लोकप्रिय योग मिथक और वास्तविकता क्या हैं?...


user

Yogacharya Raju Soni

Yoga Instructor - Aum Yog And Naturopathy Centre

0:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तेरी ध्यान करते हैं तो लोग और ध्यान को बहुत शॉर्ट में समझने लगे हैं कि बस एक सामने मेडिटेशन करना याद बंद कर दो मेडिटेशन करना अगर ऐसा नहीं है ध्यान के कई आयाम होते हैं

teri dhyan karte hain toh log aur dhyan ko bahut short mein samjhne lage hain ki bus ek saamne meditation karna yaad band kar do meditation karna agar aisa nahi hai dhyan ke kai aayam hote hain

तेरी ध्यान करते हैं तो लोग और ध्यान को बहुत शॉर्ट में समझने लगे हैं कि बस एक सामने मेडिटेश

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  10
WhatsApp_icon
16 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Dr.Deepak Kaushik

Naturopathy Doctor

0:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अब जब चुकी है फिजिकल उसमें आ गया है सोसाइटी में देखने लगी कि पूरा फिजिकल करते हुए दिखते चित्तू की फिजिकल नहीं है तो चल दिए

ab jab chuki hai physical usme aa gaya hai society mein dekhne lagi ki pura physical karte hue dikhte chittu ki physical nahi hai toh chal diye

अब जब चुकी है फिजिकल उसमें आ गया है सोसाइटी में देखने लगी कि पूरा फिजिकल करते हुए दिखते चि

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  2
WhatsApp_icon
play
user

Sharmila Mukherjee

Owner, Yoga Beauty Coaching & Health Center, Lucknow

0:57

Likes  22  Dislikes    views  295
WhatsApp_icon
user

Arpit Meena

Yoga Instructor

0:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपके सवाल के हिसाब से तो दिखा जाए अगर आप लोग को युग की तरह करेंगे तो आपको उसमें कोई मैच नहीं मिलेगा सारी चीज आपको पूरे तरीके से भारतीय पद्धति के हिसाब से का योग को योगिता देखेंगे तो बिल्कुल ठीक है अगर आप योग को घुमाकर योगा करके लाएंगे तो जो कि योग योगा तब हुआ तब वह पूरी धरती का भ्रमण करके आया तो आप योग को योगा की तरह देखेंगे तो फिर उसमें जरूर कुछ जानती आप को मिलेंगे आपको मुझे नहीं लगता आपको किसी किसी प्रकार की कोई भ्रांतियों का वह स्थान देना चाहिए

aapke sawaal ke hisab se toh dikha jaaye agar aap log ko yug ki tarah karenge toh aapko usme koi match nahi milega saree cheez aapko poore tarike se bharatiya paddhatee ke hisab se ka yog ko yogita dekhenge toh bilkul theek hai agar aap yog ko ghumakar yoga karke layenge toh jo ki yog yoga tab hua tab vaah puri dharti ka bhraman karke aaya toh aap yog ko yoga ki tarah dekhenge toh phir usme zaroor kuch jaanti aap ko milenge aapko mujhe nahi lagta aapko kisi kisi prakar ki koi bhrantiyon ka vaah sthan dena chahiye

आपके सवाल के हिसाब से तो दिखा जाए अगर आप लोग को युग की तरह करेंगे तो आपको उसमें कोई मैच नह

