बहुत ज्वलंत मुद्दा है विचारणीय मुद्दा है मैं आपको बताना चाहूंगा कि मैं उत्तर प्रदेश के एक छोटे से गांव खरखौदा से आता हूं हमारे गांव की जनसंख्या लगभग साढे 500 होगी और उस गांव तक 10 से 12 लोगों ने कैंसर से अपनी जान दी है एक छोटे से गांव में जहां का वातावरण बहुत ही शुभ माना जाता है आगे जी के डर से हमारे गांव लगभग 2 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है मेरे विचार से गांव का वातावरण शुद्ध होते हुए जलवायु शुद्ध होते हुए भी कैंसर रोग से लोगों को जूझना पड़ रहा है इसकी मुख्य वजह सिर्फ और सिर्फ आज का खानपान है खेती में ज्यादा उर्वरक खादों का इस्तेमाल किस तरह तरह की दवाइयों का प्रयोग होना यहां तक कि गेहूं में भी दवाई दी जा रही है करने में भी दवाई दी जा रही है लोकी में भी दवाई दी जा रही है यह कहना अतिशयोक्ति नहीं होगा अपनी फसलें आज किसान पैदा कर रहा है उन सभी में कीटनाशक दवाइयों का और फसलों की उत्पादकता बढ़ाने के लिए तरह तरह की दवाइयों का प्रयोग किया जा रहा है जो कैंसर का मुख्य कारण है सात सब्जियों को और फलों को यहां तक कि अनुदान खाता है और कैंसर की मुख्य वजह है मेरे विचार से हो सकती है

bahut hi shandar question poocha gaya hai aajkal itne logo ko itni kam umr mein cancer kyon ho jata hai bahut jwalant mudda hai vicharniya mudda hai aapko bataana chahunga ki main uttar pradesh ke ek chote se gaon kharkhoda se aata hoon hamare gaon ki jansankhya lagbhag sadhe 500 hogi aur us gaon tak 10 se 12 logo ne cancer se apni jaan di hai ek chote se gaon mein jaha ka vatavaran bahut hi shubha mana jata hai aage ji ke dar se hamare gaon lagbhag 2 kilometre ki doori par sthit hai mere vichar se gaon ka vatavaran shudh hote hue jalvayu shudh hote hue bhi cancer rog se logo ko jujhna pad raha hai iski mukhya wajah sirf aur sirf aaj ka khanpan hai kheti mein zyada urvarak khadon ka istemal kis tarah tarah ki dawaiyo ka prayog hona yahan tak ki gehun mein bhi dawai di ja rahi hai karne mein bhi dawai di ja rahi hai laukee mein bhi dawai di ja rahi hai yah kehna atishayokti nahi hoga apni faslen aaj kisan paida kar raha hai un sabhi mein keetnashak dawaiyo ka aur fasalon ki utpadakta badhane ke liye tarah tarah ki dawaiyo ka prayog kiya ja raha hai jo cancer ka mukhya karan hai saat sabjiyon ko aur falon ko yahan tak ki anudan khaata hai aur cancer ki mukhya wajah hai mere vichar se ho sakti hai

बहुत ही शानदार क्वेश्चन पूछा गया है आजकल इतने लोगों को इतनी कम उम्र में कैंसर क्यों हो जात

