वास्तव में योग कितने प्रकार के होते हैं?...


user

Keshavi Mehta

Yoga Instructor

0:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

काफी सारे प्रकार के होते हैं उसमें से अष्टांग योग का हाथी होगा फिर या काफी सारे आपको कौन सा जनता भी पावर योगा इंस्ट्रक्टर मैं बता सकती हूं इतने सारे योगा

kaafi saare prakar ke hote hain usme se ashtanga yog ka haathi hoga phir ya kaafi saare aapko kaun sa janta bhi power yoga instructor main bata sakti hoon itne saare yoga

काफी सारे प्रकार के होते हैं उसमें से अष्टांग योग का हाथी होगा फिर या काफी सारे आपको कौन स

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  142
WhatsApp_icon
30 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Prashant Tak

Yoga Trainer

3:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लिखे चली जो ट्रेडिशनल जिओ का सिस्टम शुरू हुआ है उसमें चार तरह के योग का प्रेक्टिस दिया है इस कॉल्ड कर्मयोग आफ भक्ति योगा ज्ञान योगा एंड राज्यों का ओके डन इन द ट्रेडिशनल टेक्सबुक द गिवन आईटी गो अलोन विद प्रैक्टिस पाठक हम लोग जब प्रेक्टिस करने के लिए फिजिकल आसमान से प्रैक्टिस करते हैं तो बहुत सारे डिफरेंट डिफरेंट वैरिटीज के नाम हमको मिलते हैं तो जब हम प्रैक्टिस करते हैं जो फिजिकली आशना हो तो यह सारे कंसीडर हमारे राजयोग केंद्र होते हैं जिसमें एक नॉरमल इंसान जो है वह प्रैक्टिस करता है इस काम में राजयोग के अंदर कंट्री करते हैं राज्यों की जब अंदर कंस वध किया जाता है तो उसमें अष्टांगा योगा आता है काश तुम होते हैं इस पर यम नियम आसन प्राणायाम प्रत्याहार धारणा ध्यान समाधि नए-नए योगा टीचर से उसके अंदर नए इनोवेशन दिए हैं किसने प्रिंट किया है कि इसमें कुछ और चीज ऐड होना चाहिए तोड़ने उसको अपना नाम दे दिया तो यहां पर भारत में बहुत सारे प्रकार के नहीं रे पतरकी योगा स्कूल से अपना नया विष्णु निकाला है तो सबसे बड़े जो फिजिकली जब प्रैक्टिस करते हैं इससे पहला जो आता है उसको बोलते हैं हटाइए होगा इसको होगा तो यह का प्रेक्टिस नाश करते हैं आज ना उसको अच्छे से परफॉर्म किया जाता है उन हाथरस में होली किया जाता है उसके बाद मैं आजकल नया ट्रेंड चल रहा है इसको बोलते हैं विन्यास आप लोगों की परियों के नाम से भी प्रसिद्ध है वह मुझसे आजकल पूरी दुनिया में हम बनाते हैं क्या हुआ जाता है कैसे समझाते हैं तो गाड़ी होती है विट रोशनी को अच्छा काम करता है उसके बाद में फिर एक ही नहीं होगा कि आजकल बहुत चल रहा है इसको एक ही क्वेश्चन बहुत लंबे समय से रहते हैं उसमें ज्यादा ही नहीं होती है लेकिन डी प्लेयर की चेकिंग होती है क्या 7:00 से 10 मिनट तक उसमें होल्ड करते हैं हेल्प ऑफ द टॉप और कुछ क्वेश्चंस के माध्यम से बीकेएस अयंगर योगा थेरेपी के लिए बड़ा फेमस है उसके अंदर फिर वह सारी प्रॉमिस करते थे कि आप एक आसन को तो प्लंबर तक यूज कर सकें इसमें चेयर हो गई ब्लॉक हो गए बेल्ट्स हो गए क्वेश्चन सो गए आरोप हो गई देख हो गई इन सब चीजों को यूज करते हो आप करते हैं फिर आजकल कॉरपोरेशन से भी बहुत फेमस चल रहा है जिसमें बहुत सारे लोग जो है वह एक सूट बूट एड्रेस अपनाते हैं इनका लाइफ होता है तो उनको गुस्सा क्यों चाहिए होती है तो उनके लिए उन्हें डेक्सटॉप योगा टीचर योगा लड़की भी 3239 में उनको कुछ योगा मैट नहीं चाहिए योगा करनी चाहिए जहां पर बैठे हैं सबके सामने ब्लॉकबस्टर करते हैं नहीं नहीं नहीं बहुत सरकार चलते हैं एक बीच में अभी एक और चल रहा है इसको बोलते एंटीग्रेविटी योगा एलईडी को बोलते इसमें कुछ एलियन का सिल्क क्लॉथ रहता है उसके सहायता से हाथरस के पास को मिस करते हैं तो इस तरह की यह कुछ प्रकार है जो मैंने आपको भी शेयर किए हैं इसमें तो हम लोग हमारे स्टूडियो में अभी तक जो है वह सभी प्रकार के ऑल मोस्ट एक्टिव कराते एक बीच में एक मैसेज अभी जब मैं सो के नाम से भी बहुत से नासिक का रास्ता भी नहीं होगा जिसमें उनका 1 दिन के अंदर स्कूल करके उनका अपना लाइट जलता है इस संस्कार के अलग-अलग नाम से युवक प्रसन्न किया जाता है