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  305
WhatsApp_icon
user

Ankit Saluja

Yoga Expert

1:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योग लोग लोगों ने योगा को क्या बना कर रखा है मतलब किसी को अंतिम एक्सरसाइज होती है और आसन जिसमें कुछ अपन को बैठना पड़ता है और अलग-अलग पोजीशन पोस्टर से जिनका आसन बोला जाता है लेकिन योगा के यहां तक सीमित नहीं है योगा बेसिकली पतंजलि योग सूत्र में अच्छे से एक्सप्लेन कर आ गया है आठ पार्ट्स में जिसमें यम नियम आसन प्राणायाम प्रत्याहार धारणा ध्यान समाधि तो बेसिकली आए जो आसन है और प्राणायाम है और सब जो भी चीजें हैं यह उस समाधि वाली स्टेट मतलब अपने यह जो ह्यूमन बॉडी है इसका बेस्ट अचीव करना और जो संसार की जो भी जो अपन को प्रॉब्लम फेस करनी रहती है उनको सिंपलीफाई करने के लिए योगा का योगा बनाएगा था तो योगा बेसिकली हमको कि कुछ भी मतलब कॉन्फिडेंस अगेन करना इस ह्यूमन बॉडी को हेल्दी रखने से रिलेटेड काका कंसंट्रेशन बना बढ़ाना जो आजकल हम सबकी लाइफ में बहुत ज्यादा बढ़ गया उसको मैनेज करना और वो सारी चीजों के लिए हेल्प करता है

yog log logo ne yoga ko kya bana kar rakha hai matlab kisi ko antim exercise hoti hai aur aasan jisme kuch apan ko baithana padta hai aur alag alag position poster se jinka aasan bola jata hai lekin yoga ke yahan tak simit nahi hai yoga basically patanjali yog sutra mein acche se explain kar aa gaya hai aath parts mein jisme yum niyam aasan pranayaam pratyahar dharana dhyan samadhi toh basically aaye jo aasan hai aur pranayaam hai aur sab jo bhi cheezen hain yah us samadhi wali state matlab apne yah jo human body hai iska best achieve karna aur jo sansar ki jo bhi jo apan ko problem face karni rehti hai unko simpalifai karne ke liye yoga ka yoga banayega tha toh yoga basically hamko ki kuch bhi matlab confidence again karna is human body ko healthy rakhne se related kaka kansantreshan bana badhana jo aajkal hum sabki life mein bahut zyada badh gaya usko manage karna aur vo saree chijon ke liye help karta hai

योग लोग लोगों ने योगा को क्या बना कर रखा है मतलब किसी को अंतिम एक्सरसाइज होती है और आसन जि

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  132
WhatsApp_icon
user

Yog Guru Gyan Ranjan Maharaj

Founder & Director - Kashyap Yogpith

1:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका क्वेश्चन है लोकप्रिय योग मिथक और वास्तविकता क्या है तो देखिए से लोकप्रिय योग मित्र जवा बोल रहा है योग अपने आप में लोकप्रिय तो है ही है इसमें मिथक सबका कहीं से मेरे समझते हैं जो करना अच्छी बात नहीं होगी इसमें सौ पर्सेंट वास्तविकता है कि योग के द्वारा कोई भी क्रिया करने से निश्चित ही फायदा होता है यह चीज हमारा अपना अपनाया हुआ मैं अपने अनुभव के आधार पर बोल रहा हूं यह हमें फायदा हो सकता है तो निश्चित ही है कि आप को ही फायदा होगा इसलिए योग मिथक वाली बात नहीं है इस भ्रम में न पड़े योगी वास्तविकता पूरा संसार से छुपा नहीं है यो यो करता है उससे बात कीजिए या खुदा योग करके देखिए कि आपके शरीर के ऊपर क्या प्रभाव पड़ता है आपके मानसिक के शारीरिक और बौद्धिक क्षमताओं में कितना विकास होता है धन्यवाद

aapka question hai lokpriya yog mithak aur vastavikta kya hai toh dekhiye se lokpriya yog mitra java bol raha hai yog apne aap mein lokpriya toh hai hi hai isme mithak sabka kahin se mere samajhte hain jo karna achi baat nahi hogi isme sau percent vastavikta hai ki yog ke dwara koi bhi kriya karne se nishchit hi fayda hota hai yah cheez hamara apna apnaya hua main apne anubhav ke aadhaar par bol raha hoon yah hamein fayda ho sakta hai toh nishchit hi hai ki aap ko hi fayda hoga isliye yog mithak wali baat nahi hai is bharam mein na pade yogi vastavikta pura sansar se chupa nahi hai yo yo karta hai usse baat kijiye ya khuda yog karke dekhiye ki aapke sharir ke upar kya prabhav padta hai aapke mansik ke sharirik aur baudhik kshamataon mein kitna vikas hota hai dhanyavad