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  468
WhatsApp_icon
user

Dr. Jitubhai Shah

Friend, Philosopher and Guide

1:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इतनी छोटी उम्र में कैंसर क्यों हो जाते हैं क्योंकि आज और जितने प्रदूषण बहुत बढ़ गया है हवा में प्रदूषण है और अंत में प्रदूषण है दूसरी बात तो बहुत इंपॉर्टेंट है वह है लोगों की सोच ज्यादा नकारात्मक है कैंसर की अनेक रीजन है अभी भी कोई पक्का रीजन ढूंढा नहीं गया है लेकिन आप को पॉजिटिव रहना है खुश रहना है और जितना अच्छा यह ढूंढना है अच्छे लोगों के परिचय में रहना है हेल्दी लाइफ़स्टाइल देखनी है चिंता और नकारात्मक भाव से दूर रहना है यह सब नहीं है इसकी वजह से कैंसर बड़ा है दूसरी बात पहले से ज्यादा डायग्नोसिस के साजन बिगड़ गए तो तेरा कभी पता ही नहीं चलता था कि कैंसर है कि क्या है अब पता चलता है तू जो कैंसर के नाम नहीं हमको पता चलता था और दूसरी चीजों में टाइम वेस्ट करते अभी पता चल जाता है और मिस्टेक हो तो वह 36 साल भर भी हो सकती है लेकिन इसके लिए हल्दी हेल्दी लाइफ टाइम पॉजिटिव अप्रोच टो थे लाइफ अच्छे लोगों के संग अच्छी पुस्तकें पटना और प्रदूषण से जितना हो सके उतना दूर रहना एक्सरसाइज करना यह सब बहुत इंपॉर्टेंट है यह सब नहीं है इसलिए कैंसर बहुत बढ़ रहा है थैंक यू वेरी मच

itni choti umr mein cancer kyon ho jaate hain kyonki aaj aur jitne pradushan bahut badh gaya hai hawa mein pradushan hai aur ant mein pradushan hai dusri baat toh bahut important hai vaah hai logo ki soch zyada nakaratmak hai cancer ki anek reason hai abhi bhi koi pakka reason dhundha nahi gaya hai lekin aap ko positive rehna hai khush rehna hai aur jitna accha yah dhundhana hai acche logo ke parichay mein rehna hai healthy lifestyle dekhni hai chinta aur nakaratmak bhav se dur rehna hai yah sab nahi hai iski wajah se cancer bada hai dusri baat pehle se zyada diagnosis ke sajan bigad gaye toh tera kabhi pata hi nahi chalta tha ki cancer hai ki kya hai ab pata chalta hai tu jo cancer ke naam nahi hamko pata chalta tha aur dusri chijon mein time west karte abhi pata chal jata hai aur mistake ho toh vaah 36 saal bhar bhi ho sakti hai lekin iske liye haldi healthy life time positive approach toe the life acche logo ke sang achi pustakein patna aur pradushan se jitna ho sake utana dur rehna exercise karna yah sab bahut important hai yah sab nahi hai isliye cancer bahut badh raha hai thank you very match

इतनी छोटी उम्र में कैंसर क्यों हो जाते हैं क्योंकि आज और जितने प्रदूषण बहुत बढ़ गया है हवा

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  1578
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आजकल इतनी कम उम्र में कैंसर इसलिए हो जाते हैं क्योंकि कुछ गलत आदतों के कारण गलत चीज को जो ऐसे वन करना जैसे कि तंबाकू गुटखा यह सब खाने जॉय अधिक कैंसर होने का चांस होते हैं इसलिए कम उम्र में ही कैंसर उन लोगों को हो जाते हैं

aajkal itni kam umar mein cancer isliye ho jaate hain kyonki kuch galat aadaton ke kaaran galat cheez ko jo aise van karna jaise ki tambaku gutka yeh sab khane joy adhik cancer hone ka chance hote hain isliye kam umar mein hi cancer un logo ko ho jaate hain

आजकल इतनी कम उम्र में कैंसर इसलिए हो जाते हैं क्योंकि कुछ गलत आदतों के कारण गलत चीज को जो