likhe chali jo traditional jio ka system shuru hua hai usme char tarah ke yog ka practice diya hai is called karmayog of bhakti yoga gyaan yoga and rajyo ka ok done in the traditional teksabuk the given it go alone with practice pathak hum log jab practice karne ke liye physical aasman se practice karte hain toh bahut saare different different vairitij ke naam hamko milte hain toh jab hum practice karte hain jo physically aashna ho toh yah saare Consider hamare rajyog kendra hote hain jisme ek normal insaan jo hai vaah practice karta hai is kaam me rajyog ke andar country karte hain rajyo ki jab andar kans vadh kiya jata hai toh usme ashtanga yoga aata hai kash tum hote hain is par yum niyam aasan pranayaam pratyahar dharana dhyan samadhi naye naye yoga teacher se uske andar naye innovation diye hain kisne print kiya hai ki isme kuch aur cheez aid hona chahiye todne usko apna naam de diya toh yahan par bharat me bahut saare prakar ke nahi ray patraki yoga school se apna naya vishnu nikaala hai toh sabse bade jo physically jab practice karte hain isse pehla jo aata hai usko bolte hain hataiye hoga isko hoga toh yah ka practice naash karte hain aaj na usko acche se perform kiya jata hai un hathras me holi kiya jata hai uske baad main aajkal naya trend chal raha hai isko bolte hain vinyas aap logo ki pariyon ke naam se bhi prasiddh hai vaah mujhse aajkal puri duniya me hum banate hain kya hua jata hai kaise smajhate hain toh gaadi hoti hai wit roshni ko accha kaam karta hai uske baad me phir ek hi nahi hoga ki aajkal bahut chal raha hai isko ek hi question bahut lambe samay se rehte hain usme zyada hi nahi hoti hai lekin d player ki checking hoti hai kya 7 00 se 10 minute tak usme hold karte hain help of the top aur kuch questions ke madhyam se BKS ayangar yoga therapy ke liye bada famous hai uske andar phir vaah saari promise karte the ki aap ek aasan ko toh Plumber tak use kar sake isme chair ho gayi block ho gaye belts ho gaye question so gaye aarop ho gayi dekh ho gayi in sab chijon ko use karte ho aap karte hain phir aajkal corporation se bhi bahut famous chal raha hai jisme bahut saare log jo hai vaah ek suit boot address apanate hain inka life hota hai toh unko gussa kyon chahiye hoti hai toh unke liye unhe deksatap yoga teacher yoga ladki bhi 3239 me unko kuch yoga mat nahi chahiye yoga karni chahiye jaha par baithe hain sabke saamne blockbuster karte hain nahi nahi nahi bahut sarkar chalte hain ek beech me abhi ek aur chal raha hai isko bolte entigreviti yoga LED ko bolte isme kuch alien ka silk cloth rehta hai uske sahayta se hathras ke paas ko miss karte hain toh is tarah ki yah kuch prakar hai jo maine aapko bhi share kiye hain isme toh hum log hamare studio me abhi tak jo hai vaah sabhi prakar ke all most active karate ek beech me ek massage abhi jab main so ke naam se bhi bahut se nashik ka rasta bhi nahi hoga jisme unka 1 din ke andar school karke unka apna light jalta hai is sanskar ke alag alag naam se yuvak prasann kiya jata hai

लिखे चली जो ट्रेडिशनल जिओ का सिस्टम शुरू हुआ है उसमें चार तरह के योग का प्रेक्टिस दिया है

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  134
WhatsApp_icon
user

Ananta Jeevan

Yoga Guru l Relationship Coach l Meditation Teacher

0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत में तो ऐसे मेरे को मालूम नहीं पर छात्रा का युवक मेरे को पता राज योगा कर्म योगा ज्ञान योगा भक्ति योग और एक हाथी होगा तो इसी में ही सब लोग आए थे जैसे कोई बकरियों को चैटिंग क्यों ज्यादा करता है तो भक्ति योग हो गया कि कर्म पर ज्यादा फोकस करता है वही होगा जो लिटरेचर है यह जो नॉलेज बेस पर योगा को बांटते योगा यह हमारी ओके बाय

bharat mein toh aise mere ko maloom nahi par chatra ka yuvak mere ko pata raj yoga karm yoga gyaan yoga bhakti yog aur ek haathi hoga toh isi mein hi sab log aaye the jaise koi bakariyon ko chatting kyon zyada karta hai toh bhakti yog ho gaya ki karm par zyada focus karta hai wahi hoga jo literature hai yah jo knowledge base par yoga ko bantate yoga yah hamari ok bye

भारत में तो ऐसे मेरे को मालूम नहीं पर छात्रा का युवक मेरे को पता राज योगा कर्म योगा ज्ञान

Romanized Version
Likes  29  Dislikes    views  335
WhatsApp_icon
play
user

Shubham Kumar

Yoga Instructor

0:14

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर हम मूल रूप से योग के प्रकार देखते हैं तो उसमें है भक्ति योग राजयोग 9 योग कर्म योग और हठयोग और अष्टांग योग भी है

agar hum mul roop se yog ke prakar dekhte hain toh usme hai bhakti yog rajyog 9 yog karm yog aur hathyog aur astang yog bhi hai

अगर हम मूल रूप से योग के प्रकार देखते हैं तो उसमें है भक्ति योग राजयोग 9 योग कर्म योग और ह

Romanized Version
Likes  50  Dislikes    views  381
WhatsApp_icon
user

xyz

nothing

1:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वैसे तो मिली चार प्रकार के योग माने गए हैं आप पहले के जैसे कर्म ही होगा जो गीता में कहा गया है राज्यों का जो पतंजलि यह सूचना उसने कहा गया है पतंजलि रूप में और भक्ति योगा नारद भक्ति भक्ति ज्ञान जो सांसद रोशन सुनाते हैं ज्ञान से मतलब जिसको ज्ञान हो गया उन्होंने किताबी ज्ञान योग से सीधे ज्ञान के माध्यम से योग के तक पहुंच गया मतलब प्राप्त हो गया वह ज्ञान योग जाता है जो कर्म योगा के आप निष्काम भाव से काम करें वह कर्मियों का हो गया भक्ति योगा मतलब आप सरेंडर कर दीजिए ईश्वर के प्रति पूरी तरह से कोई आसन नहीं करना कुछ नहीं करना आज सरेंडर कर दीजिए मीराबाई और रामकृष्ण परमहंस योग की चाई को पहुंचे और राज्यों में यह नियम और यह सब फॉलो करते हुए पहुंचाई तक पहुंच सके

waise toh mili char prakar ke yog maane gaye hain aap pehle ke jaise karm hi hoga jo geeta mein kaha gaya hai rajyo ka jo patanjali yah soochna usne kaha gaya hai patanjali roop mein aur bhakti yoga narad bhakti bhakti gyaan jo saansad roshan sunaate hain gyaan se matlab jisko gyaan ho gaya unhone kitabi gyaan yog se sidhe gyaan ke madhyam se yog ke tak pohch gaya matlab prapt ho gaya vaah gyaan yog jata hai jo karm yoga ke aap nishkam bhav se kaam kare vaah karmiyon ka ho gaya bhakti yoga matlab aap surrender kar dijiye ishwar ke prati puri tarah se koi aasan nahi karna kuch nahi karna aaj surrender kar dijiye mirabai aur ramakrishna paramhans yog ki chai ko pahuche aur rajyo mein yah niyam aur yah sab follow karte hue pahunchai tak pohch sake