आपका क्वेश्चन है लोकप्रिय योग मिथक और वास्तविकता क्या है तो देखिए से लोकप्रिय योग मित्र जव

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  1035
WhatsApp_icon
user

Acharya Krishna Deo

Wellness Guru, Corporate Trng

1:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह तस्वीर है कि दुनिया भर में लंड को चूत ज्यादातर लोग इसी कारन अर्जुन प्ले अभियान जटायु गीत विधि मात्र एक छोटा सा हिस्सा प्रवाहित के बताए गए जो ज्ञान उपयोगी कर गए हो इसलिए कूपन सीजी लाइव रनिंग की और अधूरा ही रहेगा स्कूल यूपी विधि को प्रथक जानने के तरीके से बनता है शक्ति है कि यूपी में गया में

yeh tasveer hai ki duniya bhar mein lund ko chut jyadatar log isi kaaran arjun play abhiyan jatayu geet vidhi matra ek chota sa hissa pravahit ke bataye gaye jo gyaan upyogi kar gaye ho isliye coupon CG live running ki aur adhura hi rahega school up vidhi ko prathak jaanne ke tarike se banta hai shakti hai ki up mein gaya mein

यह तस्वीर है कि दुनिया भर में लंड को चूत ज्यादातर लोग इसी कारन अर्जुन प्ले अभियान जटायु गी

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  249
WhatsApp_icon
user

Sandeep Richhariya

Yoga Instructor

0:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योगा का सिर फिजिकल एक्सरसाइज ऐसे ही उसे मेरे शरीर पर भी नहीं करते थे रियलिटी

yoga ka sir physical exercise aise hi use mere sharir par bhi nahi karte the reality

योगा का सिर फिजिकल एक्सरसाइज ऐसे ही उसे मेरे शरीर पर भी नहीं करते थे रियलिटी

Romanized Version
Likes  23  Dislikes    views  463
WhatsApp_icon
user

Amit Singh

Yoga & Naturopath

1:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बीपी है कि लोग पता तो सच्ची में मर ना पता हो कि कुछ नहीं मालूम मुझे कि सब लोग बैठकर करना चाहते हैं किसी गार्डन से सीखना नहीं चाहते हैं किसी और को खींचना चाहते हैं मजे करना चाहते हैं कि किसी के देखना नहीं चाहते हैं क्योंकि हमें उस प्रैक्टिस करवाई जाती मगर लोग चाहते हैं कि उन्हें ना पूछना पड़ेगा और वह अपने आप ही सच्ची करते जाएं कहीं भी और किसी की बात कर सकते हैं और बेमतलब के मिक्स होते हैं काफी लोगों के सामने गूगल पर यह थोड़ा था माफिया माफिया मैं यह नहीं पता

BP hai ki log pata toh sachi mein mar na pata ho ki kuch nahi maloom mujhe ki sab log baithkar karna chahte hain kisi garden se sikhna nahi chahte hain kisi aur ko khinchana chahte hain maje karna chahte hain ki kisi ke dekhna nahi chahte hain kyonki humein us practice karwai jati magar log chahte hain ki unhein na poochna padega aur wah apne aap hi sachi karte jayen kahin bhi aur kisi ki baat kar sakte hain aur bematalab ke mix hote hain kaafi logo ke saamne google par yeh thoda tha mafia mafia main yeh nahi pata

बीपी है कि लोग पता तो सच्ची में मर ना पता हो कि कुछ नहीं मालूम मुझे कि सब लोग बैठकर करना च