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  196
WhatsApp_icon
user

pradeep108

ज्योतिष ,धर्म सम्बन्धित

5:03
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार प्रश्न है कि आजकल इतने लोगों को बहुत ही कम उम्र में कैंसर क्यों हो जाता है सबसे पहले तो यह जानना जरूरी है आजकल हमारी समाज में हम लोगों का लाइफ स्टाइल बदल गया है आजकल हम लोग जब भी भोजन करते हैं तो ज्यादातर भोजन हम लोग डिब्बाबंद खाने को खाना पसंद करते हैं बाजार से डिब्बाबंद खाना लाते हैं और उसको लोग इस्तेमाल करते हैं जो कुछ बचा जाता है उसको फ्रीज में रख देते 2 दिन 4 दिन बाद भी इस्तेमाल कर लेते हैं हम लोगों को खाने पीने का भी उस टाइम हमारा मॉडल स्टाइलिश को बदलना होगा कहने का मतलब है कि डिब्बाबंद खाने से परहेज करना है और जो किलो पर जो खाना लेकर आया आजकल नूडल्स हुआ चाउमीन बगैरा हुआ बर्गर हुआ खुली चीजें हैं और इनमें एक प्रकार का एक स्लो पॉइजन एक नमक चाइना हम लोग उस नमक का इस्तेमाल किया जाता है और यह नमक धीरे-धीरे हड्डियों को भी कल आता है और आगे चलकर कैंसर का एक कारण यह भी बन जाता है और कोशिश करनी चाहिए हमको कि हम कम से कम प्लास्टिक का इस्तेमाल करें इतनी ही पॉलीथिन है यह भी कैंसर बनाने में ज्यादा जो इनका भी रोल दिखा गया है इसलिए प्लास्टिक का इस्तेमाल खाने पीने की चीजों में तो कतई नहीं करना चाहिए समाज के लिए भी बहुत बुरी बात है और इंसानों के लिए तो है क्योंकि इसकी जो पार्टी कल से जो पॉलीथिन की जो पार्टी कल से ही पार्टी कल बताते हैं कि कई हजार वर्षों तक यह जो है रे साइकिल नहीं होता है इन्हीं सारी चीजें समुद्र में पहुंचती है और वह इकट्ठा होने के बावजूद वह द्वारा जो है वहां के जो पशु है जो जल के जंतु में मछली है या कोई और जंतु हुआ पॉलिथीन को खाते हैं और वही मछली वगैरह जो लोग मछली खाते हैं परिवार तक वह मछली समुद्र से घर तक पहुंच जाएं और फिर दोबारा उसी मजनू को लोग खा के द्वारा उसके शरीर में वो पॉलिथीन से पहुंच रहा है कि हमारा ह्यूमन बॉडी है कि परमात्मा ने ऐसा बनाया है कि यह शरीर को विषाक्त बताइए जो है बॉडी से बाहर निकालने की कोशिश करना है जब हमें कोई परेशानी होती है उससे लड़ना पड़ता है जिसको रोग प्रतिरोधक क्षमता हर जीव-जंतु कि आप मनुष्य होती है यह अरे के शरीर में यह क्षमता पाई जाती है लेकिन जब हम इसका ध्यान नहीं रखते तो यह शरीर का रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होने लगता है उन्होंने प्रकार की बीमारी हमारे शरीर में घर कर लेता है तो कैंसर के बारे में जैसा कि मैं बता रहा हूं की रोग प्रतिरोधक क्षमता होने से भी कैंसर शरीर में होने की संभावना ज्यादा हो जाती है और शरीर शरीर में खट्टा हो जाता है तो उसको लोग टॉक्सिन कहते और यह टॉक्सिन शरीर में कोई ना कोई गांठ लूंगा इस का रूप ले लेता है और यह जी का रूप ले लेता है तो आपने देखा होगा गर्मी के दिनों में अक्सर बच्चों के या बड़े बुजुर्गों के भी फोड़ा फुंसी निकल आती है तो कौन सी निकलती है इनका काम होता है तो बाहर की तरफ दिन पूरा फुंसियों का मुंह रहता है तो वह उसका मां-बाप उसके भीतर का जूस कैन दीजिए उधर आ जाती है तो सही हो जाता है इसके विपरीत कैंसर में जो फोड़ा फुंसी होते हैं उनका मुंह भीतर की होता है शरीर के भीतर की तरफ रहते हैं तो बाहर निकल नहीं पाती गंदगी एक समय के बाद जाकर को कैंसर का रूप ले लेती है सब गाने अधिकतर झूमर है वह आगे चलकर है आप के कैंसर का रूप ले लेता मैं तो मैं लेडी जो में ज्यादातर स्तन कैंसर देखा गया है और पुरुषों में जो मेल है उनमें मुंह का कैंसर गले का कैंसर देखा गया कारण दोनों का बड़ा चाहे औरतें क्योंकि उनको स्तन से संबंधित रोग होता है और उनके मेंसेस बकरा में कोई दिक्कत होती है तो वह आगे चलकर उनके ब्रेस्ट कैंसर का कारण बनता है कि आई डी क्वालिटी की वजह से और जो मेल होते हैं न्यूज़ आजतक और तमाकू खेल खेली शराब अल्कोहल और इन चीजों का सेवन करते हैं जो चलकर कैंसर गले का मौका जीता कैंसर बनता है इसलिए आजकल ज्यादा कैंसर बनता है प्रश्न बहुत अच्छा है और जवाब तो काफी बड़ा है और संक्षेप में यही कहूंगा कि मुख्य कारण यही है कि कम उम्र में भी बच्चे और खान-पान का ध्यान रखना चाहिए कम यूरिया जो बाजार में यूरिया से उत्पन्न वस्तु हम लोग लाकर खाटूरिया जो केमिकल की होती है वह भी हमारे खाने के साथ पहुंच रहा है माना गया है धन्यवाद

