मनुष्य की श्रेष्ठता किसके कारण होती है?...


user

Bk Arun Kaushik

Youth Counselor Motivational Speaker

1:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तहसील में मनुष्य की शेष है किसके कारण होती है मनुष्य जीवन बहुमूल्य उसको शेष बनने के लिए सबसे पहले तो हमें अपने चरित्र का निर्माण करना पड़ा था एक अच्छा चरित्र जिसमें कि हम दूसरों के सामने आदर्श स्थापित कर सकते हैं तो व्यक्ति जिसका चरित्र कितना ऊंचा होता है इतना गुणवान होता है उतना ही वह लोग उसको श्रेष्ठ समझते हैं दूसरी बात हमारा व्यवहार शब्द व्यवहार लोगों के साथ हम कैसे बात करते हैं कैसे उनका सम्मान करते हैं किस तरह से उन से लेनदेन करते हैं यह व्यवहार जो है यह भी मानव को और लोगों से अलग कर देते हैं सुरेश बना देता है किसी भाषा के लोगों से निस्वार्थ भाव से अगर आप सहयोग देती हैं काम आते हैं निस्वार्थ भाव से निस्वार्थ भाव से जब भी आप के लोगों के काम आएंगे तो लोग आपको सुरेश कहने लग जाएंगे इसी प्रकार हमारे जीवन के अंदर नंबर साका कौन अमित श्रेष्ठ बनाता है जैसे फलदायक वृक्ष हमेशा झुका हुआ होता है लोगों को पत्थर भी मारते हैं फेसबुक फल देता है ऐसे ही श्रेष्ठ व्यक्ति सदा नंबर रहता है गुणवान होता है इसलिए इन चार बातों के कारण मनुष्य अपनी सिस्टर को सिद्ध कर सकता है तभी लोगों को श्रेष्ठ समझते हैं धन्यवाद

tehsil me manushya ki shesh hai kiske karan hoti hai manushya jeevan bahumulya usko shesh banne ke liye sabse pehle toh hamein apne charitra ka nirmaan karna pada tha ek accha charitra jisme ki hum dusro ke saamne adarsh sthapit kar sakte hain toh vyakti jiska charitra kitna uncha hota hai itna gunvaan hota hai utana hi vaah log usko shreshtha samajhte hain dusri baat hamara vyavhar shabd vyavhar logo ke saath hum kaise baat karte hain kaise unka sammaan karte hain kis tarah se un se lenden karte hain yah vyavhar jo hai yah bhi manav ko aur logo se alag kar dete hain suresh bana deta hai kisi bhasha ke logo se niswarth bhav se agar aap sahyog deti hain kaam aate hain niswarth bhav se niswarth bhav se jab bhi aap ke logo ke kaam aayenge toh log aapko suresh kehne lag jaenge isi prakar hamare jeevan ke andar number saka kaun amit shreshtha banata hai jaise faldayak vriksh hamesha jhuka hua hota hai logo ko patthar bhi marte hain facebook fal deta hai aise hi shreshtha vyakti sada number rehta hai gunvaan hota hai isliye in char baaton ke karan manushya apni sister ko siddh kar sakta hai tabhi logo ko shreshtha samajhte hain dhanyavad

तहसील में मनुष्य की शेष है किसके कारण होती है मनुष्य जीवन बहुमूल्य उसको शेष बनने के लिए सब

Romanized Version
Likes  65  Dislikes    views  2243
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!