Romanized Version
Likes  34  Dislikes    views  691
WhatsApp_icon
user

Girijakant Singh

Founder/ President Yog Bharati Foundation Trust

1:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आदि कि आपका प्रश्न एक लोकप्रिय योग मिथक क्या है और वास्तविकता क्या है दो बातें हैं एक तो लोक प्रिय मित्र में हम मान सकते हैं कि जो लोग केवल शारीरिक व्यायाम को भी कुछ लोग योग मानते हैं कि आजकल आप अगर सुबह निकलें टहलने तो पार्कों में लोग योग करते मिल जाएंगे वह भी आप एक्सरसाइज के साथ-साथ और भी बगैर एक्सप्रेस के पास भी लोग चला रहे हैं तो केवल एक शाम को भी लोग मानते हैं जबकि योग्य नहीं है यह वास्तव में एक पूर्ण ज्ञान है और इसका एक पूरा जो है विस्तार है जिसमें सिर्फ योगासन ही नहीं जिसे ग्राम बात करें राजयोग की तो इसमें भी आठ अंग हैं आठ चरण है उसके यम नियम आसन प्राणायाम प्रत्याहार धारणा ध्यान और समाधि 8 स्टेप पर पार करता है व्यक्ति तब कहीं जाकर पूर्ण योग को प्राप्त करता है समाधि की अवस्था जो है वह युग की एक अंतिम अवस्था है जिसमें साधक जी आत्मसाक्षात्कार करता है तो इस तरह से एक योग्य है एक अलग चीज है ना किस तरफ से सारे व्यायाम है यह जो है कि स्वस्थ रहते हैं हाथ जो है एक्साइज करके सोच रहे थे क्यों इतना ही है और धन्यवाद

aadi ki aapka prashna ek lokpriya yog mithak kya hai aur vastavikta kya hai do batein hain ek toh lok priya mitra mein hum maan sakte hain ki jo log keval sharirik vyayam ko bhi kuch log yog maante hain ki aajkal aap agar subah nikalein tahlane toh parkon mein log yog karte mil jaenge vaah bhi aap exercise ke saath saath aur bhi bagair express ke paas bhi log chala rahe hain toh keval ek shaam ko bhi log maante hain jabki yogya nahi hai yah vaastav mein ek purn gyaan hai aur iska ek pura jo hai vistaar hai jisme sirf yogasan hi nahi jise gram baat kare rajyog ki toh isme bhi aath ang hain aath charan hai uske yum niyam aasan pranayaam pratyahar dharana dhyan aur samadhi 8 step par par karta hai vyakti tab kahin jaakar purn yog ko prapt karta hai samadhi ki avastha jo hai vaah yug ki ek antim avastha hai jisme sadhak ji atmasakshatkar karta hai toh is tarah se ek yogya hai ek alag cheez hai na kis taraf se saare vyayam hai yah jo hai ki swasthya rehte hain hath jo hai excise karke soch rahe the kyon itna hi hai aur dhanyavad

आदि कि आपका प्रश्न एक लोकप्रिय योग मिथक क्या है और वास्तविकता क्या है दो बातें हैं एक तो ल

Romanized Version
Likes  158  Dislikes    views  1936
WhatsApp_icon
user

महेश सेठ

रेकी ग्रैंडमास्टर,लाइफ कोच

1:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

के बारे में बहुत सारी गलत मान्यताएं बनानी है लोगों ने योग का मतलब यह था कि घर बार छोड़कर के बाहर निकल जाना पड़ेगा आना पड़ेगा आपका दैनंदिन जीवन जो है वह योग के माध्यम से बहुत ही सुंदर हो जाएगा आप समझोगे और यकीन मानिए हैं योग करने से स्वास्थ्य खराब सारे डॉक्टर की मौत आई और मना भी करते हैं योग नहीं करना चाहिए अगर आप जो भी होगा और अब तो व्यक्तियों का प्रचलन हुआ है लोग जानने लगे हैं सही तरीके से आपको अधिक लाभ होता है मान्यताएं तो बहुत सारी मुझसे जितना वक्त क्या क्या है ए लोग कहते हैं कि योग करने से तो आपको आज की जो विकास है उससे दूर हो जाओगे एक दिन में योगिता तो उसे दूर नहीं हो जाओगे आप को ठीक कर पाओगे आपकी होगी तभी पाकीजा की खबर नहीं पाओगे

ke bare mein bahut saree galat manyataye banani hai logo ne yog ka matlab yeh tha ki ghar baar chhodkar ke bahar nikal jana padega aana padega aapka dainandin jeevan jo hai wah yog ke maadhyam se bahut hi sundar ho jayega aap samjhoge aur yakin maniye hain yog karne se swasthya kharab saare doctor ki maut I aur mana bhi karte hain yog nahi karna chahiye agar aap jo bhi hoga aur ab toh vyaktiyon ka prachalan hua hai log jaanne lage hain sahi tarike se aapko adhik labh hota hai manyataye toh bahut saree mujhse jitna waqt kya kya hai a log kehte hain ki yog karne se toh aapko aaj ki jo vikas hai usse dur ho jaoge ek din mein yogita toh use dur nahi ho jaoge aap ko theek kar paoge aapki hogi tabhi pakeezah ki khabar nahi paoge