namaskar prashna hai ki aajkal itne logo ko bahut hi kam umar mein cancer kyon ho jata hai sabse pehle toh yeh janana zaroori hai aajkal hamari samaj mein hum logo ka life style badal gaya hai aajkal hum log jab bhi bhojan karte hai toh jyadatar bhojan hum log dibbaband khane ko khana pasand karte hai bazaar se dibbaband khana late hai aur usko log istemal karte hai jo kuch bacha jata hai usko freeze mein rakh dete 2 din 4 din baad bhi istemal kar lete hai hum logo ko khane peene ka bhi us time hamara model stylish ko badalna hoga kehne ka matlab hai ki dibbaband khane se parhej karna hai aur jo kilo par jo khana lekar aaya aajkal noodles hua chaumin bagera hua burger hua khuli cheezen hai aur inme ek prakar ka ek slow poison ek namak china hum log us namak ka istemal kiya jata hai aur yeh namak dhire dhire haddiyon ko bhi kal aata hai aur aage chalkar cancer ka ek kaaran yeh bhi ban jata hai aur koshish karni chahiye hamko ki hum kam se kam plastic ka istemal karein itni hi polyethene hai yeh bhi cancer banane mein zyada jo inka bhi roll dikha gaya hai isliye plastic ka istemal khane peene ki chijon mein toh qty nahi karna chahiye samaj ke liye bhi bahut buri baat hai aur insano ke liye toh hai kyonki iski jo party kal se jo polyethene ki jo party kal se hi party kal batatey hai ki kai hazaar varshon tak yeh jo hai ray cycle nahi hota hai inhin saree cheezen samudra mein pohchti hai aur wah ikattha hone ke bawajud wah dwara jo hai wahan ke jo pashu hai jo jal ke jantu mein machli hai ya koi aur jantu hua polythene ko khate hai aur wahi machli vagera jo log machli khate hai parivar tak wah machli samudra se ghar tak pohch jaye aur phir dobara usi majnu ko log kha ke dwara uske sharir mein vo polythene se pohch raha hai ki hamara human body hai ki paramatma ne aisa banaya hai ki yeh sharir ko vishakt bataye jo hai body se bahar nikalne ki koshish karna hai jab humein koi pareshani hoti hai usse ladna padta hai jisko rog pratirodhak kshamta har jeev jantu ki aap manushya hoti hai yeh are ke sharir mein yeh kshamta payi jati hai lekin jab hum iska dhyan nahi rakhte toh yeh sharir ka rog pratirodhak kshamta kam hone lagta hai unhone prakar ki bimari hamare sharir mein ghar kar leta hai toh cancer ke bare mein jaisa ki main bata raha hoon ki rog pratirodhak kshamta hone se bhi cancer sharir mein hone ki sambhavna zyada ho jati hai aur sharir sharir mein khatta ho jata hai toh usko log toxin kehte aur yeh toxin sharir mein koi na koi ganth lunga is ka roop le leta hai aur yeh ji ka roop le leta hai toh aapne dekha hoga garmi ke dinon mein aksar baccho ke ya bade bujurgoan ke bhi foda phunsi nikal aati hai toh kaun si nikalti hai inka kaam hota hai toh bahar ki taraf din pura funsiyon ka mooh rehta hai toh wah uska maa baap uske bheetar ka juice can dijiye udhar aa jati hai toh sahi ho jata hai iske viprit cancer mein jo foda phunsi hote hai unka mooh bheetar ki hota hai sharir ke bheetar ki taraf rehte hai toh bahar nikal nahi pati gandagi ek samay ke baad jaakar ko cancer ka roop le leti hai sab gaane adhiktar jhumar hai wah aage chalkar hai aap ke cancer ka roop le leta main toh main lady jo mein jyadatar stan cancer dekha gaya hai aur purushon mein jo male hai unmen mooh ka cancer gale ka cancer dekha gaya kaaran dono ka bada chahe auraten kyonki unko stan se sambandhit rog hota hai aur unke menses bakara mein koi dikkat hoti hai toh wah aage chalkar unke breast cancer ka kaaran baata hai ki I di quality ki wajah se aur jo male hote hai news aajtak aur tamaku khel kheli sharab alcohol aur in chijon ka seven karte hai jo chalkar cancer gale ka mauka jita cancer baata hai isliye aajkal zyada cancer baata hai prashna bahut accha hai aur jawab toh kaafi bada hai aur sankshep mein yahi kahunga ki mukhya kaaran yahi hai ki kam umar mein bhi bacche aur khan pan ka dhyan rakhna chahiye kam urea jo bazaar mein urea se utpann vastu hum log lakar khaturiya jo chemical ki hoti hai wah bhi hamare khane ke saath pohch raha hai mana gaya hai dhanyavad

