आपके शरीर के लिए योग और ध्यान क्या कर सकते हैं?...


user

Arjun Raghavan

Yoga Instructor

1:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

शरीर के लिए योग विद्यार्थियों को एचडी बॉडीगार्ड फुल लेंथ फोन टोन कर सकते हैं योगेंद्र और इसे की एक नई स्टाइल के हम लोग ब्रश करते हैं ना तो बस ऐसे ही मिलता है अच्छा है और ध्यान करने से ध्यान करने से कि वह ट्रेन में भूख रे नाचो रे नाचो इंग्लिश कर सकते हैं इस तरह भाई प्लीज रिपेयरिंग पोकलेन के अंदर केमिकल है जो इंग्लिश कब सोते हैं वैसे भी मेडिटेशन से हमको sr300 मिलता है

sharir ke liye yog vidyarthiyon ko hd bodygaurd full length phone tone kar sakte hain yogendra aur ise ki ek nayi style ke hum log brush karte hain na toh bus aise hi milta hai accha hai aur dhyan karne se dhyan karne se ki vaah train mein bhukh ray nacho ray nacho english kar sakte hain is tarah bhai please repairing poklen ke andar chemical hai jo english kab sote hain waise bhi meditation se hamko sr300 milta hai

शरीर के लिए योग विद्यार्थियों को एचडी बॉडीगार्ड फुल लेंथ फोन टोन कर सकते हैं योगेंद्र और इ

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  147
WhatsApp_icon
30 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Rangoli Singh

Yoga Instructor

0:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

झूठ और महत्वपूर्ण यांत्रिक क्या कमियां है क्या खूबियां है आत्मा से परमात्मा के मिलन होता है ध्यान से विकास मानसिक विकास आंतरिक विकास करते हैं

jhuth aur mahatvapurna yantrik kya kamiyan hai kya khubiya hai aatma se paramatma ke milan hota hai dhyan se vikas mansik vikas aantarik vikas karte hain

झूठ और महत्वपूर्ण यांत्रिक क्या कमियां है क्या खूबियां है आत्मा से परमात्मा के मिलन होता ह

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  90
WhatsApp_icon
user

inderjeet singh

Yoga Trainer

0:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हम अपने शरीर के लिए योग और ध्यान दोनों कर सकते हैं उसके साथ में प्राणायाम के में करने होंगे कि जब हम योगासन करते हैं उसके बाद में हमें प्राणायाम जरूर करना चाहिए प्राणायाम करने के बाद में हमें ध्यान जरूर करना चाहिए तो यह तीनों प्रोसेस करने हमें न हमने जब हम तीनों प्रोसेस करते हैं तो हमारे बॉडी हमारी ब्रत हमारा मन संतुलित होते बैलेंस होते उसके लिए हमको तीनों करने

hum apne sharir ke liye yog aur dhyan dono kar sakte hain uske saath me pranayaam ke me karne honge ki jab hum yogasan karte hain uske baad me hamein pranayaam zaroor karna chahiye pranayaam karne ke baad me hamein dhyan zaroor karna chahiye toh yah tatvo process karne hamein na humne jab hum tatvo process karte hain toh hamare body hamari Brat hamara man santulit hote balance hote uske liye hamko tatvo karne

हम अपने शरीर के लिए योग और ध्यान दोनों कर सकते हैं उसके साथ में प्राणायाम के में करने होंग

Romanized Version
Likes  101  Dislikes    views  1120
WhatsApp_icon
user

Yog Guru Gyan Ranjan Maharaj

Founder & Director - Kashyap Yogpith

3:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका क्वेश्चन है आपके शरीर के लिए योग और ध्यान क्या कर सकते हैं देखिए शरीर के लिए योग और ध्यान आपको आंतरिक से लेकर बाय दो ही स्थितियों को बिल्कुल बदल देते हैं ऐसा नहीं है आंतरिक बदलाव और बाय वरना यह इस स्वरूप को बिल्कुल देखने को मिल जाता है कि व्यक्ति जो भी व्यक्ति योग करता है ज्ञान करता है उसके आंतरिक और बाएं दोनों में परिवर्तन देखा गया है आप तक योग करने वाला व्यक्ति को आप दूर से भी पहचान सकते हैं कि यह व्यक्ति योग करता है ध्यान करता है नेटेशन करता है ऐसा नहीं है इसलिए योग के ऊपर थोड़ा भी संदेह करना ठीक नहीं है दूसरी बात यह है कि योग के अंतर्गत आने वाले जो आसन है उस शारीरिक शुद्धता मानसिक शुद्धता और बौद्धिक क्षमता प्रदान करते हैं बिल्कुल आचरण में सुधार देते हैं और निरोगी काया हमें प्रदान करते हैं कारण कि स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ आत्मा का वास होता है आप सुने भी होंगे एक चीज योग नहीं देखने को मिलता है अब रह गई जहां तक मैं स्टेशन की बात तुम मेडिकेशन तो एक ऐसा चीज है किसके माध्यम से आप लौकिक पारलौकिक यह अलौकिक भूत भविष्य वर्तमान तीनों को आप आंख बंद करके देख सकते हैं आप कहीं विदेश में हैं और हमारे इंडिया के रहने वाले हैं आप अपने घर में आंख बंद करके उस जगह पर अपना ध्यान केंद्रित करेंगे सब कुछ आपको दिखना शुरू हो जाएगा बशर्ते कि आप आप करने आता हो और मैं किचन में आप की अच्छी पकड़ इसलिए योग के अंतर्गत मेडिसन हुआ प्रणाम आसन हुआ इसका तो कोई जोड़ ही नहीं है यह सारे चीज भेजो अपने आप भैया अमृत के समान है इस युवर वेकेशन के बारे में कभी भी इस तरह की सोच ठीक नहीं होती है धन्यवाद

aapka question hai aapke sharir ke liye yog aur dhyan kya kar sakte hain dekhiye sharir ke liye yog aur dhyan aapko aantarik se lekar bye do hi sthitiyo ko bilkul badal dete hain aisa nahi hai aantarik badlav aur bye varna yah is swaroop ko bilkul dekhne ko mil jata hai ki vyakti jo bhi vyakti yog karta hai gyaan karta hai uske aantarik aur baen dono me parivartan dekha gaya hai aap tak yog karne vala vyakti ko aap dur se bhi pehchaan sakte hain ki yah vyakti yog karta hai dhyan karta hai neteshan karta hai aisa nahi hai isliye yog ke upar thoda bhi sandeh karna theek nahi hai dusri baat yah hai ki yog ke antargat aane waale jo aasan hai us sharirik shuddhta mansik shuddhta aur baudhik kshamta pradan karte hain bilkul aacharan me sudhaar dete hain aur nirogee kaaya hamein pradan karte hain karan ki swasth sharir me hi swasth aatma ka was hota hai aap sune bhi honge ek cheez yog nahi dekhne ko milta hai ab reh gayi jaha tak main station ki baat tum medication toh ek aisa cheez hai kiske madhyam se aap laukik parlaukik yah alaukik bhoot bhavishya vartaman tatvo ko aap aankh band karke dekh sakte hain aap kahin videsh me hain aur hamare india ke rehne waale hain aap apne ghar me aankh band karke us jagah par apna dhyan kendrit karenge sab kuch aapko dikhana shuru ho jaega basharte ki aap aap karne aata ho aur main kitchen me aap ki achi pakad isliye yog ke antargat medicine hua pranam aasan hua iska toh koi jod hi nahi hai yah saare cheez bhejo apne aap bhaiya amrit ke saman hai is yuvar vacation ke bare me kabhi bhi is tarah ki soch theek nahi hoti hai dhanyavad

आपका क्वेश्चन है आपके शरीर के लिए योग और ध्यान क्या कर सकते हैं देखिए शरीर के लिए योग और ध

Romanized Version
Likes  249  Dislikes    views  4408
WhatsApp_icon
user

Parveen kumar

Yoga Therapist

0:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योगा मेडिटेशन योग और मीटिंग वापस मैनपुरी पूर्ण होता है शरीर के लिए हमारी टेंशन है और जो एरिया

yoga meditation yog aur meeting wapas mainpuri purn hota hai sharir ke liye hamari tension hai aur jo area

योगा मेडिटेशन योग और मीटिंग वापस मैनपुरी पूर्ण होता है शरीर के लिए हमारी टेंशन है और जो एर

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  119
WhatsApp_icon
user

Chesta Bindra

Yoga Teacher ( Diploma In Yoga )

