IAS या IPS अधिकारियों को अशिक्षित या आपराधिक नेताओं को सलामी क्यों करना है?...


user

Sanjeev Singh

Career Coach for Civil Services and Other Competitive Examinations

2:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न आईएएस या आईपीएस अधिकारियों को अशिक्षित या आपराधिक नेताओं को सलामी क्यों करना है देखे पहले उसको समझ लीजिए आईएएस या आईपीएस यह दोनों किसी से आते हैं तो यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन जाते हैं पर वर्ल्ड सर्विस रजिस्टर विच प्रोवाइड करता है वधू प्रोवाइड सर्विसेज सर्विस सर्विस प्रोवाइड करता है वह सर्वेंट है यानी जो आईएएस और आईपीएस हो क्या पब्लिक सर्वेंट है पब्लिक मतलब यहां के लोग लोगों का सेवक है इसलिए किसको क्या कहा लोगों की सेवा करने वाला सेवक लोकसेवक लोक सेवा आयोग नाम ही है तो इसलिए आईएएस आईपीएस अधिकारी क्या हो गया पब्लिक सर्वेंट हो गया है पब्लिक सर्वेंट हो गया तो उसको किस की सेवा करनी है पब्लिक की सेवा करनी है पब्लिक सेवा पब्लिक की बात तक कैसे पहुंचेगी पब्लिक अपनी बात अगर बताना चाहता है यह साइट इसको तो कैसे बताएगा पब्लिक पब्लिक की है तो सभी पब्लिक से ज्यादा कर क्या यह सब तो बड़ा मुश्किल होता है और तुम उसी स्थिति में भारत के संदर्भ में हम लोग देते हैं डेमोक्रेसी लोकतंत्र है लोकतंत्र है किसका तंत्रलोक का लोगों का तो और क्या है लोगों का सर्वेंट आईएस आईटी ए उल्लू अपने तंत्र को विकसित करते तंत्र को विकसित करते हैं मतलब अपने रिप्रेजेंटेटिव को इलेक्ट्रिक चुनते हैं चुनाव के माध्यम से एमपी एमएलए स्कूल चुनते हैं जो बाद में मंत्री और प्रधानमंत्री मुख्यमंत्री यादी बनते हैं उन लोगों ने किसको चुना है जिसको चुना है उसकी बात उसके द्वारा चुने गए लोगों की बात है या नहीं वह अपने चुने गए लोगों अपने पब्लिक के द्वारा वह चुने गए हैं उन लोगों का वॉइस को उन लोगों की बातों को रिप्रेजेंट यानी जो नेता है उनकी बात उनके कांस्टीट्यूएंसी उनके निर्वाचन क्षेत्र में आने वाले लोगों की बात होगी तू उस बात का पालन करना अगर नेता की बात का पालन आगे टाइप करते हैं तो वस्तु का हुआ व्यक्ति के बाद के पालन नहीं करते हैं बल्कि उस क्षेत्र के लोगों के वॉइस की बात को पालन करते इसलिए इस तरह की और शिक्षित और आपराधिक लोगों को आप की जनता चुनकर भेजती है भाई साहब आप की जनता अगर चुनकर वैसे लोगों को भेजेगी आईएएस आईपीएस को वैसे ही लोगों को सलामी देनी पड़ेगी निर्भर करता है जनता पर और आप पर कि हम कैसे लोगों को इलेक्ट करके भेजते हैं हम जिसको भी भेजेंगे भेजेंगे वहां पर और हमारे जैसे दूसरे देश के वोटर्स पर तो मतदाता है उस पर निर्भर करता है कि हम कैसे लोगों को चुनकर भेजते हैं धन्यवाद

aapka prashna IAS ya ips adhikaariyo ko ashikshit ya apradhik netaon ko salaami kyon karna hai dekhe pehle usko samajh lijiye IAS ya ips yah dono kisi se aate hain toh union public service commision jaate hain par world service register which provide karta hai vadhu provide services service service provide karta hai vaah servant hai yani jo IAS aur ips ho kya public servant hai public matlab yahan ke log logo ka sevak hai isliye kisko kya kaha logo ki seva karne vala sevak loksevak lok seva aayog naam hi hai toh isliye IAS ips adhikari kya ho gaya public servant ho gaya hai public servant ho gaya toh usko kis ki seva karni hai public ki seva karni hai public seva public ki baat tak kaise pahunchegi public apni baat agar batana chahta hai yah site isko toh kaise batayega public public ki hai toh sabhi public se zyada kar kya yah sab toh bada mushkil hota hai aur tum usi sthiti me bharat ke sandarbh me hum log dete hain democracy loktantra hai loktantra hai kiska tantralok ka logo ka toh aur kya hai logo ka servant ias it a ullu apne tantra ko viksit karte tantra ko viksit karte hain matlab apne representative ko electric chunte hain chunav ke madhyam se MP mla school chunte hain jo baad me mantri aur pradhanmantri mukhyamantri yadi bante hain un logo ne kisko chuna hai jisko chuna hai uski baat uske dwara chune gaye logo ki baat hai ya nahi vaah apne chune gaye logo apne public ke dwara vaah chune gaye hain un logo ka voice ko un logo ki baaton ko represent yani jo neta hai unki baat unke kanstityuensi unke nirvachan kshetra me aane waale logo ki baat hogi tu us baat ka palan karna agar neta ki baat ka palan aage type karte hain toh vastu ka hua vyakti ke baad ke palan nahi karte hain balki us kshetra ke logo ke voice ki baat ko palan karte isliye is tarah ki aur shikshit aur apradhik logo ko aap ki janta chunkar bhejti hai bhai saheb aap ki janta agar chunkar waise logo ko bhejegi IAS ips ko waise hi logo ko salaami deni padegi nirbhar karta hai janta par aur aap par ki hum kaise logo ko electrical karke bhejate hain hum jisko bhi bhejenge bhejenge wahan par aur hamare jaise dusre desh ke voters par toh matdata hai us par nirbhar karta hai ki hum kaise logo ko chunkar bhejate hain dhanyavad

आपका प्रश्न आईएएस या आईपीएस अधिकारियों को अशिक्षित या आपराधिक नेताओं को सलामी क्यों करना ह

Romanized Version
Likes  179  Dislikes    views  1515
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Sachin Bharadwaj

Faculty - Mathematics

0:59

अंदर पावर डिस्ट्रीब्यूशन की बात होती है तो हम मुझे...

Likes  9  Dislikes    views  49
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!