वैसे तो मिली चार प्रकार के योग माने गए हैं आप पहले के जैसे कर्म ही होगा जो गीता में कहा गय

Romanized Version
Likes  91  Dislikes    views  1310
WhatsApp_icon
user

Girijakant Singh

Founder/ President Yog Bharati Foundation Trust

1:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए आपका प्रश्न है कि वास्तव में योग कितने प्रकार के होते हैं तो देखिए सबसे पहली बात है कि योग के की जो है योग योग है यह गाती अनुशासन के लिए है योग आत्मसाक्षात्कार के लिए है उसके रास्ते हैं विभिन्न ज्ञानियों ने ऋषि-मुनियों ने अपने-अपने मार्ग प्रशस्त किए सारे योगी हैं और उनका सारे रास्तों का मंजिल सिर्फ एक है आप ही साक्षात्कार करना ईश्वर की प्राप्ति करना राजयोग जिसको अष्टांग योग भी कहा जाता है इसमें आठ अन्य यम नियम आसन प्राणायाम प्रत्याहार धारणा ध्यान समाधि यह महर्षि पतंजलि द्वारा प्रतिपादित हठयोग जो नाथ संप्रदाय की परंपरा में चलता है इसके सटकर स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभदायक है साथ ही साथ गीता में भी युगों का वर्णन है भक्ति योग कर्मयोग ज्ञानयोग इसके अलावा ब्रह्म योग ना दियो बुलाए योग बहुत शाखाएं योग की है अपने-अपने ऋषि यों ने अपने अनुभवों को जिससे उन्होंने आदमी साक्षात्कार किया उन रास्तों को बनाया है वह सब लोग ही हैं और योग सिर्फ एक ही है उसका सिर्फ एक ही उद्देश्य है आप ही साक्षात्कार सिर्फ रास्ते अलग-अलग धन्यवाद

dekhiye aapka prashna hai ki vaastav mein yog kitne prakar ke hote hain toh dekhiye sabse pehli baat hai ki yog ke ki jo hai yog yog hai yah gaatee anushasan ke liye hai yog atmasakshatkar ke liye hai uske raste hain vibhinn gyaniyon ne rishi muniyon ne apne apne marg prashast kiye saare yogi hain aur unka saare raston ka manjil sirf ek hai aap hi sakshatkar karna ishwar ki prapti karna rajyog jisko ashtanga yog bhi kaha jata hai isme aath anya yum niyam aasan pranayaam pratyahar dharana dhyan samadhi yah maharshi patanjali dwara pratipadit hathyog jo nath sampraday ki parampara mein chalta hai iske satkar swasthya ke liye bahut hi labhdayak hai saath hi saath geeta mein bhi yugon ka varnan hai bhakti yog karmayog gyanyog iske alava Brahma yog na diyo bulaye yog bahut sakhayen yog ki hai apne apne rishi yo ne apne anubhavon ko jisse unhone aadmi sakshatkar kiya un raston ko banaya hai vaah sab log hi hain aur yog sirf ek hi hai uska sirf ek hi uddeshya hai aap hi sakshatkar sirf raste alag alag dhanyavad

देखिए आपका प्रश्न है कि वास्तव में योग कितने प्रकार के होते हैं तो देखिए सबसे पहली बात है

Romanized Version
Likes  140  Dislikes    views  2001
WhatsApp_icon
user

Sri Gurudev

Yoga & Meditation Guru

0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पहले तो चार पांच प्रकार के थे अभी जब से पॉर्न इन इंवॉल्वमेंट लहरिया तो बहुत से टाइप का योगा निकला देश के लिए जो नवरत्न ऑडिशन में टांगे हो गया हट जाओ गर्ल इन गर्ल योगा अभी पावर योगा भी है उसके अलावा क्या बोलते हैं ध्यान जो सात आठ प्रकार के योगा

pehle toh char paanch prakar ke the abhi jab se porn in invalwament laheriya toh bahut se type ka yoga nikala desh ke liye jo navratna audition mein tange ho gaya hut jao girl in girl yoga abhi power yoga bhi hai uske alava kya bolte hain dhyan jo saat aath prakar ke yoga

पहले तो चार पांच प्रकार के थे अभी जब से पॉर्न इन इंवॉल्वमेंट लहरिया तो बहुत से टाइप का योग

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  476
WhatsApp_icon
user
0:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योगा प्रकार नहीं होता लेकिन योग योग योग जीवन की हमारी समस्याएं संसार की सभी समस्याओं का समाधान कैसे होगा कि किसी एक का योग कर्म योग भक्ति योग यादी

yoga prakar nahi hota lekin yog yog yog jeevan ki hamari samasyaen sansar ki sabhi samasyaon ka samadhan kaise hoga ki kisi ek ka yog karm yog bhakti yog yaadi

योगा प्रकार नहीं होता लेकिन योग योग योग जीवन की हमारी समस्याएं संसार की सभी समस्याओं का सम