0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक ऐसी चिड़िया है जो आजकल जो इंटीग्रेशन हमको टेंशन बहुत है इसलिए हम लोग अपना बीमारियां शरीर में बीमारी को अपना लिया मेडिटेशन

ek aisi chidiya hai jo aajkal jo integration hamko tension bahut hai isliye hum log apna bimariyan sharir mein bimari ko apna liya meditation

एक ऐसी चिड़िया है जो आजकल जो इंटीग्रेशन हमको टेंशन बहुत है इसलिए हम लोग अपना बीमारियां शरी

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  129
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो जय श्री राम संदीप योग शिक्षक बात करते हैं आपके प्रश्न कि आपका प्रश्न है हमारे शरीर के लिए योग और ध्यान क्या कर सकता है योग सिर्फ शारीरिक तौर पर ही नहीं है योग का महत्व आंतरिक मानसिक तौर पर भी अगर सही मायने में योग को समझेंगे तो पूरी जिंदगी काटा है योग क्योंकि जब आप पैदा होते हैं तब से ही आपके कर्मयोग चालू हो जाते हैं रही बात अभी के योग की बात करते हैं शायद वह बहुत भी हो जाएगा समझने के लिए अभी जो जो ओके आपने जो पूछा है कि ध्यान क्या करें जी ध्यान अगर करते हैं आप तो आप मानसिक तौर पर बहुत स्ट्रांग हो जाएंगे किसी भी चीज का निर्णय लेना आप छुट्टियों में ले लेंगे तो आप योग कीजिए लेकिन योग को सिर्फ एक ही चीज से लेट मत कीजिए क्योंकि योग अपने आप में एक कई सारी चीजें कॉल कर देता है अब समझ में मेरी बात को थैंक यू सो मच जय श्री राम

hello jai shri ram sandeep yog shikshak baat karte hain aapke prashna ki aapka prashna hai hamare sharir ke liye yog aur dhyan kya kar sakta hai yog sirf sharirik taur par hi nahi hai yog ka mahatva aantarik mansik taur par bhi agar sahi maayne me yog ko samjhenge toh puri zindagi kaata hai yog kyonki jab aap paida hote hain tab se hi aapke karmayog chaalu ho jaate hain rahi baat abhi ke yog ki baat karte hain shayad vaah bahut bhi ho jaega samjhne ke liye abhi jo jo ok aapne jo poocha hai ki dhyan kya kare ji dhyan agar karte hain aap toh aap mansik taur par bahut strong ho jaenge kisi bhi cheez ka nirnay lena aap chhuttiyon me le lenge toh aap yog kijiye lekin yog ko sirf ek hi cheez se late mat kijiye kyonki yog apne aap me ek kai saari cheezen call kar deta hai ab samajh me meri baat ko thank you so match jai shri ram

हेलो जय श्री राम संदीप योग शिक्षक बात करते हैं आपके प्रश्न कि आपका प्रश्न है हमारे शरीर क

Romanized Version
Likes  35  Dislikes    views  1205
WhatsApp_icon
Likes  37  Dislikes    views  1001
WhatsApp_icon
play
user

Narendar Gupta

प्राकृतिक योगाथैरिपिस्ट एवं योगा शिक्षक,फीजीयोथैरीपिस्ट

0:30

Likes  250  Dislikes    views  1536
WhatsApp_icon
user

Gyanchand Soni

Yoga Instructor.

0:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

शुरू में में योग और प्राणायाम का अभ्यास करना चाहिए जब प्राणायाम करते हैं यह सब करते हुए काफी कौन से महीने गुजर जाए या तीन चार महीने गुजर जाए तो हमें फिर मेडिटेशन का अभ्यास भी करना चाहिए धन्यवाद आपका दिन शुभ रहे

shuru me me yog aur pranayaam ka abhyas karna chahiye jab pranayaam karte hain yah sab karte hue kaafi kaun se mahine gujar jaaye ya teen char mahine gujar jaaye toh hamein phir meditation ka abhyas bhi karna chahiye dhanyavad aapka din shubha rahe

शुरू में में योग और प्राणायाम का अभ्यास करना चाहिए जब प्राणायाम करते हैं यह सब करते हुए का

Romanized Version
Likes  229  Dislikes    views  2882
WhatsApp_icon
user

xyz

nothing

1:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पहली बात मैं आपको यह बताना चाहिए कि योग और ध्यान अगर चीज नहीं है योग में ही ध्यान आता है योग का ही एक मां एक तरीका है ध्यान योग आप लोग आसन को योग समझते हैं और ध्यान जो आंखें बंद करके बैठे होते हैं उसको ध्यान से मिलते हैं ऐसा नहीं है योग मतलब उसमें आसन भी है प्राणायाम भी है और ध्यान भी है वैसे ध्यान नहीं है ज्ञान हो जाता है और धारणा धारणा है तो पसी तो थोड़ा सा यह मजदूर कीजिए योग लोग जो है आसन को योग कहते हैं और बैठने को ध्यान करते हैं इसको आजा गलत मत कीजिए रोक लेंगे ध्यान आता है और आसन इसलिए ध्यान और योग मजाक नहीं है और शरीर के लिए चाहे मां शंकरी चाहे अकेले ध्यान कीजिए दोनों ही फायदेमंद है शरीर और मन की

pehli baat main aapko yah bataana chahiye ki yog aur dhyan agar cheez nahi hai yog mein hi dhyan aata hai yog ka hi ek maa ek tarika hai dhyan yog aap log aasan ko yog samajhte hain aur dhyan jo aankhen band karke baithe hote hain usko dhyan se milte hain aisa nahi hai yog matlab usme aasan bhi hai pranayaam bhi hai aur dhyan bhi hai waise dhyan nahi hai gyaan ho jata hai aur dharana dharana hai toh pasi toh thoda sa yah majdur kijiye yog log jo hai aasan ko yog kehte hain aur baithne ko dhyan karte hain isko aajad galat mat kijiye rok lenge dhyan aata hai aur aasan isliye dhyan aur yog mazak nahi hai aur sharir ke liye chahen maa sunkari chahen akele dhyan kijiye dono hi faydemand hai sharir aur man ki

पहली बात मैं आपको यह बताना चाहिए कि योग और ध्यान अगर चीज नहीं है योग में ही ध्यान आता है य

Romanized Version
Likes  150  Dislikes    views  1881
WhatsApp_icon
user

Sudipto Biswas

Founder & Director - Abhijnan Yoga & Physiothera..

6:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

धन्यवाद देखिए जो आज्ञा मेडिटेशन जो लोग अलग-अलग बोलते हैं गलत है गलत इसका अंदर ही ध्यान है मैं बताऊं ऋषि पतंजलि जो फाउंडर बोला जाता है जोक शब्दों का पतंजलि जो का जो एक बार दर्शन कराए हैं हम लोगों को 8 मार्च के लिए 1 मार्च के नाम हैं यम नियम आसन प्राणायाम प्रत्याहार धारणा ध्यान या मेडिटेशन समाधि समाधि जोजो का अंदर सेवंथ जपला इसीलिए जो गर्दन अलग से बोलना तो बोलना मेरे ख्याल से जोक सांसों का ख्याल से ठीक नहीं है और घर का काम करने के लिए फायदा है फायदा है बस सर्कुलेटिंग सिस्टम अच्छा कर देता है एनर्जी लेवल पर देता है इन से अच्छा करते हैं जो लोग जो काम के लिए एकदम सक्सेस का तुल्य मत जाना चाहते हैं बहुत अच्छा सा छुपाना चाहते हैं इसलिए उसको लीडरशिप क्वालिटीज का योगा करने से आदमी का लीडरशिप क्वालिटीज अच्छा होता होता होता है और जो है यह कंसंट्रेशन पावर अच्छा हो जाता है कंसंट्रेशन पावर अच्छा हो जाने से आदमी या औरत जो काम ही कर करने के लिए जाएंगे उनका कंसंट्रेशन अच्छा होने से वह कर सकते हैं एवं जो होता है बहुत दिन तक चीज सीखे है उस चीज को आप कमा सकते हैं जो लोग नहीं करता है ऐसा देश है मैंने फिर कुछ सीखते है सीखने का बाद कुछ देर बाद ही रुक जाता है ज्यादा से ज्यादा नहीं रख पाते हैं अगर किसी ज्यादा इतना अंतर में नहीं रख पाएंगे तो उनका जब प्रॉपर यूटिलाइजेशन का टाइम होता है टावर नहीं कर पाता है सफल नहीं हो पाता है जिंदगी में जिंदगी में तरक्की करना है या शरीर में स्पिरिचुअल अंकिता से करना है अच्छा लाइफ गुजारना चाहते हैं आनंदमय चिट्ठों में आदमी तीन जापान करना चाहते हैं तो इसके लिए जुगाड़ करना बहुत ही जरूरत है काम करना जरूरत है सबसे हॉट लोंग सच्चा होता है 800000 का कुछ बीमारी होता है वह भी ठीक हो जाता है लेकिन यह सब करने के लिए कुछ एक्सपोर्ट का कोई एक्सपोर्ट करता वादा में रहकर मने सुपर विजन में रहकर करना चाहिए फूल करने से ठीक नहीं होगा वह होता है उसका प्रॉब्लम आ सकता है हम लोग का जो फिल्म है वह कोशिश कर देता है फिर हो जाने से करना चाहते हैं तो वह काम सही ढंग से प्रॉपर नगर में कर सकते हैं हम लोग का सिस्टम नर्वस सिस्टम जो है आप जानते हैं कमर कमर का नीचे जो हम लोग का कॉकसिस कौन है तो कॉकसिस कौन से लेकर तक रिक्तम का जस्ट ऊपर मेकअप फेस वन से लेकर अंदर तक शुरू से पूरा सेंट्रल नर्वस सिस्टम हम लोग का है सेंट्रल नर्वस सिस्टम में 33 बाटी बना है स्थापित भाटीपुरा एवं सेंट्रल नर्वस सिस्टम में जो नस नस ट्रांसफर्सएक्सएल है उसके लिए के लिए उसमें द ट्रांसलेशन अच्छा करने के लिए अच्छा करने के लिए मेडिटेशन बहुत ही खराब है मेडिटेशन करने से और भी जो होता है मेमोरी फॉर्म भरते हैं आदमी को आदमी औरत सभी को देखना देखने बहुत अच्छा हो जाता है मेडिटेशन करने से लिए करने के लिए और जो खास बजा है आदमी को कैरेक्टर बहुत अच्छा हो जाता है हम लोग का जो यह है काम क्रोध लोभ मोह मद मत्सर जो हम लोग का जो सारे रितु है इस आदमी को डालते हैं जिंदगी में काम करते हैं जो ऋतु का चाटने से हो जाता है मेरी पूजा तो ना सही ढंग से इस्तेमाल करने के लिए मेडिटेशन बहुत अच्छा चीज है और भी फंक्शन है अभी के लिए इतना ही काफी है थैंक यू

