संख्या वृद्धि पर निबंध?...


play
user

Roshan Prasad Jaiswal

Junior Volunteer

1:35

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लेकिन समस्या वृद्धि पर निबंध आप लिखना चाहते हैं तो मैं आपको शॉर्ट में बताना चाहूंगा जिसे आप आप उसको विस्तार साफ लिख सकते हैं संख्या जनसंख्या क्या करें से बात करें तो यह विशेष क्षेत्र में रहने वाले जीवो की कुल संख्या दर्शाती है हमारे ग्रह के कुछ हिस्सों में आबादी का तेजी से विकास चिंता का कारण बन गया तो जनसंख्या क्या आमतौर पर किस क्षेत्र में रहने वाले लोगों की कुल संख्या के रूप में जाना जाता है हालांकि के 1 जिलों की संख्या को भी परिभाषित करता है जो इंटरव्यूड कर सकते हैं कुछ देशों में मानव जनसंख्या तेजी से बढ़ रही है इन देशों को मानव नियंत्रण उपायों को नियंत्रित करने की सलाह दी जाती है हमने ऐसे कि आप अपनी जरूरत के हिसाब से किसी भी जनसंख्या पर निबंध का चयन आप कर सकते हैं और विश्व की आबादी बहुत तेजी से बढ़ रही है पिछले 506 दशकों में विशेष रूप से मानव आबादी में जबरदस्ती भी दीदी के पीछे कोई कारण थी और इसके लिए मुख्य कारणों में से एक चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में विकास है जिसकी मृत्यु दर को हटा दिया गया एक और कारण विशेष रुप से गरीब और विकासशील देशों मैं भी बढ़ती जंदर है तो शिक्षा का अभाव और परिवार नियोजन की कमी इन देशों में उच्च जन्म दर के लिए शरण में से एक है तो विडंबना यह है कि जहां एक तरफ मानव आबादी तेजी से बढ़ती जा रही है वहीं दूसरी और जानवर और पक्षियों की जनसंख्या दिन-प्रतिदिन कम हो रही है अपनी शर्तों को पूरा करने के प्रयास में जंगली जानवरों के लिए आश्रय के रूप में सेवा करने वाले जंगलों को भी इंसान काट रहे हैं इसके कारण पशु और पक्षियों की प्रजातियां प्रभावित हुई है तो बढ़ते यातायात और विभिन्न उद्योगों की स्थापना कर कारण बढ़ता प्रदूषण जीवो की आबादी में कमी एक कमी का एक और कारण

lekin samasya vriddhi par nibandh aap likhna chahte hai toh main aapko short mein bataana chahunga jise aap aap usko vistaar saaf likh sakte hai sankhya jansankhya kya kare se baat kare toh yah vishesh kshetra mein rehne waale jeevo ki kul sankhya darshatee hai hamare grah ke kuch hisson mein aabadi ka teji se vikas chinta ka karan ban gaya toh jansankhya kya aamtaur par kis kshetra mein rehne waale logo ki kul sankhya ke roop mein jana jata hai halaki ke 1 jilon ki sankhya ko bhi paribhashit karta hai jo interviewed kar sakte hai kuch deshon mein manav jansankhya teji se badh rahi hai in deshon ko manav niyantran upayo ko niyantrit karne ki salah di jaati hai humne aise ki aap apni zarurat ke hisab se kisi bhi jansankhya par nibandh ka chayan aap kar sakte hai aur vishwa ki aabadi bahut teji se badh rahi hai pichle 506 dashakon mein vishesh roop se manav aabadi mein jabardasti bhi didi ke peeche koi karan thi aur iske liye mukhya karanon mein se ek chikitsa vigyan ke kshetra mein vikas hai jiski mrityu dar ko hata diya gaya ek aur karan vishesh roop se garib aur vikasshil deshon main bhi badhti jandar hai toh shiksha ka abhaav aur parivar niyojan ki kami in deshon mein ucch janam dar ke liye sharan mein se ek hai toh widambana yah hai ki jaha ek taraf manav aabadi teji se badhti ja rahi hai wahi dusri aur janwar aur pakshiyo ki jansankhya din pratidin kam ho rahi hai apni sharton ko pura karne ke prayas mein jungli jaanvaro ke liye asray ke roop mein seva karne waale jungalon ko bhi insaan kaat rahe hai iske karan pashu aur pakshiyo ki prajatiya prabhavit hui hai toh badhte yatayat aur vibhinn udhyogo ki sthapna kar karan badhta pradushan jeevo ki aabadi mein kami ek kami ka ek aur karan

