महाभारत में अर्जुन का पुत्र कौन था? ...


user

Ranjeet Singh Uppal

Retired GM ONGC

3:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

महाभारत में अर्जुन का पुत्र अभिमन्यु था यह पुत्र सुभद्रा से उत्पन्न हुआ था सुभद्रा जो थी वह कृष्ण और बलराम की बहन की अर्जुन ने द्रौपदी के अलावा सुभद्रा से भी विवाह किया था और उन दोनों से अभिमन्यु का जन्म हुआ था कहते हैं जब सुभद्रा गर्भवती थी तो एक बार अर्जुन अपनी पत्नी को चक्रव्यू के बारे में बता रहे थे कि चक्रव्यू के साथ द्वार होते हैं उनको कैसे तोड़ा जाता है पर वह सुनते सुनते सुभद्रा सो गई थी और घर में ही अभिमन्यु ने जान लिया था कि चक्रव्यूह पर तो तोड़कर अंदर कैसे घुसा जाता है लेकिन बाहर निकलने की विधि को नहीं जान पाया क्योंकि उसकी मां सुभद्रा सो गई थी मन्नू का जो बचपन है वह अपने ननिहाल में ही बीता क्योंकि उसके पिता इधर-उधर व्यस्त रहते थे और जब उसके पांडव अज्ञातवास में राजा विराट के यहां से तो अर्जुन के ऊपर प्रसन्न होकर ही हो राजा विराट ने अपनी पुत्री उत्तरा का विवाह अर्जुन से करना चाहा पर अर्जुन ने बोला मेरी बेटी जैसी है मुझे खुशी होगी अगर इसका विवाह अभिमन्यु से कर दिया जाए अभिमन्यु विवाह के लिए राजी हो गया और उसने उत्तरा से विवाह किया कालांतर में जब महाभारत का युद्ध हुआ तो 13 दिन कौरवों ने चालाकी से अर्जुन को दक्षिण की ओर भेज दिया और द्रोणाचार्य ने चक्रव्यूह की रचना की उनको पता राखी अर्जुन के अलावा चक्रव्यूह को भेदने की कला और कोई नहीं जानता पांडव गुड चिंता नहीं आ गया लेकिन अभिमन्यु ने बोला आप चिंता नहीं करिए चक्रव्यूह तोड़ने की कला मैं जानता हूं मैं अंदर घुस जाऊंगा लेकिन निकलना मुझे नहीं आता तो भीम ने बोला चिंता मत करो मेरी कदर तुम को निकाल लाएगी अभिमन्यु तो अंदर घुस गया और बाकी पांडवों को जयद्रथ ने गेट पर ही रोक दिया और बाद में सातों महारथियों ने मिलकर अभिमन्यु के ऊपर आक्रमण किया और थे द्रोणा सुदामा कारण प्रशासन चटनी कृतवर्मा और वृद्ध बल यह उस समय नियमों के विरुद्ध था क्योंकि एक महारथी एक समय में एक से युद्ध करता था परंतु एक के बस में नहीं था अभिमन्यु कुमार ना इसलिए सब ने मिलकर युद्ध शुरू किया करने उसके धनुष को काट दिया अंतर्गत का चक्का लेकर लड़ता रहा और वीरगति को प्राप्त हुआ बाद में उसका जो पुत्र परीक्षित था वह पांडवों के महाप्रयाण के पश्चात वहां का राजा बना धन्यवाद

mahabharat me arjun ka putra abhimanyu tha yah putra subhadra se utpann hua tha subhadra jo thi vaah krishna aur balaram ki behen ki arjun ne draupadi ke alava subhadra se bhi vivah kiya tha aur un dono se abhimanyu ka janam hua tha kehte hain jab subhadra garbhwati thi toh ek baar arjun apni patni ko chakravyu ke bare me bata rahe the ki chakravyu ke saath dwar hote hain unko kaise toda jata hai par vaah sunte sunte subhadra so gayi thi aur ghar me hi abhimanyu ne jaan liya tha ki chakravyooh par toh todkar andar kaise ghusa jata hai lekin bahar nikalne ki vidhi ko nahi jaan paya kyonki uski maa subhadra so gayi thi mennu ka jo bachpan hai vaah apne nanihaal me hi bita kyonki uske pita idhar udhar vyast rehte the aur jab uske pandav agyatavas me raja virat ke yahan se toh arjun ke upar prasann hokar hi ho raja virat ne apni putri uttara ka vivah arjun se karna chaha par arjun ne bola meri beti jaisi hai mujhe khushi hogi agar iska vivah abhimanyu se kar diya jaaye abhimanyu vivah ke liye raji ho gaya aur usne uttara se vivah kiya kalantar me jab mahabharat ka yudh hua toh 13 din kauravon ne chalaki se arjun ko dakshin ki aur bhej diya aur dronacharya ne chakravyooh ki rachna ki unko pata rakhi arjun ke alava chakravyooh ko bhedne ki kala aur koi nahi jaanta pandav good chinta nahi aa gaya lekin abhimanyu ne bola aap chinta nahi kariye chakravyooh todne ki kala main jaanta hoon main andar ghus jaunga lekin nikalna mujhe nahi aata toh bhim ne bola chinta mat karo meri kadar tum ko nikaal layegi abhimanyu toh andar ghus gaya aur baki pandavon ko jayadrath ne gate par hi rok diya aur baad me saton maharthiyon ne milkar abhimanyu ke upar aakraman kiya aur the drona sudama karan prashasan chatni kritvarma aur vriddh bal yah us samay niyamon ke viruddh tha kyonki ek maharathi ek samay me ek se yudh karta tha parantu ek ke bus me nahi tha abhimanyu kumar na isliye sab ne milkar yudh shuru kiya karne uske dhanush ko kaat diya antargat ka chakka lekar ladata raha aur viragati ko prapt hua baad me uska jo putra parikshit tha vaah pandavon ke mahaprayan ke pashchat wahan ka raja bana dhanyavad

महाभारत में अर्जुन का पुत्र अभिमन्यु था यह पुत्र सुभद्रा से उत्पन्न हुआ था सुभद्रा जो थी व

Romanized Version
Likes  153  Dislikes    views  1983
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!