dhanyavad dekhiye jo aagya meditation jo log alag alag bolte hain galat hai galat iska andar hi dhyan hai bataun rishi patanjali jo founder bola jata hai joke shabdon ka patanjali jo ka jo ek baar darshan karae hain hum logo ko 8 march ke liye 1 march ke naam hain yum niyam aasan pranayaam pratyahar dharana dhyan ya meditation samadhi samadhi jojo ka andar sevanth japala isliye jo gardan alag se bolna toh bolna mere khayal se joke shanson ka khayal se theek nahi hai aur ghar ka kaam karne ke liye fayda hai fayda hai bus sarkuleting system accha kar deta hai energy level par deta hai in se accha karte hain jo log jo kaam ke liye ekdam success ka tulya mat jana chahte hain bahut accha sa chupana chahte hain isliye usko leadership kwalitij ka yoga karne se aadmi ka leadership kwalitij accha hota hota hota hai aur jo hai yah kansantreshan power accha ho jata hai kansantreshan power accha ho jaane se aadmi ya aurat jo kaam hi kar karne ke liye jaenge unka kansantreshan accha hone se vaah kar sakte hain evam jo hota hai bahut din tak cheez sikhe hai us cheez ko aap kama sakte hain jo log nahi karta hai aisa desh hai maine phir kuch sikhate hai sikhne ka baad kuch der baad hi ruk jata hai zyada se zyada nahi rakh paate hain agar kisi zyada itna antar mein nahi rakh payenge toh unka jab proper yutilaijeshan ka time hota hai tower nahi kar pata hai safal nahi ho pata hai zindagi mein zindagi mein tarakki karna hai ya sharir mein Spiritual ankita se karna hai accha life gujarana chahte hain anandamay chitthon mein aadmi teen japan karna chahte hain toh iske liye jugaad karna bahut hi zarurat hai kaam karna zarurat hai sabse hot long saccha hota hai 800000 ka kuch bimari hota hai vaah bhi theek ho jata hai lekin yah sab karne ke liye kuch export ka koi export karta vada mein rahkar mane super vision mein rahkar karna chahiye fool karne se theek nahi hoga vaah hota hai uska problem aa sakta hai hum log ka jo film hai vaah koshish kar deta hai phir ho jaane se karna chahte hain toh vaah kaam sahi dhang se proper nagar mein kar sakte hain hum log ka system nervous system jo hai aap jante hain kamar kamar ka niche jo hum log ka kaksis kaun hai toh kaksis kaunsi lekar tak riktam ka just upar makeup face van se lekar andar tak shuru se pura central nervous system hum log ka hai central nervous system mein 33 bati bana hai sthapit bhatipura evam central nervous system mein jo nas nas transafarsaeksael hai uske liye ke liye usme the translation accha karne ke liye accha karne ke liye meditation bahut hi kharab hai meditation karne se aur bhi jo hota hai memory form bharte hain aadmi ko aadmi aurat sabhi ko dekhna dekhne bahut accha ho jata hai meditation karne se liye karne ke liye aur jo khaas baja hai aadmi ko character bahut accha ho jata hai hum log ka jo yah hai kaam krodh lobh moh mad matsar jo hum log ka jo saare ritu hai is aadmi ko daalte hain zindagi mein kaam karte hain jo ritu ka chatne se ho jata hai meri puja toh na sahi dhang se istemal karne ke liye meditation bahut accha cheez hai aur bhi function hai abhi ke liye itna hi kaafi hai thank you

धन्यवाद देखिए जो आज्ञा मेडिटेशन जो लोग अलग-अलग बोलते हैं गलत है गलत इसका अंदर ही ध्यान है

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  175
WhatsApp_icon
user

Nisha Bhimjiyani

Founder of Nisha's Yoga Studio, Rajkot, Gujarat

1:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

युग में आसन सूर्यनमस्कार प्राणायाम ध्यान आइडियलिस्ट्स करवाई जाती है हमारे आंगन में ब्लड सरकुलेशन इन शुरू होता है जब सूर्य नमस्कार करते हैं हमारे पूरे बॉडी को अच्छे से सचिन मिल जाता है जब हम प्रणाम करते हैं हमारे सांसो की जरूरत होती है यानी कि हमारे साथ बिल्कुल और लंबी हो जाती है जिसकी वजह से हमारा शरीर और मन शांत होता है उसके बाद जब हम मरते हैं तो मरने के लिए आपका शरीर और मन रेडी होता है और चुनरी टेशन तभी हो पाता है और मरी टेशन करने के उपाय आपका मन को शांत होता ही है उसका हिस्सा के बॉडी के ऑर्गन पर होता है जिसकी वजह से आपके और घने काम अच्छे से कर पाते हैं आपका डिसीजन पावर भी बढ़ता है कंसंट्रेशन लेवल बढ़ता है तो मेडिटेशन से सबसे ज्यादा फायदा होता है मन शांत रहता है और मंच शांत होने की वजह से ही हमारे जीवन में बहुत सारी तकलीफें ऐसे ही दूर हो जा

yug mein aasan suryanamaskar pranayaam dhyan aidiyalists karwai jaati hai hamare aangan mein blood sarakuleshan in shuru hota hai jab surya namaskar karte hain hamare poore body ko acche se sachin mil jata hai jab hum pranam karte hain hamare saanso ki zarurat hoti hai yani ki hamare saath bilkul aur lambi ho jaati hai jiski wajah se hamara sharir aur man shaant hota hai uske baad jab hum marte hain toh marne ke liye aapka sharir aur man ready hota hai aur chunari teshan tabhi ho pata hai aur mari teshan karne ke upay aapka man ko shaant hota hi hai uska hissa ke body ke organ par hota hai jiski wajah se aapke aur ghane kaam acche se kar paate hain aapka decision power bhi badhta hai kansantreshan level badhta hai toh meditation se sabse zyada fayda hota hai man shaant rehta hai aur manch shaant hone ki wajah se hi hamare jeevan mein bahut saree taklifen aise hi dur ho ja

युग में आसन सूर्यनमस्कार प्राणायाम ध्यान आइडियलिस्ट्स करवाई जाती है हमारे आंगन में ब्लड सर

