करियर बनाने के लिए क्या करना चाहिए?...


play
user

आचार्य प्रशांत

IIT-IIM Alumnus, Ex Civil Services Officer, Mystic

6:29

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने से बाहर देखो खुद को देखोगे तो वही सारे काम करोगे जो तुमसे तुम्हारा 3 तुम्हारे संस्कार तुम्हारी रुचियां तुम्हारे डरे करवाएंगे काम चुनने के परिपेक्ष में अभी तो कृपया पैसे की बात कर ही चुके हो मान सम्मान की बात भी कर ही चुके हो कृपया जहां चले जाओ जहां मिल रही है उधर को ले जा रही है उधर चले जाओ तो इन्हीं सब आधारों पर मापदंडों पर इन्हीं क्राइटेरिया पर तुम चलोगे चुनाव कैसे सही होगा जब क्राइटेरिया जान आदमी को अगर काम का चुनाव करना है उसको यह देखना होगा कि उससे ज्यादा बड़े किसी समूह को दुनियाभर को जन समुदाय को देश को पूरे पर्यावरण को समूचे इकोसिस्टम को पशुओं को पड़ोसियों को किस काम की जरूरत है उसका मिलन की बात हो रही थी आजादी भगत सिंह का इंटरेस्ट थोड़े ही थी तो उनसे पूछो तो थोड़ी कहते हैं फ्रीडम आजादी उनका धर्म के महापर्व थी ऑफिस क्राइटेरिया पर निर्णय लिए जाते हैं कि रुचि वाले लोग कैरी बनाते हैं रुचि के आधार पर ही तो भगत सिंह के पास भी जाए तो उनसे पूछेंगे किस कंपनी में काम करते हो पब्लिक इतनी बड़ी गलती है इंक्रीमेंट कितना मिल रहा है काम भगत सिंह सुखदेव राजगुरु भी कर रहे थे मेहनत वाला काम था काम को चुनने का उनका आधार तू देख रहे थे कि दुनिया को जहान को देश को जिस काम की जरूरत है वो काम करेंगे मुझे थोड़ी देख रहे थे कि पर्सनल इंटरेस्ट क्या चीज होती है और शिक्षा के भी कोई बात नहीं होती कि तुम कहो कि मैंने फॉरेसिक्स में ग्रेजुएशन की पोस्ट ग्रेजुएशन किया है कोई कहे कि मेरे को डॉक्टरी की पढ़ाई की है कोई काया रे मैं तो मैनेजमेंट कर चुका हूं तो आप जो मैंने पढ़ाई की उसी के अनुसार तो मुझे काम करना होगा ना फिर वापस आओ भगत सिंह पर पढ़े-लिखे नहीं तो क्या उसके अनुसार काम करेंगे भी नहीं तो समझाए कि हम कैसे फेंकना है फिर तो वह अपनी पढ़ाई पढ़ाई करी है तो जेल जाओ मुझसे भी संभाल आपकी रुचि नहीं करना पड़ता है मजबूरी होती है तुमने जीवन में छोड़ना पड़ता है जो भी कुछ अच्छा लगता होगा पिकअप तौर पर कविता पाया भी छोड़ना पड़ता है इसलिए नंबर मिल जाएगा इतनी बात नहीं समझ में आती रुचि रुचि फाइनोवेशन डिस्कवरी ईयर इंटरेस्ट तो क्या करना चाहिए उनका तुम देखोगे दिन भर में अनिवार्य रूप से उतरते ही करते हैं और कुछ करें फोन जरूर देखते हैं पर चलोगे तो फिर देख लो कि कौन सी वीडियो है जिनके सबसे ज्यादा

apne se bahar dekho khud ko dekhoge toh wahi saare kaam karoge jo tumse tumhara 3 tumhare sanskar tumhari ruchiyan tumhare dare karavaenge kaam chunane ke paripeksh mein abhi toh kripya paise ki baat kar hi chuke ho maan sammaan ki baat bhi kar hi chuke ho kripya jaha chale jao jaha mil rahi hai udhar ko le ja rahi hai udhar chale jao toh inhin sab aadharon par mapdandon par inhin criteria par tum chaloge chunav kaise sahi hoga jab criteria jaan aadmi ko agar kaam ka chunav karna hai usko yah dekhna hoga ki usse zyada bade kisi samuh ko duniyabhar ko jan samuday ko desh ko poore paryavaran ko samuche ecosystem ko pashuo ko padoshiyon ko kis kaam ki zarurat hai uska milan ki baat ho rahi thi azadi bhagat Singh ka interest thode hi thi toh unse pucho toh thodi kehte hain freedom azadi unka dharm ke mahaparv thi office criteria par nirnay liye jaate hain ki ruchi waale log carry banate hain ruchi ke aadhaar par hi toh bhagat Singh ke paas bhi jaaye toh unse puchenge kis company mein kaam karte ho public itni badi galti hai increment kitna mil raha hai kaam bhagat Singh sukhadeva raajguru bhi kar rahe the mehnat vala kaam tha kaam ko chunane ka unka aadhaar tu dekh rahe the ki duniya ko jaha ko desh ko jis kaam ki zarurat hai vo kaam karenge mujhe thodi dekh rahe the ki personal interest kya cheez hoti hai aur shiksha ke bhi koi baat nahi hoti ki tum kaho ki maine faresiks mein graduation ki post graduation kiya hai koi kahe ki mere ko doctari ki padhai ki hai koi kaaya ray main toh management kar chuka hoon toh aap jo maine padhai ki usi ke anusaar toh mujhe kaam karna hoga na phir wapas aao bhagat Singh par padhe likhe nahi toh kya uske anusaar kaam karenge bhi nahi toh samjhaye ki hum kaise phenkana hai phir toh vaah apni padhai padhai kari hai toh jail jao mujhse bhi sambhaal aapki ruchi nahi karna padta hai majburi hoti hai tumne jeevan mein chhodna padta hai jo bhi kuch accha lagta hoga pickup taur par kavita paya bhi chhodna padta hai isliye number mil jaega itni baat nahi samajh mein aati ruchi ruchi fainoveshan discovery year interest toh kya karna chahiye unka tum dekhoge din bhar mein anivarya roop se utarate hi karte hain aur kuch kare phone zaroor dekhte hain par chaloge toh phir dekh lo ki kaun si video hai jinke sabse zyada

अपने से बाहर देखो खुद को देखोगे तो वही सारे काम करोगे जो तुमसे तुम्हारा 3 तुम्हारे संस्कार

Romanized Version
Likes  128  Dislikes    views  1622
KooApp_icon
WhatsApp_icon
8 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!