नमस्कार प्रश्न है कि आजकल इतने लोगों को बहुत ही कम उम्र में कैंसर क्यों हो जाता है सबसे पह

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  29
WhatsApp_icon
user

shubham Kumar

Student(Bachelor Of Science)

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए यह कहना गलत बात नहीं है कि आजकल की जनरेशन है आज का जो उस समय चल रहा है इस समय में कैंसर की जो बीमारी है हर किसी में देखने को मिल रही हर कोई से ग्रसित हो जा रहा है हर कोई इसकी चपेट में आ जाए तो कहने का मतलब यह है कि हर चीज जिसका इफेक्ट है जो इस बीमारी को अफेक्ट कर रहा है लोगों में बढ़ा रहा है लोगों में इसका विस्तार कर रहा है इसको साला आ रहा है उसका कारण क्या है टेक्नोलॉजी टेक्नोलॉजी टेक्नोलॉजी इस तरह का से कारण बन गया है क्योंकि टेक्नोलॉजी ने लोगों को आलसी बना दिया आलसी बना दिया है लोगों को हर चीज को काम करने की जल्दी होती है जिस कारण से वे हर ऐसा उपाय सोचते हैं जिससे वह अपने काम को जल्दी से जल्दी कर सकें और इसी को करने के लिए वह अपना समय बचाने के लिए टेक्नोलॉजी का यूज कर रहे हैं अब प्लस रहन-सहन हमारे रहन-सहन का तो टांग हो गया है खान-पान का आधे से ज्यादा चीजों में कितना आ सकता भाई का प्रयोग किया जाता है और वर्तनी कंपोस्ट का यूज किया जाता है वह कहावत है ना कि पहले के लोग कोई का मेला को चला पानी पीकर भी 100 साल डेढ़ सौ साल जिए जाते थे लेकिन आजकल के लोग क्यों नहीं क्योंकि आजकल लोगों के मन में यह हो गया है कि हर चीज की ओर जैसे फिल्टर वाटर पीना तो फिल्टर वाटर क्या हो गया फिल्टर वाटर मिनरल्स है तो हमारे मन शरीर में जो आपूर्ति होने चाहिए खनिजों की वह कहां से होगी उसकी सारे स्त्रोत को हमने ब्लॉक कर दिया है इन्हीं सब कारणों से कैंसर जो है लोगों में पनप रहा है धन्यवाद