Romanized Version
Likes  24  Dislikes    views  352
WhatsApp_icon
user

Ranjit Kumar

Founder & Director - Body & Mind Yoga Centre

3:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योग्यता जीवन जीने की कला है हम जो भी करते हैं चाहे हम सोए बैठे उठे जागे किसी ना किसी प्रकार से प्रत्येक मनुष्य योग करता है बशर्ते उन्हें पता नहीं कि अगर उसी में हम वेडिंग जोड़ दें स्वास्थ्य क्रिया जोड़ दें तो योग का पूरा लाभ मिलता है रीडिंग से जो हम भी रखते हैं हम अपने शरीर के प्रति अबे रहते हैं तो पता चलता है कि हम सजग हैं अपने आप के प्रति अवेयर है अबे रहना सजग रहना ही योग अगर जितना हम सजग रहते हैं उतना ही हमारे शरीर और किसी भी प्रकार के दुष्परिणाम आपको नहीं मिलेगा अगर हम सजग नहीं रहेंगे तो योग का जो शब्दार्थ है वह वहां पर सेल हो जाता है योग जीवन जीने की कला है जहां लोग कहते कि ने आत्मा और परमात्मा मिलन या कुछ और का मिलन ठीक है वह तो बहुत ऊंची चीज है जहां की पहुंचना हम साधारण सा मनुष्य के लिए बहुत मुश्किल काम है हम दिन भर के जो दिनचर्या है जो भागदौड़ है उसमें हम अपने आप को कितना फिट रखे उसके लिए हम कौन कौन सा आसन करें कौन कौन सा प्राणायाम करें कौन कौन सा बिहान की जो कि चिट्ठी आती है किस चीज का ध्यान करेगी तो अलग-अलग आजकल के जो भी चाहिए है उसमें लोगों को देखते हैं जाते हैं तो लोगों से मिलते हैं तो बात करते किसी का शारीरिक कष्ट है किसी को सर्वाइकल है उसके लिए बहुत सारे आसन भेजे नहीं होता है स्लिप डिस्क है तू सबके लिए बहुत सारे आसन के अलग-अलग पार्ट होते हैं उसको अलग अलग तरीके से अलग राशन को बताया जाता है और बहुत सारे लोग इसमें लोगस्टेश काफी तनाव में रहती ठीक है छोटी छोटी चीजों से लेकर वह चिड़िया ते गुस्सा करते हैं उसके लिए हम स्टेशन का जो और ध्यान की जो स्थिति होती है उसको हम भी ध्यान करवाते हैं उसको नहीं आते हैं जहां ध्यान की स्थिति में वहां पर धीरे-धीरे उसको उसके स्ट्रेस को उसके तनाव को किस कारण हुआ कैसे स्ट्रेट से सारी बातों को जाने के बाद फिर उसको हम और काउंसलिंग करने के बाद उसे फिर हम उसी सिटी में बनाते हैं पहले तो शरीर को स्वस्थ रखना जरूरी जब तक शरीर स्वस्थ नहीं रहेगा तब तक मन स्वस्थ नहीं रहेगा शारीरिक स्वास्थ्य के साथ-साथ मानसिक स्वास्थ्य जब हमारा शरीर भी स्वस्थ नहीं रहे तो मन हमारा सर स्वस्थ नहीं रह सकता इसलिए शरीर स्वास्थ्य के लिए हम आसन प्राणायाम और मन को स्वस्थ करने के लिए योग निद्रा ध्यान यह सभी क्रियाएं करते हैं और साथ ही साथ और जो हठयोग विधि का जो जिसे किसी को माइग्रेन है तो लोगों को जल्दी कर आना जल्दी करा करके फिर को कौन सी फिकेशन है उनको बामन कराना शंख प्रक्षालन कराना जो कि आदमी को अंदर के जो टॉक्सिन है वह पानी के माध्यम से उसको बाहर निकलते हैं

yogyata jeevan jeene ki kala hai hum jo bhi karte hain chahen hum soye baithe uthe jago kisi na kisi prakar se pratyek manushya yog karta hai basharte unhe pata nahi ki agar usi mein hum wedding jod de swasthya kriya jod de toh yog ka pura labh milta hai reading se jo hum bhi rakhte hain hum apne sharir ke prati abe rehte hain toh pata chalta hai ki hum sajag hain apne aap ke prati aveyar hai abe rehna sajag rehna hi yog agar jitna hum sajag rehte hain utana hi hamare sharir aur kisi bhi prakar ke dushparinaam aapko nahi milega agar hum sajag nahi rahenge toh yog ka jo shabdarth hai vaah wahan par cell ho jata hai yog jeevan jeene ki kala hai jaha log kehte ki ne aatma aur paramatma milan ya kuch aur ka milan theek hai vaah toh bahut uchi cheez hai jaha ki pahunchana hum sadhaaran sa manushya ke liye bahut mushkil kaam hai hum din bhar ke jo dincharya hai jo bhagdaud hai usme hum apne aap ko kitna fit rakhe uske liye hum kaun kaun sa aasan kare kaun kaun sa pranayaam kare kaun kaun sa bihan ki jo ki chitthi aati hai kis cheez ka dhyan karegi toh alag alag aajkal ke jo bhi chahiye hai usme logo ko dekhte hain jaate hain toh logo se milte hain toh baat karte kisi ka sharirik kasht hai kisi ko cervical hai uske liye bahut saare aasan bheje nahi hota hai slip disk hai tu sabke liye bahut saare aasan ke alag alag part hote hain usko alag alag tarike se alag raashan ko bataya jata hai aur bahut saare log isme logastesh kaafi tanaav mein rehti theek hai choti choti chijon se lekar vaah chidiya te gussa karte hain uske liye hum station ka jo aur dhyan ki jo sthiti hoti hai usko hum bhi dhyan karwaate hain usko nahi aate hain jaha dhyan ki sthiti mein wahan par dhire dhire usko uske stress ko uske tanaav ko kis karan hua kaise straight se saree baaton ko jaane ke baad phir usko hum aur kaunsaling karne ke baad use phir hum usi city mein banate hain pehle toh sharir ko swasthya rakhna zaroori jab tak sharir swasthya nahi rahega tab tak man swasthya nahi rahega sharirik swasthya ke saath saath mansik swasthya jab hamara sharir bhi swasthya nahi rahe toh man hamara sir swasthya nahi reh sakta isliye sharir swasthya ke liye hum aasan pranayaam aur man ko swasthya karne ke liye yog nidra dhyan yah sabhi kriyaen karte hain aur saath hi saath aur jo hathyog vidhi ka jo jise kisi ko Migraine hai toh logo ko jaldi kar aana jaldi kara karke phir ko kaun si fikeshan hai unko baman krana shankh prakshalan krana jo ki aadmi ko andar ke jo toxin hai vaah paani ke madhyam se usko bahar nikalte hain

योग्यता जीवन जीने की कला है हम जो भी करते हैं चाहे हम सोए बैठे उठे जागे किसी ना किसी प्रका

Romanized Version
Likes  29  Dislikes    views  361
WhatsApp_icon
user

Rajesh Yogi

Yogacharya in Shivyoga Chandigarh

1:08
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योग योग मैडिटेशन करने से बॉडी में लिखो दो तरह की एनर्जी होती है नेगेटिव एनर्जी होती है और पॉजिटिव एनर्जी होती है तो आप रामायण मुझे रब जो मेडिटेशन करते हैं तो नेगेटिव एनर्जी को बाहर निकलती है और पॉजिटिव एनर्जी अंदर बैठते हैं तो बरमान फिल्म मेडिटेशन करते हैं तो वह मैच हमारे अंदर आने लगती है क्योंकि अभी तक क्यों नहीं लगती हमारा जान है हमारी तरफ है 21 मिनट में लगती है इकट्ठी होने लगती है इसलिए मेडिटेशन अलग-अलग पावरफुल वह चीज है जो हमें काफी पॉजिटिव है मेडिटेशन के माध्यम से नहीं मिलती है और असली रूप से पूरी तरह से स्वस्थ हो जाती है

yog yog meditation karne se body mein likho do tarah ki energy hoti hai Negative energy hoti hai aur positive energy hoti hai toh aap ramayana mujhe rab jo meditation karte hain toh Negative energy ko bahar nikalti hai aur positive energy andar baithate hain toh barman film meditation karte hain toh vaah match hamare andar aane lagti hai kyonki abhi tak kyon nahi lagti hamara jaan hai hamari taraf hai 21 minute mein lagti hai ikatthi hone lagti hai isliye meditation alag alag powerful vaah cheez hai jo hamein kaafi positive hai meditation ke madhyam se nahi milti hai aur asli roop se puri tarah se swasth ho jaati hai

योग योग मैडिटेशन करने से बॉडी में लिखो दो तरह की एनर्जी होती है नेगेटिव एनर्जी होती है और

