मुझे ऐसा क्यों लग रहा है कि मेरी ज़िंदगी में सब कुछ खत्म हो गया मेरे पास सब कुछ है लेकिन फिर भी मुझे ऐसा लग रहा है कि सब कुछ मेरा खत्म हो गया?...


user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

4:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे ऐसा क्यों लग रहा है कि मेरी जिंदगी में सब कुछ खत्म हो गया मेरे पास सब कुछ है लेकिन फिर भी मुझे ऐसा लग रहा है कि सब कुछ मेरा खत्म हो गया दिखे ऐसा होता है कभी-कभी कई बार ऐसा होता है और ऐसा होने का कारण क्या है यह मैं जान तक जानता हूं कि ऐसा अमित अभी होता है कि हम इस दुनिया से इस दुनिया के लोगों से अपने रिश्तेदारों से अपने आसपास और अपने से जो संबंधित रोग है उसे हम बहुत ज्यादा अपेक्षा करते हैं अब हम बहुत अपेक्षा सबसे करने लगते हैं ना और जब हम भी नहीं हमारी अपेक्षा पूरी नहीं होती ना तो फिर ऐसी बातें हैं कि मेरी जिंदगी में सब कुछ खत्म हो गया सब कुछ होते हुए भी ऐसा लगता है कि मेरे पास अब कुछ बचा नहीं यह वास्तविकता से दूर होता है इंसान जब तक जिंदा रहता है तब तक उसके पास सब कुछ रहता है लेकिन उसे अपेक्षा पूरी नहीं होती है किसी से तो उसे खालीपन का एहसास होता है और इस खालीपन के साथ को भरने के लिए उसे थोड़ा अध्यात्मिक होना जरूरी होता है जब भी ऐसी भावना हो कि आपको लगे कि सब कुछ होते हुए भी आपके पास कुछ नहीं है तो आप तो थोड़ा मंदिर में जाकर आरती में दर्शाइए की आरती आधे घंटे के बाद पहले 10 मिनट 15 मिनट आधा घंटा एक घंटा बजाकर और ध्यान आरती में प्रभु की तरफ आंखें बंद करके इस तरह से ध्यान मग्न हो जाइए और उस समय के बाद कोई एहसास होगा आपका सारी खालीपन दवा कब बढ़ जाएगा और आप अपने आप को बहुत ही खुशी और साजिश करते बहुत अच्छा महसूस करेंगे अब यह नहीं सोचेंगे कि जब पूछे तो यदि मैं खाली हूं अब यह सोचेंगे कि मेरे साथ तो मेरा भगवान है और भगवान मेरी मदद कर रहा है और भगवान के दोनों हाथ मेरे ऊपर आशीर्वाद दे रहे हैं अब मुझे दुनिया वालों की इतनी ज्यादा जरूरत नहीं है मैं उसे क्या उपेक्षा करूं मुझे मांगना है कुछ तो मेरे भगवान से नहीं मांगू मैं उसकी संतान और मैं तो यहां भगवान ने मुझे इसीलिए भेजा है कि मैं सबको प्यार और भलाई करो और भगवान ने मुझे योग्य समझा है और मैं तो एक जरिया और मैं लोगों को दूंगा तो भगवान की जो दिल से जो करवाना है वह भगवान करवा रहा है मैं तो एक जरिया मात्र हूं यह जो भाव आएगा तब आप कभी भी अपने आप को खाली नहीं समझोगे आप को ऐसा लगेगा कि आप तो एकदम आपके जैसा भागे वहां आपके साथ सूखी आपके जैसा कोई और नहीं है क्योंकि भगवान को आप अपने करीब उसके चरणों में शीश नवा रहे हैं की शिकार है और भगवान का दोनों हाथ से आशीर्वाद आप के ऊपर बरस रहा है यह भाव जो होता है पर इंसान कभी भी दुखी महसूस नहीं करता वह दुनिया के किसी लोगों से अपेक्षा नहीं करता और जो अपेक्षा किसी की नहीं करता वह हमेशा सुखी रहता है रक्षा करनी है आशा करनी है तो ऊपर वाले से करिए वह हमारे योगी जो भी होगा हम को जब ठीक लगेगा तब हमारी कृपा दृष्टि वह देते रहें बस हमारे जैसा सुखी इंसान इस दुनिया में और कोई नहीं हमें बस कर्म अच्छे कर्म करते जाना है 10th पास