dekhiye yah kehna galat baat nahi hai ki aajkal ki generation hai aaj ka jo us samay chal raha hai is samay mein cancer ki jo bimari hai har kisi mein dekhne ko mil rahi har koi se grasit ho ja raha hai har koi iski chapet mein aa jaaye toh kehne ka matlab yah hai ki har cheez jiska effect hai jo is bimari ko affect kar raha hai logo mein badha raha hai logo mein iska vistaar kar raha hai isko sala aa raha hai uska karan kya hai technology technology technology is tarah ka se karan ban gaya hai kyonki technology ne logo ko aalsi bana diya aalsi bana diya hai logo ko har cheez ko kaam karne ki jaldi hoti hai jis karan se ve har aisa upay sochte hain jisse vaah apne kaam ko jaldi se jaldi kar sake aur isi ko karne ke liye vaah apna samay bachane ke liye technology ka use kar rahe hain ab plus rahan sahan hamare rahan sahan ka toh taang ho gaya hai khan pan ka aadhe se zyada chijon mein kitna aa sakta bhai ka prayog kiya jata hai aur vartani compost ka use kiya jata hai vaah kahaavat hai na ki pehle ke log koi ka mela ko chala paani peekar bhi 100 saal dedh sau saal jiye jaate the lekin aajkal ke log kyon nahi kyonki aajkal logo ke man mein yah ho gaya hai ki har cheez ki aur jaise filter water peena toh filter water kya ho gaya filter water minerals hai toh hamare man sharir mein jo aapurti hone chahiye khanijo ki vaah kahaan se hogi uski saare satrot ko humne block kar diya hai inhin sab karanon se cancer jo hai logo mein panap raha hai dhanyavad

देखिए यह कहना गलत बात नहीं है कि आजकल की जनरेशन है आज का जो उस समय चल रहा है इस समय में कै

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  404
WhatsApp_icon
user
0:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेचडी नो टेंशन नो इनफेक्शियस डिसीसिस इट मीन इस इट कैन नॉट बी ट्रांसफर फ्रॉम वन पर्सन टो अनदर बाय सेटिंग ऑल किंग और और प्लेइंग टुडे बैंक इज मेजर प्रॉब्लम फेस बाय द पीपल ऑफ द वर्ल्ड एंड द कर्स ऑफ़ कैंसर इन स्विंग दवा कोष और ड्रिंकिंग वाइन एंड द अंदर का चीज फार्मर इज यूजिंग पेस्टिसाइड ऑफ फ़र्टिलाइज़र इन द फील्ड फॉर ग्रोइंग क्रॉप्स एंड फर्टिलाइजर्स एंड पेस्टिसाइड्स सब मिक्स विथ वाटर और स्वर्ण सब मिक्स विद अवर क्रॉप विच इस हार्मफुल फॉर अस एंड पीटी पीटी इन द फॉर्म ऑफ फूड कॉज कैंसर

hechdi no tension no inafekshiyas disisis it meen is it can not be transfer from van person toe another bye setting all king aur aur playing today bank is major problem face bye the pipal of the world and the curse of cancer in swing dawa kosh aur drinking wine and the andar ka cheez farmer is using pesticide of fartilaizar in the field for growing crops and fertilizers and pesticides sab mix with water aur swarn sab mix with avar crop which is harmful for us and PT PT in the form of food cause cancer