Romanized Version
Likes  83  Dislikes    views  1374
WhatsApp_icon
user

Anil Ramola

Yoga Instructor | Engineer

3:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योग और ध्यान ध्यान का मतलब होता है हम अपने मन को विराम देना चाहती है तो हम उसका प्रिवेंशन लेकर आप का इलाज के गम दूर कर सकते हैं लेकिन अगर हमारा मन असंतुष्ट है मन अशांत मन में किसी तरह की व्याधि है तो हम कुछ भी कर ले जाऊंगा के तन पर एक भी कपड़ा नहीं है तो हमें हमें ज्ञान कपड़े की ट्रेनें हैं लेकिन फिर भी हम कबसे इसलिए फिर भी उसके मन को शांत रखना मंडे कंट्रोल रखना है और मन को कंट्रोल रखें अपने आत्मा की शुद्धि ध्यान का ध्यान करते हैं तो धीरे-धीरे हम आत्मा का परमात्मा से मिलन करने की कोशिश करता है कि आगरा में जो लोगों ने योग की शुरुआत यह बहुत अच्छे-अच्छे लगता है जो उसके बारे में बताते हैं कि मेडिसिन किस पर किसी की होगी अपने मन को शांत रखना क्या कोई काम करें मैडम पढ़ाई कर रहे हैं आपका ध्यान पढ़ाई में तो वह भी मेडिसिन कि आप उस मंत्रमुग्ध हो रहे हैं आप खेल रहे हैं अपने खेल में ही व्यस्त हैं मान लो अगर आप खेल रहे हैं आपका ध्यान में यह है कि बस स्टैंड की बात करता हूं वह खेल रहा है खेल रहा है फिर भी को एंजॉय नहीं कर पा रहा हूं जो काम कर रहे हैं यंत्र करते रहें विश्व की रुस्तम अपने हर कार्य में सफलता प्राप्त कर सकते हैं

yog aur dhyan dhyan ka matlab hota hai hum apne man ko viraam dena chahti hai toh hum uska prevention lekar aap ka ilaj ke gum dur kar sakte hain lekin agar hamara man asantusht hai man ashant man mein kisi tarah ki vyadhi hai toh hum kuch bhi kar le jaunga ke tan par ek bhi kapda nahi hai toh hamein hamein gyaan kapde ki trainen hain lekin phir bhi hum kabse isliye phir bhi uske man ko shaant rakhna monday control rakhna hai aur man ko control rakhen apne aatma ki shudhi dhyan ka dhyan karte hain toh dhire dhire hum aatma ka paramatma se milan karne ki koshish karta hai ki agra mein jo logo ne yog ki shuruat yah bahut acche acche lagta hai jo uske bare mein batatey hain ki medicine kis par kisi ki hogi apne man ko shaant rakhna kya koi kaam kare madam padhai kar rahe hain aapka dhyan padhai mein toh vaah bhi medicine ki aap us mantramugdh ho rahe hain aap khel rahe hain apne khel mein hi vyast hain maan lo agar aap khel rahe hain aapka dhyan mein yah hai ki bus stand ki baat karta hoon vaah khel raha hai khel raha hai phir bhi ko enjoy nahi kar paa raha hoon jo kaam kar rahe hain yantra karte rahein vishwa ki rustam apne har karya mein safalta prapt kar sakte hain

योग और ध्यान ध्यान का मतलब होता है हम अपने मन को विराम देना चाहती है तो हम उसका प्रिवेंशन

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  127
WhatsApp_icon
user

Dr. Sarika Changulani

Founder & Director - Sarika's Touch Of Health

1:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योगा जो होता है वह डिलीट बहुत ज्यादा अच्छा हुआ करता है आपकी कोई भी डीजे रॉकी मेंटल हो या फिजिकल होगा आपके दिल से बहुत सेवा करता और मेडिटेशन जाती है तो छोटे बच्चों के जो पढ़ाई करते हो कौन सा चीज है तो उसको बोल ही नहीं सकते क्योंकि फिजिकल रिलेशन ऑफिसर क्रश अच्छा काम करके अपनी बॉडी के सावन चक्र मेडिटेशन फ्लूट उनका जो होता है उसको उसके लिए कौन सा काम करता है आपकी जो बॉडी में आती ब्लैंक एजुकेशन जो होते हैं हम उसके डिस्क्रीशन होते हैं क्लाइंट से उनका रेगुलेटर काम करता है और बहुत परफेक्ट

yoga jo hota hai vaah delete bahut zyada accha hua karta hai aapki koi bhi DJ rocky mental ho ya physical hoga aapke dil se bahut seva karta aur meditation jaati hai toh chote baccho ke jo padhai karte ho kaun sa cheez hai toh usko bol hi nahi sakte kyonki physical relation officer crush accha kaam karke apni body ke sawan chakra meditation flute unka jo hota hai usko uske liye kaun sa kaam karta hai aapki jo body mein aati blank education jo hote hain hum uske diskrishan hote hain client se unka regulator kaam karta hai aur bahut perfect

योगा जो होता है वह डिलीट बहुत ज्यादा अच्छा हुआ करता है आपकी कोई भी डीजे रॉकी मेंटल हो या फ

Romanized Version
Likes  41  Dislikes    views  489
WhatsApp_icon
play
user

Dr. Kartik Kumar

Yoga Instructor

0:20

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपके सभी के लिए योगा ध्यान बहुत कुछ कर सकता है इन दिनों में शक्ति मन में शांति और आत्मा में आनंद के लिए योग का अभ्यास लाभकारी है अतः आप नियमित ऑर्टन के साथ साथ व्यंजनों के साथ में को करें और इसके लिए आप संपर्क कर सकते हैं 70043 18121 पर

aapke sabhi ke liye yoga dhyan bahut kuch kar sakta hai in dino mein shakti man mein shanti aur aatma mein anand ke liye yog ka abhyas labhakari hai atah aap niyamit artan ke saath saath vyanjanon ke saath mein ko kare aur iske liye aap sampark kar sakte hain 70043 18121 par

आपके सभी के लिए योगा ध्यान बहुत कुछ कर सकता है इन दिनों में शक्ति मन में शांति और आत्मा मे

Romanized Version
Likes  130  Dislikes    views  2591
WhatsApp_icon
user

Akhil

Yoga Expert

1:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योग एक जीवन जीने का तरीका है और हमारे शास्त्रों से लिए हम अगर कुछ मैंने अपना दिल तो हमारा मन खुश रहता है और अर्जुन रहता है उन सभी परिस्थितियों को शांत से समझ सकते हैं हमारी शारीरिक मानसिक और भावनात्मक सभी पड़ेगी हमारी जो शक्ति है वह प्रबल होती है और हमारी सोचने की क्षमता भी अच्छी लगती है इससे मरक्कन योग करने से ध्यान करने से हमारा एकाग्रता बढ़ती है हमारी मेमोरी भर्ती है हमको को ज्यादा चीजें हमारी बात के पैसे भी बढ़ती है हम कम समय में ज्यादा काम कर सकते हैं अगर हम ध्यान करते हैं तो क्योंकि हमारा मन ईपेपर सिटी बढ़ती है और मंडला श्वेता है ब्लड प्रेशर कम आती है कोई भी काम करने की और हैप्पीनेस टू हमको खुशी अंदर से खुशी मिलती है अब इस चीज पर डिपेंड रहने की जरूरत नहीं है और इसी के लिए आंतरिक खुशी मिलती है

yog ek jeevan jeene ka tarika hai aur hamare shastron se liye hum agar kuch maine apna dil toh hamara man khush rehta hai aur arjun rehta hai un sabhi paristhitiyon ko shaant se samajh sakte hain hamari sharirik mansik aur bhavnatmak sabhi padegi hamari jo shakti hai vaah prabal hoti hai aur hamari sochne ki kshamta bhi achi lagti hai isse marakkan yog karne se dhyan karne se hamara ekagrata badhti hai hamari memory bharti hai hamko ko zyada cheezen hamari baat ke paise bhi badhti hai hum kam samay mein zyada kaam kar sakte hain agar hum dhyan karte hain toh kyonki hamara man ipepar city badhti hai aur mandla shweta hai blood pressure kam aati hai koi bhi kaam karne ki aur Happiness to hamko khushi andar se khushi milti hai ab is cheez par depend rehne ki zarurat nahi hai aur isi ke liye aantarik khushi milti hai

योग एक जीवन जीने का तरीका है और हमारे शास्त्रों से लिए हम अगर कुछ मैंने अपना दिल तो हमारा