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  219
WhatsApp_icon
user

Dr.Rajyam Gupta

Yoga and Fitness instructor

0:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह 4 तरीके गट्टानी हो गई छोकरी बोलो या बहुत सारे बहुत सारे

yah 4 tarike gattani ho gayi chhokri bolo ya bahut saare bahut saare

यह 4 तरीके गट्टानी हो गई छोकरी बोलो या बहुत सारे बहुत सारे

Romanized Version
Likes  81  Dislikes    views  1159
WhatsApp_icon
user

Deepak Sharma

Yoga Instructor

1:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अलग-अलग प्रकार की है लेकिन कुछ आजकल कुछ गलत चीज का बचा हुआ है जैसे कि पारंपरिक रूप से हम जैसे हैं हमारे नाची पतंजलि द्वारा प्रतिपादित जो योग सीख रहे हैं उनका जो जो प्रतिपादित 195 चित्रण के आधार पर है लेकिन अष्टांग योग के अष्टांग योग का पार्टी का राजयोग यानी दोनों ही चीज होती है औरों जैसे चार प्रकार के कर्म योग अष्टांग योग राजयोग योगेश जो हमारे दैनिक जीवन सरिया में हम को अपनाना चाहिए क्योंकि क्योंकि आज पार्ट होते हैं यम नियम आसन प्राणायाम प्रत्याहार धारणा ध्यान और समाधि का पालन करें तो सारी चीजें हमारे भीतर समन्वय स्थापित हो जाती है शासकीय ब्रह्मचर्य अपरिग्रह

alag alag prakar ki hai lekin kuch aajkal kuch galat cheez ka bacha hua hai jaise ki paramparik roop se hum jaise hain hamare nachi patanjali dwara pratipadit jo yog seekh rahe hain unka jo jo pratipadit 195 chitran ke aadhaar par hai lekin ashtanga yog ke ashtanga yog ka party ka rajyog yani dono hi cheez hoti hai auron jaise char prakar ke karm yog ashtanga yog rajyog Yogesh jo hamare dainik jeevan sariya mein hum ko apnana chahiye kyonki kyonki aaj part hote hain yum niyam aasan pranayaam pratyahar dharana dhyan aur samadhi ka palan kare toh saree cheezen hamare bheetar samanvay sthapit ho jaati hai shaaskiye brahmacharya aparigrah

अलग-अलग प्रकार की है लेकिन कुछ आजकल कुछ गलत चीज का बचा हुआ है जैसे कि पारंपरिक रूप से हम ज

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  204
WhatsApp_icon
user

Chandra Sharma

Yoga Teacher

1:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योगा कोई संख्या फिक्स नहीं है चंदौली जो योगासन है वह उनको कोई नंबरों में बांध नहीं सकते हैं क्योंकि योग एक ऐसी क्रिया है जो मामा हमें प्राकृतिक रूप से मिली प्राकृतिक रूप से मिलने का मतलब है कि पेड़ होता है तेरे हड़ताल का पेड़ होता है तो उस साल के पेड़ के ऊपर हमने ताड़ासन बना दिया पानी के अंदर नाव चलती है चुनाव के लिए हमने अलार्म के लिए वह नौका आसन हो गया ठीक है इसी तरीके से वृक्ष है कोई छोटा पेड़ हो तो बहुत बड़ी है आना चाहती हैं हम उन्हें बांध नहीं सकते नंबर के अंदर मैंने कुछ और पहचाना तो मैंने कुछ और पैदा कर दिया किसी ने कुछ और पहचाना तो उसने कुछ और पैदा कर दिया उसने उसको किया उसको कुछ और नाम दे दिया उसे हम नंबरों में बांधने

yoga koi sankhya fix nahi hai chandauli jo yogasan hai wah unko koi numberon mein bandh nahi sakte hain kyonki yog ek aisi kriya hai jo mama humein prakritik roop se mili prakritik roop se milne ka matlab hai ki pedh hota hai tere hartal ka pedh hota hai toh us saal ke pedh ke upar humne tadasan bana diya pani ke andar nav chalti hai chunav ke liye humne alarm ke liye wah nauka aasan ho gaya theek hai isi tarike se vriksh hai koi chota pedh ho toh bahut badi hai aana chahti hain hum unhein bandh nahi sakte number ke andar maine kuch aur pehchana toh maine kuch aur paida kar diya kisi ne kuch aur pehchana toh usne kuch aur paida kar diya usne usko kiya usko kuch aur naam de diya use hum numberon mein bandhne

योगा कोई संख्या फिक्स नहीं है चंदौली जो योगासन है वह उनको कोई नंबरों में बांध नहीं सकते ह

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  194
WhatsApp_icon
user

Dr Anil Anandan

Yoga Instructor

0:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आजकल तो उसका बहुत ज्यादा है वेरिएशन किया जा चुका है बट जो शास्त्रोक्त योग है वह अष्टांग योग है और योग एक ही योग है उसको कई भागों में बांटा गया है बट योग हमारा शरीर के किसी भी अंग पर तिल के प्रभाव डालता है इसलिए मैं शास्त्रोक्त जो अष्टांग योग कहा गया है वहीं मैन योग है

aajkal toh uska bahut zyada hai variation kiya ja chuka hai but jo shastrokt yog hai vaah ashtanga yog hai aur yog ek hi yog hai usko kai bhaagon mein baata gaya hai but yog hamara sharir ke kisi bhi ang par til ke prabhav dalta hai isliye main shastrokt jo ashtanga yog kaha gaya hai wahi man yog hai

आजकल तो उसका बहुत ज्यादा है वेरिएशन किया जा चुका है बट जो शास्त्रोक्त योग है वह अष्टांग यो

Romanized Version
Likes  31  Dislikes    views  378
WhatsApp_icon
user

Dr Asha B Jain

Dip in Naturopathy, Yoga therapist Pranic healer, Counselor

0:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वास्तव में योग कई प्रकार के होते हैं जैसे भक्ति योग हो गया ज्ञान योग ध्यान योग राजयोग राज्यों के अंतर्गत अष्टांग योग आता है फिर लाई हो गया संगीत योग भी होता है इस तरीके से कई तरह के लोग होते हैं और उसका गोल जो है वह एक ही एक ही ऊपर से कनेक्ट होना पूरी तरह से हमें कनेक्ट आपका मनजीत से कनेक्ट हो रहा है उस चीज को अपना भक्त लोग ने भक्ति करके एक परमात्मा की तरफ कनेक्ट हो जाता है ज्ञान में बुद्धि को बढ़ाकर बहुत ज्ञान प्राप्त करके आप कनेक्ट होते हो ध्यान में ध्यान योग राजयोग होता है बहुत सारी साइंटिफिक माना गया है जिसको अष्टांग योग में जिसके अंतर्गत आता है कई प्रकार के होते हैं इसमें कुछ भी अपना कर आगे प्रगति कर सकते हैं

