एक आम भारतीय होने के नाते आपको को किन-किन बातों पर गुस्सा आता है?...


user

Bhuvi Jain

Engineer, Educator, Writer

1:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हम इंडियंस बहुत सेल्फिश है अपना घर तो साफ रख सकते हैं पर अपना देश नहीं हर रोज हम 259 देशभक्ति के इंडिया के ग्लोरियस फास्ट के मैसेजेस आगे पीछे हम स्वागत करते हैं ऐसे करने वाला भारतीय पब्लिक प्रॉपर्टी को अपना नहीं समझता नए रेल की बोगी इसके सीट्स को ब्रेड से काटने वाला गुस्सा आने पर बसों को जलाने वाला दंगे फसाद में तोड़फोड़ करने वाला क्यों यानी लाइन को तोड़ने वाला नियमों को तोड़ने वाला घूस देने वाला घूस लेने वाला गोरी चमड़ी के पीछे भागने वाला और कितनी संपत्ती संपत्ती मान के बेइज्जत करने वाला हर ऐसे इंडियन को देख कर मेरा खून खोलता है हम भारतीय होने के नाते मैं चाहती हूं कि आधुनिक भारत जाति से ऊपर उठे पर पैदा होते ही शाम में बच्चे का नाम रिलीजन और काश लिखने को मजबूर किया जाता है सरकार के द्वारा कहां से हम भूले जाति को जब एक मृत बच्चे को गोद में लेकर श्मशान घाट तक पैदल चलकर जाता है क्योंकि वह गरीब है और उसकी जाति नीची मानी जाती है तब आम भारतीय का खून खोलता है कहां है तेरा किस देश में लोग पैसों के लिए वोट देते हैं तब आम भारतीय का खून खोलता है वोट बैंक के चक्कर में काश पॉलिटिक्स खेले जाते हैं तो बेहिसाब गुस्सा आता है भारत में अनेक ऐसे हम जैसे लोग हैं आम नागरिक जिन्हें इन बातों पर गुस्सा आता है आइए अल्बर्ट पिंटो ना बन कर हम रह जाय भरत को बेहतर बनाते हैं कुछ फर्क करके दिखाते हैं

hum indians bahut selfish hai apna ghar to saaf rakh sakte hain par apna desh nahi har roj hum 259 deshbhakti ke india ke glorious fast ke messages aage piche hum swaagat karte hain aise karne vala bharatiya public property ko apna nahi samajhata naye rail ki boggie iske seats ko bred se katne vala gussa aane par bason ko jalane vala denge fasad mein thorphor karne vala kyon yani line ko todne vala niyamon ko todne vala ghus dene vala ghus lene vala gori chamadi ke piche bhagne vala aur kitni sampatti sampatti maan ke beijjat karne vala har aise indian ko dekh kar mera khoon kholta hai hum bharatiya hone ke naate main chahti hoon ki aadhunik bharat jati se upar uthe par paida hote hi shaam mein bacche ka naam religion aur kash likhne ko majboor kiya jata hai sarkar ke Dwara kahaan se hum bhule jati ko jab ek mrit bacche ko god mein lekar shmashan ghat tak paidal chalkar jata hai kyonki wah garib hai aur uski jati nichi maani jati hai tab aam bharatiya ka khoon kholta hai kahaan hai tera kis desh mein log paison ke liye vote dete hain tab aam bharatiya ka khoon kholta hai vote bank ke chakkar mein kash politics khele jaate hain to behisaab gussa aata hai bharat mein anek aise hum jaise log hain aam nagarik jinhen in baaton par gussa aata hai aaiye albert Pinto na ban kar hum rah jaay Bharat ko behtar banate hain kuch fark karke dikhate hain

हम इंडियंस बहुत सेल्फिश है अपना घर तो साफ रख सकते हैं पर अपना देश नहीं हर रोज हम 259 देशभक

Romanized Version
Likes  91  Dislikes    views  2026
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!