के बारे में बहुत सारी गलत मान्यताएं बनानी है लोगों ने योग का मतलब यह था कि घर बार छोड़कर क

Romanized Version
Likes  208  Dislikes    views  2602
WhatsApp_icon
user

Manav Choudhary

Teaching Yoga since 5 years | Teaches to all age categories | Yoga Therapy | Adults & Kids both are treated | Special Children are also trained | Pre Pregnant & Post Pregnant Ladies are also Trained Regarding Pregnancy | Women |

0:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रियल्टी तो यह जिनको जुगा जुगा के बारे में नहीं पता है वह कभी समझ भी पाएंगे बर्गर किसने करेगा किया तो वह जो कभी छोड़ने पाएगा योगा योगा योगा में जाने के बाद आज ही स्पेशल हो जाता है एटीट्यूट इसकी दूर हो जाती है और देने की कोशिश करेगा तो कभी डिप्रेशन कर जाएगा नहीं और उसके आसपास का हो रहा हो जाएगा उसको कभी तो यह बहुत बड़ा डिफरेंट है सुनने में और करने में जो लोग करते हैं वह बहुत अच्छा फील करते हैं और उल्लू कभी-कभी योगा थोड़ी नीचे एक बार

realty toh yah jinako juga juga ke bare mein nahi pata hai vaah kabhi samajh bhi payenge burger kisne karega kiya toh vaah jo kabhi chodne payega yoga yoga yoga mein jaane ke baad aaj hi special ho jata hai etityut iski dur ho jaati hai aur dene ki koshish karega toh kabhi depression kar jaega nahi aur uske aaspass ka ho raha ho jaega usko kabhi toh yah bahut bada different hai sunne mein aur karne mein jo log karte hain vaah bahut accha feel karte hain aur ullu kabhi kabhi yoga thodi niche ek baar

रियल्टी तो यह जिनको जुगा जुगा के बारे में नहीं पता है वह कभी समझ भी पाएंगे बर्गर किसने करे

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  140
WhatsApp_icon
user

Varun Kushwah B. K

Yoga Trainer

1:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किसको यूको बैटरी ने आज के समाज में धर्म से जोड़ दिया है और धर्म से जोड़ने के कारण कई सारे लोग इस प्रयोग को करने ही रहे हैं तो इसके लिए नहीं है हर व्यक्ति के लिए है क्योंकि इससे कोई भी व्यक्ति करता है तो हर व्यक्ति को स्वास्थ्य से मिलता है तो यह धर्म की धर्म के लिए नहीं थे जो इसमें मिर्च है फैलाई जा रहा है कि सिर्फ और हिंदू धर्म के लिए है या इसके लिए है कि हर धर्म के व्यक्ति से कर सकता है क्योंकि आयोग में जो इसकी प्रोसेस है वही खाया लेवल पर पहुंचाने के लिए हर व्यक्ति को और इसमें जो आतंक कायम है उससे हर व्यक्ति को स्वास्थ्य मिल सकता है और वह हर व्यक्ति कर सकता है तो इसे किसी एक धर्म से जोड़कर जो मिलाया गया है सिर्फ हिंदू धर्म के लिए है या नहीं करना चाहिए जो भी है तो इस तरीके का

kisko yuko battery ne aaj ke samaj mein dharm se jod diya hai aur dharm se jodne ke karan kai saare log is prayog ko karne hi rahe hain toh iske liye nahi hai har vyakti ke liye hai kyonki isse koi bhi vyakti karta hai toh har vyakti ko swasthya se milta hai toh yah dharm ki dharm ke liye nahi the jo isme mirch hai failai ja raha hai ki sirf aur hindu dharm ke liye hai ya iske liye hai ki har dharm ke vyakti se kar sakta hai kyonki aayog mein jo iski process hai wahi khaya level par pahunchane ke liye har vyakti ko aur isme jo aatank kayam hai usse har vyakti ko swasthya mil sakta hai aur vaah har vyakti kar sakta hai toh ise kisi ek dharm se jodkar jo milaya gaya hai sirf hindu dharm ke liye hai ya nahi karna chahiye jo bhi hai toh is tarike ka