vaastav mein yog kai prakar ke hote hain jaise bhakti yog ho gaya gyaan yog dhyan yog rajyog rajyo ke antargat ashtanga yog aata hai phir lai ho gaya sangeet yog bhi hota hai is tarike se kai tarah ke log hote hain aur uska gol jo hai vaah ek hi ek hi upar se connect hona puri tarah se hamein connect aapka manjit se connect ho raha hai us cheez ko apna bhakt log ne bhakti karke ek paramatma ki taraf connect ho jata hai gyaan mein buddhi ko badhakar bahut gyaan prapt karke aap connect hote ho dhyan mein dhyan yog rajyog hota hai bahut saree scientific mana gaya hai jisko ashtanga yog mein jiske antargat aata hai kai prakar ke hote hain isme kuch bhi apna kar aage pragati kar sakte hain

वास्तव में योग कई प्रकार के होते हैं जैसे भक्ति योग हो गया ज्ञान योग ध्यान योग राजयोग राज्

Romanized Version
Likes  144  Dislikes    views  2054
WhatsApp_icon
user

Yog Guru Gyan Ranjan Maharaj

Founder & Director - Kashyap Yogpith

1:08
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्वेश्चन है वास्तव में योग कितने प्रकार के होते हैं तो मैं आपको बताना चाहूंगा योग चार प्रकार के होते हैं कर्म योग भक्ति योग और हठयोग हरयो का अलग-अलग मायने हैं लेकिन हम लोग कहते हैं कुछ न कुछ मिला जुला रूप है जैसे महर्षि पतंजलि ने बताया था और जहां तक का योग के बारे में भगवान कृष्ण ने गीता में जो उपदेश दिया है वह भी कर्म योग के बारे में उन्होंने इसका उल्लेख किया है धन्यवाद

question hai vaastav mein yog kitne prakar ke hote hain toh main aapko bataana chahunga yog char prakar ke hote hain karm yog bhakti yog aur hathyog harayo ka alag alag maayne hain lekin hum log kehte hain kuch na kuch mila jula roop hai jaise maharshi patanjali ne bataya tha aur jaha tak ka yog ke bare mein bhagwan krishna ne geeta mein jo updesh diya hai vaah bhi karm yog ke bare mein unhone iska ullekh kiya hai dhanyavad

क्वेश्चन है वास्तव में योग कितने प्रकार के होते हैं तो मैं आपको बताना चाहूंगा योग चार प्रक

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  1012
WhatsApp_icon
user

Rajesh Yogi

Yogacharya in Shivyoga Chandigarh

1:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखो मयंक कि ये जो युग ऋषि पंचमी में चलाया है जो अष्टांग योग बताए गए योग बताओ जो है सो है ज्ञान योग है तो विभिन्न प्रकार के योग हैं तो योग संयोग ही होता है जब आप किसी के संपर्क में आते हैं तो वह इंसान बताता कि आपको भी कौन सा योग योग करना है कि जॉब तो अव्यवस्था है मतलब योग में जोड़ ना कि भगवान से जुड़ना तो कभी कनेक्ट हो तो अपने आप से भी भगवान से भी तब आप योगी सिद्ध में रहोगे और आपका शरीर स्वस्थ होगा तो आसन क्या है विभिन्न प्रकार के आसन है तुमको करते हो तो धीरे-धीरे आपका शरीर स्वस्थ होता है फिर आप अंतरंग मन से अपने अंदर के मन से जोड़ते हो हमारे खेत हमारे जो विज्ञान में रोष है आनंद ले सकते हो तो आज दिन दिन तक आरके आपसे नहीं बात करके आपको फिट

dekho mayank ki ye jo yug rishi panchami mein chalaya hai jo ashtanga yog bataye gaye yog batao jo hai so hai gyaan yog hai toh vibhinn prakar ke yog hain toh yog sanyog hi hota hai jab aap kisi ke sampark mein aate hain toh vaah insaan batata ki aapko bhi kaun sa yog yog karna hai ki job toh avyayvastha hai matlab yog mein jod na ki bhagwan se judna toh kabhi connect ho toh apne aap se bhi bhagwan se bhi tab aap yogi siddh mein rahoge aur aapka sharir swasth hoga toh aasan kya hai vibhinn prakar ke aasan hai tumko karte ho toh dhire dhire aapka sharir swasth hota hai phir aap antarang man se apne andar ke man se jodte ho hamare khet hamare jo vigyan mein rosh hai anand le sakte ho toh aaj din din tak RK aapse nahi baat karke aapko fit

देखो मयंक कि ये जो युग ऋषि पंचमी में चलाया है जो अष्टांग योग बताए गए योग बताओ जो है सो है

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  574
WhatsApp_icon
user

Om Bahadur Thapa

Yoga Instructor

0:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

होंडा की भोंसड़ी देखना हो गया गुरुकुल बहुत मानता हूं

Honda ki bhonsadi dekhna ho gaya gurukul bahut manata hoon

होंडा की भोंसड़ी देखना हो गया गुरुकुल बहुत मानता हूं

Romanized Version
Likes  27  Dislikes    views  414
WhatsApp_icon
user
0:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योग योग तो एक ही है जो पुरातन काल से आया है लेकिन अलग-अलग उसके अभी जो भी ऋषि-मुनियों ने बताया उसके नाम से वह विचलित हो जाता है सबसे प्रचलित है अष्टांग योग पतंजलि में बनाया है और उसे हम कैसे कर सकते हैं या नहीं अवश्य लिखें आसन प्राणायाम प्रत्याहार धारणा ध्यान और समाधि यह आधार वहां पर बताया जाए इसलिए अष्टांग योग बोला गया है स्वामी विवेकानंदन यही कि उसको फिर राज्यों के नाम पर बताया फिर कुंडली में योग है अपना क्या मंत्र योग है अलग-अलग उसके नाम दिए जा रहे लेकिन वह भी तो एक ही है और सबसे प्रचलित जो योग है वह है अष्टांग योग

yog yog toh ek hi hai jo puratan kaal se aaya hai lekin alag alag uske abhi jo bhi rishi muniyon ne bataya uske naam se vaah vichalit ho jata hai sabse prachalit hai ashtanga yog patanjali mein banaya hai aur use hum kaise kar sakte hain ya nahi avashya likhen aasan pranayaam pratyahar dharana dhyan aur samadhi yah aadhaar wahan par bataya jaaye isliye ashtanga yog bola gaya hai swami vivekanandan yahi ki usko phir rajyo ke naam par bataya phir kundali mein yog hai apna kya mantra yog hai alag alag uske naam diye ja rahe lekin vaah bhi toh ek hi hai aur sabse prachalit jo yog hai vaah hai ashtanga yog