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  135
WhatsApp_icon
user

Garima K

Yoga Instructor

2:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्ते मेरा नाम गरिमा है मैं पिछले 10 साल से योगा की प्रैक्टिस कर रही हूं और पिछले 5 साल से नहीं होगा पढ़ा रही हूं काफी बेंगलुरु सिटी में रहते हो और काफी सारे लोगों को के साथ में जुड़े हुए योग और ध्यान की संस्था संकल्प में हमारी बॉडी के लिए हमारे शरीर के लिए लाभदायक है हमारी शरीर में हमारे शरीर और हमारा मन दोनों जुड़े हुए हैं अगर आप यू का जवाब करते हैं तो अपने शरीर को नियंत्रण में नाते हैं आपका पूरा का पूरा ध्यान आपके शरीर से उठकर आपके मन में आता है जिससे कि आपका ध्यान और भी अधिक लगने लगता है और इसे आप इस तरीके की बीमारियां जैसे की अष्टमी जो आपके बॉडी रिलेटेड इश्यूज है जैसे कि अगर आपको पैक एक है या अगर आपको हार्ट रिलेटेड डिजीज है या फिर से आपको आना है तो यह सब चीजों में आपको काफी लाभ होता है और जब आपके शरीर से योगा करके जवाब आशना करके आप जब अपने शरीर से उठते हैं और अपने मन की तरह और प्रवेश करते हैं तब आपको सब आपका मन शांत होने लगता है क्योंकि आपको पूरा का पूरा ध्यान आपके मन की तरफ होता है तो आपको मंथली रे धीरे-धीरे करके शांत होने लगता है और आपको सब चीजों में की पिक्चर जो है वह कुछ साफ नजर आने लगती है और आप धीरे-धीरे आप महसूस करेंगे कि आपको हर चीज आपको कोई छोटी से छोटी बात से कोई दिक्कत कोई परेशानी नहीं होगी आपको धीरे-धीरे हर चीज सिंपल और इतनी जटिल नहीं लगेगी जो चीज अच्छी लगती है तो अगर आप प्रैक्टिस करेंगे आपको बतला देंगे योग और ध्यान दोनों से प्राप्त शुरू कर सकते हैं आसना से शुरू कर सकते हैं और धीरे-धीरे आपमें टेशन उठान की तरफ उतर सकते हैं धन्यवाद

namaste mera naam garima hai pichle 10 saal se yoga ki practice kar rahi hoon aur pichle 5 saal se nahi hoga padha rahi hoon kaafi bengaluru city mein rehte ho aur kaafi saare logo ko ke saath mein jude hue yog aur dhyan ki sanstha sankalp mein hamari body ke liye hamare sharir ke liye labhdayak hai hamari sharir mein hamare sharir aur hamara man dono jude hue hain agar aap you ka jawab karte hain toh apne sharir ko niyantran mein naate hain aapka pura ka pura dhyan aapke sharir se uthakar aapke man mein aata hai jisse ki aapka dhyan aur bhi adhik lagne lagta hai aur ise aap is tarike ki bimariyan jaise ki ashtami jo aapke body related issues hai jaise ki agar aapko pack ek hai ya agar aapko heart related disease hai ya phir se aapko aana hai toh yah sab chijon mein aapko kaafi labh hota hai aur jab aapke sharir se yoga karke jawab aashna karke aap jab apne sharir se uthte hain aur apne man ki tarah aur pravesh karte hain tab aapko sab aapka man shaant hone lagta hai kyonki aapko pura ka pura dhyan aapke man ki taraf hota hai toh aapko monthly ray dhire dhire karke shaant hone lagta hai aur aapko sab chijon mein ki picture jo hai vaah kuch saaf nazar aane lagti hai aur aap dhire dhire aap mehsus karenge ki aapko har cheez aapko koi choti se choti baat se koi dikkat koi pareshani nahi hogi aapko dhire dhire har cheez simple aur itni jatil nahi lagegi jo cheez achi lagti hai toh agar aap practice karenge aapko batla denge yog aur dhyan dono se prapt shuru kar sakte hain asana se shuru kar sakte hain aur dhire dhire apamen teshan uthan ki taraf utar sakte hain dhanyavad

नमस्ते मेरा नाम गरिमा है मैं पिछले 10 साल से योगा की प्रैक्टिस कर रही हूं और पिछले 5 साल स

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  126
WhatsApp_icon
user

Dr. Sudhir Kumar

Naturopathy Doctor | Acupuncturist

0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दिन के लिए योग और ध्यान योग आसन 7887 और मानसिक शांति

din ke liye yog aur dhyan yog aasan 7887 aur mansik shanti

दिन के लिए योग और ध्यान योग आसन 7887 और मानसिक शांति

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  138
WhatsApp_icon
user

Nij Kumar

Yoga Instructor

0:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेडिटेशन से हमारे जो विचार हैं वह कौन स्टेट होते हैं जैसे कि कोई काम चाहती हैं इस चीज के बारे में पता नहीं कैसी होती हैं को प्राप्त कर ली अच्छे होने लगती है और जो भी काम करेंगे

meditation se hamare jo vichar hain vaah kaun state hote hain jaise ki koi kaam chahti hain is cheez ke bare mein pata nahi kaisi hoti hain ko prapt kar li acche hone lagti hai aur jo bhi kaam karenge

मेडिटेशन से हमारे जो विचार हैं वह कौन स्टेट होते हैं जैसे कि कोई काम चाहती हैं इस चीज के ब

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  225
WhatsApp_icon
user

Shubham Kumar

Yoga Instructor

0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योग का प्रयोग शारीरिक मानसिक और अध्यात्मिक जादू के लिए किया जाता है रोगों से लड़ने की शक्ति मिलती है जहां तक बात में ध्यान योग कई बहुत महत्वपूर्ण अंग है ध्यान करने से हमारे अंदर चेतना उत्साह बनता है हमारा ध्यान एकाग्र होता है हम किसी एक चित्र कर सकते हैं योग और ध्यान करना चाहिए

yog ka prayog sharirik mansik aur adhyatmik jadu ke liye kiya jata hai rogo se ladane ki shakti milti hai jaha tak baat mein dhyan yog kai bahut mahatvapurna ang hai dhyan karne se hamare andar chetna utsaah banta hai hamara dhyan ekagra hota hai hum kisi ek chitra kar sakte hain yog aur dhyan karna chahiye

योग का प्रयोग शारीरिक मानसिक और अध्यात्मिक जादू के लिए किया जाता है रोगों से लड़ने की शक्त

Romanized Version
Likes  42  Dislikes    views  383
WhatsApp_icon
user

Subhav Sharma

Yoga Expert

1:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए हमारे हर हर आज हर इंसान की एक ही जरूरत है कि उसको तनाव से उखाड़ना है तनाव को कम करना है उसको चेक कीजिए आधा घंटा में बिखरा पड़ा टूटा हुआ है इसी वजह से इसका इलाज क्या है कि ऐसा क्या करें कि वह गांव से भी कुछ अपना हो चुनाव को चल जाए और वह अपनी उन्नति देखें अपना मनोबल बढ़ाया कॉन्फ्रेंस सब कुछ विश्वास करें तो एक ही सामने आती है वह है योग योग में क्या प्राणायाम आसन और मेडिटेशन तीन चीज है आश्रम करेंगे तो शरीर से रहेगा प्राणायाम करेंगे तो प्रणव स्टेमिना बढ़ेगा और मेडिटेशन करेंगे तो मन शांत रहेगा अगर किसी को भी तनाव से मुक्ति चाहिए खुद का मनोबल बढ़ाना है पहुंचना है वह जो चाहे तुम मिले हमको जो लगा रहे हैं उनको

dekhiye hamare har har aaj har insaan ki ek hi zarurat hai ki usko tanaav se ukhadana hai tanaav ko kam karna hai usko check kijiye aadha ghanta mein bikhra pada tuta hua hai isi wajah se iska ilaj kya hai ki aisa kya kare ki vaah gaon se bhi kuch apna ho chunav ko chal jaaye aur vaah apni unnati dekhen apna manobal badhaya conference sab kuch vishwas kare toh ek hi saamne aati hai vaah hai yog yog mein kya pranayaam aasan aur meditation teen cheez hai ashram karenge toh sharir se rahega pranayaam karenge toh pranav stamina badhega aur meditation karenge toh man shaant rahega agar kisi ko bhi tanaav se mukti chahiye khud ka manobal badhana hai pahunchana hai vaah jo chahen tum mile hamko jo laga rahe hain unko

देखिए हमारे हर हर आज हर इंसान की एक ही जरूरत है कि उसको तनाव से उखाड़ना है तनाव को कम करना