किसको यूको बैटरी ने आज के समाज में धर्म से जोड़ दिया है और धर्म से जोड़ने के कारण कई सारे

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  357
WhatsApp_icon
user

Dr. Deepak Limsay

Founder & Director - FITNESS FIRST HEALTH CENTER

3:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योगा के बारे में जो ब्रिज कंस्ट्रक्शन बहुत सी जगह होता है या मिसअंडरस्टैंडिंग बहुत सी जगह होते तो हम ही में से कुछ भी जो हाथ ना ले गया कम इसमें कुछ गलत तरीके से अगर कोई योगा के पोस्टर्स बनाते हैं बॉडी स्ट्रक्चर बनाते हैं उसमें अगर पोजीशन से अलग रहती है फिर हमें हल्का हो जाता है पीठ का दर्द पता कि मैंने योगा किया तो मुझे शुरू हो गया कि गलती नहीं होती आने वाला है उसे पूरा करना चाहिए कि उसकी बॉडी ईयर क्वेश्चन क्या है उसे कहां तक पेश करना है उसको जिसका योगा दे रहा है उसके पूरे शरीर के बारे में बॉडी के बारे में कुछ तो पता होना चाहिए कि उसको कितना सेक्स किस डायरेक्शन में करना है और उसको मेडिकल कोई प्रॉब्लम है क्या मिसअंडरस्टैंडिंग कहा हम समझे उसको पूरा नॉलेज होना चाहिए कि इसमें जाने वाला ब्लड प्रेशर पड़ेगा पड़ेगा का कहीं भी दोस्ती सिर्फ योगा में और ज्यादा आगे लाने की जरूरत है और ज्यादा लोगों को अच्छी तरीके से हो रहा है उस वजह से मिसअंडरस्टैंडिंग को टालने के लिए लोगों को यह बताना चाहिए कि किस तरह होगा का करना सही करना गलत करने से होने वाले उसके बारे में तुमको अवेयर करना यह बहुत जरूरी होता है और मैं यह कहता हूं कि पूरी नहीं सकते या नहीं हम बड़े योगा के बारे में हम कुछ भी बोल सके हजारों साल पहले यह इंटरव्यू हुआ उसकी बॉडी स्ट्रक्चर के हिसाब से कुछ योगासन थी जो आज की हमारी बॉडी स्ट्रक्चर आफ फ्लैक्सिबिलिटी बहुत अलग है उसमें हम उस पोस्ट को देखकर अगर उसको करने जाएंगे तो हमेशा उसका प्रॉब्लम अलग अलग होने की संभावना है उसके योगा को प्रेक्टिस करना चाहिए हमें थोड़ा सा फ्रेश हो रहे हो हम थोड़ा कि हमें कि हम कोई भी चेष्टा ना करें कोई प्रयास ना करें कि उन्होंने कहा कि मैं चाहता हूं थोड़ा मुश्किल होता है उसके पूरे खेल के लिए भी डेंजरस होता है उसके बारे में