लेकिन समस्या वृद्धि पर निबंध आप लिखना चाहते हैं तो मैं आपको शॉर्ट में बताना चाहूंगा जिसे आ

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  483
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Preetisingh

Junior Volunteer

1:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हम जैसे कि अभी हम देख रहे हैं कि आज जनसंख्या की वृद्धि होती जा रही है देश में जनसंख्या तेजी से आबादी बढ़ी लेकिन तेजी से विकास नहीं हो पा रहा है जनसंख्या के भयंकर विस्फोट के कारण भुखमरी और बेकारी की समस्या भी बढ़ती जा रही है और राष्ट्रीय आय का एक बड़ा भाग जनसंख्या पर खर्च हो रहा है जनसंख्या वृद्धि के कारण है कि भारत में गर्म देखे तो दिखाएं क्षमता दवा में निवास करती है जहां लड़कियों को कम पढ़ा लिखा जाता है और जब विवाह के बाद शीघ्र संतान का जन्म हो तथा पुत्र पैदा हो क्योंकि ऐसा माना जाता है कि पुत्री सही राष्ट्रीय उद्यान जनसंख्या बढ़ने से यानी बुराइयों का जन्मदिन होता है आजादी से आजादी के इतने साल बाद भी ग्रामीण जनता में विश्वास होगा चलने भारत में अशिक्षा गरीबी बेरोजगारी भ्रष्टाचार ना चार आदमी की समस्या दिनों दिन बढ़ती जा रही है देश की जनसंख्या अधिकांश भाग गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करता है चारो और आलस्य दरिद्रता का योग सांप्रदायिकता महंगाई चोरी डकैती लूटपाट था अन्य सामाजिक और आर्थिक बुराइयों समाज में विद्यमान है जनसंख्या वृद्धि के कारण हर स्थान पर भी दिखाई देते हैं भीड़ होने के कारण हर स्थान पर गंदगी और अव्यवस्था होती है देश का उचित विकास नहीं हो पाता है और देश प्रत्येक क्षेत्र में अभी चलता रहता है जनसंख्या वृद्धि रोकने सबसे आवश्यक कदम है प्रत्येक नागरिक अपने परिवार को नियोजित करें केवल एक या दो बच्चे ही पैदा करें लड़का लड़की को समान दृष्टि से देखा जाए तो भी जनसंख्या पर नियंत्रण पाया जा सकता है तथा समाजसेवी संस्थाओं के माध्यम से परिवार नियोजन का बताइए ताकि को व्यापक प्रचार किया जा सकता है

hum jaise ki abhi hum dekh rahe hain ki aaj jansankhya ki vriddhi hoti ja rahi hai desh mein jansankhya teji se aabadi badhi lekin teji se vikas nahi ho paa raha hai jansankhya ke bhayankar visphot ke karan bhukhmari aur bekari ki samasya bhi badhti ja rahi hai aur rashtriya aay ka ek bada bhag jansankhya par kharch ho raha hai jansankhya vriddhi ke karan hai ki bharat mein garam dekhe toh dikhaen kshamta dawa mein niwas karti hai jaha ladkiyon ko kam padha likha jata hai aur jab vivah ke baad shighra santan ka janam ho tatha putra paida ho kyonki aisa mana jata hai ki putri sahi rashtriya udyan jansankhya badhne se yani buraiyon ka janamdin hota hai azadi se azadi ke itne saal baad bhi gramin janta mein vishwas hoga chalne bharat mein asiksha garibi berojgari bhrashtachar na char aadmi ki samasya dino din badhti ja rahi hai desh ki jansankhya adhikaansh bhag garibi rekha ke niche jeevan yaapan karta hai chaaro aur aalasya daridrata ka yog saampradayikta mahangai chori dakaiti lutpat tha anya samajik aur aarthik buraiyon samaj mein vidyaman hai jansankhya vriddhi ke karan har sthan par bhi dikhai dete hain bheed hone ke karan har sthan par gandagi aur avyayvastha hoti hai desh ka uchit vikas nahi ho pata hai aur desh pratyek kshetra mein abhi chalta rehta hai jansankhya vriddhi rokne sabse aavashyak kadam hai pratyek nagarik apne parivar ko niyojit kare keval ek ya do bacche hi paida kare ladka ladki ko saman drishti se dekha jaaye toh bhi jansankhya par niyantran paya ja sakta hai tatha samajsevi sasthaon ke madhyam se parivar niyojan ka bataye taki ko vyapak prachar kiya ja sakta hai

हम जैसे कि अभी हम देख रहे हैं कि आज जनसंख्या की वृद्धि होती जा रही है देश में जनसंख्या तेज

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  478
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!