राजनीति में पैसा कैसे कमाया जाता है?...


user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

3:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

राजनीति में पैसा कैसे कमाया जाता है राजनीति में आने की के द्वारा भी पैसा कमाया जाता है अधिकतम भी होती है बाकी जो सीट पर चुने जाते हैं तो सैलरी मिलती है बहुत तरह के अन्य भत्ते मिलते हैं तो इस तरफ से राजनीति में चुनाव जीतने के बाद पैसा मिलता है इसीलिए चुनाव जीतने के लिए होड़ लगी रहती है साम दाम दंड भेद सब कुछ अपनाया जाता है और राजनीति में अपने करीबी और में जो भी पास के रिश्तेदार हूं उनको फायदा पहुंचाया जाता है प्रसिद्धि भी मिलती है लेकिन यह सब अनीति का पैसा जो होता है वह दिखता नहीं है और क्या तो वह इंसान मानसिक रूप से इतना जो बोतल उसके दिमाग में हो जाता है यानी कि वह नीति है और राजनीति में पैसा क्वालिटी का है तो पैसा कब होगा वह नहीं कर पाता है अगर वह किस समय वह कर पाता है उसकी संतान बिगड़ैल निकलती है उसका परिवार पूरा तहत में सो जाता है क्योंकि बहुत गाढ़ी कमाई होती है जनता की खून पसीने की कमाई होती है टैक्स के रूप में देते हैं और कोई चुनने के बाद अगर उसका दुरुपयोग करता है तो वह पैसा उसे राजनीति के का जिंदगी और परिवार तहस-नहस कर डालता है इसलिए राजनीति में पैसा बनाने की रीत तो बहुत है जबकि राजनीति में प्रवेश करते हैं तो हमें बहुत से रास्ते मिल जाते हैं लेकिन इंसान का अगर जो सिद्धांत है तो जरूर हो राजनीति में पैसा नहीं कब आएगा लेकिन आजकल की उम्र में जैसे हम देख रहे हैं राजनीति में पैसा कमाने का कोई भी मौका कोई भी राजनीति की छोड़ते नहीं है बस पैसा तो कैसा है किसी भी रास्ते से आए यह सोच जुड़े देश को तो बर्बादी के रास्ते पर डालती है लेकिन जो राजनीतिक ऐसा करते हैं वह किसी भी एंगल से सुखी नहीं रह पाते हैं ना वह सो पाते हैं शांति से और ना ही वह जिंदा रहते हैं तो जिंदा लाश की तरह रहते हैं तो देखने में हमें लगता है कि राजनीतिज्ञ बहुत तो सफेद कपड़े सफेद टोपी पहन के सफेद धोती पहन के घूम रहे हैं लेकिन उनके दामन में कितने दाग है वह खुद ही जानते हैं बाकी को लेकर हमें अपने मन के साथ कभी कोई झूठ नहीं बोलना चाहिए अगर कोई राजनीतिक ऐसा करता है तो जनता के सामने देख सकें जरूर उजागर हुई जाता है और फिर उसकी जो शाख है वह दो कौड़ी की हो जाती है धन्यवाद

raajneeti me paisa kaise kamaya jata hai raajneeti me aane ki ke dwara bhi paisa kamaya jata hai adhiktam bhi hoti hai baki jo seat par chune jaate hain toh salary milti hai bahut tarah ke anya bhatte milte hain toh is taraf se raajneeti me chunav jitne ke baad paisa milta hai isliye chunav jitne ke liye hod lagi rehti hai saam daam dand bhed sab kuch apnaya jata hai aur raajneeti me apne karibi aur me jo bhi paas ke rishtedar hoon unko fayda pahunchaya jata hai prasiddhi bhi milti hai lekin yah sab aniti ka paisa jo hota hai vaah dikhta nahi hai aur kya toh vaah insaan mansik roop se itna jo bottle uske dimag me ho jata hai yani ki vaah niti hai aur raajneeti me paisa quality ka hai toh paisa kab hoga vaah nahi kar pata hai agar vaah kis samay vaah kar pata hai uski santan bigdail nikalti hai uska parivar pura tahat me so jata hai kyonki bahut gadhi kamai hoti hai janta ki khoon pasine ki kamai hoti hai tax ke roop me dete hain aur koi chunane ke baad agar uska durupyog karta hai toh vaah paisa use raajneeti ke ka zindagi aur parivar tahas nahas kar dalta hai isliye raajneeti me paisa banane ki reet toh bahut hai jabki raajneeti me pravesh karte hain toh hamein bahut se raste mil jaate hain lekin insaan ka agar jo siddhant hai toh zaroor ho raajneeti me paisa nahi kab aayega lekin aajkal ki umar me jaise hum dekh rahe hain raajneeti me paisa kamane ka koi bhi mauka koi bhi raajneeti ki chodte nahi hai bus paisa toh kaisa hai kisi bhi raste se aaye yah soch jude desh ko toh barbadi ke raste par daalti hai lekin jo raajnitik aisa karte hain vaah kisi bhi Angle se sukhi nahi reh paate hain na vaah so paate hain shanti se aur na hi vaah zinda rehte hain toh zinda laash ki tarah rehte hain toh dekhne me hamein lagta hai ki rajanitigya bahut toh safed kapde safed topi pahan ke safed dhoti pahan ke ghum rahe hain lekin unke daman me kitne daag hai vaah khud hi jante hain baki ko lekar hamein apne man ke saath kabhi koi jhuth nahi bolna chahiye agar koi raajnitik aisa karta hai toh janta ke saamne dekh sake zaroor ujagar hui jata hai aur phir uski jo shakh hai vaah do kaudi ki ho jaati hai dhanyavad

राजनीति में पैसा कैसे कमाया जाता है राजनीति में आने की के द्वारा भी पैसा कमाया जाता है अधि

Romanized Version
Likes  433  Dislikes    views  8653
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!