योग योग तो एक ही है जो पुरातन काल से आया है लेकिन अलग-अलग उसके अभी जो भी ऋषि-मुनियों ने बत

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  128
WhatsApp_icon
user

Dr. Sandeep Nandi

Yoga, Meditation and Acupressure Healer

1:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पतियों को क्या हो गया हो गया हो गया हो गया तो कई लोग अपना ज्ञान इतना बड़ा लेते हैं कि वह कनेक्ट हो जाते हैं ऊपर वाले पर भगवान के हाथ में हमने आपके सपने को अपने आप को आप को समर्पित कर दिया है आप ही हमें रास्ता दिखाएंगे तो वह हो जाते हैं जैसे आपने सूफियाना सुना होगा जो अमर श्री पति के लिए नया ताजा साल पहले डिजाइन किया था नियम आसन प्राणायाम धरना था कि खुश हो जाते हैं योग हो गया

patiyon ko kya ho gaya ho gaya ho gaya ho gaya toh kai log apna gyaan itna bada lete hain ki wah connect ho jaate hain upar wale par bhagwan ke hath mein humne aapke sapne ko apne aap ko aap ko samarpit kar diya hai aap hi humein rasta dikhaenge toh wah ho jaate hain jaise aapne sufiyana suna hoga jo amar shri pati ke liye naya taaza saal pehle design kiya tha niyam aasan pranayaam dharna tha ki khush ho jaate hain yog ho gaya

पतियों को क्या हो गया हो गया हो गया हो गया तो कई लोग अपना ज्ञान इतना बड़ा लेते हैं कि वह क

Romanized Version
Likes  27  Dislikes    views  415
WhatsApp_icon
user

Amit Singh

Yoga & Naturopath

0:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भक्ति विलास हमारे आश्रम में 84 लाख जून में खेतासराय अष्टांग योग योग योग योग

bhakti vilas hamare ashram mein 84 lakh june mein khetasray astang yog yog yog yog

भक्ति विलास हमारे आश्रम में 84 लाख जून में खेतासराय अष्टांग योग योग योग योग

Romanized Version
Likes  28  Dislikes    views  706
WhatsApp_icon
user

Acharya Hukum Chand

Yoga Instructor

0:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

व्यक्ति विरोध को योग कहा है योगा एक नहीं है जितनी भी है जितने भी हमारी वृत्तियां हैं कौन व्रतियों के साथ में योग की फैकल्टी बन जाती है

vyakti virodh ko yog kaha hai yoga ek nahi hai jitni bhi hai jitne bhi hamari vrittiyan hain kaun vratiyon ke saath mein yog ki faculty ban jati hai

व्यक्ति विरोध को योग कहा है योगा एक नहीं है जितनी भी है जितने भी हमारी वृत्तियां हैं कौन व

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  595
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योगा तो मेन तुझे ना उसके अंदर योगा के अंदर मेन चीज क्या होती है एक तो टाइम होता है और दूसरा उसके बाद से आतंक होते हैं और उसी में सेंड कर देते इसको पूरा करके उसको प्रीमेडीटेशन अलग-अलग नाम बिजली आदि मेडिसिन भोजन हो गया यह सेटिंग हो गया अलग-अलग पावर योगा हो गया हो गया क्या तुम चेयर पर बैठ कर कर देना उसमें कराते

yoga toh main tujhe na uske andar yoga ke andar main cheez kya hoti hai ek toh time hota hai aur doosra uske baad se aatank hote hain aur usi mein send kar dete isko pura karke usko primediteshan alag alag naam bijli aadi medicine bhojan ho gaya yeh setting ho gaya alag alag power yoga ho gaya ho gaya kya tum chair par baith kar kar dena usme karate

योगा तो मेन तुझे ना उसके अंदर योगा के अंदर मेन चीज क्या होती है एक तो टाइम होता है और दूसर

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  171
WhatsApp_icon
user

Renu Jhalani

Yoga Instructor

0:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आयोग में जो योग है 1 सालों से दूर 8000 साल पहले से जो चला है उसको वह तो क्लासिकल यह हमारे ऋषि-मुनियों ने बताया था कि जिनके योग किसको बोलते हैं तो कुछ भी नहीं है एक ही है कि कलयुग में

aayog mein jo yog hai 1 salon se dur 8000 saal pehle se jo chala hai usko wah toh classical yeh hamare rishi muniyon ne bataya tha ki jinke yog kisko bolte hain toh kuch bhi nahi hai ek hi hai ki kalyug mein

आयोग में जो योग है 1 सालों से दूर 8000 साल पहले से जो चला है उसको वह तो क्लासिकल यह हमारे