हेचडी नो टेंशन नो इनफेक्शियस डिसीसिस इट मीन इस इट कैन नॉट बी ट्रांसफर फ्रॉम वन पर्सन टो अन

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  432
WhatsApp_icon
user

RAMESH CHANDRA NISHAD

Social Help,Politics,MLM.

1:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कैंसर लाइफ़स्टाइल और खान-पान की बीमारी है हम आज हमारा लाइफ़स्टाइल इतना अस्त-व्यस्त है ना तो समय से खाना पीना सोना जागना उठना बैठना हमारा सब कुछ अस्त-व्यस्त कोई टाइम नहीं यहां तक कि हम सही तरह से खाना भी नहीं खा पाते नहीं खाना खा पाते हैं बाजार में मिलने वाले फास्ट फूड से हम पेट भरते हैं और इसी हफ्ते व्यस्तता के कारण आज कैंसर इतनी देर से आए लोगों को हो रहा है हमारी बॉडी के मेटाबॉलिज्म सिस्टम में खान-पान रहन-सहन की वजह से प्रॉब्लम हो जाने के कारण कोशिकाएं सुचारू ढंग से कार्य नहीं कर पाती हैं जिसके द्वारा गेट कोशिकाएं बॉडी में पैदा होने लगती हैं और हम कैंसर ग्रस्त हो जाते हैं हमें इन सब से बचना है तो हमें अपने जीवन शैली को नियमित करना होगा उसका एक नियम बनाना होगा हमने कब आना है कब जागना है कब सोना है क्या खाना है तब खाना है कैसे खाना है बाकायदा हमें इसकी एक सूची बनाकर अपने जीवन शैली को नियमित करके जीना होगा तब हम इन खतरनाक बीमारी कैंसर से बच सकते हैं अब यह हमारे ऊपर निर्भर है कि हम अपने लाइफ में तालमेल कैसे बिठाते हैं

cancer lifestyle aur khan pan ki bimari hai hum aaj hamara lifestyle itna ast vyast hai na toh samay se khana peena sona jagana uthna baithana hamara sab kuch ast vyast koi time nahi yahan tak ki hum sahi tarah se khana bhi nahi kha paate nahi khana kha paate hai bazaar mein milne waale fast food se hum pet bharte hai aur isi hafte vyastata ke karan aaj cancer itni der se aaye logo ko ho raha hai hamari body ke metabolism system mein khan pan rahan sahan ki wajah se problem ho jaane ke karan koshikayen sucharu dhang se karya nahi kar pati hai jiske dwara gate koshikayen body mein paida hone lagti hai aur hum cancer grast ho jaate hai hamein in sab se bachna hai toh hamein apne jeevan shaili ko niyamit karna hoga uska ek niyam banana hoga humne kab aana hai kab jagana hai kab sona hai kya khana hai tab khana hai kaise khana hai bakayada hamein iski ek suchi banakar apne jeevan shaili ko niyamit karke jeena hoga tab hum in khataranaak bimari cancer se bach sakte hai ab yah hamare upar nirbhar hai ki hum apne life mein talmel kaise bithate hain

कैंसर लाइफ़स्टाइल और खान-पान की बीमारी है हम आज हमारा लाइफ़स्टाइल इतना अस्त-व्यस्त है ना त

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  153
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
इनफेक्शियस डिसीसिस ; itni kam hai ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!