mujhe aisa kyon lag raha hai ki meri zindagi me sab kuch khatam ho gaya mere paas sab kuch hai lekin phir bhi mujhe aisa lag raha hai ki sab kuch mera khatam ho gaya dikhe aisa hota hai kabhi kabhi kai baar aisa hota hai aur aisa hone ka karan kya hai yah main jaan tak jaanta hoon ki aisa amit abhi hota hai ki hum is duniya se is duniya ke logo se apne rishtedaron se apne aaspass aur apne se jo sambandhit rog hai use hum bahut zyada apeksha karte hain ab hum bahut apeksha sabse karne lagte hain na aur jab hum bhi nahi hamari apeksha puri nahi hoti na toh phir aisi batein hain ki meri zindagi me sab kuch khatam ho gaya sab kuch hote hue bhi aisa lagta hai ki mere paas ab kuch bacha nahi yah vastavikta se dur hota hai insaan jab tak zinda rehta hai tab tak uske paas sab kuch rehta hai lekin use apeksha puri nahi hoti hai kisi se toh use khalipan ka ehsaas hota hai aur is khalipan ke saath ko bharne ke liye use thoda adhyatmik hona zaroori hota hai jab bhi aisi bhavna ho ki aapko lage ki sab kuch hote hue bhi aapke paas kuch nahi hai toh aap toh thoda mandir me jaakar aarti me darshaiye ki aarti aadhe ghante ke baad pehle 10 minute 15 minute aadha ghanta ek ghanta bajaakar aur dhyan aarti me prabhu ki taraf aankhen band karke is tarah se dhyan magn ho jaiye aur us samay ke baad koi ehsaas hoga aapka saari khalipan dawa kab badh jaega aur aap apne aap ko bahut hi khushi aur saajish karte bahut accha mehsus karenge ab yah nahi sochenge ki jab pooche toh yadi main khaali hoon ab yah sochenge ki mere saath toh mera bhagwan hai aur bhagwan meri madad kar raha hai aur bhagwan ke dono hath mere upar ashirvaad de rahe hain ab mujhe duniya walon ki itni zyada zarurat nahi hai main use kya upeksha karu mujhe maangna hai kuch toh mere bhagwan se nahi maangu main uski santan aur main toh yahan bhagwan ne mujhe isliye bheja hai ki main sabko pyar aur bhalai karo aur bhagwan ne mujhe yogya samjha hai aur main toh ek zariya aur main logo ko dunga toh bhagwan ki jo dil se jo karwana hai vaah bhagwan karva raha hai main toh ek zariya matra hoon yah jo bhav aayega tab aap kabhi bhi apne aap ko khaali nahi samjhoge aap ko aisa lagega ki aap toh ekdam aapke jaisa bhaage wahan aapke saath sukhi aapke jaisa koi aur nahi hai kyonki bhagwan ko aap apne kareeb uske charno me sheesh nava rahe hain ki shikaar hai aur bhagwan ka dono hath se ashirvaad aap ke upar baras raha hai yah bhav jo hota hai par insaan kabhi bhi dukhi mehsus nahi karta vaah duniya ke kisi logo se apeksha nahi karta aur jo apeksha kisi ki nahi karta vaah hamesha sukhi rehta hai raksha karni hai asha karni hai toh upar waale se kariye vaah hamare yogi jo bhi hoga hum ko jab theek lagega tab hamari kripa drishti vaah dete rahein bus hamare jaisa sukhi insaan is duniya me aur koi nahi hamein bus karm acche karm karte jana hai 10th paas

मुझे ऐसा क्यों लग रहा है कि मेरी जिंदगी में सब कुछ खत्म हो गया मेरे पास सब कुछ है लेकिन फि

Romanized Version
Likes  421  Dislikes    views  7676
KooApp_icon
WhatsApp_icon
10 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!