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  136
WhatsApp_icon
user

ashish yogi

Founder & Director - Meditation Magics

1:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योग एक बड़ा विषय है योग के अंदर आठ अंग आते हैं या माता है नियम आता है ऑप्शन आता है प्राणायाम आता है प्रत्याहार आता है धारणा आता है ध्यान आती है और समाज इसमें दो इंस्ट्रूमेंट को बांटा गया है एक बजरंग साधना का हिस्सा है कम तरंग साधना का हिस्सा है बता देना के अंतर्गत आते हैं आसन का प्रयोग करके हम अपने शरीर को स्वस्थ कर सकते हैं जो हमारा शरीर स्वस्थ होगा तो स्वस्थ शरीर के साथ ही हम चयन संविधान के लिए प्रवेश कर सकते हैं तो युग का प्रारंभिक स्तर माने तो आंखों से प्रारंभ करते हैं इससे आसन के द्वारा हम अपने शरीर को पुष्ट करते हैं स्वस्थ करते हैं शरीर को व्याधियों से मुक्त करते हैं जब श्री व्याधियों से पूर्ण रुप से मुक्त हो जाता है तब ध्यान के लिए तैयार होता है तब गुरु के निर्देशन में गुरु की कृपा से ध्यान के रहस्यों को सीखा जाता है और उन रहस्यों को जान करके ध्यान की गहराइयों में जाया जाता है और पारा को जाना जाता है जो सुकमा दृश्य जगत है जो हर व्यक्ति के जीवन में कार्य कर रहा है उसको जाना और समझा जा सकता है और वह ज्ञान व्यक्ति हर व्यक्ति का व्यक्तिगत होता है और वह गुरु कृपा से संवाद

yog ek bada vishay hai yog ke andar aath ang aate hain ya mata hai niyam aata hai option aata hai pranayaam aata hai pratyahar aata hai dharana aata hai dhyan aati hai aur samaj isme do instrument ko baata gaya hai ek bajrang sadhna ka hissa hai kam tarang sadhna ka hissa hai bata dena ke antargat aate hain aasan ka prayog karke hum apne sharir ko swasthya kar sakte hain jo hamara sharir swasthya hoga toh swasthya sharir ke saath hi hum chayan samvidhan ke liye pravesh kar sakte hain toh yug ka prarambhik sthar maane toh aankho se prarambh karte hain isse aasan ke dwara hum apne sharir ko pusht karte hain swasthya karte hain sharir ko vyadhiyon se mukt karte hain jab shri vyadhiyon se purn roop se mukt ho jata hai tab dhyan ke liye taiyar hota hai tab guru ke nirdeshan mein guru ki kripa se dhyan ke rahasyon ko seekha jata hai aur un rahasyon ko jaan karke dhyan ki gaharaiyon mein jaya jata hai aur para ko jana jata hai jo sukma drishya jagat hai jo har vyakti ke jeevan mein karya kar raha hai usko jana aur samjha ja sakta hai aur vaah gyaan vyakti har vyakti ka vyaktigat hota hai aur vaah guru kripa se samvaad

योग एक बड़ा विषय है योग के अंदर आठ अंग आते हैं या माता है नियम आता है ऑप्शन आता है प्राणाय

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  369
WhatsApp_icon
user

Yogi Atul Kumar Mishra

Senior Yoga Teacher at Yogis of East Yoga Studio & Therapeutic Clinic Patna

1:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर यूं ही अगर हम लोग करते हैं रिप्लेस का प्रेक्टिस करते हैं तो इससे बेहतर बना रहेगा और आपका ब्लड ग्रुप बना रहे तो साथ में ऑक्सीजन ज्यादा से ज्यादा और साथ में पोषक तत्वों की जाए जिससे आपको किसी भी बीमारी से लड़ने में कोई भी बीमारी होने में आपको कोई समस्या नहीं होगी आप बीमार नहीं होंगे कभी हमेशा निशुल्क फिट रहेंगे आपको डर शुरू कर चक्कर कम से कम होना पड़ेगा और रही बात ध्यान की तो ध्यान से हम अपने मन को एकाग्र करते हैं विचार दुश्मनी करते हैं वर्तमान में जीने का प्रयास करते हैं हम हमारा जो भी अधिक है जो भी टेंशन है जो भी स्टेशन फास्ट एंड पेशेंट में जीते हैं कोई टेंशन नहीं होगा कोई स्टेटस नहीं होगा कोई डिप्रेशन नहीं हो तो आप प्रजेंट में रहने के लिए ध्यान करें ध्यान से आपको प्रजेंट में रहना सिखाता है वर्तमान में रहकर ही दुखों से अपने टेंशन से प्ले स्टोर से दूर रह सकते हैं और अगर ध्यान करते हैं और सब चीजों में आपका मन लग जाते काम में मन लगेगा दैनिक लाइफस्टाइल भी आता है थैंक यू

agar yun hi agar hum log karte hain replace ka practice karte hain toh isse behtar bana rahega aur aapka blood group bana rahe toh saath mein oxygen zyada se zyada aur saath mein poshak tatvon ki jaaye jisse aapko kisi bhi bimari se ladane mein koi bhi bimari hone mein aapko koi samasya nahi hogi aap bimar nahi honge kabhi hamesha nishulk fit rahenge aapko dar shuru kar chakkar kam se kam hona padega aur rahi baat dhyan ki toh dhyan se hum apne man ko ekagra karte hain vichar dushmani karte hain vartaman mein jeene ka prayas karte hain hum hamara jo bhi adhik hai jo bhi tension hai jo bhi station fast and patient mein jeete hain koi tension nahi hoga koi status nahi hoga koi depression nahi ho toh aap present mein rehne ke liye dhyan kare dhyan se aapko present mein rehna sikhata hai vartaman mein rahkar hi dukhon se apne tension se play store se dur reh sakte hain aur agar dhyan karte hain aur sab chijon mein aapka man lag jaate kaam mein man lagega dainik lifestyle bhi aata hai thank you

अगर यूं ही अगर हम लोग करते हैं रिप्लेस का प्रेक्टिस करते हैं तो इससे बेहतर बना रहेगा और आप

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  157
WhatsApp_icon
user

Rajshree Kshirsagar

Yoga Instructor

0:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पूरा अंदर से अंदर कितना होता है अंदर हमें धीरे-धीरे जो फायदे होते हैं वह इंटरनल ज्यादा होते हैं कि नहीं होगा में और ध्यान से तो है कि हमारी पॉजिटिविटी बढ़ती है और ज्यादा

pura andar se andar kitna hota hai andar humein dhire dhire jo fayde hote hain wah internal zyada hote hain ki nahi hoga mein aur dhyan se toh hai ki hamari positivity badhti hai aur zyada

पूरा अंदर से अंदर कितना होता है अंदर हमें धीरे-धीरे जो फायदे होते हैं वह इंटरनल ज्यादा होत

Romanized Version
Likes  23  Dislikes    views  748
WhatsApp_icon
user

Nilu Singh

Founder & Director - Yog Divine

2:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

टोपा शरीर और रमन जो कनेक्शन जो बताए मारा वह सिर्फ और सिर्फ योगा की वजह से हो सकता है बाकी दुनिया में ऐसी कोई चीज नहीं है जो आपको आप अंदर से कनेक्ट करती है मैंने बहुत से लोगों को दिखा कर रहे हैं और फिर भी कर रहे हैं जितना हम सांस से जुड़ते हैं हम अपने मन से कुछ होता है कि मैंने जैसे जैसे जैसे आगे बढ़ी हुई एक लड़की है और खाना कि उसने मुझे बोला कि नहीं जीना नहीं है मेरे को मरना है अब मैं एक चांस दे रही हो अपने आपको तो आप देख लो आपसे कुछ हो सकता मैंने उसको सिखाना शुरू किया और सिखाया मैंने तेरे पनियों पहले मेडिटेशन फिर थोड़ा सहयोग फिर भी छोटी-छोटी चीजें थोड़ी सी बातें करना है उसको कराया उसने मुझे फोन कर रही है कर रही है अभी थोड़ा पता नहीं क्या सच में चेंज कर पाऊंगी नहीं कर पाऊंगी उसका जो शरीर था वह मन से कनेक्ट हो गया अपने आप जब उसने अपने आप को पूरी तरह से डेडीकेट कर दिया तो वह जो भी कर दी थी मन से कर दी थी और आज यह है कि वह आज अपनी लाइफ में बहुत खुश है और 3 महीने ही मैंने उसको दिया था 3 महीने का समय तो जब आप योगा करेंगे जब तक आप करेंगे नहीं आप नहीं समझ सकते इस चीज को जो करते हैं वही समझ सकते हैं यमन का कनेक्शन है आपका मन जुड़ गया उसने और आपका मन बहुत शांत हो जाता है आप हल करना चाहते हैं सारी चीजें पूरी तरह से इसको किया है तो अंदर इतने चेंज हो जाएंगे कि आप इतना महसूस कर सकते हैं और जब आप अपने आप को जान जाओगे कि आपकी बाबा क्या यह क्या है तो शायद मेरे हिसाब से कोई ऐसी चीज नहीं सकते