yoga ke bare mein jo bridge construction bahut si jagah hota hai ya misunderstanding bahut si jagah hote toh hum hi mein se kuch bhi jo hath na le gaya kam isme kuch galat tarike se agar koi yoga ke posters banate hain body structure banate hain usme agar position se alag rehti hai phir hamein halka ho jata hai peeth ka dard pata ki maine yoga kiya toh mujhe shuru ho gaya ki galti nahi hoti aane vala hai use pura karna chahiye ki uski body year question kya hai use kahaan tak pesh karna hai usko jiska yoga de raha hai uske poore sharir ke bare mein body ke bare mein kuch toh pata hona chahiye ki usko kitna sex kis direction mein karna hai aur usko medical koi problem hai kya misunderstanding kaha hum samjhe usko pura knowledge hona chahiye ki isme jaane vala blood pressure padega padega ka kahin bhi dosti sirf yoga mein aur zyada aage lane ki zarurat hai aur zyada logo ko achi tarike se ho raha hai us wajah se misunderstanding ko taalane ke liye logo ko yah bataana chahiye ki kis tarah hoga ka karna sahi karna galat karne se hone waale uske bare mein tumko aveyar karna yah bahut zaroori hota hai aur main yah kahata hoon ki puri nahi sakte ya nahi hum bade yoga ke bare mein hum kuch bhi bol sake hazaro saal pehle yah interview hua uski body structure ke hisab se kuch yogasan thi jo aaj ki hamari body structure of flaiksibiliti bahut alag hai usme hum us post ko dekhkar agar usko karne jaenge toh hamesha uska problem alag alag hone ki sambhavna hai uske yoga ko practice karna chahiye hamein thoda sa fresh ho rahe ho hum thoda ki hamein ki hum koi bhi cheshta na kare koi prayas na kare ki unhone kaha ki main chahta hoon thoda mushkil hota hai uske poore khel ke liye bhi dangerous hota hai uske bare mein

योगा के बारे में जो ब्रिज कंस्ट्रक्शन बहुत सी जगह होता है या मिसअंडरस्टैंडिंग बहुत सी जगह

Romanized Version
Likes  24  Dislikes    views  342
WhatsApp_icon
user

Dr. Sandeep Nandi

Yoga, Meditation and Acupressure Healer

1:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योग रित यही है कि लोग सोचते कि योग करने से रोग से पतला होने के लिए है और कई लोग सोचते हैं कि आप योग कर लो तो श्री को तोड़ मोड़ को योग हो गया जिमनास्टिक समझने लग गए योग योग नासिक जीवन जीने की कला है जो सच्चाई है जो रियलिटी है वही है कि जीवन जीने की कला है योग का जो पहला अध्याय पहला जो सभा कर बोला गया है महर्षि पतंजलि ने विरोध विरोध करना रहता है तो भटकते रहते कभी कुछ सोचता विराम लग जाना शांत हो जाना तो इस तरीके से करने के बाद प्राप्त होती है इसमें स्थानीय नाच लेने दो उसके बाद आप इस पर पहुंचते हैं तो जिस्म प्राणायाम मेडिटेशन लोगों को पता ही आसनों का तो पता ही है बाकी और भी चीज है यम नियम प्रत्याहार है प्राणायाम धारणा ध्यान समाधि चित शांत हो जाता है हमारे शरीर में कोई बीमारी नहीं बस्ती ना होती है

yog rit yahi hai ki log sochte ki yog karne se rog se patla hone ke liye hai aur kai log sochte hain ki aap yog kar lo toh shri ko tod mod ko yog ho gaya gymnastic samjhne lag gaye yog yog nasik jeevan jeene ki kala hai jo sacchai hai jo reality hai wahi hai ki jeevan jeene ki kala hai yog ka jo pehla adhyay pehla jo sabha kar bola gaya hai maharshi patanjali ne virodh virodh karna rehta hai toh bhatakte rehte kabhi kuch sochta viram lag jana shaant ho jana toh is tarike se karne ke baad prapt hoti hai ismein sthaniye nach lene do uske baad aap is par pahunchate hain toh jism pranayaam meditation logo ko pata hi aasanon ka toh pata hi hai baki aur bhi cheez hai yum niyam pratyahar hai pranayaam dharana dhyan samadhi chit shaant ho jata hai hamare sharir mein koi bimari nahi basti na hoti hai

योग रित यही है कि लोग सोचते कि योग करने से रोग से पतला होने के लिए है और कई लोग सोचते हैं

Romanized Version
Likes  26  Dislikes    views  425
WhatsApp_icon
user

Shiv Kumar Srivastava

Yoga Teacher, Shivayogalaya, Lucknow

1:33
Play

Likes  11  Dislikes    views  166
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!