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  581
WhatsApp_icon
user

Manoj Patidar

Yoga Instructor

1:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

व्हाट्सएप में कई प्रकार के हैं जिसे अलग-अलग ऋषि-मुनियों ने अपने शब्दों का प्रयोग बताएं कितने हड्डी योग बताया कितने राज्यों को बताया है और किसी ने भक्ति योग बताएं सब लोग अलग-अलग प्रकार के ऐसे कई प्रकार के लोग होते हैं भक्ति योग राज योग योग योग योग योग योग जो हम आसन प्राणायाम करते हैं वह है जो खिलाता राजयोग मतलब अपनी आत्मा को परमात्मा से मिला ना वह जाता तो सबसे ज्यादा प्रतियोगिता में सूर्य और चंद्रमा से मिलकर बना होता है और मन दोनों पर यह वर्तमान जीवन में हर व्यक्ति करता है तो काफी अच्छा उसने हमें लाभ मिलता है और पार्टियों से बात नहीं की अष्टांग योग इस्कंदर 8 नियम होते हैं यम नियम का पालन हमारे जीवन में उतार लेते हैं तो हम शारीरिक और मानसिक दोनों रूप से अस्वस्थ रह सकते हैं क्योंकि यम नियम के अंदर क्या होता है इंसान से ब्रह्मचर्य का पालन करना होता नियंत्रण संतोष संतोष तक स्वाध्याय सरपंच का पालन करना होता है उसके बाद में फिर जॉनसन करके हमारे को मजबूत बना करके प्रणाम करके हम हमारे मन को बहुत ध्यान करके हमारे अपने आप को हम बहुत करते हैं

whatsapp mein kai prakar ke hain jise alag alag rishi muniyon ne apne shabdo ka prayog bataye kitne haddi yog bataya kitne rajyo ko bataya hai aur kisi ne bhakti yog bataye sab log alag alag prakar ke aise kai prakar ke log hote hain bhakti yog raaj yog yog yog yog yog yog jo hum aasan pranayaam karte hain wah hai jo khilata rajyog matlab apni aatma ko paramatma se mila na wah jata toh sabse zyada pratiyogita mein surya aur chandrama se milkar bana hota hai aur man dono par yeh vartaman jeevan mein har vyakti karta hai toh kaafi accha usne humein labh milta hai aur partiyon se baat nahi ki astang yog iskandar 8 niyam hote hain yum niyam ka palan hamare jeevan mein utar lete hain toh hum sharirik aur mansik dono roop se asvasth reh sakte hain kyonki yum niyam ke andar kya hota hai insaan se brahmacharya ka palan karna hota niyantran santosh santosh tak svadhyaay sarpanch ka palan karna hota hai uske baad mein phir Johnson karke hamare ko majboot bana karke pranam karke hum hamare man ko bahut dhyan karke hamare apne aap ko hum bahut karte hain

व्हाट्सएप में कई प्रकार के हैं जिसे अलग-अलग ऋषि-मुनियों ने अपने शब्दों का प्रयोग बताएं कित

Romanized Version
Likes  40  Dislikes    views  463
WhatsApp_icon
user

Munish kumar Dubey

Yoga Teacher

0:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योग के छह प्रकार हैं हठयोग है राजयोग है मंत्रियों के भक्ति योगा ज्ञान योग है और कर्म योग बाकी तो उसके अंग है अलग-अलग कंप्लीट करने वाले मंत्र द्वारा मैंगो कंप्लीट होते हैं भक्ति भाव से ध्यान को कंप्लीट किया जाता है स्वस्थ रहकर के व्यक्ति के ध्यान को कंप्लेंट कर सकते हैं क्योंकि बीमारी आसुस व्यक्ति ध्यान नहीं कर सकता

yog ke cheh prakar hain hathyog hai rajyog hai mantriyo ke bhakti yoga gyaan yog hai aur karm yog baki toh uske ang hai alag alag complete karne waale mantra dwara mango complete hote hain bhakti bhav se dhyan ko complete kiya jata hai swasth rahkar ke vyakti ke dhyan ko complaint kar sakte hain kyonki bimari Asus vyakti dhyan nahi kar sakta

योग के छह प्रकार हैं हठयोग है राजयोग है मंत्रियों के भक्ति योगा ज्ञान योग है और कर्म योग ब

Romanized Version
Likes  166  Dislikes    views  2552
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इंडिया में बहुत प्रकार के योग है जैसे हम प्राचीन ग्रंथों में जो पढ़ते हैं 8 लोग हैं जो हम करते हैं मंत्र योग है लोग हैं योग है राजयोग है तो ऐसे बहुत सारे लोग हैं जो देश के शुरुआती पावर योगा हॉट योगा कोठियों का राशि है अपना-अपना जो आपने आज का एक अलग से एक सीरीज बना दिए हैं जिसको अलग नाम दिया गया है

india mein bahut prakar ke yog hai jaise hum prachin granthon mein jo padhte hain 8 log hain jo hum karte hain mantra yog hai log hain yog hai rajyog hai toh aise bahut saare log hain jo desh ke shuruati power yoga hot yoga kothiyon ka rashi hai apna apna jo aapne aaj ka ek alag se ek series bana diye hain jisko alag naam diya gaya hai

इंडिया में बहुत प्रकार के योग है जैसे हम प्राचीन ग्रंथों में जो पढ़ते हैं 8 लोग हैं जो हम

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  171
WhatsApp_icon
user

Alok Sharma

Yoga Teacher

0:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज के समय में लोगों ने अलग-अलग तरीके से योग को मॉडिफाई किया हुआ है उसके कई भाग बना दिए हैं लेकिन जो सबसे पॉपुलर जो हमारे स्क्रिप्चर हमारे ग्रंथों में हैं वह केवल हटाओ और राजयोग है बाकी ऐसे बहुत सारे लोग हैं जरा भगवत गीता में लेते हैं तो ज्ञान योग मंत्र योग भक्ति योग बहुत सारे होगा है जो मैं केवल उन्हीं योग मानता हूं जो हमारे पिक्चर्स में हैं आज के समय में लोगों ने अपने अपने नाम से जो जिसको डेवलप कर रहे हैं वह सिर्फ क्या है एक अपनी पब्लिसिटी के लिए है उसको मैं नहीं मानता मैं भगवत गीता को मानता हूं हट हट योगा और राजू का भजन

aaj ke samay mein logo ne alag alag tarike se yog ko madifai kiya hua hai uske kai bhag bana diye hain lekin jo sabse popular jo hamare scripture hamare granthon mein hain wah keval hatao aur rajyog hai baki aise bahut saare log hain jara bhagwat geeta mein lete hain toh gyaan yog mantra yog bhakti yog bahut saare hoga hai jo main keval unhi yog manata hoon jo hamare Pictures mein hain aaj ke samay mein logo ne apne apne naam se jo jisko develop kar rahe hain wah sirf kya hai ek apni publicity ke liye hai usko main nahi manata main bhagwat geeta ko manata hoon hut hut yoga aur raju ka bhajan