topa sharir aur raman jo connection jo bataye mara vaah sirf aur sirf yoga ki wajah se ho sakta hai baki duniya mein aisi koi cheez nahi hai jo aapko aap andar se connect karti hai maine bahut se logo ko dikha kar rahe hain aur phir bhi kar rahe hain jitna hum saans se judte hain hum apne man se kuch hota hai ki maine jaise jaise jaise aage badhi hui ek ladki hai aur khana ki usne mujhe bola ki nahi jeena nahi hai mere ko marna hai ab main ek chance de rahi ho apne aapko toh aap dekh lo aapse kuch ho sakta maine usko sikhaana shuru kiya aur sikhaya maine tere paniyon pehle meditation phir thoda sahyog phir bhi choti choti cheezen thodi si batein karna hai usko karaya usne mujhe phone kar rahi hai kar rahi hai abhi thoda pata nahi kya sach mein change kar paungi nahi kar paungi uska jo sharir tha vaah man se connect ho gaya apne aap jab usne apne aap ko puri tarah se dedicate kar diya toh vaah jo bhi kar di thi man se kar di thi aur aaj yah hai ki vaah aaj apni life mein bahut khush hai aur 3 mahine hi maine usko diya tha 3 mahine ka samay toh jab aap yoga karenge jab tak aap karenge nahi aap nahi samajh sakte is cheez ko jo karte hain wahi samajh sakte hain yemen ka connection hai aapka man jud gaya usne aur aapka man bahut shaant ho jata hai aap hal karna chahte hain saree cheezen puri tarah se isko kiya hai toh andar itne change ho jaenge ki aap itna mehsus kar sakte hain aur jab aap apne aap ko jaan jaoge ki aapki baba kya yah kya hai toh shayad mere hisab se koi aisi cheez nahi sakte

टोपा शरीर और रमन जो कनेक्शन जो बताए मारा वह सिर्फ और सिर्फ योगा की वजह से हो सकता है बाकी

Romanized Version
Likes  33  Dislikes    views  474
WhatsApp_icon
user

Dr. Bhoopendra Sharma

Founder & Director - Atharva Ved Yoga Classes

0:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

स्टार्टिंग में लोग योग करते हैं तो मेरा मानना उनको बहुत सारी गलतियों से बचना किसी ग्रुप से चलती है स्टार्टिंग में बहुत ज्यादा योग का अभ्यास स्टार्टिंग में नहीं करना चाहिए तो शारीरिक मानसिक थकान भी उत्पन्न स्टार्टिंग में हो सकती है

starting mein log yog karte hain toh mera manana unko bahut saree galatiyon se bachna kisi group se chalti hai starting mein bahut zyada yog ka abhyas starting mein nahi karna chahiye toh sharirik mansik thakan bhi utpann starting mein ho sakti hai

स्टार्टिंग में लोग योग करते हैं तो मेरा मानना उनको बहुत सारी गलतियों से बचना किसी ग्रुप से

Romanized Version
Likes  33  Dislikes    views  414
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने जो पूछा है उसमें थोड़ा सा कलेक्शन कर दो योग और ध्यान यह अलग अलग नहीं है आसन और ध्यान अलग अलग है या एक ही है युग का मतलब यह होता है कि जुड़ाव जो ठीक है आपको आपके तूने जोड़ अस्तित्व से जोड़ना आपका स्थिति क्या है जैसे एक व्यक्ति एक प्राणी है एक जीव आत्मा है परमात्मा है आपको जोड़ता है आपके अपने ही परमात्मा से आप जिस के अंश हैं उसी से आपको जोड़ता है इसका मतलब कि क्या हम अलग नहीं है एक बूंद गिर जाए तो पानी तो वह भी है और पानी को भी अब आप सागर की एक बूंद अगर बाहर निकाली थी तो भूल जाएगी पानी है और सागर में पानी है बस यह है कि आप थोड़ा सा अपने को भूल गए हैं कि लोग आपको वापस महा जोड़ता है उत्तर यह है कि ध्यान क्यों योग और ध्यान आवश्यक नहीं है योग ध्यान अवश्य करते हैं योग आश्रम से शुरू होता है और समाधि पर खत्म होता है परमात्मा पर खत्म होता है तो युग में आसन और ध्यान दोनों जरूरी होता है इसलिए किया जाता है ताकि आप सभी आपकी जो मसल है दुरुस्त रहे आपकी जो शारीरिक रचना है वह आपकी परमात्मा की भक्ति करने योग्य बंद वरना आप ध्यान तो कर लेंगे आप कार्य कैसे करेंगे जब आप शरीर स्वस्थ नहीं रहेगा तो आप किसी भी कार्य को करने लायक नहीं रहेंगे आप लोग हो जाएंगे आप अष्टावक्र की तरह हो जाएंगे सॉरी अष्टावक्र कोई शरीफ से जैसे हम कहते हैं कि जो शरीर से जुड़ा हुआ था और उसके बाद आपका मस्तिष्क भी सही चलता रहे इसलिए ध्यान जरूरी है वरना जैसे कहते हैं ना कि कोई जमीन का टुकड़ा है तो अब आप मगर वहां गेहूं चावल अनाज अगर नहीं बोलेंगे तो आप यह सोच रहे हैं कि वहां कुछ नहीं देगा फिर भी होगा लेकिन वहां खरपतवार उगेगा शपथ मानोगे आप उसमें माफी की जमीन पर आप की संरचना आपकी बेहतर रहें स्वस्थ रहें आप इसलिए आसन कीजिए और मस्तिष्क सही चले आपका दिलो-दिमाग आपको सही दिशा में ले जाए इसलिए ध्यान करना चाहिए

aapne jo poocha hai usme thoda sa collection kar do yog aur dhyan yah alag alag nahi hai aasan aur dhyan alag alag hai ya ek hi hai yug ka matlab yah hota hai ki judav jo theek hai aapko aapke tune jod astitva se jodna aapka sthiti kya hai jaise ek vyakti ek prani hai ek jeev aatma hai paramatma hai aapko Jodta hai aapke apne hi paramatma se aap jis ke ansh hai usi se aapko Jodta hai iska matlab ki kya hum alag nahi hai ek boond gir jaaye toh paani toh vaah bhi hai aur paani ko bhi ab aap sagar ki ek boond agar bahar nikali thi toh bhool jayegi paani hai aur sagar mein paani hai bus yah hai ki aap thoda sa apne ko bhool gaye hai ki log aapko wapas maha Jodta hai uttar yah hai ki dhyan kyon yog aur dhyan aavashyak nahi hai yog dhyan avashya karte hai yog ashram se shuru hota hai aur samadhi par khatam hota hai paramatma par khatam hota hai toh yug mein aasan aur dhyan dono zaroori hota hai isliye kiya jata hai taki aap sabhi aapki jo masal hai durast rahe aapki jo sharirik rachna hai vaah aapki paramatma ki bhakti karne yogya band varna aap dhyan toh kar lenge aap karya kaise karenge jab aap sharir swasthya nahi rahega toh aap kisi bhi karya ko karne layak nahi rahenge aap log ho jaenge aap ashtavakra ki tarah ho jaenge sorry ashtavakra koi sharif se jaise hum kehte hai ki jo sharir se juda hua tha aur uske baad aapka mastishk bhi sahi chalta rahe isliye dhyan zaroori hai varna jaise kehte hai na ki koi jameen ka tukda hai toh ab aap magar wahan gehun chawal anaaj agar nahi bolenge toh aap yah soch rahe hai ki wahan kuch nahi dega phir bhi hoga lekin wahan kharapatavar ugega shapath manoge aap usme maafi ki jameen par aap ki sanrachna aapki behtar rahein swasthya rahein aap isliye aasan kijiye aur mastishk sahi chale aapka dilo dimag aapko sahi disha mein le jaaye isliye dhyan karna chahiye

आपने जो पूछा है उसमें थोड़ा सा कलेक्शन कर दो योग और ध्यान यह अलग अलग नहीं है आसन और ध्यान

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  127
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
मेडिटेशन के शरीर के लिए फायदे ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!