आज के समय में लोगों ने अलग-अलग तरीके से योग को मॉडिफाई किया हुआ है उसके कई भाग बना दिए हैं

Romanized Version
Likes  93  Dislikes    views  1355
WhatsApp_icon
user

Nikhal Kumar

Yoga Trainer

3:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पता था बबीता में ओरिजिनल का मतलब अपना आत्मा को परमात्मा सिस्टम से कनेक्ट करना है तो कौन बोल सकते हैं जैसे कि आप अपने माता पिता जी कौन है पता करना है कि मेरे पिता जी कौन है उसको जानना है तो आप जो अपनी मां को है और जो जीता है भव्यतम है दीदार के तेरे नाल की इश्क ने अपनी मां को सलामत रखना कि पूछेंगे कि कौन है माता-पिता तो जालंधर धर्मात्मा पिक्चर महाराष्ट्र के युद्ध में डॉक्टर और हमेशा जल्दी उसके दाम कृष्णा का ध्यान करते इतने करा जाता है लोग सिखाते हैं जाने जा पुराना जितनी दफा के बारे में जानेंगे हरे राम हरे राम हरे राम हरे राम हरे राम हरे राम का जो आत्मा है परमात्मा कृष्ण के टोंक जिले से जुड़ेगा वह भक्ति हो गया तो करण और और शोध और शोध से आप जनता जल योजना कुरुक्षेत्र कुरुक्षेत्र बताएं कि आप मेरे पास

pata tha Babita mein original ka matlab apna aatma ko paramatma system se connect karna hai toh kaun bol sakte hain jaise ki aap apne mata pita ji kaun hai pata karna hai ki mere pita ji kaun hai usko janana hai toh aap jo apni maa ko hai aur jo jita hai bhavyatam hai deedar ke tere naal ki ishq ne apni maa ko salamat rakhna ki puchenge ki kaun hai mata pita toh jalandhar dharmatma picture maharashtra ke yudh mein doctor aur hamesha jaldi uske dam krishna ka dhyan karte itne kara jata hai log sikhate hain jaane ja purana jitni dafa ke bare mein janenge hare ram hare ram hare ram hare ram hare ram hare ram ka jo aatma hai paramatma krishna ke tonk jile se judega wah bhakti ho gaya toh karan aur aur shodh aur shodh se aap janta jal yojana kurukshetra kurukshetra bataye ki aap mere paas

पता था बबीता में ओरिजिनल का मतलब अपना आत्मा को परमात्मा सिस्टम से कनेक्ट करना है तो कौन बो

Romanized Version
Likes  22  Dislikes    views  412
WhatsApp_icon
user

Rajshree Kshirsagar

Yoga Instructor

0:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अष्टांग योग ध्यान होता है जो बहुत ज्ञानी हो गए कर्मयोग है भक्ति हो गया भगा दिया उसने कोई जरूरी नहीं करनी चाहिए आप ध्यान भी लगा सकते हैं आप मुद्राओं से फायदा होता है स्वर कौन सा चलता है रोता है रोता है मन प्रयोग होता है मंत्रों से भी शरीर को फायदा होता जो प्यार करते हैं

astang yog dhyan hota hai jo bahut gyani ho gaye karmayog hai bhakti ho gaya bhaga diya usne koi zaroori nahi karni chahiye aap dhyan bhi laga sakte hain aap mudrawon se fayda hota hai swar kaun sa chalta hai rota hai rota hai man prayog hota hai mantron se bhi sharir ko fayda hota jo pyar karte hain

अष्टांग योग ध्यान होता है जो बहुत ज्ञानी हो गए कर्मयोग है भक्ति हो गया भगा दिया उसने कोई ज

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  565
WhatsApp_icon
user

Yogacharya Raju Soni

Yoga Instructor - Aum Yog And Naturopathy Centre

0:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तो बहुत बृष्टिट है कि वे योग नहीं आसन प्राणायाम मुद्रा बंध धारणा ध्यान समाधि क्रियाएं त्राटक और यम और नियम है इतने सारे होते हैं यह दृश्य के अट्ठारह प्रकार के कुछ है

toh bahut brishtit hai ki ve yog nahi aasan pranayaam mudra bandh dharana dhyan samadhi kriyaen tratak aur yum aur niyam hai itne saare hote hain yah drishya ke attharah prakar ke kuch hai

तो बहुत बृष्टिट है कि वे योग नहीं आसन प्राणायाम मुद्रा बंध धारणा ध्यान समाधि क्रियाएं त्रा

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  5
WhatsApp_icon
user

Pradeep Khanagwal

Yoga Instructor

1:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखो यहां पर बोलते नहीं सुना जाती है इसके अनेक प्रकार इस प्रकार नहीं है अनेक प्रकार कैसे होते हैं जैसे कि आज कल का दिन जो ट्रेन चल रहा है जो वीडियो गाना यह हो गए क्या होता है उसमें उसके बाद से नाम शुरू कर दिया इसका कोई प्रकार है कि नहीं उसके प्रकार की बहुत हो चुके हैं

dekho yahan par bolte nahi suna jati hai iske anek prakar is prakar nahi hai anek prakar kaise hote hain jaise ki aaj kal ka din jo train chal raha hai jo video gaana yeh ho gaye kya hota hai usme uske baad se naam shuru kar diya iska koi prakar hai ki nahi uske prakar ki bahut ho chuke hain

देखो यहां पर बोलते नहीं सुना जाती है इसके अनेक प्रकार इस प्रकार नहीं है अनेक प्रकार कैसे ह

Romanized Version
Likes  31  Dislikes    views  396
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
योग कितने प्रकार के होते ; योग कितने प्रकार के होते हैं ; yog kitne prakar ke hote hain ; yoga kitne prakar ke hote hain ; योगासन कितने प्रकार के होते हैं ; yog kitne hote hain ; yog ke kitne prakar hote hain ; yog ke prakar kitne hote hain ; yog kitne prakar ka hota hai ; योग कितने प्रकार का होता है ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!